Ghaziabad has Lok Sabha election due on April 10,1014.

Elections are expected to be high profile with Raj Babbbar already in fray from Congress.AAP also will be a force here & BJP is the current holder of the seat although BJP President rajnath singh in all probabilty is not fighting from Ghaziabad..

With many infrastructure activities due in next year for the city including Metro, Flyover, widening of Nh-24, Expressways our new M.P will have an important role to play.

Please pour in your comments to discuss our new M.P.
Read more
Reply
73 Replies
Sort by :Filter by :
  • Today listen whole Modi ji speech in Ghaziabad I must say that Modi ji is the only hope for India.. No matter what others say my vote is only for Modi ji
    CommentQuote
  • Latest ADR Survey (Date: 03.04.2014) -- Dirty Past: 15% AAP party candidates face criminal cases

    When being a new party AAP's 15% candidates having critical criminal cases against them so it's sure once AAP becomes old party ie after 10 to 20 years 100% candidates of AAP will be only criminals

    http://adrindia.org/media/adr-in-news/dirty-past-15-aap-candidates-face-criminal-cases
    CommentQuote

  • बीके सिंह ने मंच से उठाए एनबीटी के मुद्दे


    Apr 4, 2014, 08.00AM IST

    एनबीटी न्यूज, इंदिरापुरम
    गाजियाबाद से बीजेपी के प्रत्याशी जनरल वीके सिंह ने शहर के तमाम लोकल मुद्दों को भी उठाया, उन्होंने कहा कि अगर मजबूत सरकार मिलती है तो यहां पर एनएच-24 और एनएच-58 को चौड़ा करने का काम प्राथमिकता पर किया जाएगा। मालूम हो कि एनबीटी ने सभी पार्टी के प्रत्याशियों को एक मंच पर बुलाकर डिबेट कराई थी जिसमें मैनिफेस्टो तैयार हुआ था जिसमें एनएच-24 और एनएच-58 को चौड़ा करने, उद्योगों के लिए नीति बनाने, औद्योगिक इलाकों का विकास किए जाने, कानून व्यवस्था को दुरूस्त का जैसी तमाम बातें मुख्य थीं।
    CommentQuote
  • AAP leader Arvind Kejriwal has left the country choiceless
    Sri Sri Ravi Shankar
    April 03, 2014

    First Published: 23:12 IST(3/4/2014)
    Last Updated: 09:00 IST(4/4/2014)
    share share on facebookshare on linkedinshare on googleshare on emailmore.
    290 comments
    Tweet email print
    When the Aam Aadmi Party (AAP) emerged on the Indian political horizon, the country was stirred by the prospect of young and dynamic leaders cleansing the system.

    Although it began as an apolitical movement, I concurred with Arvind Kejriwal’s view that to cleanse politics, one must enter politics. For this reason, I have been telling the Naxals to move from bullet to ballot.

    I was happy to see many young people participate in the last assembly elections in Jharkhand.

    The coterie culture of established political parties has left the common man with little scope for participation in the system other than casting votes. The new party created high hopes in millions of Indians who were tired of corruption and criminalisation of politics.

    Many signed up for membership of AAP, yearning to see a better India. Its people-to-people connection and sincerity of purpose made Delhi vote for it in a big way.

    It was good that, subsequently, AAP formed the government with the Congress’ support. People expected the new government to take on corrupt leaders.

    If the AAP government had fallen because of its positive action against corruption, it would have scored high on integrity. But the party was ill-advised to resign so that it could get out of Delhi and sweep the nation.

    Read: AAP manifesto: Decide cases against Muslims fast, lower age to fight polls

    By doing this, Kejriwal showed himself to be no different from other politicians — the hidden ambition and agenda came to the forefront.

    Cheap publicity stunts, self-contradiction, over-ambition and autocracy tarnished the positive image of AAP and soon many respectable people became disillusioned and left the party.

    Now Kejriwal says that he is okay with a fractured mandate in this election and mid-term polls in two years’ time. This indicates a very callous attitude towards the nation’s economy and security.

    He visited Gujarat for four days and hurled criticism without any basis at the state’s development. I have travelled through the length and breadth of Gujarat over the years. In the 1990s and early 2000s, to see a tree in Saurashtra was a rarity.

    It was so drought-prone that people had to sell their cattle often. But today there is greenery everywhere. Electricity supply was scarce — hardly two hours a day. Today there is water and electricity in almost every village and the per capita income has risen.

    While Gujarat may not be 100% corruption-free, I have no hesitation in saying that it is much better than what it used to be. Instead of being honest with facts, Kejriwal has chosen to put down BJP’s prime ministerial candidate and Gujarat chief minister Narendra Modi on flimsy grounds.

    If AAP is voted for a role in national politics and if Kejriwal does what he did in Delhi, it will be an absolute disaster for the country.

