Ghaziabad to Greater noida mini-expressway
Attachments:
Read more
Reply
4695 Replies
Sort by :Filter by :
  • Work on Dilshad Garden-Ghaziabad Metro track to begin soon

    Work on Dilshad Garden-Ghaziabad Metro track to begin soon

    Posted on: 17 Jan 2013, 09:05 AM


    Ghaziabad: The construction work of proposed Metro link between Ghaziabad New Bus Stand to Dilshad Garden is all set to begin.

    A meeting was held between the officials of Delhi Metro Rail Corporation (DMRC) and vice-chairman of Ghaziabad Development Authority, Santosh Kumar Yadav in this regard.

    Notably, a 9.7 km long metro rail line will be constructed between Dilshad Garden and New Bus Terminal in Ghaziabad that would cost Rs 1,581 crore. This would be the first metro link connecting the interiors of Ghaziabad. There will be seven stations on this stretch.

    After the meeting, Santosh Kumar Yadav informed that we are hopeful to sign the MoU with DMRC in February. Soon after this, the construction of metro line will be started.

    Yadav further added that DPR (Detailed Project Report) of the project has already been prepared. The Uttar Pradesh government has also given its nod to the funding pattern of the proposed metro rail link. Hence, the construction work of the ambitious project will begin on time. It is being expected that commuters will avail the Metro link facility from March 2015, he added.

    The Uttar Pradesh government in October last year approved Phase-II of the metro rail project which would link Dilshad Garden and New Bus Stand in Ghaziabad. The line will cover Shaheed Nagar, Raj Bagh, Rajendra Nagar, Shyam Park, Mohan Nagar, Arthala and New Bus Stand stations.
    CommentQuote
  • DG Update: Bad News

    Take action before it's too late.
    https://api.indianrealestateforum.com/api//v0/attachments/fetch-attachment?node_id=20903
    Attachments:
    CommentQuote
  • लोनी मेट्रो प्रोजेक्ट पर बैठक सोमवार को

    दिल्ली टु लोनी के शिव विहार तक मेट्रो प्रोेजेक्ट को लेकर सोमवार को दिल्ली में एक महत्वपूर्ण बैठक होगी। बैठक में डीएमआरसी ने जीडीए को भी बुलाया है। इस बैठक में इस प्रोजेक्ट पर कार्य करने और आ रही परेशानियों को लेकर चर्चा होने की संभावना है। जीडीए में मेट्रो सेल के प्रभारी एस. सी. गौड़ के मुताबिक बैठक में कई तरह के प्रस्ताव शामिल हो सकते हैं। डीएमआरसी पहले ही लोनी के शिव विहार तक मेट्रो प्रोजेक्ट फाइनल कर चुका है। इस प्रोजेक्ट के लिए जीडीए पहले ही फंड देने को ग्रीन सिग्नल दे चुका है। इस प्रोेजेक्ट को लेकर हो सकता है कि जीडीए के साथ डीएमआरसी एमओयू साईन करने से पहले कोई खास बैठक कर रहा है।


    लोनी मेट्रो प्रोजेक्ट पर बैठक सोमवार को - Lonnie metro project meeting on Monday - Navbharat Times
    CommentQuote
  • शुरू हुई लिंक रोड बनाने की कवायद

