पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • पहले प्राधिकरण बिल्डरों को जमीन की रजिस्ट्री कराने पर तीस फीसदी धनराशि जमा लेता था। बाकी पैसा बिल्डरों को ब्याज समेत किश्तों में जमा करना होता था। नोएडा एक्सटेंशन में प्राधिकरण ने बिल्डरों से सिर्फ रजिस्ट्री तक दस फीसदी पैसा जमा कराया। दो साल बाद किश्त जमा करने की छूट दे रखी है

    dil kya kare jab kisi ko kisi se pyar ho jaaye ;)

    rohit
    CommentQuote
  • नोएडा एक्सटेंशन के एक लाख निवेशकों की निगाहें बोर्ड पर

    ग्रेटर नोएडा दिल्ली एनसीआर प्लानिंग बोर्ड की बैठक में ग्रेटर नोएडा का मास्टर प्लान 2021 चर्चा के लिए स्वीकृत कर लिया गया है। मास्टर प्लान को पूरक एजेंडे में शामिल किया गया है। बृहस्पतिवार को बोर्ड बैठक होनी है। बोर्ड बैठक पर नोएडा एक्सटेंशन के एक लाख निवेशकों, बिल्डरों व प्राधिकरण की निगाहें लगी हुई हैं। अब देखना यह है कि बोर्ड बैठक में शासन की तरफ से अधिकारी शामिल होते कि नहीं। एनसीआर प्लानिंग बोर्ड की बैठक 16 मार्च को हुई थी। बैठक में एजेंडे को लेकर चर्चा हुई थी। प्रदेश सरकार की तरफ से बोर्ड बैठक में कोई अधिकारी शामिल नहीं हुआ था। प्राधिकरण की तरफ से भी कोई अधिकारी पहुंचा था। ग्रेटर नोएडा के मास्टर प्लान का प्रस्ताव बोर्ड बैठक में ले जाने पर निर्णय नहीं हो पाया था। बृहस्पतिवार को बैठक के मुख्य एजेंडे में मास्टर प्लान को शामिल नहीं किया गया। अधिकारिक सूत्रों का कहना है कि बुधवार को एनसीआर प्लानिंग बोर्ड ने शहर का मास्टर 2021 को चर्चा के लिए पूरक एजेंडे में शामिल कर लिया है। अब देखना यह है कि शासन व प्राधिकरण की तरफ से कोई अधिकारी बोर्ड बैठक में शामिल होता या नहीं। शामिल होने का फैसला शासन पर निर्भर है। 16 मार्च को हुई बैठक में शासन की तरफ से बोर्ड में जाने के लिए प्राधिकरण अधिकारियों को कोई संकेत नहीं मिला था, इसलिए कोई अधिकारी बैठक में नहीं पहुंचा था। मास्टर प्लान का प्रकरण बसपा शासनकाल का है। प्रदेश में सत्ता परिवर्तन होने के बाद कोई भी अधिकारी अपने स्तर पर फैसला लेने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहा है। बृहस्पतिवार को मास्टर प्लान के प्रस्ताव पर चर्चा होने के बाद 26 मार्च की बैठक में कोई फैसला होने की उम्मीद है। अगर मास्टर प्लान पर चर्चा नहीं हुई तो 26 मार्च को फैसला होने की उम्मीद बहुत कम है।

    -Dainik Jagran
    CommentQuote
  • update
    Attachments:
    CommentQuote
  • 27th or 26th? lots of confusion...

    Originally Posted by fritolay_ps
    update
    CommentQuote
  • NCRPB meet on Noida Extension today

    NOIDA: UP's new industrial development commissioner, Anil Kumar Gupta, on Wednesday directed officials of Noida, Greater Noida and Yamuna Expresswayauthorities to "accelerate" the pace of development work in the district. Gupta was on a daylong visit to review the status of ongoing projects in the district.The state government is also keeping a track of development on the NCR Planning Board's end. MoS Abhishek Mishra will be present in the NCRPB meeting on Thursday to find a way out of the chaos in Noida Extension.Officials said projects discussed included the proposed Metro route extensions, Yamuna Expressway, proposed link roads and flyovers, the 130m Noida link road and housing projects in Noida Extension."While the new government is keen on ensuring better connectivity across the district, we are mulling over whether to continue working with DMRC or bring in a private player," Gupta said. "The final decision will be taken soon," he added.Gupta also took stock of day-to-day civic issues. Officials have been asked to keep abreast of all matters affecting the public, to interact with RWAs, etc and ensure overall development. Gupta directed the authorities to pay special attention to issues like roads, sanitation and horticulture.

