Announcement

Collapse
No announcement yet.

IMT Faridabad

Collapse
X
Collapse

IMT Faridabad

Last updated: May 17 2015
57 | Posts
  • Time
  • Show
Clear All
new posts
  • #31

    #31

    Re : IMT Faridabad

    Originally posted by Shruti Arora View Post
    My interview experience :

    Went to Panchkula in AC PUNBUS, very good service from ISBT Kashmere Gate to ISBT Chandigarg Sec-17.

    Almost everybody who had been called for interview showed up...

    Token numbers were duly issued to all interviewees

    On their turn (as per serialwise token number), the candidates were required to go to conference room, where 3 -4 gentlemen from HSIIDC interviewed the applicant.

    Chairs were comfortable & HSIIDC office is air-conditioned....
    About interview questions, they are primarily concerned about your ability to arrange funds for the project.... Now almost 90% applicants would go in for a bank loan, and they would tell the interview panel that money would be raised through bank loan + liquid assets list that they already submitted, then the interview panel asks for an undertaking as to source of funds, and thats just about it.....

    The interview would take less than 5 minutes or so......

    The interview panel seemed more interested in talking to applicants who were already running some sort of business.....

    I've also heard that a 2nd interview will also be held for 450 sq mts....
    Hi
    Greetings

    Thanks for the share

    and all the best.

    Cheers

    Comment

    • #32

      #32

      Re : IMT Faridabad

      imt update
      Dainik Bhaskar e-Paper, faridabad-bhaskar, e-Paper, faridabad-bhaskar e Paper, e Newspaper faridabad-bhaskar, faridabad-bhaskar e Paper, faridabad-bhaskar ePaper
      Attached Files

      Comment

      • #33

        #33

        Re : IMT Faridabad

        आइएमटी से बढ़ेगा जिले का औद्योगिक स्वरूप
        Updated on: Tue, 28 May 2013 05:02 PM (IST)
        link आइएमटी से बढ़ेगा जिले का औद्योगिक स्वरूप 10431330
        आइएमटी से बढ़ेगा जिले का औद्योगिक स्वरूप

        बिजेंद्र बंसल, फरीदाबाद : तेज गति से हो रहे विकास कार्यो के बूते फरीदाबाद इंडस्ट्रियल मॉडल टाउन (आइएमटी ) में औद्योगिक स्वरूप की छटा दिखने लगी है। हरियाणा स्माल इंडस्ट्रीज इंफ्रास्ट्रक्चर डवलपमेंट कारपोरेशन (एचएसआइआइडीसी) ने जुलाई माह तक आइएमटी का विकास पूरा करने का लक्ष्य रखा है। अभी तक यहां 70 प्रतिशत विकास कार्य पूरे किए जा चुके हैं। औद्योगिक संगठनों के पदाधिकारी व उद्यमियों का मानना है कि आइएमटी से फरीदाबाद का औद्योगिक स्वरूप और अधिक बढ़ेगा। यहां छोटे-बड़े औद्योगिक प्लाटों से न सिर्फ नए उद्योग लगेंगे बल्कि रोजगार के साधन भी बढ़ेंगे।

        पुराने औद्योगिक सेक्टरों से भी बेहतर कनेक्टिविटी रहेगी

        आइएमटी के लिए दिल्ली व ग्रेटर फरीदाबाद सहित फरीदाबाद शहर से बेहतर कनेक्टिविटी रहेगी। पुराने औद्योगिक सेक्टर-24 व 25 से भी बेहतर कनेक्टिविटी के लिए एचएसआइआइडीसी ने बाइपास से दो पुल की कनेक्टिविटी दी है।

        इनमें से एक पुल सेक्टर-दो के सामने बनाया जा चुका है, जो पूरी तरह से तैयार है। दूसरा पुल गांव साहुपुरा के पास बाइपास से जोड़ा जाएगा।

