Dainik Jagran, 2nd May'13

संवाददाता, ग्रेटर नोएडा : एशियन डेवलपमेंट बैंक (एडीबी) की वार्षिक बैठक समाप्त होने के बाद ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण मेट्रो निर्माण को अमली जामा पहनाने की दिशा में तेजी से प्रयास करेगा। इस माह होने वाली बोर्ड में मेट्रो का संशोधित डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) रखा जाएगा। प्राधिकरण की तैयारी है कि जुलाई तक मेट्रो निर्माण का रास्ता साफ हो जाए।

नोएडा से ग्रेटर नोएडा तक मेट्रो लाने को लेकर पिछले कई वर्षो से प्रयास चल रहा है। जनवरी में हुई बोर्ड बैठक में प्राधिकरण ने मेट्रो निर्माण का जिम्मा दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (डीएमआरसी) को सौंपने का निर्णय लिया था। डीएमआरसी ने मेट्रो का संशोधित डीपीआर तैयार कर ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को पिछले माह सौंप दिया था। डीपीआर प्राधिकरण के बोर्ड बैठक से मंजूर होना है। एशियन डवलपमेंट बैंक की तैयारी के चलते प्राधिकरण के अधिकारी मेट्रो निर्माण की तरफ ध्यान नहीं दे पाए। एडीबी की बैठक समाप्त होने के साथ प्राधिकरण मेट्रो निर्माण को लेकर कवायद तेज करेगा। इस माह के अंतिम सप्ताह में प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी रमा रमण व डीएमआरसी अधिकारियों के साथ बैठक होगी। बैठक में निर्माण को लेकर चर्चा होनी है। डीपीआर बोर्ड बैठक से पास होने के बाद शासन को भेजा जाएगा। शासन से प्रस्ताव को केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय को जाएगा। केंद्र से प्रस्ताव मंजूर होने के बाद मेट्रो का निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा। मेट्रो निर्माण में नोएडा व ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण का कितना पैसा खर्च होगा इस पर इस पर इस माह फैसला हो जाएगा। निर्माण के लिए नोएडा प्राधिकरण सबसे पहले पैसा रिलीज करेगा। मेट्रो निर्माण का रूट पहले ही निर्धारित हो चुका है। नोएडा के सिटी सेंटर से होकर नोएडा सेक्टर 49, नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे होकर नॉलेज पार्क, परी चौक, 105 मीटर चौड़ी सड़क से होकर मेट्रो बोड़ाकी रेलवे स्टेशन तक जाएगा।

Nevertheless, this time by the end of 2013, Govt. will surely sanction the GN metro project and this will give a huge boost to GN development. This is the only project which can give 200% boost to this area (Noida, GN and expressway) and Govt. has to section this project at this time because all real estate projects of this area have been suffering financially for the last 3-4 years – they don’t have any buyers, thousands of apartments are unsold from long time. Therefore, builders and investors (politicians who invested illegally in these projects) have been pressurising the Govt. to sanction GN metro project since long time. And of course at this time Govt itself sees its own benefit in this project as General Election is nocking at the door. Fingers crossed!!!
Read more
Reply
26 Replies
Sort by :Filter by :
  • Looks promising this time, let's wait for July, Metro will change the fate of Greater Noida which is long awaited and a distant dream of lot many.
    CommentQuote
  • Ameeeeeeeeeeeeen!!!! :pray2:
    CommentQuote
  • Originally Posted by Doodieman
    Ameeeeeeeeeeeeen!!!! :pray2:

    Doodieman, dheere bolo warna Naharpaar wale yahan bhi aa jaynge :)
    CommentQuote
  • Originally Posted by arif_iq
    Doodieman, dheere bolo warna Naharpaar wale yahan bhi aa jaynge :)


    Hahahaha.... new movie in town...
    Neharpaar ka khauffff
    jabardasti ke mehmaan
    CommentQuote
  • Originally Posted by ver_amit
    Hahahaha.... new movie in town...
    Neharpaar ka khauffff
    jabardasti ke mehmaan



    He he he.. :D ..Jabardasti ke mehmaan, Neharpaar ke Shaitaaan! indeed its a new movie!
    CommentQuote
  • Originally Posted by Doodieman
    He he he.. :D ..Jabardasti ke mehmaan, Neharpaar ke Shaitaaan! indeed its a new movie!

