पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • Originally Posted by rohit_warren
    I am not promoting any area - and look at the rate of plots - 4500 to 25000 how many times ??????


    rohit


    Yaar Rohit Plots ke appreciation ki Society Flats se tulna karna Galat Hai... Sarasar Naainsaafi Hai.... If this is the case then even Noida/GZB Residential plots are costlier then Several good Sectors of Gurgaon.....

    6 years before In Noida 62 Residential Plots rates was 30K PSY at this time 1.1 Lac PSY.

    6 yeas before in Vaishali/IP GZB Residential Plot rates was 20-25K PSY at this time 1Lac PSY. Near About same rate in Ramprastha GZB (1.25 Lac) & Raj Nagar Main GZB (80 K) PSY.....

    Even in Greater Noida Plots rates has increased at least 3 times during last 6 years in Several good sectors then why you say GN Gives No Return.....

    As for New upcoming areas 5 years before Builders Purchased Land from Local at just 2,000 PSY but at this time purchasing 12,000 PSY in RNE.... As for Society Plots only Land Craft is giving that in RNE at 35K PSY (minimum price)....

    So Please Compare only Society Flats Rats to Society Flat Rate between areas, otherwise even Gurgaon will be outshine...... ;)
    CommentQuote
  • Originally Posted by rohit_warren
    I am not promoting any area - and look at the rate of plots - 4500 to 25000 how many times ??????


    rohit


    Hehehe

    Plots rates to sonipat aur palwal main bhi bhad gaye hai. So what?
    By the way,Its you who used to promote Neharpar, having signature " 2011 year of Faridabad" in your post. I hope you have not forgotten.

    Ground reality kya hai neharpar ki, I know very well.
    better mend your ways and talk sensible only that would pay at least in this forum.
    Rest your wish.

    Thanks
    CommentQuote
  • Originally Posted by cookie
    Hehehe

    Plots rates to sonipat aur palwal main bhi bhad gaye hai. So what?
    By the way,Its you who used to promote Neharpar, having signature " 2011 year of Faridabad" in your post. I hope you have not forgotten.

    Ground reality kya hai neharpar ki, I know very well.
    better mend your ways and talk sensible only that would pay at least in this forum.
    Rest your wish.

    Thanks

    why drag Gr faridabad in this discussion ? I have booked most of my profits there ! whatever is there is just part of my profits which I don't intend to sell ever because that would be source of constant cash flow in terms of rent.

    Most of my money went into Revanta , a small land in Bawana , and whatever is left I am planning to put that in some plot near junction of KMP and new FNG (sorry to use the old name of that ) which I feel would be a hot place after 10 yrs - so around 7k to 8k per sq yd it does make sense to put in some money there.

    As far as that naharpar is concerned it is getting good news yeah I have off by a 3 months in that calculation about metro tender and master road tender but thats okay instead of oct 2011 its happening in jan 2012

    rohit
    CommentQuote
  • Rohit, how is park grandeura in nehar par ? How soon do you think there will be possesion iin remaining towers. Besides can I trust BPTP? Please reply with all details you have as well as your views. Thanks
    CommentQuote
  • as per my sources the oc is pending for the towers that are complete - since park grandurea is available in resale which is lesser than company prices because of huge upfront payment -

    so if you are confused about BPTP as a company then buy something which is ready in resale market - provided you have the ability and willingness to pay.


    rohit
    CommentQuote
  • Thanks Rohit. I am geting an offer in M-tower which may be a couple of month to possesion for 2750 for 3bhk of 2032 sqft . it is resale. is it worth it? Floor is 5th
    CommentQuote
  • Originally Posted by rohit_warren
    why drag Gr faridabad in this discussion ? I have booked most of my profits there ! whatever is there is just part of my profits which I don't intend to sell ever because that would be source of constant cash flow in terms of rent.

    Most of my money went into Revanta , a small land in Bawana , and whatever is left I am planning to put that in some plot near junction of KMP and new FNG (sorry to use the old name of that ) which I feel would be a hot place after 10 yrs - so around 7k to 8k per sq yd it does make sense to put in some money there.

    As far as that naharpar is concerned it is getting good news yeah I have off by a 3 months in that calculation about metro tender and master road tender but thats okay instead of oct 2011 its happening in jan 2012

    rohit

    Bhai

    I just replied to one of your posts.
    I am not dragging "Neharpar" rather I dragged you who used to promote "Neharpar" before openly and now silently. It is well known.

    Best of luck for your investments. By the way, There is no work on KMP for the last one year in Kundli side.

    Thanks
    CommentQuote
  • Originally Posted by Jawhar
    Thanks Rohit. I am geting an offer in M-tower which may be a couple of month to possesion for 2750 for 3bhk of 2032 sqft . it is resale. is it worth it? Floor is 5th

    I personally liked the construction of grandurea - never done any detailed check on that project - try to bargain hard -

    rohit
    CommentQuote
  • Originally Posted by cookie
    Bhai

    I just replied to one of your posts.
    I am not dragging "Neharpar" rather I dragged you who used to promote "Neharpar" before openly and now silently. It is well known.

