One more day has gone.. with hope I travel daily that it would be cleared and the road promised to us (Greater Fairdabad) would become a reality ... Every evening I come back from the same Jam same congested enchroached road near sector 29...kehri pull ...that 1km stretch that big pain in ASSS...

hearing LAZY HUDA will demolish it to make wider road ... but its been 2years now ....every time there is a news, in hindi papers n nothing in concerte ...

Those slum dewellers mock me everyday like others ... they stand on my way and tease me ... i feel cheated as I paid my hard earned money ... EDC , which is used to build thier EWS, I pay taxes to build infra of the nation ....but they take that money as compensation .... i feel pitty ....

I wonder they are poor or am I ? as they have cars, they afford mutton chicken everyday i guess drinks too ... they have no liability to pay hefty electrcity and DG charges , I paid amount for my car parking and they freely parked thier entire family on the road (thats free of cost).. .......the list goes on and on ... than I think its not only my story its the story of this nation..... its a failure of goverment


but I will start my journey tomorrow again with hope.... One day I will get what I was Promised
Read more
Reply
563 Replies
Sort by :Filter by :
  • Who get paid more for winning the case, or doing the hardwork in court?

    Definitely, not the lawyers of Huda, even though they are highly qualified, but do not put much efforts, as needed.

    If they do then, its usually one, 2, 3 dates and that's it and matter resolved. All judges/system knows that huda is right, but required paperwork to prove is either missing or always delays the things.
    CommentQuote
  • आशियाना फ्लैट के लिए आज होगा ड्रॉ - Today will be a draw for Ashiana flats - Navbharat Times

    आशियाना फ्लैट के लिए आज होगा ड्रॉ

    एक संवाददाता ॥ सेक्टर 12
    बाईपास रोड के पास बनी किसान मजदूर कॉलोनी के लोगों के लिए बुधवार को हूडा ड्रॉ का आयोजन करने जा रहा है। इस ड्रॉ में 115 आवेदनकर्ताओं को फ्लैट दिये जाएंगे। इनकी लिस्ट हूडा प्रशासन ने चिपका दी है। इन 115 गरीब परिवारों को सेक्टर 62 के अलावा सेक्टर 56 में भी फ्लैट दिया जाएगा।
    बाईपास रोड का काम पूरा करने में किसान मजदूर कॉलोनी बाधा बन रही थी। हाई कोर्ट ने हूडा को निर्देश दिये थे कि किसान मजदूर कॉलोनी के लोगों के लिए आशियाना योजना के तहत फ्लैट उपलब्ध कराए जाएं। इसके बाद ही वहां की झुग्गियों को हूडा तोड़ सकता है। इसके बाद हूडा ने झुग्गी में बायोमीट्रिक सर्वे कराया। जिसमें 375 झुग्गी को चिह्नित किया गया था, जो बाईपास में बांधा डाल रही थी। हूडा ने दो चरणों में ड्रॉ प्रक्रिया का आयोजन किया, जिसमें सेक्टर 62 में बने आशियाना फ्लैट लोगों को दिए गए। अब तीसरे चरण की प्रक्रिया बुधवार को होने वाली है। जिसमें 156 लोगों को फ्लैट आवंटन किया जाना है, लेकिन हूडा के पास केवल 115 लोगों ने आवेदन किया है। बुधवार को इन लोगों को ड्रॉ के माध्यम से फ्लैट दिये जाएंगे। मंगलवार को हूडा अलॉटमेंट शाखा ने ड्रॉ में शामिल होने वाले सभी निवासियों की सूची को तैयार करने का काम आईटी शाखा को सौंप दिया। दूसरी तरफ इस ड्रॉ में गरीबों को सेक्टर 62 के अलावा सेक्टर 56 में भी फ्लैट दिये जाएंगे। 77 लोगों को सेक्टर 62 में फ्लैट दिये जाएंगे। इसके बाद सेक्टर 56 में 38 लोगों को फ्लैट दिये जाएंगे। हूडा प्रशासक एन. के. सोलंकी ने बताया कि आशियाना योजना के तहत किसान मजदूर कॉलोनी के 115 लोगों को फ्लैट देने की प्रक्रिया बुधवार को की जाएगी। इसके लिए सारी तैयारियां पूरी कर ली गई है।
    CommentQuote
  • 115