    I like it - they are real shaitaan - they do everything wrong - yeah only the faridabad metro is realty now - and population there is increasing that is very bad i guess - gr noida does not have much population so it is sooooo peaceful - and ofcourse pollution free - population means pollution - and the increase of population brings down the prices as well - gr noida has seen so much of price appreciation as the students living there get free money from their parents and they spend only - as they don't have to earn so local economy does not matter at all -

    Gr Noida is so good and after metro happening next year it would be wonderful as they students living there can come to delhi freely -

    Gr noida does not require jobs as the students and retired people do not need them - they get money for free.

    Wonderful peaceful place so good that the roads does not needs any repairs for many years as no one travels on them.

    rohit
    CommentQuote
  • Originally Posted by rohit_warren
    I like it - they are real shaitaan - they do everything wrong - yeah only the faridabad metro is realty now - and population there is increasing that is very bad i guess - gr noida does not have much population so it is sooooo peaceful - and ofcourse pollution free - population means pollution - and the increase of population brings down the prices as well - gr noida has seen so much of price appreciation as the students living there get free money from their parents and they spend only - as they don't have to earn so local economy does not matter at all -

    Gr Noida is so good and after metro happening next year it would be wonderful as they students living there can come to delhi freely -

    Gr noida does not require jobs as the students and retired people do not need them - they get money for free.

    Wonderful peaceful place so good that the roads does not needs any repairs for many years as no one travels on them.

    rohit


    hahaha... see... thats what is movie all about ;) vamps are here again with their pre-defined roles and same dialogues.... hehehehe.... reminds me of shashikala and other tedhi face waali actresses.....
    CommentQuote
  • Originally Posted by ver_amit
    hahaha... see... thats what is movie all about ;) vamp are here again with their pre-defined roles and same dialogues.... hehehehe.... reminds me of shashikala and other tedhi face waali actresses.....


    add lalita panwar
    CommentQuote
  • मेट्रो के लिए डीएमआईसी(DMIC) देगा 1000 करोड़
    ===============================

    नोएडा टु ग्रेटर नोएडा मेट्रो कॉरिडोर को अमलीजामा पहनाने में दिल्ली-मुंबई इंडस्ट्रियल कॉरिडोर (डीएमआईसी) फाइनैंशल मदद करेगा। फर्स्ट फेज में करीब 1 हजार करोड़ रुपये नोएडा-ग्रेनो अथॉरिटी को मिलने की उम्मीद है। करीब 5064 करोड़ से रूट की डीपीआर बोर्ड मीटिंग में अप्रूव की जा चुकी है।

    अथॉरिटी को मेट्रो रूट वाले एरिया में बढ़े हुए एफएआर के रूप करीब 2 हजार करोड़ रुपये मिलने का अनुमान है। अथॉरिटी अफसरों के अनुसार तय प्लैनिंग के हिसाब से प्रस्तावित मेट्रो कॉरिडोर बनाने की नींव अगस्त से रखने की तैयारी है। इस रूट का आखिरी स्टेशन बोड़ाकी में प्रस्तावित है। वहां ईस्टर्न और वेस्टर्न इंडस्ट्रियल कॉरिडोर मिल रहे हैं। ऐसे में दोनों शहरों के अलावा इंडस्ट्रियल कॉरिडोर को भी मेट्रो कनेक्टिविटी से फायदा मिलना तय है। दादरी, गाजियाबाद और नोएडा समेत इंडस्ट्रियल कॉरिडोर के आसपास स्थापित होने वाली इंडस्ट्रीज की ग्रोथ में मेट्रो कनेक्टिविटी संजीवनी का काम करेगी।