    Best of luck for your investments. By the way, There is no work on KMP for the last one year in Kundli side.

    Thanks

    I don't care about Kundli - I am only interested in the intersection at nh2 which will be at palwal ;) now palwal to manesar is good enough for me when new fng is added to that.

    10 years and 10 times - pakka hai dost - don't buy but do make a paper trade ;) and you would be surprised

    rohit
    CommentQuote
  • Originally Posted by rohit_warren
    I personally liked the construction of grandurea - never done any detailed check on that project - try to bargain hard -

    rohit

    Rohit, what do you think about puri pranayam. It is by the side of grandura. Which will be better according to you - puri pranayam or grandeura
    CommentQuote
  • not seen puri but I liked granduera which I saw when tower F possession was offered.

    rohit
    CommentQuote
  • Originally Posted by rohit_warren
    not seen puri but I liked granduera which I saw when tower F possession was offered.

    rohit


    Congratulaion Rohit !!!! .... Veteran Member Ban Gaye.... Ab to aur areas ki kami nikalna choor do..... .... Duaa karo NP bhi aacha ho... NE bhi aacha ho.... RNE bhi aacha.... Sab aacha ho saare END USERs ke Liye.....
    CommentQuote
  • I don't care about Kundli - I am only interested in the intersection at nh2 which will be at palwal now palwal to manesar is good enough for me when new fng is added to that.

    ??Please provide some information abt this location&contact detail of concerns?
    7-8k sqy?
    CommentQuote
  • डीएम से मिलकर किसानों ने की शिकायत


    ग्रेटर नोएडा, सं :
    दुजाना व कचेड़ा गांव के किसानों का प्रतिनिधिमंडल सोमवार को जिलाधिकारी हृदेश कुमार से मिला। किसानों ने आरोप लगाया कि आचार संहिता के दौरान उनकी जमीन पर निर्माण शुरू कर दिया गया है। इसके विरोध में गांव के किसान चौपाल पर बैठक कर रहे थे तो उन पर आचार संहिता के उल्लंघन का मामला दर्ज करा दिया गया। किसानों ने निर्माण कार्य कराने व किसानों पर दर्ज मामले वापस लेने की मांग की।

    -dainik jagran
    CommentQuote
  • हाईकोर्ट में सुनवाई पर अभी नहीं हुआ फैसला


    ग्रेटर नोएडा:
    इलाहाबाद हाईकोर्ट में नए गांवों के प्रकरणों की सुनवाई की तिथि पर अभी फैसला नहीं हुआ है। उम्मीद की जा रही थी कि कोर्ट दस जनवरी से सुनवाई करेगा। अधिकारिक सूत्रों का कहना है कि बड़ी बेंच ने अभी तिथि मुकर्रर नहीं की है। इसका फैसला दो-तीन दिन में होने की संभावना है। अटकलें हैं कि अब अगले सप्ताह ही सुनवाई शुरू होगी।

    हाईकोर्ट द्वारा 39 गांवों के किसानों को 64.7 प्रतिशत अतिरिक्त मुआवजा व अर्जित भूमि की एवज में दस प्रतिशत जमीन देने के निर्णय के बाद 34 और गांवों के किसानों ने अधिग्रहण को चुनौती दी थी। ये वे गांव हैं, जिनकी जमीन का अधिग्रहण प्राधिकरण की स्थापना के शुरुआती दौर में किया गया था। किसानों ने कोर्ट में याचिका दायर करते हुए अतिरिक्त मुआवजे की मांग की है। उनका कहना है कि शुरुआती चरण में जमीनों को कौड़ियों के भाव अधिग्रहीत कर लिया गया था। किसानों को अर्जित भूमि की एवज में छह प्रतिशत जमीन व सेक्टर का भूखंड भी नहीं दिया गया। याचिका दायर करने वालों में क्यामपुर, रामपुर फतेहपुर, सिरसा, लखनावली, हबीबपुर, वैदपुरा, रोजा जलालपुर, चिपियाना, दादरी, रूपवास, बढ़पुरा, अच्छेजा आदि 34 गांवों के किसान शामिल हैं। प्राधिकरण ने कोर्ट में अपना जवाब दाखिल करने की तैयारी पूरी कर ली है।
    रविवार को एडीएम एलए हरनाम सिंह फाइलों को लेकर इलाहाबाद पहुंच गए। अधिकारिक सूत्रों के अनुसार, पहले संभावना जताई जा रही थी कि कोर्ट दस जनवरी से सुनवाई शुरू करेगा, लेकिन अभी सुनवाई की तिथि पर फैसला नहीं हो सका है।

    -Dainik jagran
    CommentQuote