    जागरण संवाद केंद्र, गाजियाबाद : गाजियाबाद विकास प्राधिकरण का सपना 21 वर्षो में पूरा होने जा रहा है। 1984 में जिस लिंक रोड की चर्चा जीडीए बोर्ड के समक्ष हुई थी, उसके जनवरी, 2015 में बनकर तैयार होने की उम्मीद जगी है।
    हम बात कर रहे है एनएच-24 से सीधे मेरठ तिराहे को जोड़ने के लिए प्रस्तावित लिंक रोड की। इस रोड का प्रस्ताव कई बार जीडीए बोर्ड में रखा गया और कई बार अवस्थापना निधि की बैठक में मंडलायुक्त तक पहुंचा, लेकिन हर बार फाइल खुलकर बंद होती रही। कभी इसकी उपयोगिता पर सवाल उठे तो कभी लागत की बात सामने आई। जीडीए के मुख्य अभियंता डीआर यादव के मुताबिक, 26 जनवरी से लिंक रोड पर काम शुरू होगा।
    प्रताप विहार स्थित गंगाजल प्लांट के पास एनएच-24 से शुरू होकर यह रोड मेरठ तिराहे यानी एनएच-58 तक पहुंचने के लिए 3.59 किलोमीटर की होगी। छह लेन वाली इस रोड की खास बात यह होगी कि दिल्ली-हावड़ा रेल टै्रक को पार करने के लिए इसे 18.7 मीटर ऊंचा बनाया जाएगा। रेल टै्रक पर लिंक रोड की ऊंचाई छह मंजिला भवन के बराबर होगी। सड़क के निर्माण का काम आइटीडी सीमेंटेशन इंडिया लिमिटेड को दिया गया है। उसके लिए कंपनी के पक्ष में 115 करोड़ रुपये का टेडर छोड़ा गया है। रेल टै्रक पर 117 मीटर लंबे आरओबी का निर्माण रेलवे करेगा। इसके लिए जीडीए, रेलवे को 31.17 करोड़ रुपये का भुगतान करेगा। यानी, कुल मिलाकर लिंक रोड पर 146.16 करोड़ रुपये खर्च होंगे। लिंक रोड के लिए करीब 60 करोड़ का अनुदान केंद्र सरकार से मिला है।
    लिंक रोड की डिटेल्ड प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) के मुताबिक, एनएच-24 से शुरू होकर 1910 मीटर तक छह लेन की यह रोड सामान्य ऊंचाई वाली होगी। उसके 1910 मीटर से 2060 मीटर तक (150 मीटर) सड़क का निर्माण 'री- इंफो‌र्स्ड अर्थ वॉल' पर होगा। सड़क का यह हिस्सा 2.2 मीटर की ऊंचाई से शुरू होकर 5.7 मीटर की ऊंचाई तक पहुंचेगा। इसके बाद 2060 मीटर से 2632 मीटर तक सड़क एलीवेटेड (वाया डक्ट) होगी। इस दौरान सड़क की ऊंचाई 5.7 मीटर से शुरू होकर 18.7 मीटर पर पहुंच जाएगी। इसी ऊंचाई पर 2632 मीटर से 2750 मीटर तक आरओबी का निर्माण होगा।
    रेल टै्रक पार करने के बाद 2750 से 3300 मीटर तक सड़क फिर एलीवेटेड होगी। इस दौरान सड़क की ऊंचाई 18.7 मीटर कम होकर छह मीटर पर पहुंच जाएगी। 3300 से 3470 मीटर तक सड़क का निर्माण फिर 'री- इंफो‌र्स्ड अर्थ वॉल' पर होगा और ऊंचाई छह मीटर से घटकर तीन मीटर तक आ जाएगी। 3470 मीटर से 3510 मीटर के आखिरी चरण में सड़क की ऊंचाई तीन मीटर से घटकर 0.2 मीटर रह जाएगी। इसी ऊंचाई पर यह रोड मेरठ तिराहे से जुडे़गी।
    CommentQuote
  • Originally Posted by sunil20801
    Take action before it's too late.
    https://api.indianrealestateforum.com/api//v0/attachments/fetch-attachment?node_id=20903


    It is on BOT basis ..Build Operate Transfer .... govt is playing safe ... No investment no sales no operation ..all investment from company taking order and finding market for substandard manure ... perfect recipe for failure.
    CommentQuote
  • रेलवे अंडरपास बनाने की तैयारी शुरू

    जीडीए और रेलवे ने मंगलवार को हिंडन बैराज के पास अंडरपास के लिए मार्किंग कर दी। रेलवे 1 महीने में जीडीए को प्रोजेक्ट की डीपीआर सौंपेगा। इसके बाद बजट रिलीज कर काम शुरू करा दिया जाएगा। अथॉरिटी के चीफ इंजीनियर डी. आर. यादव के अनुसार, वाहन चालकों की सुविधा के लिए यहां यू-टर्न भी बनाए जाएंगे।
    अंडरपास से पहले बनेंगे यू-टर्न : चीफ इंजीनियर के अनुसार, अंडरपास के पहले दोनों साइड यू-टर्न बनाए जाएंगे, ताकि गलती से कोई वाहन चालक इस तरफ आ जाए तो उसे ज्यादा आगे न जाना पड़े। इसी तरह से एक यू-टर्न वसुंधरा की ओर भी बनाया जाएगा, ताकि जीटी रोड से आने वाले वाहन चालक मुड़ सकें।
    हिंडन नहर पर बनेगा नया पुल : अंडरपास हिंडन नहर पर बनाए गए स्क्रू ब्रिज (तिरछे पुल) के निकट निकलेगा। इस वजह से यहां नहर के ऊपर एक नया ब्रिज बनाया जाएगा, जिससे अंडरपास से आने वाले वाहन चालक यहां जाम में न फंसे। अंडरपास का काम शुरू होते ही सिंचाई विभाग से नया पुल बनाने के लिए कहा जाएगा।
    डीपीआर के साथ अनुमानित खर्चे की रिपोर्ट भी : यादव ने बताया कि रेलवे ने पहले 9.68 करोड़ रुपये का खर्च आने की बात कही थी, हालांकि डीपीआर के साथ उनसे खर्च का ब्यौरा भी मांगा गया है।

