GZB Metro Phase II :: Route cleared from Dilshad Garden to Mohan Nagar - Amar Ujaala



https://api.indianrealestateforum.com/api//v0/attachments/fetch-attachment?node_id=2577
Attachments:
Read more
Reply
629 Replies
Sort by :Filter by :
  • CommentQuote
  • Gayi Bheins Pani Mein. Ab nahin banti yeh metro line. GBD authorities (except GDA) & UP govt has shown thenga to public that no funds for metro. Now why DMRC will take loan & pay for GBD metro. Please refer navbharat times also for this news & will come to know actual situation. The picture is not so rossy.
    CommentQuote
  • Originally Posted by mohanpruthi
    Gayi Bheins Pani Mein. Ab nahin banti yeh metro line. GBD authorities (except GDA) & UP govt has shown thenga to public that no funds for metro. Now why DMRC will take loan & pay for GBD metro. Please refer navbharat times also for this news & will come to know actual situation. The picture is not so rossy.


    Yes... Game Still remains for 20% fund of this Metro..... ie 250 Caror..... UP Gov is ready to 500 Cr. ie 40% but by actual agreements with NCR Cities UP Gov should give 60% ie 750 Cr...... Center/DMRC already has to give 500 Cr. (40%) from the starting as it is the agreement by every NCR City Metro.....

    So Still games is remains for 250 Cr or 20% Fund for this METRO LINE.....

    News will be more +ive if UP Gov. Ready to contribute 750 Cr. in place of Current 500 Cr.

    BMW can waste 700 Cr. for her ugly Statues but can not contribute 250 Cr. more for Metro :bab (38):
    CommentQuote
  • Originally Posted by mohanpruthi
    Gayi Bheins Pani Mein. Ab nahin banti yeh metro line. .


    Bhainsa daal dia bhains ko paani me
    CommentQuote
  • Progress in +ive Mode but More Time will take due to 20% Remaining Fund Management

    दिलशाद गार्डन से अर्थला तक जाएगी मेट्रो
    30 Nov 2011 जागरण प्रकाशन लिमिटेड

    http://in.jagran.yahoo.com/epaper/article/index.php?page=article&choice=print_article&location=2&category=&articleid=111727341471078864

    गाजियाबाद, वरिष्ठ संवाददाता : मेट्रो दूसरे चरण का रास्ता धीरे-धीरे साफ होता जा रहा है। लखनऊ में मुख्य सचिव अनूप मिश्रा की अध्यक्षता में फंडिंग कमेटी की बैठक में यह निर्णय लिया गया कि जीडीए इस प्रोजेक्ट में पांच सौ करोड़ देगा। इसके अलावा इस प्रोजेक्ट में 315 करोड़ रुपये डीएमआरसी और शेष पैसा केंद्र सरकार वहन करेगा। धन की बाधा दूर होने से दूसरे चरण में मेट्रो दिल्ली के दिलशाद गार्डन से अर्थला तक आएगी। जीडीए उपाध्यक्ष नरेंद्र कुमार चौधरी ने बताया कि जीडीए अपने हिस्से का पांच सौ करोड़ रुपये देगा। उल्लेखनीय है कि मेट्रो के दूसरे चरण के प्रोजेक्ट पर 6 महीने सहमति बन गई थी। प्रमुख सचिव आवास रविंद्र सिंह ने इस प्रोजेक्ट को पूरा करने के सहमति जताई थी। लेकिन इसमें सबसे बड़ी बाधा फंडिंग को लेकर थी। इस प्रोजेक्ट पर करीब 1278 करोड़ रुपये व्यय होने का अनुमान लगाया गया था। इसमें शासन को फंडिंग की व्यवस्था करने की बात की गई थी। मंगलवार को लखनऊ में हुई बैठक के बाद शासन स्तर पर पांच सौ करोड़ रुपये देने के लिए जीडीए को अधिकृत किया गया है। जीडीए उपाध्यक्ष नरेंद्र कुमार चौधरी ने बताया कि बैठक में फंडिंग की व्यवस्था किस अनुपात में होगी और इस पर चर्चा की गई। चर्चा के बाद निर्णय लिया गया कि जीडीए पांच सौ करोड़ का इंतजाम करेगा और 315 करोड़ रुपये डीएमआरसी व्यवस्था करेगा। मेट्रो दूसरे चरण में दिलशाद गार्डन से अर्थला तक मेट्रो लाइन बिछाई जाएगी। सात किमी लंबी इस लाइन में 6 स्टेशन होंगे। इसके बनने से महानगर के लोगों को काफी सुविधा होगी। खासकर हिंडनपार के लोगों को काफी राहत मिलेगी।