        50 फीसद प्लॉट फरीदाबाद के उद्यमियों को मिलेंगे

        एचएसआइआइडीसी ने गांव चंदावली, मुजैड़ी, मच्छगर, सोतई, नवादा की 1832 एकड़ भूमि पर आइएमटी विकसित की है। मौजूदा समय में यहां सड़क, सीवर, पीने के पानी की पाइप लाइन, रेन ड्रेन का काम तेजी से हो रहा है।

        एचएसआइआइडीसी ने आइएमटी में 536 प्लाट देने के लिए आवेदन मांगे थे। इनमें से अब तक 375 प्लाट बुक किए जा चुके हैं। इन प्लाट मालिकों के रोजाना एचएसआइआइडीसी के अधिकारी साक्षात्कार कर रहे हैं। मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के दिशा निर्देश पर आइएमटी में 50 प्रतिशत प्लाट सिर्फ फरीदाबाद के उद्योगपतियों के लिए आरक्षित किए गए हैं। इससे अनधिकृत रूप से रिहायशी क्षेत्रों में चल रहे उद्योगों के उद्यमियों को भी नियमित क्षेत्र में उद्योग चलाने का मौका मिलेगा

        आइएमटी में मिलेगा उद्योग विस्तार का मौका

        लखानी अरमान ग्रुप के चेयरमैन केसी लखानी का कहना है कि कांग्रेस शासन में पृथला औद्योगिक क्षेत्र व फिर आइएमटी के बनने से उद्योगों को अपने जिला में ही विस्तार का मौका मिल रहा है। उन्होंने कहा कि आइएमटी में जिस तरह की अत्याधुनिक सुविधाएं तैयार की जा रही हैं उससे स्पष्ट कि आने वाले समय में फरीदाबाद जिला रोजगार की दृष्टि से काफी आगे होगा।

        फरीदाबाद स्माल इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के पूर्व प्रधान बीआर भाटिया का कहना है कि आइएमटी बनने से फरीदाबाद जिला का औद्योगिक स्वरूप और अधिक बढे़गा। निर्यात क्षेत्र की कंपनियों को अपने उद्योगों के लिए एक सुगम व सुखद वातावरण मिलेगा। संभवतया इससे उनका काम भी बढ़ेगा। उद्योग विस्तार के लिए जगह उपलब्ध कराए जाने के बाद अब कोई उद्यमी दूसरे प्रदेश में जाने की सोच भी नहीं रहा है।

        उद्यमी एमएल.शर्मा कहते हैं कि फरीदाबाद में सेक्टर-24 व 25 के बाद कोई भी बड़ा अधिकृत औद्योगिक क्षेत्र विकसित नहीं हुआ था। इसलिए उद्योगपति दूसरे प्रदेशों में विस्तार की सोच रहे थे मगर अब उद्यमियों को एक अच्छा औद्योगिक क्षेत्र मिला है इसमें उद्यमी अपने उद्योग का बखूबी विस्तार कर सकते हैं।

        आइएमटी में प्लाट पा चुके उद्यमी डा.एसके.गर्ग बताते हैं कि एचएसआइआइडीसी ने आइएमटी में बड़ी तेजी से विकास कार्य किए हैं। एचएसआइआइडीसी के प्रबंध निदेशक तरुण बजाज आइएमटी फरीदाबाद विकसित करने पर पूरा जोर दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि यहां की सड़कें पुराने औद्योगिक क्षेत्रों से काफी चौड़ी हैं। यहां मिलने वाली सुविधाएं बेहतर होंगी।

