GZB Metro Phase II :: Route cleared from Dilshad Garden to Mohan Nagar - Amar Ujaala



https://api.indianrealestateforum.com/api//v0/attachments/fetch-attachment?node_id=2577
Attachments:
Read more
Reply
629 Replies
Sort by :Filter by :
  • Originally Posted by noidaextension
    Can anyone suggest me the best location to invest in new project/prelaunch in residential property at Noida extension, Greater Noida, Gaziabad, Gurgoan & nearvy area within a budget of 20 lakhs. Any reputed project within this budget if known??


    You might get a 1 BHK new launch in RNE or a 1 BHK builder floor in Indirapuram if you search hard.
    CommentQuote
  • Originally Posted by SRIGzb
    Thanks AMAR UJALA For Keeping METRO NEWS ALIVE.

    जागरण संवाद केंद्र, गाजियाबाद :

    मेट्रो के दूसरे चरण का प्रस्ताव फिर प्रदेश की कैबिनेट में रखा जाएगा। ऐसा मेट्रो की लागत बढ़ने के कारण होगा। हालांकि अब फिर से कैबिनेट मंजूरी औपचारिकता भर है। इसके बाद में जल्द ही एमओयू (सहमति पत्र) किया जाएगा। गाजियाबाद विकास प्राधिकरण (जीडीए) मेट्रो के दूसरे चरण के विस्तार पर अपै्रल, 2013 में काम शुरू कराने की तैयारी में है। तीन साल की यह परियोजना 2016 में पूरी हो जाएगी। यानी यूपी में विधानसभा चुनाव से पहले। जाहिर तौर पर शासन स्तर से मेट्रो प्रोजेक्ट को शीघ्र पूरा कराने का प्रयास होगा।

    दूसरे चरण में मेट्रो का विस्तार दिलशाद गार्डन से नए बस अड्डे तक प्रस्तावित है। 9.71 किलोमीटर की परियोजना की पुरानी लागत 1591 करोड़ रुपये थी। जीडीए ने इसी राशि की स्वीकृति का प्रस्ताव शासन को भेजा था। इस पर कैबिनेट से मुहर भी लग गई थी। डीएमआरसी से यह अनुमानित लागत काफी पहले बताई गई थी। समय के साथ महंगाई बढ़ी तो मेट्रो की लागत बढ़नी भी स्वाभाविक थी। डीएमआरसी ने नई लागत 1770 करोड़ रुपये बताई है।

    जीडीए अध्यक्ष संतोष कुमार यादव का कहना है कि मेट्रो के विस्तार पर अपै्रल, 2013 में काम शुरू कराने की तैयारी है। डीएमआरसी ने सात स्टेशनों वाले इस रूट को तीन साल में पूरा करने की बात कही है।


    Appears that a small error has been happened. date of completion has been printed as 2016 instead of 3016 .
    CommentQuote
  • मार्च में एमओयू, अप्रैल से शुरू होगा काम
    Ghaziabad | Last updated on: February 8, 2013 5:31 AM IST