    .
    CommentQuote
  • बैठक तय करेगी अर्थला मेट्रो का भविष्य
    2 Dec 2011, 0400 hrs IST

    http://navbharattimes.indiatimes.com/articleshow/10949327.cms

    प्रस॥ नवयुग मार्केट : दिलशाद गार्डन से अर्थला तक मेट्रो शुरू करने को लेकर कोई भी निर्णय डीएमआरसी और प्रमुख सचिव (आवास) की बैठक के बाद ही होगा। बैठक में डीएमआरसी को इक्विटी देने का प्रस्ताव रखा जाना है। बैठक के लिए प्रमुख सचिव (आवास) की ओर से पहले लेटर लिखा जाएगा। यह जानकारी देते हुए जीडीए के उपाध्यक्ष एन. के. चौधरी ने बताया कि सारा मामला फंडिंग का है। मंगलवार को उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव की अध्यक्षता में हुई बैठक। बैठक में मुख्य सचिव ने निर्देश दिया है कि डीएमआरसी को इक्विटी दी जाए जिससे वह लोन ले सकें। इसलिए डीएमआरसी के साथ जो बैठक होगी वह प्रमुख सचिव (आवास) स्तर पर होगी।
    CommentQuote
  • इक्विटी पर जीडीए डीएमआरसी से करेगी बात
    17 Dec 2011, 0400 hrs IST

    इक्विटी पर जीडीए डीएमआरसी से करेगी बात - Navbharat Times

    प्रमुख संवाददाता ॥ नवयुग मार्केट

    दिलशाद गार्डन से अर्थला तक मेट्रो का प्रोजेक्ट जल्द ही रफ्तार पकड़ सकता है। इसके लिए डीएमआरसी और जीडीए के अधिकारियों ने प्रयास शुरू कर दिए हैं। जीडीए के उपाध्यक्ष एन. के. चौधरी ने बताया कि इस मेट्रो प्रोजेक्ट को गति देने के मकसद से अगले सप्ताह डीएमआरसी और जीडीए के अधिकारियों की महत्वपूर्ण बैठक होने वाली है। इसमें डीएमआरसी के सामने इक्विटी का प्रस्ताव रखा जाएगा।

    जीडीए का मुद्दा

    जीडीए के उपाध्यक्ष एन. के. चौधरी ने बताया कि मेट्रो लाने के लिए जीडीए और अन्य विभागों को कितने रुपये देने हैं, उसके बारे में 29 नवंबर को लखनऊ में मुख्य सचिव अनूप मिश्रा की अध्यक्षता में बैठक हुई थी। तब मुख्य सचिव ने जीडीए अधिकारियों को निर्देश दिया था कि डीएमआरसी के अधिकारियों को बुलाकर उनसे इक्विटी के बारे में प्रस्ताव रखा जाए। डीमएआरसी जीडीए से मिलकर शेयर बेचकर धन एकत्र करे और उसकी भरपाई टिकट बेचकर तथा विज्ञापनों के माध्यम से करे। डीएमआरसी से यदि इक्विटी पर सहमति बन जाती है तब जीडीए भी मेट्रो को लाने के लिए हिस्सा देने के लिए तैयार हो जाएगा। जीडीए के वी. सी. का कहना है कि जीडीए स्वयं सारा हिस्सा वहन नहीं कर सकता। जीडीए पहले की आनन्द विहार से वैशाली तक मेट्रो ट्रेन लाने पर लगभग 267 करोड़ रुपये खर्च कर चुका है।

