पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16356 Replies
Sort by :Filter by :
  • मास्टर प्लान की मंजूरी के लिए राजनीतिक प्रयास शुरू
    अमर उजाला ब्यूरो
    ग्रेटर नोएडा। प्राधिकरण अफसरों को भरोसा हो गया है कि एनसीआर प्लानिंग बोर्ड शीघ्र ही मास्टर प्लान को मंजूरी दे देगा। अवकाश से लौटे बोर्ड अफसरों ने आश्वासन दिया है कि कमेटी शीघ्र ही अपनी संस्तुति दे देगी।

    पिछले तीन माह से मास्टर प्लान-2021 की समीक्षा की जा रही है। सूत्रों का कहना है कि इतनी बारीकी से जांच-परख एनसीआर के किसी भी शहर के मास्टर प्लान में नहीं की गई है। मंगलवार को सीईओ ने लखनऊ पहुंचकर मौजूदा हालात की जानकारी दी। एक दिन पहले सीईओ ने प्लानिंग बोर्ड अफसरों के पास जाकर उनकी शंकाओं पर विस्तार से स्पष्टीकरण दिया था। पिछले दिनों विभिन्न किसान संगठनों ने प्लानिंग बोर्ड अफसरों से मिलकर मास्टर प्लान मंजूर न करने को कहा था। इसीलिए सीईओ ने इस मसले पर भी पक्ष रखा।

    बोर्ड अफसरों को बताया गया कि प्राधिकरण के अब तक के 45 हजार आवंटनों में करीब 30 हजार आवंटी मास्टर प्लान के दायरे में आ रहे हैं। करीब एक साल से विकास कार्य रुके पड़े हैं। इससे प्राधिकरण और बिल्डरों का करोड़ों रुपये का नुकसान हो चुका है। एनसीआर का हर व्यक्ति मास्टर प्लान को लेकर चिंतित है, क्योंकि नोएडा एक्सटेंशन में करीब एक लाख फ्लैट बुक हो चुके हैं। लाखों लोगों को आशियाने का सपना पूरा होने का इंतजार है।

    सूत्रों ने बताया कि मंगलवार को प्राधिकरण सीईओ लखनऊ में थे। उन्होंने आला अफसरों से कहा कि जब तक मास्टर प्लान को मंजूरी नहीं मिलेगी, कोई नया विकास कार्य नहीं होगा। जो पुराने विकास कार्य हैं, वे भी शुरू नहीं होंगे। बताया जाता है कि इसके लिए राजनीतिक प्रयास शुरू हो गए हैं।
    छुट्टी से लौटे एनसीआर प्लानिंग बोर्ड के अधिकारी जगी उम्मीद
    CommentQuote
  • Update..
    Attachments:
    CommentQuote
  • नोएडा एक्सटेंशन के निवेशक व किसान एक मंच पर आए


    ग्रेटर नोएडा : शहर का मास्टर प्लान 2021 एनसीआर प्लानिंग बोर्ड से जल्द मंजूर कराने को लेकर नोएडा एक्सटेंशन के निवेशक व किसान एक मंच पर आ गए हैं। बुधवार को नोएडा एक्सटेंशन फ्लैट आनर एंड मेंबर एसोसिएशन (नेफोमा) व किसान संघर्ष समिति ने एक दूसरे को समर्थन पत्र सौंपा। 23 जून को दोनों संगठन साझा रूप से मास्टर प्लान पास कराने को लेकर संघर्ष का ऐलान करेंगे।