    TOI
    CommentQuote
  • आईडीसी ने की प्रोजेक्टों की समीक्षा


    नोएडा अथॉरिटी :
    प्रदेश के इंडस्ट्रियल डिवेलपमेंट कमिश्नर (आईडीसी) अनिल गुप्ता ने बुधवार को अथॉरिटी अफसरों के साथ बैठक कर जन उपयोगी प्रोजेक्टों की समीक्षा की। इस दौरान खास तौर पर मेट्रो की प्रस्तावित लाइनों और ग्रेटर नोएडा तक इसकी कनेक्टिविटी की रिपोर्ट पर चर्चा की गई। सेक्टर-6 स्थित अथॉरिटी के मुख्य प्रशासनिक ऑफिस की बोर्ड रूम में बुधवार को हुई बैठक में आला अफसरों के अलावा सभी इंजीनियरिंग प्रोजेक्टों के प्रभारी मौजूद थे। आईडीसी ने करीब आधे घंटे तक अफसरों के साथ बैठकी की। इसके बाद वे ग्रेटर नोएडा रवाना हुए। अथॉरिटी अफसरों के अनुसार वे एनसीआर प्लानिंग बोर्ड से जुड़ी बैठक में हिस्सा लेने यहां आए हैं।

    जानकारी के अनुसार आईडीसी का मुख्य जोर सेक्टर-32 स्थित सिटी सेंटर मेट्रो स्टेशन से ग्रेटर नोएडा तक जाने वाली प्रस्तावित मेट्रो लाइन पर था। करीब 29 किलोमीटर लंबी इस लाइन को ग्रेटर नोएडा के लिए लाइफ लाइन माना जा रहा है। नोएडा में कालिंदी कुंज से बॉटैनिकल गार्डन और सेक्टर-32 सिटी सेंटर स्टेशन से सेक्टर-62 तक की मेट्रो लाइन के बाद अब अफसरों का मेन टारगेट ग्रेटर नोएडा तक मेट्रो को ले जाने का है।


    -nbt
    CommentQuote
  • CommentQuote
  • CommentQuote
  • NEFOMA-Noida Extension Flat Owners & Members Association


    जैसा की यह सर्वविदित है कि २५/०३/२०१२ को अन्ना जी सामूहिक अनशन पर बैठ रहे है । उसी संदर्भ में नोएडा एक्स्टेशन के बायर्स भी अपने फ़्लेट के लिये एक दिन का सामुहिक अनशन करेगें । नेफ़ोमा के बैनर तले सभी बायर्स २५ मार्च को जंतर -मंतर पहुँच कर अन्ना से यह प्रार्थना करना चाहते है कि जब भी बात होती है किसानो की बात होती है , किसानो की बात की जाये लेकिन साथ ही उन बायर्स को भी नही भूलना चाहिए जिन्होने अपने जीवन भर की कमाई अपने सपने के लिये लगा दी हो । बायर्स को जब यह पता लगा कि अन्ना जी ग्रेटर नोएडा जा कर किसानो की जमीन की बात करेगें तो सभी बायर्स को राहुल गांधी जी का भट्टा परसोल याद आ गया । लगने लगा कि कही हमारे घरो पर एक बार फ़िर राजनिती ना शुरु हो जाये । इसी लिये नेफ़ोमा ने बायर्स के साथ मीटिंग करके एक राय में यह प्रस्ताव पारित किया कि हम लोग भी हजारो की संख्या में जंतर-मंतर पँहुचे और अपनी परेशानियाँ भी अन्ना टीम के सामने रखे । हम सभी बायर्स यह उम्मीद भी करते है कि जंतर मंतर पर हमारी बात भी सुनी जाये ।
    CommentQuote
  • GOOD NEWS

    Just now NEFOMA had a teletalk with Mr.Rama Raman,CEO,GNIDA.....He was very excited to inform us about the board meeting held at NCRPB today. He said that NE problem is going to be solved very soon......All the board members have taken the issue in a positive manner. Mr Rama Raman also said that a revised Master Plan -2021 will be sent again with few corrections very soon....NCRPB is determined to pass the Plan as early as possible.Mr Kamal Nath said that there need not be a board for paasing the Master Plan -2021 and pass the master plan within month. He also said that new govt should also examine the Master Plan before its approval.In the board meeting Chief Minister,Haryana, Minister from Delhi Govt, UP Minister, Abhishek Mishra and Mr Kamal Nath were present.
    CommentQuote
  • नोएडा एक्सटेंसन को एनसीआर प्लानिंग बोर्ड की मंजूरी | NCRPB meet on Noida Extension chaos today - Jagran Yahoo! India

    नोएडा। नोएडा एक्सटेंसन को एनसीआर प्लानिंग बोर्ड ने गुरुवार को सशर्त मंजूरी दे दी।
    बोर्ड ने कहा है कि ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण प्रदेश में नई सरकार की 15 दिन के अंदर की टिप्पणी लें उसके बाद बोर्ड की उपसमिति अंतिम मंजूरी दे सकेगी।
    CommentQuote
  • ab anshan kanre ke jarurat nahi,, yahaan kaam paise se hota hai :D paise lagta hai paunch gaye hain sabko
    CommentQuote
  • its really good news and first +ve news for Noida region after quite a long time.
    CommentQuote
  • बोर्ड ने कहा है कि ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण प्रदेश में नई सरकार की 15 दिन के अंदर की टिप्पणी लें उसके बाद बोर्ड की उपसमिति अंतिम मंजूरी दे सकेगी।

    read the fine prints - devil is always in details ;)

    rohit
    CommentQuote
  • sahi kaha { tippani -comments } me hi to sab chhupa.

    is isliye itna jaldi khush hone ki jarurat nahi hai
    CommentQuote