Announcement

Collapse
No announcement yet.

Noida Extension-Electricity Woes

Collapse
X
Collapse

Noida Extension-Electricity Woes

Last updated: July 14 2010
6 | Posts
1143 | Views
  • Time
  • Show
Clear All
new posts

  • Noida Extension-Electricity Woes

    Hi all,I picked this from an internal discussion forum of my office.Could some one please comment on thisनोएडा एक्सटेंशन को रहेगी पावर की टेंशननोएडा एक्सटेंशन को रहेगी पावर की टेंशनकार्यालय संवाददाता,नोएडा।First Published:24-03-10 08:23 PMLast Updated:24-03-10 08:24 PMनोएडा एक्सटेंशन के नाम पर ग्रेनो में फ्लैट लेने वालों को बिजली कटौती की भीषण समस्या से जूझना पड़ेगा। चौदह से सोलह घंटे की कटौती से राहत के लिए पावर बैकअप के नाम पर आने वाला बिजली का बिल लोगों की जान निकाल लेगा।ग्रेनो के सेक्टर 1 और 4 में आ रही ग्रुप हाउसिंग स्कीम को नोएडा के नाम पर खरीददार तो मिल रहे हैं। लेकिन,जब इन घरों को रोशन करने के लिए बिजली की जरूरत होगी,तो बिल चुकाने में पसीना छूट जाएगा। नोएडा एक्सटेंशन को पावर सप्लाई ग्रेटर नोएडा से दी जाएगी। जहां पर मौजूदा समय में बिजल का जबरदस्त संकट चल रहा है। कटौती की मार के चलते यहां पर लोगों का रहना दूभर हो गया है। बिल्डर नोएडा के नाम पर फ्लैट के साथ ही लोगों को पीछा न छोड़ने वाली मुसीबत भी गिफ्ट में दे रहे हैं। सभी स्कीम में पावर बैकअप के नाम पर प्रति किलोवाट कुछ हजार रुपए पजेशन देने के समय लिए जाएंगे। जितना पैसा पावर बैकअप के नाम पर दिया जाएगा। उससे कहीं अधिक हर माह उनको बिजली के बिल के रूप में देना होगा। क्योंकि इस समय ग्रेनो में कटौती का ग्राफ चौदह घंटे को पार कर रहा है। जिससे हर माह बिजली का बिल आते ही यहां पर बसने वालों के दिल को धक्का और जेब को करारी चोट पहुंचेगी। वहीं यूपी पावर कारपोरेशन लिमिटेड और नोएडा पावर कारपोरेशन लिमिटेड में चल रही लड़ाई का जल्द ही कोई हल निकलने के चलते बिजली संकट और बढ़ने की उम्मीद है।यहां पर फ्लैट बना रहे बिल्डर्स ने कंपनी से पावर कनेक्शन के लिए कोई पत्र नहीं दिया है। यह एनपीसीएल का क्षेत्र है। इसलिए इनको हमसे ही बिजली लेनी होगी। नोएडा एक्सटेंशन ग्रेटर नोएडा के सेक्टर-1 और चार में बन रही सोसयटी हैं। जहां पर सप्लाई एनपीसीएल ही देगा। राजीव गोयल मैनेजर ऑपरेशंस (एनपीसीएल)बिजली के जख्म--ग्रेटर नोएडा में हो रही है चौदह से सोलह घंटे की कटौती--जो आगामी वर्षो में भी रहेगी बदस्तूर जारी,होगी परेशानी--पावर बैकअप के नाम पर बिल्डर ले रहे हैं 5000/किलोवाट--एनपीसीएल लगभग तीन रुपए प्रति यूनिट लेता है डोमेस्टिक चाजर्--नौ रुपए से बारह रुपए प्रति यूनिट के हिसाब से वसूला जाएगा पैसा--यूपीपीसीएल और एनपीसीएल के बीच की लड़ाई खत्म होने के आसार नहीं(Source: Hindustan Dainik, Delhi Edition, 25.03.10)
  • #2

    #2

    Re : Noida Extension-Electricity Woes

    This is a very old news. The matter is already over.

    Comment

    • #3

      #3

      Re : Noida Extension-Electricity Woes

      Dear frnds,

      The noida ext. projects will take at least 2 or 3 years to complete.

      But actually people will start staying after 4 years or so.

      I wonder during that time is there any increase in power supply projects

      Thnks
      Digvijay

      Comment

      • #4

        #4

        Re : Noida Extension-Electricity Woes

        Hi Subodh,What got over in this. Actually i wasnt aware about this thing. I mean have any solution been done for this or its still in the same state.
        Originally posted by subodh12001 View Post
        This is a very old news. The matter is already over.

        Comment

        • #5

          #5

          Re : Noida Extension-Electricity Woes

          Power Situation is much better in Greater Noida. Earlier there was some dispute with the authority , which has been resolved

          Comment

          • #6

            #6

            Re : Noida Extension-Electricity Woes

            Oh Thats great.Thanks for the info subodh!!
            Originally posted by subodh12001 View Post
            Power Situation is much better in Greater Noida. Earlier there was some dispute with the authority , which has been resolved

            Comment

            • #7

              #7

              Re : Noida Extension-Electricity Woes

              I think somebody staying in G. Noida can advise how is the power situation there.
              In my personal opinion G Noida is well planned and the authorities must have taken the electricity requirement into account.
              Digvijay

              Comment

              Have any questions or thoughts about this?
              Working...
              X