    किसान संघर्ष समिति व नेफोमा पदाधिकारियों की बुधवार को संयुक्त रूप से बैठक हुई। इसमें चर्चा हुई कि नोएडा एक्सटेंशन को लेकर किसान व फ्लैट खरीदार दोनों प्रभावित हो रहे हैं। खरीदार चाहते हैं कि शहर का मास्टर प्लान 2021 जल्द मंजूर हो और उनके फ्लैटों का निर्माण कार्य शुरू हो सके। लाखों लोगों का हित इससे जुड़ा हुआ है। किसानों की तरफ से आश्वासन दिया गया कि मास्टर प्लान पास कराने व निर्माण कार्य शुरू कराने को लेकर वे निवेशकों के साथ हैं। क्षेत्र के किसान भी विकास चाहते हैं, विकास कार्य शुरू होने पर ही किसानों की मांगें पूरी होगी। नेफोमा की तरफ से किसानों को आश्वासन दिया गया कि उनके संघर्ष में वे भी साथ देंगे। हाईकोर्ट के निर्देश पर किसानों को अतिरिक्त मुआवजा व दस फीसद विकसित भूखंड मिलना चाहिए। एक्सटेंशन के सभी खरीदार किसानों का हक दिलाने के लिए साथ मिलकर संघर्ष करेंगे। उन्होंने नारा दिया कि किसान को उनका हक दो, हमें हमारा घर दो। निवेशकों ने कहा कि मास्टर प्लान मंजूर होते ही किसानों को अतिरिक्त मुआवजा व दस फीसद विकसित भूखंड दिलाने के लिए प्राधिकरण पर दबाव डालेंगे। बैठक में किसान संघर्ष समिति की तरफ से टेकन यादव, रामी प्रधान, बलराज यादव, भरत यादव आदि मौजूद थे। वहीं नेफोमा की तरफ से देवेंद्र कुमार, अभिषेक कुमार, इंद्रेश गुप्ता, विजय त्रिवेदी, अनू खान, श्वेता भारती, अजय कुमार आदि लोग मौजूद थे।



    dainik jagran
    CommentQuote
  • good new...farmers also supporting buyers on NCR planning board approval...
    Attachments:
    CommentQuote
  • Come & join NEFOMA Press Conference on Saturday 23rd June '2012 , 4 .00 pm at Noida Extension Gole Chakkar (Near Gaur City)..

    Now farmers & Buyers are together... Hope to see HUGE crowd.... guys... this is the right time to show your power to PRESS/MEDIA house, authority, Govt and NCR planning board...

    DO IT OR LEAVE IT....



    Those who dont see any importance in this.... do come to see your face in national TV and save clip for your next generation :)
    CommentQuote
  • Great!!

    Originally Posted by fritolay_ps
    Come & join NEFOMA Press Conference on Saturday 23rd June '2012 , 4 .00 pm at Noida Extension Gole Chakkar (Near Gaur City)..


    I will be there.......:)
    CommentQuote
  • current situation....
    Attachments:
    CommentQuote
  • Originally Posted by fritolay_ps
    current situation....

    Where are Farmers??
    CommentQuote
  • NEFOMA supports to farmers
    Attachments:
    CommentQuote
  • Originally Posted by fritolay_ps
    come & join nefoma press conference on saturday 23rd june '2012 , 4 .00 pm at noida extension gole chakkar (near gaur city)..




    बुधवार को नोएडा एक्सटेंशन फ्लैट आनर एंड मेंबर एसोसिएशन (नेफोमा) व किसान संघर्ष समिति ने एक दूसरे को समर्थन पत्र सौंपा। 23 जून को दोनों संगठन साझा रूप से मास्टर प्लान पास कराने को लेकर संघर्ष का ऐलान करेंगे।

    CommentQuote
  • सभी बायर्स ओर किसान भाई से अनुरोध हे एक बार जरुर सोचे

    ==================================


    सभी बायर्स ओर किसान भाई से अनुरोध हे एक बार जरुर सोचे, क्या मास्टर प्लान २०२१ मे इतनी खामीया थी, कि जिसको दुर करने मे ८ (आठ) महीने लग गये लेकिन आज तक ईन खामीया को दुर नही किया जा सका? क्या मास्टर प्लान २०२१ पुरा का पुरा गलत था? इतने समय मे तो एक नया मास्टर प्लान बन सकता था, यह सब एक सोची समझी रणनीती हे, इस लिये किसान भाई ओर बायर्स भाईयो से अनुरोध हे, इस सोची समझी रणनीती को समझे, ओर अपना मत रखे.

    आप इस पर क्या सोचते हे, क्रप्या आपने विचार रखे.
    CommentQuote
  • Noida extension: Farmers, buyers join hands


    GREATER NOIDA: After a series of meetings with authorities and numerous protests in Greater Noida and Delhi, Noida Extension homebuyers have now joined hands with farmers to "create pressure on the authorities" and get them to clear the Greater Noida Master Plan 2021 at the earliest. Hundreds of buyers visited the Noida Extension area on Wednesday and met village heads asking them for support. "It has been over a year since land troubles began in Noida Extension and the matter has only become murkier.