    115 लोगों को मिला आशियाना

    जागरण संवाद केंद्र, फरीदाबाद : हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण (हुडा) ने किसान मजदूर कालोनी के 115 लोगों को ड्रा के माध्यम से आशियाना दे दिए। हुडा की पॉलिसी के मुताबिक सबसे पहले शारीरिक रूप से अक्षम चार लोगों को आशियाना दिया गया। ड्रा की कार्रवाई संपदा अधिकारी बीर सिंह कालीरमण की अगुवाई में हुई।
    खेड़ी पुल चौकी से सेक्टर-28-29 के चौक तक किसान मजदूर कालोनी की 313 झुग्गियां बाइपास रोड के निर्माण में बाधा बनी हुई थी। इन झुग्गियों का बायोमेट्रिक सर्वे किया गया था। इनमें से 198 लोगों को कई महीने पहले सेक्टर-56 व 62 में आशियाना स्कीम के तहत बनाए गए फ्लैट मुहैया कराए गए थे, लेकिन शेष 115 लोगों ने फ्लैट लेने के लिए हुडा की सर्वे ब्रांच में आवेदन फार्म जमा नहीं कराए। इसके चलते हुडा ने इन झुग्गियों को हटाने के लिए योजना बनाई। इस बीच झुग्गीवासी फ्लैटों में जाने के लिए उच्च न्यायालय में याचिका दायर की थी। न्यायालय के आदेशानुसार हुडा की सर्वे ब्रांच ने शेष 115 लोगों के आवेदन फार्म भरवाए। उनकी जांच की गई और बुधवार को फ्लैटों का ड्रा निकाला गया। सबसे पहले शारीरिक रूप से अक्षम चार लोगों को सेक्टर-62 में आशियाना स्कीम के तहत बने फ्लैटों में फ्लैट मुहैया कराए गए। इन चारों को ग्राउंड फ्लोर पर फ्लैट दिए गए हैं। इसके बाद शेष 111 लोगों की पर्चियां निकाली गई और उसके मुताबिक फ्लैट दिए गए। सेक्टर-56 में 37 और सेक्टर-62 में 78 लोगों को फ्लैट उपलब्ध कराए गए।
    CommentQuote
  • 198 + 115 = 313 ... so we are all done then ??
    CommentQuote
  • Originally Posted by "pgarg2000
    198 + 115 = 313 ... so we are all done then ??


    Yep allotted to all. I hope now they can complete things quickly.
    CommentQuote
  • 8

    8 तक अलॉट हो जाएंगे आशियाना फ्लैट


    एनबीटी न्यूज॥ फरीदाबाद
    बाईपास रोड के रास्ते में रोड़ा बने अवैध निर्माणों को फरवरी में पूरी तरह से हटा दिया जाएगा। इसके लिए 30 जनवरी के ड्रॉ में चुने गए सभी लोगों को 8 फरवरी तक आशियाना फ्लैट अलॉट कर दिए जाएंगे। हूडा अधिकारियों के मुताबिक, 15 फरवरी तक सूरजकुंड मेला होने के कारण पुलिस व्यस्त है। मेला खत्म होते ही पुलिस की मदद से सभी अवैध निर्माणों को हटा दिया जाएगा।
    गौरतलब है कि बाईपास रोड पर किसान व मजदूर कॉलोनी में लगभग 313 निर्माण अवैध हैं, जिनकी वजह से 1100 मीटर लंबा मास्टर रोड प्रभावित हो रहा है। यहां से लोगों को हटाने के लिए हूडा ने नवंबर में ड्रॉ कराया था, जिसमें काफी लोगों को फ्लैट उपलब्ध करा दिए गए थे। वहीं, बचे 157 लोगों को फ्लैट उपलब्ध कराने के लिए हूडा ने दोबारा आवेदन कराए थे, जिसमें 115 लोगों ने आवेदन किया था। इनके लिए हूडा ने 30 जनवरी को ड्रॉ कराया था। अब हूडा चयनित लोगों को 8 फरवरी तक सेक्टर-62 स्थित आशियाना फ्लैट अलॉट कर देगा, जिसके बाद निर्माणों को हटाने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी।
    हूडा एसडीओ (सर्वे) अजित सिंह ने बताया कि 30 जनवरी के ड्रॉ में चयनित लोगों को 8 फरवरी तक फ्लैट अलॉट कर दिए जाएंगे। इसके बाद बाकी बचे निर्माणों को तोड़ने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। उन्होंने बताया कि सिटी पुलिस 15 फरवरी तक सूरजकुंड मेले में व्यस्त है। मेला खत्म होते ही पुलिस की मदद से अवैध निर्माणों को तोड़ दिया जाएगा और बाईपास रोड की राह को आसान कर दिया जाएगा।
    CommentQuote
  • Originally Posted by pgarg2000