    गाजियाबाद। दिलशाद गार्डन से नया बस अड्डा तक 2016 में मेट्रो दौड़ने की उम्मीद परवान चढ़ने लगी है। ऐसा फंडिंग से जुड़े विभागों की सकारात्मक पहल से होगा। कभी फंडिंग पैटर्न, तो कभी विभागों की ना-नुकुर और फिर बढ़े हुए अंश पर विभागों की खींचतान खत्म होने के आसार दिख रहे हैं। जीडीए के बाद आवास विकास परिषद बोर्ड ने बढ़े फंडिंग पैटर्न पर सहमति दे दी है। नगर निगम भी आगामी कार्यकारिणी बैठक में नए सिरे से मेट्रो फंडिंग का प्रस्ताव शामिल कर रहा है। ऐसे में हर हाल में अगले माह तक मेट्रो का एमओयू साइन होने की उम्मीद बंध गई है। एक अप्रैल 2013 से इस रूट का निर्माण भी शुरू हो सकता है।
    बीते दिनों डीएमआरसी ने जीडीए को पत्र भेजकर सेकेंड फेज मेट्रो का काम एक अप्रैल 2013 से शुरू करने की जानकारी दी है। डीएमआरसी ने 31 मार्च 2016 तक प्रोजेक्ट को पूरा करने का लक्ष्य भी निर्धारित कर दिया है। इसके साथ ही डीएमआरसी ने प्रोजेक्ट की निर्माण लागत में इजाफा होने की भी जानकारी दी।
    जीडीए पहले ही बढ़ी लागत पर राजी है। बढ़ी लागत की अंडरटेकिंग जीडीए डीएमआरसी को भेज भी चुका है। शहर में मेट्रो की उपयोगिता को मेट्रो फंडिंग से जुड़े विभाग भी समझ रहे हैं। इसीलिए इस प्रोजेक्ट को अमली जामा पहनाने की कवायद तेज हो रही है। बढ़ी लागत का प्रस्ताव जल्द ही कैबिनेट में शामिल हो सकता है।
    CommentQuote
  • नया बस अड्डा मेट्रो : आज हटेगा एक ब्रेकर!

    Feb 11, 2013, 08.00AM IST
    नगर संवाददाता॥ नवयुग मार्केट
    नगर निगम की कार्यकारिणी मीटिंग में आज नया बस अड्डा मेट्रो प्रोजेक्ट के नए फंडिंग प्लान पर मुहर लग सकती है। मीटिंग में करीब 24 प्रस्ताव पेश किए जाएंगे। इनमें एक प्रस्ताव पार्षदों को भत्ता देने से जुड़ा है। मीटिंग दोपहर 12 बजे शुरू होगी। इसकी अध्यक्षता मेयर तेलूराम कांबोज करेंगे। नगर आयुक्त जितेंद्र सिंह भी इस दौरान मौजूद रहेंगे।
    क्या है नया फंडिंग प्लान
    बोर्ड में गिरा था पिछला प्रपोजल : निगम को मेट्रो प्रोजेक्ट में अपने हिस्से से 176.1 करोड़ रुपये देने हैं। हालांकि उसके पास इतना पैसा नहीं है। निगम की पिछली बोर्ड मीटिंग में फंडिंग पैटर्न का पुराना प्रपोजल गिर गया था। इस प्रपोजल में शेयरिंग के लिए निगम की जमीन जीडीए को देने का प्रस्ताव था। जीडीए इस पर ग्रुप हाउसिंग डिवेलप कर बेच देता और इनकम को निगम के साथ 60:40 के रेश्यो में बांटा जाता।
    नया तरीका : नगर आयुक्त जितेंद्र सिंह का कहना है कि मेट्रो के लिए फंड जुटाने को नया प्लान बनाया है। इसके लिए निगम जॉइंट वेंचर में जीडीए को 5 लाख वर्ग मीटर जमीन देगा। जीडीए इस पर हाउसिंग स्कीम डिवेलप कर लीज पर देगा। लीज भी खुली नीलामी में दी जाएगी। इस रकम को जीडीए और निगम के बीच 60:40 में बांटा जाएगा। प्रॉपर्टी का पूरा किराया निगम को मिलेगा। इसमें प्रॉपर्टी को बेचना भी नहीं होगा।
    पार्षदों को भत्ता : मीटिंग में एक और प्रपोजल पार्षदों को भत्ते का होगा। यह प्रस्ताव बीजेपी पार्षद दल के नेता मुकेश त्यागी पेश करेंगे। इसमें कहा गया है कि निगम के पार्षद आम जनता के काम के लिए दिन-रात सक्रिय रहते हैं और कई बार अपनी जेब से पैसा खर्च करते हैं। ऐसे में उन्हें हर महीने भत्ता दिया जाना चाहिए।
    CommentQuote
  • मेट्रो की रफ्तार आर या पार फैसला आज
    Ghaziabad | Last updated on: February 11, 2013 5:31 AM IST