    The NCR Planning Board and Greater Noida Authority have failed to provide any clarity to lakhs of middle class homebuyers who booked flats in the area," said Abhishek Kumar of a buyers' association. "We also realize that besides the buyers, farmers have also been victimized. First their land was taken away under the urgency clause, and now the authorities are delaying their due compensation and rehabilitation deals. We have decided to come together and ask the authorities to sort out the Noida Extension chaos once and for all," Kumar added. "The village heads and buyers' associations will soon meet to decide the next course of action to create pressure on the planning board and the Authority to resolve the crisis," said Devender Kumar, a buyer. "We want the planning board to immediately pass the Master Plan so that our homes can get constructed," he added.

    TOI
    CommentQuote
  • किसानों को उनका हक दो, हमें हमारा घर

    नोएडा (ब्यूरो)। नोएडा एक्सटेंशन के बायर्स के पक्ष में वहां के किसान भी आ गए हैं। किसानों ने ग्रेटर नोएडा के मास्टर प्लान को मंजूरी दिलाने के लिए बायर्स के साथ मिलकर एनसीआर प्लानिंग बोर्ड के खिलाफ बिगुल फूंकने का ऐलान किया है।

    नोएडा एक्सटेंशन फ्लैट ऑनर्स एंड मेंबर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष अभिषेक कुमार व किसान संघर्ष समिति (नोएडा एक्सटेंशन) के टीकम यादव ने बुधवार को विज्ञप्ति जारी कर कहा है, कि मास्टर प्लान को मंजूरी न मिलने किसानों को भी नुकसान हो रहा है और बायर्स को भी। किसानों को उनका हक नहीं मिल रहा। उधर बायर्स फ्लैट के लिए परेशान हैं। इसे देखते हुए दोनों मिलकर आगे की लड़ाई लड़ेंगे। इसके लिए 23 जून को संयुक्त प्रेसवार्ता की जाएगी। आगे की रणनीति तय कर आगे की जानकारी दी जाएगी। हालांकि अनौपचारिक तौर पर उन्होंने बताया कि बायर्स और किसान मिलकर बहुत जल्द प्लानिंग बोर्ड के खिलाफ धरना देंगे। इससे पहले मास्टर प्लान मंजूर करने के लिए बोर्ड को कुछ दिन का समय दिया जाएगा। टीकन यादव ने बताया, कि बुधवार को पतवाड़ी गांव में मीटिंग कर इस पर सहमति बनी है।
    बायर्स व किसानों ने बनाया संयुक्त नारा
    किसानों ने की बायर्स के साथ आने की घोषणा
    23 जून को करेंगे आगे की रणनीति का ऐलान

    Amar Ujala
    CommentQuote
  • टीम अन्ना के साथ किसान

    ग्रेटर नोएडा (ब्यूरो)। नोएडा एक्सटेंशन के किसान अब टीम अन्ना के साथ जनजागरण में जुट गए हैं। इसके लिए टीम अन्ना की गांव-संवाद यात्रा में किसानों का एक प्रतिनिधिमंडल शामिल हुआ है। यह जानकारी किसान संघर्ष समिति के प्रवक्ता मनवीर भाटी ने दी। उन्होंने बताया कि पांच से 10 जुलाई के बीच टीम ग्रेटर नोएडा के गांवों का भ्रमण करेगी।

    Amar Ujala
    CommentQuote
  • सीईओ से मिले किसान बचाओ संघर्ष समिति के पद

    सीईओ से मिले किसान बचाओ संघर्ष समिति के पदाधिकारी
    नोएडा। किसान बचाओ संघर्ष समिति के पदाधिकारियों ने बुधवार को नोएडा प्राधिकरण के सीईओ संजीव सरन से मुलाकात की और उनकेसमक्ष किसानों को आबादी का प्लॉट देने, पीपी ऐक्ट केमुकदमे वापस लेने और जहां है जैसी है केआधार पर आबादी छोड़ने की मांग रखी। प्रतिनिधिमंडल केसदस्य ओमवीर अवाना ने बताया कि सीईओ ने जल्द ही निर्णय लेने का आश्वासन दिया। सीईओ से मिलने वालों में समिति के पदाधिकारी रघुराज सिंह, ओमवीर अवाना, धर्मवीर प्रधान, वेद प्रधान, विनोद भड़ाना, अरुण शर्मा आदि शामिल रहे। ब्यूरो
    नोएडा में सेक्टर-6 स्थित प्राधिकरण दफ्तर में सीईओ से समस्याओं को लेकर वार्ता करते किसान।

    CommentQuote