    वाहन चालकों को होगा फायदा : फिलहाल नहर के रास्ते पर सिर्फ 2 लेन रोड है। गाजियाबाद की ओर से नोएडा, इंदिरापुरम, वसुंधरा जाने वाले वाहन चालक जल्दी पहुंचने के लिए इसी रास्ते का यूज करते हैं। इस रास्ते को 4 लेन करने के लिए मिट्टी डालकर काम शुरू किया गया था। जीटी रोड के पास से अलग से 2 लेन रोड बनाने के लिए मिट्टी डालकर सड़क बनाने का काम भी कर दिया गया है।
    CommentQuote
  • Target: One lakh daily commuters

    26 Jan 2013Hindustan Times
    Target: One lakh daily commuters



    The new Metro link will put the realty markets in all areas from Shaheed Nagar to the Old Bus Stand on the fast track

    According to an estimate by the Delhi Metro Rail Corporation (DMRC) and the Ghaziabad Development Authority (GDA), more than one lakh daily commuters are going to benefit from the proposed Dilshad Garden-Ghaziabad Metro corridor. One can imagine its impact as the mere announcement of the project in October last year made prices move up in the real estate market along the proposed corridor and neighbouring areas.
    Real estate experts say that property prices have already escalated from 10% to 15% in areas such as Shaheed Nagar, Raj Bagh, Shalimar Garden, Rajender Nagar, Lajpat Nagar and Mohan Nagar etc.
    Experts say that the accelerated growth in property prices from 2002 onwards came about mainly because of extended Metro connectivity. Every announcement, completion and operation of Metro work received quite a positive reaction from the real estate market. Also, the Ghaziabad Development Authority (GDA) has worked out big plans to earn revenue from the area to finance the project. According a senior GDA official, the authority has planned to earn money by land use upgradation, and allowing additional FAR and mixed land use along the metro corridor.
    “The total cost of the project is about R1600 crore, out of which the state government will have to take care of around R1000 crore. The rest of the money will be spent by the DMRC and the Central government. Several government agencies of Uttar Pradesh, such as Nagar Nigam Ghaziabad, Uttar Pradesh State Industrial Development Corporation (UPSIDC), Uttar Pradesh Housing and Development Board and Ghaziabad Development Authority have agreed to contribute around R1000 crore,” says the official.
    The MoU will be in place in a few months, he said. The project is scheduled to be completed in four years. Those interested in buying property here should know that one of the key areas is Raj Nagar Extension.
    Says Gaurav Gupta, spokesperson, Raj Nagar Extension (RNE), “Plans are being made to improve connectivity to Raj Nagar Extension where around 32,460 units are going to come up. The nearest Metro station will be Arthala — around two kilometres from RNE. The proposed Rapid Rail Transit System between New Delhi and Meerut will have a station at Mohan Nagar, a few kilometres away from RNE. Anand Vihar, Vaishali, Mohan Nagar, Meerut Road (Airtel Cut), Morta, Duhai, Muradnagar, Gang Nahar, Modi Nagar, Mohiuddinpur, Meerut Bypass Cut and Pallavpuram are the proposed halts of this RRTS. GDA has also approved an elevated, four-lane road from UP Gate to Raj Nagar Extension. This 18-km stretch will go on to connect with the Northern Peripheral Road. Half the road is elevated and the other half linking RNE to Nagla Ataur will be at the ground level.
    “At present, Savior Park and Gulmohar Garden are some of the upcoming group housing societies which fall on the Metro line. There is a huge possibility of development due to availability of land on both sides. If the government changes land use from residential/agricultural to mixed used/purely commercial, malls, hotels, big shopping complexes are bound to come here,” says Rajiv Bansal, a local dealer.
    Developers say that Mohan Nagar already has established infrastructure, schools and colleges, hospitals, shopping centers and malls and the Metro will attract a huge number of buyers on this route.