    इसी सप्ताह होनी है मीटिंग

    अथॉरिटी की बोर्ड मीटिंग में प्रॉजेक्ट के भारी खर्चे में सहयोग के लिए डीएमआईसी से फाइनैंशल हेल्प लेने का निर्णय किया गया था। इस क्रम में अथॉरिटी और डीएमआईसी अफसरों के बीच 1 राउंड की मीटिंग हो चुकी है। दूसरी मीटिंग इसी सप्ताह प्रस्तावित है। इस मीटिंग के बाद डीएमआईसी की ओर से करीब 1 हजार करोड़ रुपये अथॉरिटी को उपलब्ध कराए जाएंगे। डीएमआईसी के साथ फाइनैंशल हेल्प को लेकर तैयार होने वाले एग्रीमेंट को बोर्ड में मंजूरी प्रदान करने के बाद स्टेट गवर्नमेंट के पास भेजा जाएगा। वहां से मंजूरी मिलने के बाद केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय के पास प्रपोजल को फाइनल अप्रूवल के लिए भेजा जाएगा। अगस्त तक टेंडर प्रक्रिया के बाद इस प्रोजेक्ट का काम जमीनी स्तर पर शुरू करने की प्लैनिंग है।

    एफएआर से मिलेंगे 2 हजार करोड़
    अथॉरिटी अफसरों के अनुसार, 27 मई को हुई 179वीं मीटिंग में डीएमआरसी की तर्ज पर नोएडा मेट्रो रेल कंपनी (एनएमआरसी) का गठन का फैसला किया गया था। इस कंपनी में प्रारंभिक तौर पर 1000 करोड़ रुपये का पूंजी निवेश का निर्णय किया गया था। इसके अलावा मेट्रो रूट पर पड़ने वाले सेक्टरों का 0.5 एफएआर बढ़ाने का फैसला भी रेवेन्यू बढ़ाने के लिए फाइनल किया गया है। बढ़े हुए एफएआर के चलते अथॉरिटी को करीब 2 हजार करोड़ रुपये का रेवेन्यू मिलने की उम्मीद है। इसके अलावा जरूरी खर्चे की नोएडा और ग्रेनो अथॉरिटी अपने स्तर से व्यवस्था करेंगे।

    नोएडा टु ग्रेनो मेट्रो रूट पर एक नजर
    दूरी - 29.70 किलोमीटर
    गैज - 1433 एमएम
    स्टेशन - 22
    स्पीड - 35 से 95 किलोमीटर / घंटा
    अनुमानित ला गत- 5064 करोड़ रुपये

    Noida-Greno metro is certainly a money making initiative by the govt...theek hai paisaa khao par kuch karo bi to sahi jaldi...we dont want things on papers only...
    CommentQuote
  • By August things should be clear and it's looking positive as of now.
    CommentQuote
  • Originally Posted by arif_iq
    By August things should be clear and it's looking positive as of now.


    Waise august mein aisaa kya implement kardenge babu log.....i doubt bhaijaan!!!!
    CommentQuote
  • Originally Posted by Doodieman
    Waise august mein aisaa kya implement kardenge babu log.....i doubt bhaijaan!!!!

    They suppose to kick start the Metro project from August, let's see how it goes.
    CommentQuote
  • Originally Posted by arif_iq
    They suppose to kick start the Metro project from August, let's see how it goes.


    August to theek hain... par kaunse saal ka 2014..2015..2016??
    CommentQuote
  • Originally Posted by Intrigue
    August to theek hain... par kaunse saal ka 2014..2015..2016??

    Just wait and watch my dear friend, it doesn't matter whether it takes 2014/2015/2016 or whatever but it will come, if something needs to happen then it has to happened.

    Patience is the key if you aren't in hurry.
    CommentQuote
  • kya yr

    look at modi. he has given a global tender for Ahmedabad already. 150 kms deadline 2017..

    aur yeh saale u p govt.
    CommentQuote