    गाजियाबाद। नगर निगम की सोमवार को होने वाली कार्यकारिणी बैठक दिलशाद गार्डन टु नया बस अड्डा मेट्रो प्रोजेक्ट का फ्यूचर तय करेगी। क्योंकि इसमें शामिल अन्य सभी विभाग अपनी सहमति दे चुके हैं। केवल नगर निगम में ही फंडिंग का पेंच फंसा है। जिसका विरोध जनप्रतिनिधि कर रहे हैं। बैठक में इसके अलावा 10 अन्य महत्वपूर्ण प्रस्तावों पर भी चर्चा होगी।
    मेट्रो फंडिंग के लिए निगम बोर्ड फंडिंग से हाथ खड़े कर चुका है। लेकिन निगम अधिकारी जीडीए के साथ साइन हुए एमओयू की शर्तों में संशोधन कराकर इसे पास कराने की तैयारी में हैं। निगम ने अब हाउसिंग प्रोजेक्ट से मिलने वाली किराएदारी की पूरी रकम अपने पास रखने की शर्त लगाई है। कुछ पार्षद इस बार मेट्रो फंडिंग पर नरम पड़ सकते हैं। लेकिन कई पार्षद अभी भी विरोध में हैं। इस प्रस्ताव पर कार्यकारिणी बैठक में फिर हंगामा होने के आसार है। निगम कार्यकारिणी में इस बार तालाबों को कब्जामुक्त कर उन्हें पट्टे पर दिए जाने का प्रस्ताव भी शामिल होगा। सुबह 12 बजे शुरू होने वाली बैठक में सामुदायिक भवनों का निर्माण, पार्षदों को मानदेय दिए जाने, सरकारी भूमि की सुरक्षा के लिए फेंसिंग कराए जाने, सुपर शकर मशीन खरीदने, पेयजल और सीवर लाइन डालने के महत्वपूर्ण प्रस्ताव भी रखे जाएंगे।
    CommentQuote
  • Originally Posted by ragh_ideal
    मेट्रो की रफ्तार आर या पार फैसला आज
    Ghaziabad | Last updated on: February 11, 2013 5:31 AM IST

    गाजियाबाद। नगर निगम की सोमवार को होने वाली कार्यकारिणी बैठक दिलशाद गार्डन टु नया बस अड्डा मेट्रो प्रोजेक्ट का फ्यूचर तय करेगी। क्योंकि इसमें शामिल अन्य सभी विभाग अपनी सहमति दे चुके हैं। केवल नगर निगम में ही फंडिंग का पेंच फंसा है। जिसका विरोध जनप्रतिनिधि कर रहे हैं। बैठक में इसके अलावा 10 अन्य महत्वपूर्ण प्रस्तावों पर भी चर्चा होगी।
    मेट्रो फंडिंग के लिए निगम बोर्ड फंडिंग से हाथ खड़े कर चुका है। लेकिन निगम अधिकारी जीडीए के साथ साइन हुए एमओयू की शर्तों में संशोधन कराकर इसे पास कराने की तैयारी में हैं। निगम ने अब हाउसिंग प्रोजेक्ट से मिलने वाली किराएदारी की पूरी रकम अपने पास रखने की शर्त लगाई है। कुछ पार्षद इस बार मेट्रो फंडिंग पर नरम पड़ सकते हैं। लेकिन कई पार्षद अभी भी विरोध में हैं। इस प्रस्ताव पर कार्यकारिणी बैठक में फिर हंगामा होने के आसार है। निगम कार्यकारिणी में इस बार तालाबों को कब्जामुक्त कर उन्हें पट्टे पर दिए जाने का प्रस्ताव भी शामिल होगा। सुबह 12 बजे शुरू होने वाली बैठक में सामुदायिक भवनों का निर्माण, पार्षदों को मानदेय दिए जाने, सरकारी भूमि की सुरक्षा के लिए फेंसिंग कराए जाने, सुपर शकर मशीन खरीदने, पेयजल और सीवर लाइन डालने के महत्वपूर्ण प्रस्ताव भी रखे जाएंगे।

    Ghaziabad Ghaziabad, UP tou UP hi hai, hmmmmmm

    Never heard the city representatives are fighting against metro and facilities, sach mein ulta pradesh
    CommentQuote
  • Everybody post speculative news on metro but nobody has the guts to post truth. I think all are brokers and builders on this forum, only want to post speculative news and increase prices. Here is the true news. Metro is not coming to GZB any time soon.