    The recently constructed bridge on the Hindon is attracting commuters towards Ghaziabad, Meerut and Haridwar and ensures a smooth flow of traffic. Every step is being taken to tackle the traffic system here. Metro connectivity will be a boon. All the areas falling on its route will benefit from the development. After coming from Delhi, the Metro will cross Mohan Nagar, Arthala, Raj Nagar Extension cut (Hindon River) and will finally reach the New Bus Stand. So, all the projects in the vicinity of this route, especially the projects in Mohan Nagar and Raj Nagar Extension, will see good appreciation in the near future,” says Sanjay Rastogi, director, Saviour Builder.
    Attachments:
    CommentQuote
  • भूकंपरोधी बनेंगे फ्लै फ्लैट

    आवास-विकास परिषद दिल्ली-सहारनपुर हाउसिंग स्कीम में सपना-1 और सपना-2 फ्लैट्स को अब शियरवॉल तकनीक से बनाएगा। पिछले दिनों लखनऊ मीटिंग में यह फैसला किया गया। शियरवॉल तकनीक से फ्लैट ज्यादा मजबूत और भूकंपरोधी होंगे। स्कीम के सुपरिटेेंडिंग इंजीनियर ज्ञानेंद्र सिंह ने बताया कि शियर वॉल से मकान बनाने में कम वक्त लगता है। सामान्य तरीकों से बनने वाली बिल्डिंग के स्ट्रक्चर में अक्सर गड़बड़ी की शिकायत आती है। परिषद की सिद्धार्थ विहार स्कीम में भी इस तकनीक को अपनाया जा रहा है।
    क्या है शियरवॉल तकनीक : कंक्रीट की बिल्डिंगों में स्लैब, बीम और कॉलम के अलावा वर्टिकल प्लेटनुमा शियर वॉल भी होती हैं। ये वॉल बिल्डिंग की नींव से शुरू होती हैं और पूरी ऊंचाई पर जाकर खत्म होती हैं। इनकी मोटाई कम से कम 150 एमएम और ज्यादा से ज्यादा 400 एमएम हो सकती है। शियर वॉल किसी भी बिल्डिंग में वर्टिकल के अलावा हॉरिजॉन्टल (पड़ी स्थिति) भी लगाई जाती हैं। शियर वॉल से बनी बिल्डिगें भूकंपरोधी होती हैं। अमेरिका, न्यूजीलैंड और चिली में शियरवॉल का इस्तेमाल आम है।
    आर्थिक बोझ का खुलासा नहीं : शियर वॉल के इस्तेमाल से बढ़ने वाले खर्च का बोझ अलॉटियों पर पड़ेगा। हालांकि अफसर इस बारे में कुछ बोलने को तैयार नहीं हैं। विभाग में चर्चा है कि फाइनल कॉस्टिंग का फैसला जल्द ही होगा


    भूकंपरोधी बनेंगे फ्लैट - Become resistant flat - Navbharat Times
    CommentQuote
  • Consumer Court

    Hi Friends,

    Could you please help me to know@ where (location of consumer court) to log a complaint against builder.

    Builder in Ghaziabad (Near Lal Kauan) and My residence is in Nehru Nagar.

    Also help with process/fees/approx time to resove the issue.

    Issue - Un-justified demand of interest whereas delay to handover the related documents / demand was from their side.

    I have all communication / emails as a proof with me.
    CommentQuote
  • 2016 में दिलशाद गार्डन से दौड़ेगी मेट्रो
    Updated on: Wed, 30 Jan 2013 10:07 PM (IST)

    जागरण संवाद केंद्र, गाजियाबाद :

    मेट्रो के दूसरे चरण का प्रस्ताव फिर प्रदेश की कैबिनेट में रखा जाएगा। ऐसा मेट्रो की लागत बढ़ने के कारण होगा। हालांकि अब फिर से कैबिनेट मंजूरी औपचारिकता भर है। इसके बाद में जल्द ही एमओयू (सहमति पत्र) किया जाएगा। गाजियाबाद विकास प्राधिकरण (जीडीए) मेट्रो के दूसरे चरण के विस्तार पर अपै्रल, 2013 में काम शुरू कराने की तैयारी में है। तीन साल की यह परियोजना 2016 में पूरी हो जाएगी। यानी यूपी में विधानसभा चुनाव से पहले। जाहिर तौर पर शासन स्तर से मेट्रो प्रोजेक्ट को शीघ्र पूरा कराने का प्रयास होगा।

