ग्रेटर नोएडा में घर बनाने का सपना संजोए लोगों के लिए खुशखबरी है। प्राधिकरण अब ग्रुप हाउसिंग योजना के बजाय व्यक्तिगत भूखंडों की आवासीय योजना लाने पर गंभीरता से विचार कर रहा है। नियोजन विभाग को योजना के लिए जमीन तलाशने के निर्देश दिए गए हैं। सब कुछ ठीक-ठाक रहा तो अगस्त के प्रथम सप्ताह तक योजना आ सकती है। इसमें किसानों के लिए 17.5 प्रतिशत भूखंड आरक्षित रखे जाएंगे।

ग्रेटर नोएडा में पिछले काफी समय से व्यक्तिगत भूखंडों की योजना नहीं निकाली गई है। नोएडा एक्सटेंशन की टेंशन के पीछे भी इसको मुख्य वजह माना जा रहा है। किसानों का कहना है कि व्यक्तिगत भूखंडों की योजना न आने के कारण वे लाभ से वंचित हो रहे हैं। प्राधिकरण के आला अफसर इस संबंध में कुछ भी बोलने से कतरा रहे हैं। लेकिन सूत्रों का कहना है कि साबेरी प्रकरण के चलते प्राधिकरण के प्रति निवेशकों का विश्वास कम हुआ है। फिर से विश्वास कायम रखने के लिए प्राधिकरण ने व्यक्तिगत भूखंडों की योजना निकालने पर विचार किया है।

सूत्रों के अनुसार, नियोजन विभाग नए सेक्टर के लिए जमीन तलाश रहा है। संभावना है कि नया सेक्टर सैनी गांव व खोदना खुर्द गांव के 130 मीटर चौड़ी सड़क के आसपास बसाया जाएगा। दोनों गांवों में जमीन अधिग्रहण की कार्रवाई पूरी हो चुकी है। गांव के 85 प्रतिशत से अधिक किसानों ने मुआवजा भी उठा लिया है। योजना सभी वर्गो को ध्यान में रखकर तैयार की जा रही है। इसमें 120 से लेकर 250 वर्गमीटर तक के भूखंड होंगे। योजना में कुल कितने भूखंड होंगे, यह अभी तय नहीं हुआ है। जमीन मिलते ही योजना निकाल दी जाएगी। किसान व ग्रेटर नोएडा के उद्यमियों को इसमें आरक्षण दिया जाएगा

- D.Jagran
Read more
Reply
0 Replies
Sort by :Filter by :
No replies found for this discussion.