    मेट्रो प्रोजेक्ट : निगम नहीं देगा रकम

    Feb 12, 2013, 08.00AM IST - कार्यकारिणी ने फंडिंग से जुड़ा प्रस्ताव निगम बोर्ड को रेफर किया
    - दूसरी बार बोर्ड में जाएगा फंडिंग का प्रस्ताव
    नगर संवाददाता॥ नवयुग मार्केट
    दिलशाद गार्डन टु नया बस अड्डा मेट्रो प्रोजेक्ट का फंडिंग प्लान फिर अटक गया। नगर निगम कार्यकारिणी ने इस प्रोजेक्ट के लिए पैसा न देने का फैसला किया है। सोमवार को कार्यकारिणी में फंडिंग का प्रस्ताव पेश किया गया। लंबी बहस के बाद कार्यकारिणी ने इसे निगम बोर्ड को रेफर कर दिया। इसके साथ कार्यकारिणी ने कहा कि निगम के पास इस प्रोजेक्ट के लिए पैसा नहीं है, लिहाजा यूपी सरकार स्पेशल पैकेज दे।
    जॉइंट वेंचर का था प्लान : इस प्रोजेक्ट में निगम को 185.90 करोड़ रुपये देने हैं। निगम प्रशासन का प्लान था कि वह निगम की खाली जमीन को जॉइंट वेंचर के तहत जीडीए को दे। इस जमीन पर बनने वाले प्रोजेक्ट के प्रीमियम पर 40 पर्सेंट इनकम निगम को और 60 पर्सेंट इनकम जीडीए को होगी। रेंट निगम लेगा।
    जीडीए को दी जानी थी जमीन : प्रस्ताव के हिसाब से सद्दीक नगर सरकारी स्कूल के पीछे करीब 10 हजार वर्ग मीटर, अर्थला धोबी घाट के पास 25 हजार, अकबरपुर-बहरामपुर में 50 हजार वर्ग मीटर, गांव बौंझा मंे 1500 वर्ग मीटर, सिहानी में 20 हजार वर्ग मीटर और गांव हसनपुर भौवापुर में करीब 5000 वर्ग मीटर जमीन जीडीए को दी जानी थी। हालांकि, सदन को तहसीलदार यह नहीं बता सके कि कौन सी जमीन विवादित नहीं है।


    Read it here

    मेट्रो प्रोजेक्ट : निगम नहीं देगा रकम - Metro project: The Corporation will not pay - Navbharat Times
    CommentQuote
  • Originally Posted by rajat1
    Everybody post speculative news on metro but nobody has the guts to post truth. I think all are brokers and builders on this forum, only want to post speculative news and increase prices. Here is the true news. Metro is not coming to GZB any time soon.



    Yes now one can say metro after 2021/31 only, as its not in capacity of GDA, just want to keep news active. :bab (59):
    CommentQuote
  • So finally ... no Metro coming in GZB (New Bus Stand) in near future....

    I think RNE investor/ prospective investor now should not take into consideration of Metro coming nearby.

    However if the following projects comes in RNE, it will have more impact on RNE than Metro:

    1. Karhera Bridge
    2. Proposed 3.5 Km Elevated Road to NH24
    3. Proposed Expressway type road from UP Gate to RNE
    CommentQuote
  • Originally Posted by santoshkr
    So finally ... no Metro coming in GZB (New Bus Stand) in near future....

    I think RNE investor/ prospective investor now should not take into consideration of Metro coming nearby.