    दूसरे चरण में मेट्रो का विस्तार दिलशाद गार्डन से नए बस अड्डे तक प्रस्तावित है। 9.71 किलोमीटर की परियोजना की पुरानी लागत 1591 करोड़ रुपये थी। जीडीए ने इसी राशि की स्वीकृति का प्रस्ताव शासन को भेजा था। इस पर कैबिनेट से मुहर भी लग गई थी। डीएमआरसी से यह अनुमानित लागत काफी पहले बताई गई थी। समय के साथ महंगाई बढ़ी तो मेट्रो की लागत बढ़नी भी स्वाभाविक थी। डीएमआरसी ने नई लागत 1770 करोड़ रुपये बताई है।

    जीडीए अध्यक्ष संतोष कुमार यादव का कहना है कि मेट्रो के विस्तार पर अपै्रल, 2013 में काम शुरू कराने की तैयारी है। डीएमआरसी ने सात स्टेशनों वाले इस रूट को तीन साल में पूरा करने की बात कही है।
    CommentQuote
  • Originally Posted by ragh_ideal
    2016 में दिलशाद गार्डन से दौड़ेगी मेट्रो
    updated on: Wed, 30 jan 2013 10:07 pm (ist)

    जागरण संवाद केंद्र, गाजियाबाद :

    मेट्रो के दूसरे चरण का प्रस्ताव फिर प्रदेश की कैबिनेट में रखा जाएगा। ऐसा मेट्रो की लागत बढ़ने के कारण होगा। हालांकि अब फिर से कैबिनेट मंजूरी औपचारिकता भर है। इसके बाद में जल्द ही एमओयू (सहमति पत्र) किया जाएगा। गाजियाबाद विकास प्राधिकरण (जीडीए) मेट्रो के दूसरे चरण के विस्तार पर अपै्रल, 2013 में काम शुरू कराने की तैयारी में है। तीन साल की यह परियोजना 2016 में पूरी हो जाएगी। यानी यूपी में विधानसभा चुनाव से पहले। जाहिर तौर पर शासन स्तर से मेट्रो प्रोजेक्ट को शीघ्र पूरा कराने का प्रयास होगा।

    दूसरे चरण में मेट्रो का विस्तार दिलशाद गार्डन से नए बस अड्डे तक प्रस्तावित है। 9.71 किलोमीटर की परियोजना की पुरानी लागत 1591 करोड़ रुपये थी। जीडीए ने इसी राशि की स्वीकृति का प्रस्ताव शासन को भेजा था। इस पर कैबिनेट से मुहर भी लग गई थी। डीएमआरसी से यह अनुमानित लागत काफी पहले बताई गई थी। समय के साथ महंगाई बढ़ी तो मेट्रो की लागत बढ़नी भी स्वाभाविक थी। डीएमआरसी ने नई लागत 1770 करोड़ रुपये बताई है।

    जीडीए अध्यक्ष संतोष कुमार यादव का कहना है कि मेट्रो के विस्तार पर अपै्रल, 2013 में काम शुरू कराने की तैयारी है। डीएमआरसी ने सात स्टेशनों वाले इस रूट को तीन साल में पूरा करने की बात कही है।


    mou ka pata nahi, just news thanks amar ujala
    CommentQuote
  • Originally Posted by ragh_ideal
    2016 में दिलशाद गार्डन से दौड़ेगी मेट्रो
    Updated on: Wed, 30 Jan 2013 10:07 PM (IST)

    जागरण संवाद केंद्र, गाजियाबाद :

    मेट्रो के दूसरे चरण का प्रस्ताव फिर प्रदेश की कैबिनेट में रखा जाएगा................


    agar price fir dobara bada to fir ek baar or

    Ye chuhe billi ka khel ese kab tak chalega?
    CommentQuote
  • आवास-विकास बढ़ाएगा फ्लैटों की कीमत


    Feb 1, 2013, 08.00AM IST
    नितेश सिन्हा ॥ टीएचए
    आवास विकास परिषद की भविष्य की स्कीमों में फ्लैटों की कीमतें बढ़ सकती हैं। यह बढ़ोतरी 16-25 पर्सेंट तक हो सकती है। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार, इस महीने होने वाली मीटिंग में इस पर आखिरी फैसला किया जाएगा। दरें डिमांड के आधार पर बढ़ाई जाएंगी। नए रेट 1 अप्रैल से लागू होंगे। पुरानी स्कीमों के अलॉटी इससे बेअसर रहेंगे। परिषद की संपत्ति शाखा के सूत्रों के अनुसार, जिन योजनाओं की मांग कम है, वहां बड़े फेरबदल की उम्मीद नहीं है। बढ़ोतरी का असर दिल्ली-सहारनपुर और सिद्धार्थ विहार हाउसिंग स्कीम पर भी पड़ सकता है।
    CommentQuote
  • जीटी रोड से कनेक्ट हुआ हिंडन पुश्ता रोड