        Comment

        • #34

          #34

          Re : IMT Faridabad

          मिलकर लड़ाई लड़ेंगे आईएमटी-असावटी के किसान

          फरीदाबाद। अलग-अलग मुद्दों को लेकर सरकार से लड़ाई लड़ रहे किसानों ने एक दूसरे आंदोलन को मजबूत करने के लिए आपस में समर्थन लेने-देने का निर्णय लिया है। दोनों ने मिलकर लड़ाई लड़ने का ऐलान किया है।
          मंगलवार को आईएमटी में जमीन देने वाले किसान असावटी में इंडियन ऑयल कारपोरेशन के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे किसानों को समर्थन देने पहुंचे। आईएमटी की किसान संघर्ष समिति के सदस्यों ने कहा कि असावटी के किसानों को वह लोग समर्थन देने आए हैं। इसी प्रकार असावटी के किसान उनके आंदोलन को भी समर्थन दें।
          पिछले आठ महीने से नौकरी की मांग को लेकर इंडियन ऑयल कार्पोरेशन (आईओसी) कार्यालय असावटी के समक्ष किसान धरने पर बैठे हैं। आंदोलन कर रहे हैं लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। परेशान होकर 27 तारीख से अनशन शुरू कर दिया है। अनशन पर बैठी कैला देवी की हालत बिगड़ती जा रही है, लेकिन जिला प्रशासन व कंपनी प्रशासन किसानों की सुनने को तैयार नहीं है।
          धरना स्थल पहुंचकर आईएमटी के किसानों ने उन्हें भरोसा दिलाया कि जब तक 342 किसानों के परिवारों को नौकरी नहीं मिल जाती तब तक जिले का एक-एक किसान इनकी लड़ाई में शामिल रहेगा।
          इस मौके पर आईएमटी किसान संघर्ष समिति के प्रधान रामनिवास नागर एवं पूर्व प्रधान बृजमोहन टोंगर ने कहा कि सरकार व कंपनी प्रशासन के लचर रवैये के चलते आज तक किसानों के परिवारों में से किसी को नौकरी नहीं मिली। जबकि इसका वादा किया गया था।
          इस मौके पर महताब सिंह धनखड़, गिर्राज सिंह धनखड़, जयपाल सूबेदार, दीपचंद, लाखन सिंह, जयपाल सिंह रावत, जयपाल सिंह गहलोत, गोपाल सिंह, बलवीर सिंह, दिनेश, अजीत सिंह, सुनील, रवि शर्मा, बिशन दलाल, अजीत दलाल, मूलचंद, ज्ञासीराम, वीरपाल, खेमचंद, मोहन, मूलचंद एवं लेखराज सहित कई लोग मौजूद थे।

          Comment

          • #35

            #35

            Re : IMT Faridabad

            आईएमटी में तेज हुईं किसान आंदोलन की तैयारियां

            एनबीटी न्यूज॥ बल्लभगढ़
            आईएमटी क्षेत्र के किसानों ने अपनी मांगों को लेकर 5 जून से प्रस्तावित धरना प्रदर्शन के लिए तैयारियां तेज कर दी हैं। किसानों ने धरना प्रदर्शन में भीड़ बढ़ाने के लिए प्रत्येक गांव में 11-11 लोगों की एक कमिटी गठित की है। सोमवार को प्रशासनिक अधिकारियों ने किसान नेताओं से बातचीत करते हुए धरना स्थगित करने का आह्वान किया, लेकिन किसान अपनी मांगों पर अड़े हुए हैं।
            आईएमटी क्षेत्र के लिए चंदावली, मच्छगर, मुजेड़ी, नवादा, सोतई गांवों के किसानों की 1832 एकड़ जमीन एक्वायर की गई है। किसान जमीन के बदले इस क्षेत्र में प्लॉट की मांग कर रहे हैं, जिसके लिए वे काफी समय से संघर्ष करते आ रहे हैं, लेकिन प्लॉट दिए जाने का मामला नहीं सुलझ रहा है। इस पर किसानों ने मीटिंग कर 5 जून से काम रोको और धरना प्रदर्शन आंदोलन शुरू करने का निर्णय लिया है। किसान नेता बृजमोहन टोंगर ने बताया कि सोमवार को एचएसआईआईडीसी के आईएमटी के कार्यालय में किसानों और अधिकारियों की मीटिंग हुई है, लेकिन कोई समाधान नहीं निकल सका। आईएमटी को डिवेलप करने वाली कंपनी से भी काम बंद करने की अपील की गई है। उधर, डीसी बलराज सिंह का कहना है कि किसानों से बातचीत कर उनकी जायज मांगों पर गंभीरता से विचार किया जाएगा। क्षेत्र में किसी प्रकार की हिंसा न हो इसके लिए पुलिस बल भी तैनात किया जाएगा।

