पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • Originally Posted by fritolay_ps
    Important Notice : NEFOMA

    All noida extension flat buyers are hereby informed that NEFOMA is organizing a meeting of buyers at Star City Mall,Near Mayur Vihar Extn-1 Metro Station, Mayur Vihar-1, on 11 March'2012 ,SUNDAY at 12.30 noon .We request all of you to come n join the meeting with your valuable suggestions on the current NE issue .



    FYI again... pls be there at 12:30....
    CommentQuote
  • Message from NEFOMA

    We Noida Extension Flat Owners and Members Association (NEFOMA) had a Meeting at our Office in Sector-5, Noida. Today we discussed about our future plans and strategies.


    1. As timeline committed by NCRPB and authority is almost over and new government is going to form soon, we buyers should plan our strategy what to do next. Next NCRPB is scheduled for 26 March, so we Nefoma is planning to meet at their office before that on large scale . So you all are requested to please come in full numbers with family and join this meeting.

    2. We are trying to fix-up a meeting with new Chief Minister Mr. Akhilesh Yadav at Lucknow. We would request him to please look into this matter personally and solve the problem of over 1 Lac middle class families.

    3. When the new govt. is formed on 15th….. it is very much possible that CEO of Noida/ Greater Noida will be changed, how effectively the new CEO will be able to raise his point in the Court. If new CEO is appointed, the we will fix-up a meeting with him and find-out what authority has done since our last meeting.

    4. We, Nefoma is planning to file a case in the court for the early start of construction work, as we are paying EMI and rent for the last 1 year.

    5. We decided our next meeting date on 18th March at Gutam Budh Statue (Noida Entry Point) at 12.30pm to decide our next step.

    So we request all affected people of Noida Extension on behalf of Noida Extension Flat Owners and Members Association (NEFOMA) take one day leave from your office and participate in the meeting at NCRPB Office, India Habitat Center, Lodhi Colony Delhi.


    NEFOMA requests all noida extension flat buyers to come at NCRPB office,Lodhi road,Delhi on 22nd March at 2 PM for demanding immediate approval of Master Plan as NCRPB meeting is sceduled on 26 March.Plz take Half-day leave from office for your dream home .
    CommentQuote
  • मुख्यमंत्री तक पहुंचाएंगे नोएडा एक्सटेंशन मसला

    नोएडा प्रदेश में सत्ता परिवर्तन के साथ ही नोएडा एक्सटेंशन के फ्लैट खरीदारों में ऊहापोह की स्थिति है। नोएडा एक्सटेंशन फ्लैट ओनर्स एंड मेंबर्स एसोसिएशन (नेफोमा) ने रविवार को सेक्टर पांच स्थित कार्यालय में बैठक कर आगे की रणनीति पर चर्चा की। बैठक में प्रदेश के नए मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के समक्ष नोएडा एक्सटेंशन का मामला रखने का निर्णय लिया गया है। नोएडा एक्सटेंशन पर संकट के बादल खत्म करने के लिए एनसीआर प्लानिंग बोर्ड और ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण की तरफ से दी गई समय सीमा समाप्त और प्रदेश में सत्ता परिवर्तन हो चुका है। एनसीआर प्लानिंग बोर्ड की अगली बैठक 26 मार्च को होनी है।