    1282 करोड़ होगा खर्च

    डीएमआरसी के दूसरे फेज में दिलशाद गार्डन से अर्थला तक 7.31 किलोमीटर मेट्रो के लाने में 1282 करोड़ रुपये खर्च आना है। इसमें से भारत सरकार का हिस्सा 275 करोड़ रुपये, डीएमआरसी का 192 करोड़ रुपये और गाजियाबाद विकास प्राधिकरण तथा अन्य संस्थाओं को 815 करोड़ रुपये अपने हिस्से से देने हैं।

    पहले की स्थिति

    जीडीए की 12 जुलाई को हुई बोर्ड बैठक में यह तय हुआ था कि 815 करोड़ में से पचास प्रतिशत राशि शासन से लेने का अनुरोध किया जाएगा। बाकी पचास प्रतिशत राशि में से 25 प्रतिशत जीडीए और शेष 25 प्रतिशत धन राशि नगर निगम , आवास विकास परिषद , उत्तर प्रदेश राज्य औद्योगिक विकास परिषद को देने थे। उसके बारे में कोई निर्णय नहीं हु आ।
    CommentQuote
  • Originally Posted by saurabh2011
    इक्विटी पर जीडीए डीएमआरसी से करेगी बात
    17 Dec 2011, 0400 hrs IST

    इक्विटी पर जीडीए डीएमआरसी से करेगी बात - Navbharat Times

    प्रमुख संवाददाता ॥ नवयुग मार्केट

    दिलशाद गार्डन से अर्थला तक मेट्रो का प्रोजेक्ट जल्द ही रफ्तार पकड़ सकता है। इसके लिए डीएमआरसी और जीडीए के अधिकारियों ने प्रयास शुरू कर दिए हैं। जीडीए के उपाध्यक्ष एन. के. चौधरी ने बताया कि इस मेट्रो प्रोजेक्ट को गति देने के मकसद से अगले सप्ताह डीएमआरसी और जीडीए के अधिकारियों की महत्वपूर्ण बैठक होने वाली है। इसमें डीएमआरसी के सामने इक्विटी का प्रस्ताव रखा जाएगा।

    जीडीए का मुद्दा

    जीडीए के उपाध्यक्ष एन. के. चौधरी ने बताया कि मेट्रो लाने के लिए जीडीए और अन्य विभागों को कितने रुपये देने हैं, उसके बारे में 29 नवंबर को लखनऊ में मुख्य सचिव अनूप मिश्रा की अध्यक्षता में बैठक हुई थी। तब मुख्य सचिव ने जीडीए अधिकारियों को निर्देश दिया था कि डीएमआरसी के अधिकारियों को बुलाकर उनसे इक्विटी के बारे में प्रस्ताव रखा जाए। डीमएआरसी जीडीए से मिलकर शेयर बेचकर धन एकत्र करे और उसकी भरपाई टिकट बेचकर तथा विज्ञापनों के माध्यम से करे। डीएमआरसी से यदि इक्विटी पर सहमति बन जाती है तब जीडीए भी मेट्रो को लाने के लिए हिस्सा देने के लिए तैयार हो जाएगा। जीडीए के वी. सी. का कहना है कि जीडीए स्वयं सारा हिस्सा वहन नहीं कर सकता। जीडीए पहले की आनन्द विहार से वैशाली तक मेट्रो ट्रेन लाने पर लगभग 267 करोड़ रुपये खर्च कर चुका है।