            Comment

            • #36

              #36

              Re : IMT Faridabad

              आज से रोकेंगे आईएमटी का काम

              Faridabad | अंतिम अपडेट 5 जून 2013 5:30 AM IST पर
              फरीदाबाद। आईएमटी के पांच गांवों के किसानों ने जिला प्रशासन को तगड़ा झटका दिया है। किसानों ने जिला प्रशासन के उस प्रस्ताव को ठुकरा दिया जिसमें आईएमटी (इंडस्ट्रियल मॉडल टाउनशिप) की निर्माण एजेंसी के साथ समझौता करने की बात कही जा रही थी।
              किसान संघर्ष समिति के प्रधान राम निवास नागर ने बताया कि किसानों ने मंगलवार को बल्लभगढ़ के एसडीएम कैप्टन मनोज को बुधवार से आईएमटी का विकास कार्य रोकने की चेतावनी दी है। किसानों ने बताया कि सरकार ने पांच गांवों मच्छगर, चंदावली, नवादा, मुझेड़ी, सोतई के करीब 2610 किसानों की 1832 एकड़ जमीन का अधिग्रहण किया था।
              मुआवजा बढ़ाने को लेकर लंबा आंदोलन हुआ। मार्च 2012 में 11 शर्तों को पूरा करने के आश्वासन पर आंदोलन समाप्त हुआ। लेकिन मुआवजा बढ़ाने के अलावा कोई शर्त अब तक पूरी नहीं हुई।
              किसानों का कहना है कि उनकी जमीन तो महज 537 रुपये प्रति वर्गगज में ली गई थी। लेकिन अब उसी जमीन में से किसानों को पुनर्वास योजना के तहत 12,200 रुपये प्रति वर्गगज के हिसाब से राशि मांगी जा रही है। लेकिन अब आरपार की लड़ाई लड़ने का फैसला लिया है। जिसके तहत पांच जून से आईएमटी का विकास कार्य रोक कर चंदावली गांव में पुराने धरना स्थल से आंदोलन शुरू करने का निर्णय लिया है।

              आंदोलन को सफल बनाने के लिए चार गांवों में 11-11 सदस्यों की कमेटी का गठन कर किया है। इन्हीं कमेटियों को विकास कार्य रुकवाने की जिम्मेदारी सौंपी गई है।
              -बृजमोहन टोंगर, किसान नेता

              इस मामले को लेकर लगातार बातचीत जारी है। उच्चाधिकारियों व सरकार से संपर्क साधा गया है। जल्द ही किसानों से बातचीत कर मामले का हल निकालने का प्रयास किया जाएगा। ं-बलराज सिंह मोर, जिला उपायुक्त फरीदाबाद।