    नेफोमा पदाधिकारियों ने बैठक में निर्णय लिया कि इससे पहले नोएडा एक्सटेंशन के फ्लैट खरीदार एकजुट होकर प्लानिंग बोर्ड जाएंगे। साथ ही इन्होंने नए मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से भी 15 मार्च के शपथ-ग्रहण समारोह के बाद इस मुद्दे पर बैठक करने का निर्णय लिया है। इसके लिए एसोसिएशन ने प्रयास शुरू कर दिए हैं। इन्होंने नई सरकार के गठन के बाद प्राधिकरण अधिकारियों के संभावित तबादलों के बाद नोएडा एक्सटेंशन का क्या रुख हो सकता है और उस स्थिति में इन्हें क्या करनी चाहिए, इस पर भी चर्चा की। साथ ही न्यायालय में अलग से एक वाद दायर करने पर भी विचार किया गया है, जिसमें पिछले एक वर्ष से बैंकों को चुका रहे लोन व ब्याज को आधार बनाया जा सकता है। योजनाओं को अंतिम स्वरूप देने के लिए एसोसिएशन अगली बैठक 18 मार्च को सेक्टर 14ए स्थित गौतमबुद्ध प्रवेश द्वार पर दोपहर साढ़े बारह बजे करेगी, जिसमें एसोसिएशन ने बड़ी संख्या में लोगों से उपस्थित होने की अपील की है। रविवार को हुई बैठक में एसोसिएशन के संस्थापक देवेंद्र कुमार, अध्यक्ष अभिषेक कुमार, उपाध्यक्ष अनु खान, निदेशक विजय त्रिवेदी, इदरिश गुप्ता, श्वेता भारती, चेतन त्यागी आदि मौजूद थे।

    -Dainik Jagran
    CommentQuote
  • Noida home buyers to meet Akhilesh to revive stuck projects

    Home buyers in Noida Extension will meet Uttar Pradesh chief minister-designate Akhilesh Yadav in Lucknow for the resumption of housing projects. The buyers will also meet NCR planning board officials when the board meets again on March 26.

    The buyers fear that with the change of guard in Lucknow, the CEO of Noida/Greater Noida will also change and this may hit the government's ongoing efforts in the court to solve the matter.

    Members of the Noida Extension Flat Owners and Members Association (NEFOMA) on Sunday held a meeting and decided that the buyers will themselves move court for relief as for the past one year, they have been paying EMIs for the projects that are stuck as well as the rents of their current accommodations.

    Shweta Bharti, general secretary of NEFOMA, said, “The NCR planning board has not been able to clear Greater Noida's master plan. This means the housing projects in Noida Extension remain halted. Apart from putting fresh pressure on the board, we will meet Akhilesh and request him to save us from this trauma.“

    “When the government changes, the officials occupying high offices are changed too. We're keeping our fingers crossed. The current officials have filed a review petition in the court, seeking early resumption of projects. In case of a major administrative shake-up, efforts may go off the track,“ she said.

    More than four months after an Allahabad High Court order raised hopes of revival of stuck housing projects in Noida Extension -when it ruled that land would remain with the builders and the farmers would get increased benefits -there are no indications of a revival.

    The planning board has said no deadline can be set for grant of approval to the master plan.

    The authority acquired 3,000 hectares of land between 2005 and 2010 for industrial development in about a dozen villages, today known as Noida Extension. In 2008, it changed the land use to residential (group housing) and continued with acquisition.
    Trouble began in 2011, when the court returned land to farmers in two villages. A larger bench of HC in October last year said that realty projects could go only after the master plan was approved by the NCR board. ( )

    Apart from putting fresh pressure on the board, we will meet Akhilesh Yadav and request him to save us from this trauma.

    S H W E TA B H A R T I general secretary, NEFOMA

    -HT
    CommentQuote
  • 5 saal tak kuch nahi hona
    CommentQuote
  • Originally Posted by rohit_warren
    5 saal tak kuch nahi hona


    Mr Warren....You are hopeless.....for sure...

    All these matter will resolved in a month either positive or negative.... FYI.... 99.99 % it will be a positive..
    CommentQuote
  • मुख्यमंत्री से गुहार लगाएंगे निवेशक

    नोएडा एक्सटेंशन की आवासीय परियोजनाओं में फंसे 1 लाख से ज्यादा निवेशक अब विवाद को सुलझाने के लिए उत्तर प्रदेश के नये मुख्यमंत्री से गुहार लगाएंगे। निवेशक राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र योजना बोर्ड द्वारा निर्माण की अनुमति न देने से भी खफा है और आंदोलन की तैयारी में है।

    नोएडा एक्सटेंशन फ्लैट ऑनर ऐंड मेंबर एसोसिएशन के अध्यक्ष अभिषेक कुमार ने बताया कि बोर्ड निर्माण कार्य की अनुमति नहीं दे रहा है। आज हुई बैठक में 22 मार्च से बोर्ड कार्यालय के सामने धरने पर बैठने का निर्णय लिया गया। बैठक में अखिलेश यादव से मिलने का फैसला हुआ है। निवेशकों पर इस समय दोहरी मार पड़ रही है। एक तो उन्हे होम लोन की किश्त देनी पड़ रही है और घर न मिलने से किराया भी देना पड़ रहा है।

    -Business Standard
    CommentQuote
  • Originally Posted by Deepakh
    Mr Warren....You are hopeless.....for sure...