    India cannot afford to take such a risk when the country is on a ventilator with most economic parameters vulnerably placed. We need a stable government at the Centre to put our economy back on track and spur development.

    In a hurry to jump on the national scene, AAP has compromised all principles that gave birth to it.

    AAP should have proved its mettle in Delhi and taken time to build up its cadre in other parts of the country. It should have gone to villages and contested panchayat and municipality elections and taken time to build a strong and committed cadre, trained in governance.

    It could have forced other parties to rethink their strategy of giving tickets to criminals and corrupt people. With a strong foundation, it would have been a boon to the nation. But with so many contradictions, AAP has squandered its agenda of political reform.

    When Kejriwal captured people’s imagination with his sharp activism during the anti-corruption movement, he was primed to give an alternative to Indian politics.

    But after his recent antics, there is a sense of being let down even among those who were once his staunch supporters. He came to give the country a choice, but has left the country choiceless.

    (Sri Sri Ravi Shankar is a spiritual leader. The views expressed by the author are personal.)

    - See more at: AAP leader Arvind Kejriwal has left the country choiceless - Hindustan Times
    CommentQuote
  • Ab to Kesriwal aapni kudh ke Party workers se he Pit Rahe Hai , AAPtards beaten Kesriwal badely .. Ghooso aur Jhapparo Se .. Kesriwal should analyze himself why mostly Delhi AAP workers are now against him and Hate him so badly.. Kesriwal Babu kabhi kapne bhi Buraiyan dekh liya karo kab tab Modi Ji he Japoge. https://api.indianrealestateforum.com/api//v0/attachments/fetch-attachment?node_id=47855
    Attachments:
    CommentQuote
  • So what is the mood in Ghaziabad??
    CommentQuote
  • नई दिल्ली। भाजपा ने सोमवार को अपने घोषणापत्र को जारी करते हुए महंगाई से निपटने और दाम स्थिर रखने के लिए विशेष फंड बनाने का वादा किया। घोषणापत्र में पश्चिम बंगाल और बिहार के लिए विशेष पैकेज का जिक्र नहीं किया गया।
    मुरली मनोहर जोशी ने बताया कि घोषणपत्र बनाने से पहले 1 लाख लोगों से राय ली गई। इसमें सभी तबकों के लोग शामिल थे। संवाददाता सम्मेलन में भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी, मुरली मनोहर जोशी, राजनाथ सिंह, लालकृष्ण आडवाणी और सुषमा स्वराज भी मौजूद थे।
    घोषणापत्र के महत्वपूर्ण बिंदु:
    1. महंगाई से निपटने के लिए विशेष फंड
    2. दाम स्थिर रखने के लिए विशेष फंड
    3. फसल उत्पादन के लिए रियल टाइम डाटा
    4. कालेधन को लाने के लिए विशेष कानून
    5. कालाबाजारी रोकने के लिए विशेष अदालतें बनेंगी
    6. अयोध्या में राममंदिर बनेगा
    7. विदेशी किराना खुदरा में नहीं
    8. भ्रष्टाचार रोकने के लिए -गवर्नेस
    9. रोजगार केंद्र को करियर सेंटर बनाया जाएगा
    10. आतंकवाद रोकने के लिए कानून बनेगा
    11. कर प्रणाली को आसान बनाया जाएगा
    12. स्वर्णिम चतुर्भुज बुलेट ट्रेन योजना
    13. एफसीआई को तीन भागों में बांटा जाएगा
    14. सस्ते घर की योजना शुरू की जाएगी
    15. सेटेलाइट नेटवर्क का विकास होगा
    16. हर गांव में ऑप्टिकल फाइबर
    17. देशभर में गैस ग्रिड की स्थापना
    18. किसानों के लिए कृषि रेल मार्ग की स्थापना
    19. मनरेगा को कृषि से जोड़ा जाएगा
    20. हर घर में नल की योजना
    21. नदियों को जोड़ने की योजना
    22. कम पानी से ज्यादा उत्पादन के लिए सिंचाई के नए साधन विकसित किए जाएंगे
    23. नई स्वास्थ्य नीति बनाएगी जाएगी
    24. हर राज्य में एम्स की स्थापना
    25. आयुर्वेद के विकास पर खास ध्यान दिया जाएगा
    26. छात्रों के लिए नेशनल -लाइबेरी बनाई जाएगी
    27. छात्रों के विकास के लिए जरूरी कदम उठाए जाएंगे
    28. शिक्षण संस्थाओं के स्तर को सुधारने पर जोर
    29. -लर्निग पर विशेष ध्यान दिया जाएगा
    30. 100 नए शहर बसाए जाएंगे
    31. मदरसों का आधुनिकरण किया जाएगा
    32. भाषाओं का विकास किया जाएगा
    33. पूर्वी और पश्चिमी भारत में अंतर मिटाया जाएगा
    34. हिमालयी राज्यों के विकास के लिए विशेष ध्यान दिया जाएगा
    35. समस्या के हिसाब से राज्यों के लिए योजना
    - See more at: BJP releases manifesto for LS polls EL11216038
    CommentQuote
  • मेनिफेस्टो में है जनता के सपनों की महक, बदले की भावना से नहीं करूंगा काम: नरेंद्र मोदी :-