              Comment

              • #37

                #37

                Re : IMT Faridabad

                imt में दूसरे दिन भी बंद रहा काम

                एनबीटी न्यूज ॥ बल्लभगढ़
                आईएमटी में बुधवार से शुरू हुआ किसानों का धरना दूसरे दिन गुरुवार को भी जारी रहा। इसमें किसानों के साथ महिलाएं भी बड़ी संख्या में शामिल हो रही हैं। धरने में पांच गांवों के किसान भाग ले रहे हैं। धरना शुरू होने के दूसरे दिन भी आईएमटी क्षेत्र में डेवलपमेंट का कार्य बंद रहा। वहीं प्रशासन की ओर से किसानों से बातचीत करने के लिए कोई अधिकारी नहीं पहंुचा। किसानों ने ऐलान किया है कि वे इसमें किसी राजनीतिक दल के नेताओं का सहयोग नहीं लेंगे।
                धरने पर बैठे किसानों को संबोधित करते हुए किसान संघर्ष समिति के अध्यक्ष रामनिवास नागर ने कहा कि सरकार और प्रशासन किसानों की मांगों के प्रति गंभीर नहीं हैं। इसी का नतीजा है कि आज तक समझौते के तहत मानी गई मांगों को लागू नहीं किया गया है। किसानों को प्लॉट देने के मामले में सरकार दोहरा रवैया अपनाने की फिराक में है, जिसे स्वीकार नहीं किया जाएगा। किसानों को प्लॉट नो प्रॉफिट-नो लॉस के आधार पर दिए जाने चाहिए। किसान इस शर्त से कम कुछ भी नहीं मानेंगे। धरने पर बैठे अन्य किसानों ने भी अपने संबोधन में कहा कि वे अब मांगें माने जाने तक यहां से नहीं हटेंगे। किसान सरकार से टकराव नहीं चाहते, लेकिन उनके साथ ज्यादती की गई तो वे कोई भी कुर्बानी देने को तैयार हैं। रामनिवास नागर ने कहा कि किसान इस धरने को राजनीतिक मंच नहीं बनने देंगे। कई राजनीतिक दलों के नेताओं ने धरने में पहुंच कर समर्थन देने का संदेश भेजा है। उनसे कहा गया कि वे किसान के रूप में आकर समर्थन दे सकते हैं।
                किसानों के धरने के चलते गुरुवार को भी आईएमटी को डिवेलप करने वाली कंपनी का काम बंद रहा। कंपनी की सभी मशीनें स्टोर में खड़ी रहीं और लेबर आराम करते रहे। किसानों ने कंपनी अधिकारियों को काम शुरू न करने की चेतावनी दी है।

                Comment

                • #38

                  #38

                  Re : IMT Faridabad

                  आईएमटी में महापंचायत करेंगे किसान


                  एनबीटी
                  न्यूज॥
                  बल्लभगढ़।। आईएमटी में किसानों का धरना शुरू होने के बाद से डिवेलपमेंट का काम रुका है। इन तीन दिनों में यहां विकास कार्य कर रही कंपनी को करीब एक करोड़ रुपये का घाटा हुआ है। किसानों के डर से मजदूरों ने भी काम करने से मना कर दिया है। वहीं कंपनी को अब बरसाती सीजन का डर सताने लगा है। दूसरी तरफ किसानों ने प्रशासन पर बातचीत के लिए किसी अधिकारी को नहीं भेजने का आरोप लगाकर महापंचायत बुलाने की चेतावनी दी है।

                  आईएमटी एरिया को डिवेलप करने वाली कंपनी ने 20 अप्रैल 2011 को कार्य शुरू किया था। दो साल के अंदर 19 अप्रैल 2013 को कंपनी को काम पूरा करना था। कंपनी का अब भी करीब 5 फीसदी काम बचा हुआ है। इसे पूरा करने के लिए कंपनी ने दो महीने से अधिक की एक्सटेंशन मांगी थी। पिछले दिनों हुए किसानों के आंदोलन के कारण भी काम बंद रहा था।

                  अब 5 जून से शुरू किसान आंदोलन के कारण कंपनी की सारी मशीनें स्टोर में खड़ी कर दी गई हैं। नाराज किसान कंपनी के पानी के टैंकरों को भी रोड पर नहीं आने दे रहे हैं। इससे साइट के आसपास रहने वाले मजदूरों का पानी भी नहीं मिल रहा है। क्षेत्र को डिवेलप करने वाली कंपनी के मैनेजर रवि सिंह ने बताया कि उन्होंने इस संबंध में एचएसआईआईडीसी के अधिकारियों से बात की है। अधिकारियों ने उन्हें बताया है कि किसानों से बातचीत की जा रही है। डिवेलपमेंट का काम बहुत जल्द शुरू हो जाएगा। रवि सिंह ने बताया कि काम बंद होने से कंपनी को एक करोड़ रुपये से अधिक का नुकसान हो चुका है। वहीं बरसाती सीजन शुरू होते ही काम में बाधा आएगी