    नवभारत टाइम्स | Feb 1, 2013, 01.35AM IST
    गाजियाबाद।। वसुंधरा सेक्टर -1 से हिंडन पुश्ते के रास्ते से आ रही 2 लेन रोड को जीटी रोड से जोड़ने का काम पूरा कर लिया गया है। इस सड़क के जीटी रोड से जुड़ जाने के बाद अब वसुंधरा , वैशाली , नोएडा और इंदिरापुरम से आने वाले वाहन चालक हिंडन नहर के पुल पर जाम में नहीं फंसेंगे। जीडीए के चीफ इंजीनियर डी . आर . यादव ने बताया कि हिंडन नहर से कनावनी पुलिया तक 32 करोड़ रुपये से रोड बनाई जा रही है। इसमें पुश्ते से कनावनी पुलिया तक 2 लेन की रोड बनाना भी शामिल है।

    भविष्य में बढ़ेगा ट्रैफिक
    यादव के अनुसार , आने वाले दिनों में रेलवे अंडरपास बनने के बाद इस पॉइंट पर काफी ट्रैफिक बढ़ जाएगा। इसे ध्यान में रखकर ही पुश्ता रोड को जीटी रोड से जोड़ने का काम किया गया है।

    राहगीरों के लिए बनाया फुटपाथ
    पुश्ता रोड पर जीटी रोड से रेलवे लाइन तक रोड बनाने से पहले फुटपाथ भी बनाया गया है , ताकि पैदल चलने वाले लोग तेज स्पीड वाहनों से बचें। पुश्ता रोड से हिंडन विहार कॉलोनी में पैदल जाने वालों की संख्या ज्यादा है। सुबह से शाम तक पैदल चलने वाले रोड पर ही चलते हैं , जिससे गाडि़यों की स्पीड पर असर पड़ता है और हर पल हादसे का डर रहता है।

    4 लेन होगी रोड
    यादव के अनुसार , फिलहाल पुश्ते की 2 लेन रोड पर ट्रैफिक का प्रेशर रहता है। इस वजह से इसे 4 लेन बनाया जा रहा है।

    वाहन चालकों को होगा फायदा
    फिलहाल गाजियाबाद से नोएडा , इंदिरापुरम , वसुंधरा जाने वाले वाहन चालक इस रास्ते का प्रयोग करते हैं। इसी तरह से नोएडा , इंदिरापुरम , वसुंधरा से जल्दी गाजियाबाद पहुंचने के लिए यह लोगों का पसंदीदा रास्ता है। भविष्य में यहां काम पूरा हो जाने के बाद लोग बिना रेडलाइट के फटाफट मेरठ रोड या वसुंधरा की तरफ पहुंच सकेंगे।
    CommentQuote
  • NH24/NH58 - From bad to worse! Jagran has taken lead to report the NH24 traffic pain.. multiple news. No affirmative action till now though.

    1-Feb-2013
    कम चौड़ाई का परिणाम, एनएच पर आए दिन जाम 10088371
    अभियान की मुख्य खबर :: राजमार्गो की चौड़ाई बढ़ाने का कोई विकल्प नहीं 10054785

    31-Jan-2013
    राजमार्गो की चौड़ाई न बढ़ी तो बढ़ जाएगी जाम की समस्या 10087836

    19-Jan-2013
    अभियान की मुख्य खबर :: राजमार्गो की चौड़ाई बढ़ाने का कोई विकल्प नहीं 10054785

    17-Jan-2013
    लापरवाही से राजमार्गो की चौड़ाई बढ़ाने में विलंब 10047730

    16-Jan-2013
    जाम की समस्या का होगा काम तमाम 10045160

    10-Nov-2012
    एनएच-24 की चौड़ाई बढ़ाना जरूरी : राजनाथ 9838806

    1-Nov-2012
    जाम से बढ़ी लोगों की परेशानी 9805393

    1-Oct-2012
    राजमार्गो को चौड़ा करना जरूरी : अजित 9714747
    CommentQuote