    और भी... narendra modi on bjp manifesto this manifesto is capable to fulfil dreams of the people:




    भारतीय जनता पार्टी का घोषणा पत्र जारी होने के दौरान पार्टी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर सुशासन और विकास की जरूरत पर बल दिया. हालांकि मेनिफेस्टो पर बोलने के दौरान मोदी के सुर कुछ बदले-बदले से नजर आए. उन्होंने पार्टी में सामूहिक नेतृत्व की बात की और बार-बार अपने वरिष्ठ नेताओं का जिक्र किया. उनके पूरे भाषण में आज कुछ अतिरिक्त विनम्रता थी. उन्होंने अपने लिए तीन मानदंड बताए. उन्होंने कहा, 'बदले की भावना से काम नहीं करूंगा, अपने लिए कुछ नहीं करूंगा और पूरी मेहनत से काम करूंगा.' मुरली मनोहर जोशी और लाल कृष्ण आडवाणी को उनकी पसंदीदा सीट से लड़ने का मौका नहीं मिला, तो इसके लिए मोदी को ही जिम्मेदार समझा जाता है. लेकिन नई दिल्ली में सोमवार को मोदी ने बार-बार दोनों नेताओं की तारीफों के पुल बांधे.
    नरेंद्र मोदी का पूरा भाषण
    डॉ. जोशी और उनकी टीम ने देश की आशा आकांक्षा का प्रतिविंब पेश किया है. हमारे लिए मेनिफेस्टो एक चुनावी रिचुअल या कागजी दस्तावेज नहीं है. ये हमारी दिशा है, हमारा लक्ष्य है. प्रतिबद्धता है. अगर दो शब्दों में कहना हो तो कहूंगा. दो मूल बातों को लेकर हम आगे बढ़ रहे हैं, गुड गवर्नेंस और डिवेलपमेंट.
    जब हम विकास की बात करते हैं, तो यह सर्वसमावेशक हो. सर्वस्पर्शी हो. सार्वदेशिक हो. सर्वप्रिय हो. जब हम गुड गवर्नेंस सरकार वो होनी चाहि्ए, जो गरीब के लिए सोचे, गरीब की सुने. उनके लिए सरकार का ही सहारा होता है.
    शासन के बारे में पंडित दीनदयाल जी ने जो बात कही थी. अंत्योदय की कल्पना कर आगे बढ़ना. सुरक्षा के मसले पर भारत सक्षम हो, सामर्थ्यवान हो. जीरो टॉलरेंस के साथ देश को आगे बढ़ना होगा. दिल्ली में मजबूत सरकार हो, ताकि दुनिया आंख दिखाए नहीं, लेकिन आंख मिलाने का मन कर जाए. और यही हम पर भी लागू हो.
    आज देश जो गड्ढे में गिरा है, उसको बाहर लाने की, गति देने की ताकत मेनिफेस्टो में है. देश के 125 करोड़ नागरिक इस गुलदस्ते में अपने सपनों की महक पा सकते हैं. अगले 60 महीने में जब जनता बीजेपी को शासन चलाने का भार सौंपेगी, तब इसी मेनिफेस्टो के मुताबिक हम डिलीवर करेंगे. कमी नहीं छोड़ेंगे.
    हमारा लक्ष्य है, एक भारत, श्रेष्ठ भारत. हमारा रास्ता है, सबका साथ, सबका विकास. व्यक्तिगत रूप से मेरी पार्टी ने मुझे जिम्मेदारी दी है. आज मैं देश की जनता के सामने यह कहना चाहता हूं कि व्यक्ति के रूप में मुझे जो दायित्व देश की जनता देगी, उसे पूरा करने में, परिश्रम करने में कभी कमी नहीं रखूंगा. दूसरी बात, मैं अपने लिए कभी कुछ नहीं करूंगा. तीसरी बात, बदले के इरादे से कभी काम नहीं करूंगा.
    मुझे यकीन है कि देश चलाने का हुनर बीजेपी के सामूहिक नेतृत्व में है. अटल जी-आडवाणी के नेतृत्व में एनडीए का जो ट्रैक रिकॉर्ड है, बीजेपी शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों का जो रिकॉर्ड है. वह यह साबित करता है कि सुशासन मुमकिन है


    और भी... narendra modi on bjp manifesto this manifesto is capable to fulfil dreams of the people:
    CommentQuote
  • Hahahaha

    I remember BJP had also ruled India (Just few years back)

    1. Why Indians throught them out at that time.
    2. Should we consider Gujraat a developed state or.......and that also because of Modi Ji????/ I heard that Gujju's are already industrious people, Mumbai progress also depends on these Gujjus.
    3. Will the contry corruption free???
    4. New political stunt.
    5. If this time BJP then next time Pappu will rule India and after that ""AAP"" Chappu.