    गौरतलब है कि बाईपास रोड पर किसान व मजदूर कॉलोनी में लगभग 313 निर्माण अवैध हैं, जिनकी वजह से 1100 मीटर लंबा मास्टर रोड प्रभावित हो रहा है।


    unprofessional work but good news nonetheless
    CommentQuote
  • What do they mean by 1100 meter master road? Do they mean By Pass Road?
    CommentQuote
  • the editor is just new. They do lot of these tricky errors all the time.
    CommentQuote
  • Originally Posted by miketest
    What do they mean by 1100 meter master road? Do they mean By Pass Road?


    Yes :)

    and it is actually around 900 meters ...
    CommentQuote
  • Prag, Miketest, Yogesh,
    Guys do post pictures of the road once encroachment is cleared after 8th. I used to visit bye pass road but during last two visits I use surajkund road-NH-2 and HUDA sector road (sect 14) to BPTP bridge and then NP. This is smooth and saved time as well.
    CommentQuote
  • Originally Posted by brandoo
    Prag, Miketest, Yogesh,
    Guys do post pictures of the road once encroachment is cleared after 8th. I used to visit bye pass road but during last two visits I use surajkund road-NH-2 and HUDA sector road (sect 14) to BPTP bridge and then NP. This is smooth and saved time as well.


    they are not removing encrochments on 8th. They are just alloting units on 8th. They are claiming after 15th so I suspect nothing will be demolished this month atleast.

    but yes, will take pics and post here once it is done :)
    CommentQuote
  • Originally Posted by pgarg2000
    they are not removing encrochments on 8th. They are just alloting units on 8th. They are claiming after 15th so I suspect nothing will be demolished this month atleast.

    but yes, will take pics and post here once it is done :)


    The removal of encroachment will be a big bang show, you will hear a day before its happening in all leading papers, and with some senior officer / politician taking credit for it.
    CommentQuote
  • बाईपास रोड के लिए सातवीं डेडलाइन तय - Seventh deadline set for bypass road - Navbharat Times