    All these matter will resolved in a month either positive or negative.... FYI.... 99.99 % it will be a positive..

    really !!!!!!!!!! hum bhi hai tum bhi ho dono hai ...... dekhte hai
    CommentQuote
  • नोएडा एक्सटेंशन की आवासीय परियोजनाओं में फंसे 1 लाख से ज्यादा निवेशक अब विवाद को सुलझाने के लिए उत्तर प्रदेश के नये मुख्यमंत्री से गुहार लगाएंगे

    is the word गुहार =s begging ????????
    CommentQuote
  • Originally Posted by rohit_warren
    नोएडा एक्सटेंशन की आवासीय परियोजनाओं में फंसे 1 लाख से ज्यादा निवेशक अब विवाद को सुलझाने के लिए उत्तर प्रदेश के नये मुख्यमंत्री से गुहार लगाएंगे

    is the word गुहार =s begging ????????



    BSP is giving support to congress in other state ....SP is in UP... so matter will be solved soon..

    and by the way....yes...this is begging.... this is what NP guys doing for last 7 years in Huda office....:)
    CommentQuote
  • Originally Posted by fritolay_ps
    BSP is giving support to congress in other state ....SP is in UP... so matter will be solved soon..

    and by the way....yes...this is begging.... this is what NP guys doing for last 7 years in Huda office....:)

    mere karaare cips 7 saal ka to pata nahi I bought in 2009, so .... its the timing that matters ... and if you can recall i was bearish on noida ex since feb 2011 wen u guys were buying .. no one knows better than u what happened ...

    i use a method and it has been tested in 14 countries and its results are wonderful a part of that was given by silly boy to this forum

    download that file and check the price movement for elite floors - it says 71 laks for 300 sq yd and last week a deal happened around that price ... still it has to go far beyond

    btw have u heard that dlf , unitech and bptp have planned gr faridabad ph 2 ? shhhhh!
    CommentQuote
  • Ha ha ha....you are no-2 rich guy in world but still you are watching NE updates...:)
    CommentQuote
  • Originally Posted by fritolay_ps
    Ha ha ha....you are no-2 rich guy in world but still you are watching NE updates...:)

    Doosre ka gum (dukh dard) dekh kar apna gum kam lagane lagata hai..
    like...
    Duniya mein kitna gum hai... mera gum kitna kam hai :-)
    CommentQuote
  • Originally Posted by fritolay_ps
    Ha ha ha....you are no-2 rich guy in world but still you are watching NE updates...:)

    reason has dost ..ne is in unique situation -- only a second instance since wb singur plant .. however it has huge individual stakes so .. it a case study for me :)

    there is another bigger stake on its outcome ..far bigger than u can think ... one of my client wanted to build a big university in that region and then create a city around it .. i stopped him .. now waiting for the real pointers to give him go ahead :)

    sounds surprising well UP holds big opportunity in terms of education and the timeframe is 15 yrs so wating for the right time
    CommentQuote
  • Originally Posted by rohit_warren
    reason has dost ..ne is in unique situation -- only a second instance since wb singur plant .. however it has huge individual stakes so .. it a case study for me :)

    there is another bigger stake on its outcome ..far bigger than u can think ... one of my client wanted to build a big university in that region and then create a city around it .. i stopped him .. now waiting for the real pointers to give him go ahead :)

    sounds surprising well UP holds big opportunity in terms of education and the timeframe is 15 yrs so wating for the right time


    Rohit bhai , why not pick Greater Noida region which is litigation free and is an education hub already for this purpose ?
    CommentQuote