    1282 करोड़ होगा खर्च

    डीएमआरसी के दूसरे फेज में दिलशाद गार्डन से अर्थला तक 7.31 किलोमीटर मेट्रो के लाने में 1282 करोड़ रुपये खर्च आना है। इसमें से भारत सरकार का हिस्सा 275 करोड़ रुपये, डीएमआरसी का 192 करोड़ रुपये और गाजियाबाद विकास प्राधिकरण तथा अन्य संस्थाओं को 815 करोड़ रुपये अपने हिस्से से देने हैं।

    पहले की स्थिति

    जीडीए की 12 जुलाई को हुई बोर्ड बैठक में यह तय हुआ था कि 815 करोड़ में से पचास प्रतिशत राशि शासन से लेने का अनुरोध किया जाएगा। बाकी पचास प्रतिशत राशि में से 25 प्रतिशत जीडीए और शेष 25 प्रतिशत धन राशि नगर निगम , आवास विकास परिषद , उत्तर प्रदेश राज्य औद्योगिक विकास परिषद को देने थे। उसके बारे में कोई निर्णय नहीं हु आ।


    hawa mahal hei saab. Jab jeib mein nahin peise toi khwab dekhne ka kya fayda. GDA does not have funds, so no need to give false hopes to the people of this forum. U know BMW not interested in gbd.
    CommentQuote
  • Originally Posted by mohanpruthi
    hawa mahal hei saab. Jab jeib mein nahin peise toi khwab dekhne ka kya fayda. GDA does not have funds, so no need to give false hopes to the people of this forum. U know BMW not interested in gbd.


    Frankly this Ghaziabad Metro Ph II is no less than a suspense movie. I thought if UP govt was really serious about the metro , they would simply give their share of 60% money to DMRC and move on. But seems like the govt officials want to arm-twist DMRC just because the traffic on this route would be huge and DMRC would make more than normal profit.
    The movie is on. But I sincerely hope this metro ext does come up in the end.
    CommentQuote
  • Originally Posted by vicky6
    Frankly this Ghaziabad Metro Ph II is no less than a suspense movie. I thought if UP govt was really serious about the metro , they would simply give their share of 60% money to DMRC and move on. But seems like the govt officials want to arm-twist DMRC just because the traffic on this route would be huge and DMRC would make more than normal profit.
    The movie is on. But I sincerely hope this metro ext does come up in the end.


    I Personally Think that before UP Election it will not take any constructive Move.... After 6 month something good may happen..... Election means to make money by BMW for BSP party & not to spend money in public needs.....

    As for Metro to Mohan Nagar it will definitely come however yes will take time may be 6 month to 1 year more delay in starting work..... Actually Not only GDA even DMRC himself are interested to reach metro at Mohan Nagar, WHY??? because of HUGE daily passenger to get at Mohan Nagar for Metro... Mohan Nagar is a target for DMRC for sure.... If in place of BMW there is a Gov. of Congress in UP then till time work has been started but unfortunately rival of congress in UP hence Mohan Nagar METRO gets delaying & delaying :bab (38):
    CommentQuote
  • Originally Posted by saurabh2011
    I Personally Think that before UP Election it will not take any constructive Move.... After 6 month something good may happen..... Election means to make money by BMW for BSP party & not to spend money in public needs.....

    As for Metro to Mohan Nagar it will definitely come however yes will take time may be 6 month to 1 year more delay in starting work..... Actually Not only GDA even DMRC himself are interested to reach metro at Mohan Nagar, WHY??? because of HUGE daily passenger to get at Mohan Nagar for Metro... Mohan Nagar is a target for DMRC for sure.... If in place of BMW there is a Gov. of Congress in UP then till time work has been started but unfortunately rival of congress in UP hence Mohan Nagar METRO gets delaying & delaying :bab (38):


    Saurabh ji again false hopes to this forum. U r such a sr. mature member. Dont be over ambitious for gbd. please accept this fact that BMW give its dam care to gbd & nobody knows what is going to happen in next election.
    CommentQuote
  • sirji i think DMRC cant ignore this fruitful route for long time and UP govt knows that. thats y the reason up govt wants more money from DMRC:)
    CommentQuote
  • Originally Posted by mohanpruthi
    Saurabh ji again false hopes to this forum. U r such a sr. mature member. Dont be over ambitious for gbd. please accept this fact that BMW give its dam care to gbd & nobody knows what is going to happen in next election.