    बाईपास रोड के लिए सातवीं डेडलाइन तय

    एनबीटी न्यूज ॥ फरीदाबाद
    शहर की लाइफ लाइन बाईपास रोड के निर्माण कार्य की डेडलाइन को हूडा ने एक बार फिर बढ़ा दिया है। मार्च 2013 की जगह नई डेडलाइन 30 जून 2013 तय की गई है। इससे पहले बाईपास रोड की 5 डेडलाइन मिस हो चुकी है।
    आगरा नहर के साथ सेक्टर-37 से 59 तक 26 किमी लंबे बाईपास रोड का निर्माण किया जा रहा है। इसके लिए हूडा ने 122 करोड़ रुपये का बजट तैयार किया था। सितंबर 2008 में बाईपास रोड का निर्माण कार्य शुरू किया गया था। तब से लेकर 5 डेडलाइन मिस हो चुकी है और बजट बढ़कर 145 करोड़ रुपये तक पहुंच गया है। अभी तक हूडा बाईपास रोड पर 98.55 फीसदी काम पूरा कर चुका है। सबसे पहले कामनवेल्थ गेम्स से पहले डेडलाइन रखी गई थी। उसके बाद दिसंबर 2010, मार्च 2011, दिसंबर 2011 और फिर जून 2012 की तय डेडलाइन मिस हो चुकी है। इसके बाद हूडा ने मार्च 2013 की डेडलाइन तय की थी। बाईपास रोड के रास्ते से अभी अवैध निर्माण नहीं हटे हैं, जिसके चलते डेडलाइन को बढ़ाकर 30 जून 2013 कर दिया गया है। हूडा अधिकारियों के अनुसार, किसान व मजदूर कॉलोनी के पास लगभग 1100 मीटर का एरिया अवैध निर्माणों की चपेट है। अवैध निर्माणों में रहने वाले अधिकतर लोगों को आशियाना फ्लैट अलॉट कर दिए गए हैं। जल्द ही अवैध निर्माणों को रास्ते से हटा दिया जाएगा।
    वर्जन
    अवैध निर्माण हटने के बाद तीन महीने में काम पूरा कर लिया जाएगा। इसलिए हम लोगों ने बाईपास रोड की नई डेडलाइन 30 जून 2013 तय की है।
    टी. डी. चोपड़ा, एसई, हूडा
    CommentQuote
  • -
    आखिर कब शुरू होगा बाईपास रोड



    फरीदाबाद। हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण (हुडा) की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान लगते जा रहे हैं। मथुरा रोड को जाम मुक्त करने के लिए बनाए जा रहे बाइपास का निर्माण पूरा करने की अंतिम तिथि को छह बार बदला जा चुका है। अब सातवीं बार नई तारीख तय की गई है। इसके मुताबिक अब यह प्रोजेक्ट 30 जून तक पूरा होगा।
    शहर के लोगों का कहना है कि आखिर बाइपास रोड को औपचारिक रूप से अब शुरू किया जा सकेगा। दिल्ली से मथुरा की तरफ आने जाने वाले लोगों को राहत देने के उद्देश्य से हुडा ने बाइपास रोड का निर्माण करने की योजना तैयार की थी। जिससे लोगों को फरीदाबाद शहर में घुसने से रोका जा सके और राष्ट्रीय राजमार्ग दो (मथुरा रोड) पर लगने वाले जाम से निजात दिलाकर बाहर से निकाला जा सके।
    इसके तहत आगरा नहर के साथ सेक्टर-37 से सेक्टर-59 तक हुडा ने करीब 27 किलोमीटर लंबे बाइपास का निर्माण सितंबर 2008 में शुरू किया था। उस वक्त इस पर 122 करोड़ रुपये खर्च करने थे। लेकिन बार बार बाईपास की डेडलाइन बदलने से इसका बजट 145 करोड़ रुपये पहुंच गया है। करीब 98 प्रतिशत काम पूरा कर लिया गया है। लेकिन दो फीसदी शेष काम के चक्कर में पूरा प्रोजेक्ट अटका पड़ा है।
    --------------------
    कौन-कौन सी हैं अड़चन
    -किसान मजदूर कॉलोनी के पास 1100 मीटर का एरिया अवैध निर्माणों की चपेट में है। जिसके चलते यहां पर सड़क को चौड़ा नहीं किया जा सका है। जबकि हुडा यहां के निवासियों को आशियाना में प्लांट आवंटित कर चुका है। फिर भी लोग सड़क की जगह को खाली नहीं कर रहे हैं।
    -मलेरना रेलवे ओवर ब्रिज की बाधा भी रेलवे प्रशासन दूर नहीं कर सका है। इस कारण बाइपास को औपचारिक रूप से शुरू करने में दिक्कत आ रही है।
    ----------------
    अवैध निर्माणों के चलते बाईपास रोड का रास्ता साफ नहीं हो पाया है। निर्माण हटाने का काम तीन महीने पूरा होगा। इसलिए बाईपास रोड की नई डेडलाइन तीस जून 2013 कर दी गई है।
    -टीडी चोपड़ा, अधीक्षण अभियंता, हुडा।
    CommentQuote