    However if the following projects comes in RNE, it will have more impact on RNE than Metro:

    1. Karhera Bridge
    2. Proposed 3.5 Km Elevated Road to NH24
    3. Proposed Expressway type road from UP Gate to RNE

    Sirji...who is saying that metro is not coming, just visit RNE and speak to the brokers, then u will know that Metro is coming till RNE and no wonders if some broker will say that upcoming airport is proposed at NH 58 only 10 kms from RNE...:bab (59):

    Sirji...who is saying that metro is not coming, just visit RNE and speak to the brokers, then u will know that Metro is coming till RNE and no wonders if some broker will say that upcoming airport is proposed at NH 58 only 10 kms from RNE...:bab (59):

    Sirji...who is saying that metro is not coming, just visit RNE and speak to the brokers, then u will know that Metro is coming till RNE and no wonders if some broker will say that upcoming airport is proposed at NH 58 only 10 kms from RNE...:bab (59):

    Sirji...who is saying that metro is not coming, just visit RNE and speak to the brokers, then u will know that Metro is coming till RNE and no wonders if some broker will say that upcoming airport is proposed at NH 58 only 10 kms from RNE...:bab (59):

    Sirji...who is saying that metro is not coming, just visit RNE and speak to the brokers, then u will know that Metro is coming till RNE and no wonders if some broker will say that upcoming airport is proposed at NH 58 only 10 kms from RNE...:bab (59):

    Sirji...who is saying that metro is not coming, just visit RNE and speak to the brokers, then u will know that Metro is coming till RNE and no wonders if some broker will say that upcoming airport is proposed at NH 58 only 10 kms from RNE...:bab (59):
    CommentQuote
  • Originally Posted by santoshkr
    So finally ... no Metro coming in GZB (New Bus Stand) in near future....

    I think RNE investor/ prospective investor now should not take into consideration of Metro coming nearby.

    However if the following projects comes in RNE, it will have more impact on RNE than Metro:

    1. Karhera Bridge
    2. Proposed 3.5 Km Elevated Road to NH24
    3. Proposed Expressway type road from UP Gate to RNE


    OUT of these 1 might see the light soon. 2 and 3 are still proposed. Personally I do not see 3 happening in next 10 years. So no point talking about them. Only karhera bridge looks good to be done. Even in that case the traffic at mohan nagar in peak hours these days will likely negate any time saved for going to RNE.

    Anybody who takes mohan nagar bridge daily will know what I am talking about. It has become such a pain to take it in peak hours.


    OUT of these 1 might see the light soon. 2 and 3 are still proposed. Personally I do not see 3 happening in next 10 years. So no point talking about them. Only karhera bridge looks good to be done. Even in that case the traffic at mohan nagar in peak hours these days will likely negate any time saved for going to RNE.

    Anybody who takes mohan nagar bridge daily will know what I am talking about. It has become such a pain to take it in peak hours.


    OUT of these 1 might see the light soon. 2 and 3 are still proposed. Personally I do not see 3 happening in next 10 years. So no point talking about them. Only karhera bridge looks good to be done. Even in that case the traffic at mohan nagar in peak hours these days will likely negate any time saved for going to RNE.

    Anybody who takes mohan nagar bridge daily will know what I am talking about. It has become such a pain to take it in peak hours.


    OUT of these 1 might see the light soon. 2 and 3 are still proposed. Personally I do not see 3 happening in next 10 years. So no point talking about them. Only karhera bridge looks good to be done. Even in that case the traffic at mohan nagar in peak hours these days will likely negate any time saved for going to RNE.

    Anybody who takes mohan nagar bridge daily will know what I am talking about. It has become such a pain to take it in peak hours.


    OUT of these 1 might see the light soon. 2 and 3 are still proposed. Personally I do not see 3 happening in next 10 years. So no point talking about them. Only karhera bridge looks good to be done. Even in that case the traffic at mohan nagar in peak hours these days will likely negate any time saved for going to RNE.

    Anybody who takes mohan nagar bridge daily will know what I am talking about. It has become such a pain to take it in peak hours.


    OUT of these 1 might see the light soon. 2 and 3 are still proposed. Personally I do not see 3 happening in next 10 years. So no point talking about them. Only karhera bridge looks good to be done. Even in that case the traffic at mohan nagar in peak hours these days will likely negate any time saved for going to RNE.