    The best thing about Ghaziabad realty is that it moves without any hype. That is : it is immaterial if Saurabh giving real hopes or false hope- Ghaziabad is a end-user market and not driven by investors unlike its neighbors. Moreover,it is like Consumer stock that can weather a normal recession easily.
    CommentQuote
  • Originally Posted by maxcapri
    they had this meeting once b4 too in meerut and all had agreed...but I guess tht was not official. Am waiting to see some action staring ..ek baar shuru ho jaye to ho hi jayega ..kitne bhi saal lagein....:)

    GNN, UPSIDC, Awas Vikas...bhai aap log aagey badho!! join in the party:)


    For last three years I have been wayching this news and believe me this series of news alone is responsible for for sale of half the societies flats in RNE. It seems a manufactured news in collusion with media people and GDA officials whereas it is a fact DPR was prepared in 2005-06 but I do not think the estimates taken at that time would be relevant today/
    CommentQuote
  • 22 को तय होगा अर्थला मेट्रो का भविष्य

    गाजियाबाद। दिलशाद गार्डन से अर्थला तक मेट्रो लाने के लिए इक्विटी और लोन के जरिये रकम जुटाने का प्रस्ताव जीडीए ने तैयार कर लिया है। जीडीए और डीएमआरसी के अधिकारी 22 दिसंबर को बैठक करेंगे। इस बाबत प्राधिकरण ने मंगलवार को औपचारिक आमंत्रण भी भेज दिया है।

    जीडीए मुख्य अभियंता के जरिये डीएमआरसी को भेजे पत्र में मेट्रो पर उप्र के मुख्य सचिव अनूप मिश्र की अध्यक्षता में हुई बैठक में लिए गये निर्णयों के आधार पर धनराशि व्यवस्था के बारे में विचार-विमर्श करने की बात कही गई है। प्राधिकरण ने डीएमआरसी को अर्थला मेट्रो की लागत को इक्विटी और लोन में बांटते हुए नया फाइनेंसिंग स्ट्रक्चर बनाने का सुझाव दिया है। वर्तमान फाइनेंसिंग स्ट्रक्चर में 90 फीसदी अंश अनुदान से लिया जाना प्रस्तावित है।

    जीडीए बैठक में डीएमआरसी से इक्विटी अंश को यथासंभव कम करने का अनुरोध करेगा। परियोजना लागत के शेष भाग को वित्तीय संस्थाओं से लोन लेकर पूरा करने की बात बैठक में उठ सकती है। फाइनेंसिंग स्ट्रक्चर के दोबारा बनने के बाद जितनी इक्विटी की जरूरत होगी, उसमें से राज्य सरकार के अंश को संबंधित संस्थाओं (जीडीए, आवास विकास, यूपीएसआईडीसी) में बांटने का निर्णय लिया जाएगा।

    जीडीए के मुख्य अभियंता आरके सिंह ने बताया कि डीएमआरसी को मेट्रो परियोजना पर वार्ता से संबंधित बैठक में भाग लेने के लिए पत्र भेजा गया है। अर्थला मेट्रो केअलावा वैशाली मेट्रो के लेबर वेलफेयर सैस के भुगतान और ऑपरेशन एंड मेंटीनेंस स्टाफ के आवास के लिए 1.50 एकड़ जमीन देने के मुद्दे पर भी विचार होगा।

    -Amar Ujala
    CommentQuote