                  उधर , आईएमटी क्षेत्र में अपनी मांगों को लेकर धरने पर बैठे किसानों का आंदोलन शुक्रवार को तीसरे दिन भी जारी रहा। किसानों से बातचीत के लिए अभी तक किसी अधिकारी के नहीं पहुंचने से नाराज किसानों ने महापंचायत बुलाने की तैयारी शुरू कर दी है। इस महापंचायत के बाद बड़े आंदोलन की घोषणा की जाएगी। शुक्रवार को धरना स्थल के पास पुलिस बल तैनात रहा। किसान संघर्ष समिति के प्रधान रामनिवास नागर ने कहा कि इस आंदोलन को और बड़ा रूप देने के लिए क्षेत्र के किसानों की महापंचायत बुलाई जाएगी। दूसरी तरफ , एसडीएम मनोज कुमार का कहना था कि धरने से पहले किसानों को बातचीत के लिए बुलाया गया था , लेकिन उन्होंने सहयोगात्मक रवैया नहीं दिखाया। एसडीएम ने कहा कि किसानों से बातचीत के लिए प्रशासन के दरवाजे खुले हुए हैं।

                  Comment

                  • #39

                    #39

                    Re : IMT Faridabad

                    imt में कंपनी ने शुरू की शिफ्टिंग

                    एनबीटी न्यूज ॥ बल्लभगढ़
                    आईएमटी में किसानों का आंदोलन सोमवार को छठे दिन में प्रवेश कर गया, लेकिन प्रशासन की ओर से धरने पर बैठे किसानों को मनाने की कोई पहल नहीं की गई है। किसान और प्रशासन के बीच संवादहीनता से आंदोलन के लंबा खिंचने के आसार बन गए हैं। इस आशंका के चलते आईएमटी को डिवेलप करने वाली कंपनी ने लेबर और मशीनों को समेट कर दूसरी साइटों पर भेजना शुरू कर दिया है। कंपनी का आईएमटी में कुल 5 फीसदी काम बचा हुआ है।
                    आईएमटी क्षेत्र में आने वाले 5 गांवों के किसान अपनी मांगों को लेकर 5 जून से धरने पर बैठे हैं। धरने पर बैठे किसानों से अभी तक प्रशासन ने कोई बात नहीं की है। रविवार को किसानों ने धरने पर ऐलान किया थी कि वे बारिश होने पर खाली पड़ी जमीन पर फसलों की बुआई शुरू देंगे। इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा कि मांग पूरी न होने तक धरना चलता रहेगा।
                    किसानों के अडि़यल रुख को भांपते हुए आईएमटी को डिवेलप करने वाली कंपनी ने साइट्स पर पडे़ सामान को समेटना श़ुरू कर दिया है। सोमवार को कंपनी ने अपनी कुछ मशीनों और लेबर को सोहना, गुड़गांव, बीपीटीपी सहित अन्य साइट पर भेजना शुरू कर दिया है। कंपनी के मैनेजर रवि सिंह ने बताया कि किसानों के धरने के चलते डिवेलपमेंट का काम बंद पड़ा है। इससे कंपनी को रोज 40 लाख रुपये से अधिक का नुकसान हो रहा है। कंपनी का काम सोहना, गुड़गांव व बीपीटीपी समेत एनसीआर में कई जगहों पर चल रहा है। इसलिए मशीनों और लेबर को वहां भेजा जाने लगा है, ताकि कंपनी को ज्यादा घाटा न हो।
                    उधर, डीसी बलराज सिंह का कहना है कि किसानों से बातचीत करने के लिए प्रशासन तैयार है। किसानों की मांगें पहले ही मानी जा चुकी हैं। कुछ मांगों को लागू करने में देरी हो रही है, उन्हें भी जल्द ही लागू कर दिया जाएगा।

                    Comment

                    • #40

                      #40

                      Re : IMT Faridabad

                      new development in kisan andolan
                      dainik baskar faridabad paze no 14
                      Attached Files

                      Comment

                      Have any questions or thoughts about this?
                      Working...
                      X