    Originally Posted by Pankajag
    नई दिल्ली। भाजपा ने सोमवार को अपने घोषणापत्र को जारी करते हुए महंगाई से निपटने और दाम स्थिर रखने के लिए विशेष फंड बनाने का वादा किया। घोषणापत्र में पश्चिम बंगाल और बिहार के लिए विशेष पैकेज का जिक्र नहीं किया गया।
    मुरली मनोहर जोशी ने बताया कि घोषणपत्र बनाने से पहले 1 लाख लोगों से राय ली गई। इसमें सभी तबकों के लोग शामिल थे। संवाददाता सम्मेलन में भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी, मुरली मनोहर जोशी, राजनाथ सिंह, लालकृष्ण आडवाणी और सुषमा स्वराज भी मौजूद थे।
    घोषणापत्र के महत्वपूर्ण बिंदु:
    1. महंगाई से निपटने के लिए विशेष फंड
    2. दाम स्थिर रखने के लिए विशेष फंड
    3. फसल उत्पादन के लिए रियल टाइम डाटा
    4. कालेधन को लाने के लिए विशेष कानून
    5. कालाबाजारी रोकने के लिए विशेष अदालतें बनेंगी
    6. अयोध्या में राममंदिर बनेगा
    7. विदेशी किराना खुदरा में नहीं
    8. भ्रष्टाचार रोकने के लिए -गवर्नेस
    9. रोजगार केंद्र को करियर सेंटर बनाया जाएगा
    10. आतंकवाद रोकने के लिए कानून बनेगा
    11. कर प्रणाली को आसान बनाया जाएगा
    12. स्वर्णिम चतुर्भुज बुलेट ट्रेन योजना
    13. एफसीआई को तीन भागों में बांटा जाएगा
    14. सस्ते घर की योजना शुरू की जाएगी
    15. सेटेलाइट नेटवर्क का विकास होगा
    16. हर गांव में ऑप्टिकल फाइबर
    17. देशभर में गैस ग्रिड की स्थापना
    18. किसानों के लिए कृषि रेल मार्ग की स्थापना
    19. मनरेगा को कृषि से जोड़ा जाएगा
    20. हर घर में नल की योजना
    21. नदियों को जोड़ने की योजना
    22. कम पानी से ज्यादा उत्पादन के लिए सिंचाई के नए साधन विकसित किए जाएंगे
    23. नई स्वास्थ्य नीति बनाएगी जाएगी
    24. हर राज्य में एम्स की स्थापना
    25. आयुर्वेद के विकास पर खास ध्यान दिया जाएगा
    26. छात्रों के लिए नेशनल -लाइबेरी बनाई जाएगी
    27. छात्रों के विकास के लिए जरूरी कदम उठाए जाएंगे
    28. शिक्षण संस्थाओं के स्तर को सुधारने पर जोर
    29. -लर्निग पर विशेष ध्यान दिया जाएगा
    30. 100 नए शहर बसाए जाएंगे
    31. मदरसों का आधुनिकरण किया जाएगा
    32. भाषाओं का विकास किया जाएगा
    33. पूर्वी और पश्चिमी भारत में अंतर मिटाया जाएगा
    34. हिमालयी राज्यों के विकास के लिए विशेष ध्यान दिया जाएगा
    35. समस्या के हिसाब से राज्यों के लिए योजना
    - See more at: BJP releases manifesto for LS polls EL11216038
    CommentQuote
  • Admin < I think people has gone political and intruded IREF also!!!! I also support AAP but that doesnt mean I shud start pasting stuffs related to politics!!!! Jiska jo kaam hian wahi karein toh acha hian!!!! IREF is for REal estate news and not any political Gimmick !
    CommentQuote
  • Keep voting for our Nation.
    For Better real estate for our..Ghar..Bar..and its time for..Modi Sarkar.:)
    CommentQuote
  • margin of victory is more than 5 lacs for General V K Singh....

    Thanks Ghaziabad....

    Shazia Ilmi sorry for keeping your deposit
    CommentQuote
  • Originally Posted by KaamDev
    MP should be of the ruling party in center, although I have no more faith in these morons.


    Now pressure would be on state government, with this performance in election, they will have to have some development in state to save themselves in next state elections. BTW good for Ghaziabad that SP showed a poor performance all across the state.
    CommentQuote