    Anybody who takes mohan nagar bridge daily will know what I am talking about. It has become such a pain to take it in peak hours.
    CommentQuote
  • Originally Posted by indiareal
    Sirji...who is saying that metro is not coming, just visit RNE and speak to the brokers, then u will know that Metro is coming till RNE and no wonders if some broker will say that upcoming airport is proposed at NH 58 only 10 kms from RNE...:bab (59):


    some brokers have seen that metro is running through RNE
    CommentQuote
  • wITH THE available resources it could have easily brought upto Mohan Nagar. However the DPR was revised just to create the dispute of fund.

    I am sure that within next one week there will be news in hindi newspaper that Metro proposal is considered again.

    Some brokers in this forum also try to make people fool giving wrong news
    CommentQuote
  • Originally Posted by ragh_ideal
    नया बस अड्डा मेट्रो : आज हटेगा एक ब्रेकर!

    Feb 11, 2013, 08.00AM IST
    नगर संवाददाता॥ नवयुग मार्केट
    नगर निगम की कार्यकारिणी मीटिंग में आज नया बस अड्डा मेट्रो प्रोजेक्ट के नए फंडिंग प्लान पर मुहर लग सकती है। मीटिंग में करीब 24 प्रस्ताव पेश किए जाएंगे। इनमें एक प्रस्ताव पार्षदों को भत्ता देने से जुड़ा है। मीटिंग दोपहर 12 बजे शुरू होगी। इसकी अध्यक्षता मेयर तेलूराम कांबोज करेंगे। नगर आयुक्त जितेंद्र सिंह भी इस दौरान मौजूद रहेंगे।
    क्या है नया फंडिंग प्लान
    बोर्ड में गिरा था पिछला प्रपोजल : निगम को मेट्रो प्रोजेक्ट में अपने हिस्से से 176.1 करोड़ रुपये देने हैं। हालांकि उसके पास इतना पैसा नहीं है। निगम की पिछली बोर्ड मीटिंग में फंडिंग पैटर्न का पुराना प्रपोजल गिर गया था। इस प्रपोजल में शेयरिंग के लिए निगम की जमीन जीडीए को देने का प्रस्ताव था। जीडीए इस पर ग्रुप हाउसिंग डिवेलप कर बेच देता और इनकम को निगम के साथ 60:40 के रेश्यो में बांटा जाता।
    नया तरीका : नगर आयुक्त जितेंद्र सिंह का कहना है कि मेट्रो के लिए फंड जुटाने को नया प्लान बनाया है। इसके लिए निगम जॉइंट वेंचर में जीडीए को 5 लाख वर्ग मीटर जमीन देगा। जीडीए इस पर हाउसिंग स्कीम डिवेलप कर लीज पर देगा। लीज भी खुली नीलामी में दी जाएगी। इस रकम को जीडीए और निगम के बीच 60:40 में बांटा जाएगा। प्रॉपर्टी का पूरा किराया निगम को मिलेगा। इसमें प्रॉपर्टी को बेचना भी नहीं होगा।
    पार्षदों को भत्ता : मीटिंग में एक और प्रपोजल पार्षदों को भत्ते का होगा। यह प्रस्ताव बीजेपी पार्षद दल के नेता मुकेश त्यागी पेश करेंगे। इसमें कहा गया है कि निगम के पार्षद आम जनता के काम के लिए दिन-रात सक्रिय रहते हैं और कई बार अपनी जेब से पैसा खर्च करते हैं। ऐसे में उन्हें हर महीने भत्ता दिया जाना चाहिए।

    Sir
    humble request to you - " Don't put any metro news in this forum unless MOU gets signed, all innocent buyer will be thankful to you. There is no result of TimePass dot Kom
    CommentQuote
  • Originally Posted by Sudesh28
    Sir
    humble request to you - " Don't put any metro news in this forum unless MOU gets signed, all innocent buyer will be thankful to you. There is no result of TimePass dot Kom


    Brokers, builders and speculators will keep posting such news as their ability to increase prices depend upon such speculative news. RNE is a good place but only if the price is right, affordability is key here. If people cannot get good price why will middle class buy here.
    CommentQuote