पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • Originally Posted by ManGupta
    The Supertech thing is a recent issue. i.e., its happened after the news of Masterplan.


    Couldnt understand
    CommentQuote
  • नोएडा में प्रस्तावित रूट पर चलेगी आठ कोच क

    संवाददाता, नोएडा : नोएडा में प्रस्तावित तीन रूटों पर आठ कोच की मेट्रो का संचालन किया जाएगा। प्राधिकरण के इस प्रस्ताव को डीएमआरसी ने मंजूरी दे दी है। इस प्रस्ताव को डीपीआर में भी शामिल कर लिया गया है। दो सप्ताह में मेट्रो की संशोधित डीपीआर प्राधिकरण को मिल जाएगी।

    प्रस्तावित रूट पर मेट्रो की शहर में लंबाई बढ़ने के साथ यात्रियों की संख्या भी बढ़ेगी। लोगों की बढ़ी संख्या व सुविधा को देखते हुए प्राधिकरण की तरफ से नए रूटों पर छह की बजाय आठ कोच की मेट्रो के संचालन का प्रस्ताव तैयार कर डीएमआरसी को भेजा गया था। प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी संजीव सरन ने बताया कि डीएमआरसी ने प्राधिकरण के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। डीएमआरसी के अधिकारियों ने आश्वस्त किया है कि इस प्रस्ताव को डीपीआर में शामिल कर लिया गया है।

    बताते चलें कि शहर में तीन रूट पर मेट्रो का विस्तार किया जाना है। बॉटनिकल गार्डन से आगे कालिंदी कुंज की तरफ मेट्रो नोएडा को दिल्ली के पालम से जोड़ देगी। सिटी सेंटर से सेक्टर-62 तक मेट्रो के विस्तार के बाद गाजियाबाद की सीमा तक मेट्रो पहुंच जाएगी। वहीं सिटी सेंटर से सेक्टर-62 तक प्रस्तावित मेट्रो के सेक्टर-52 में प्रस्तावित स्टेशन से नोएडा एक्सटेंशन के लिए रूट का सर्वे किया जा रहा है। यह मेट्रो नोएडा एक्सटेंशन को नोएडा के विभिन्न हिस्सों के साथ दिल्ली से जोड़ देगी।
    CommentQuote
  • frndz , now can i book a flat in extention......

    & suggest the better project
    CommentQuote
  • Originally Posted by fritolay_ps
    अब फेज दो में जमीन अधिग्रहण का लक्ष्य
    ग्रेनो प्राधिकरण को जमीन मिलने में आ रही दिक्कत
    अमर उजाला ब्यूरो
    ग्रेटर नोएडा। किसानों से विवाद के चलते प्राधिकरण का जमीन अधिग्रहण का काम बंद है। एनसीआर प्लानिंग बोर्ड से मास्टर प्लान 2021 पास होने के बाद प्राधिकरण का अगला लक्ष्य फेज दो है। वहां किसानों से करार के आधार पर जमीन लेने पर विचार हो रहा है। पहली प्राथमिकता उद्योग स्थापित करने की रखी गई है।

    ग्रेनो प्राधिकरण इस समय फेज वन की जमीन पर योजनाएं ला रहा है। पिछले करीब डेढ़ वर्ष से कोर्ट के आदेश और मास्टर प्लान एनसीआर प्लानिंग बोर्ड में अटके होने के चलते कोई योजना नहीं लाई जा सकी है। जिन शेष गांवों में जमीन अधिग्रहण प्रक्रिया होनी है, वहां आबादी और मुआवजे को लेकर काफी दिन से किसानों के साथ तकरार चल रही है। प्राधिकरण चाहता है कि अब ग्रेनो फेज दो में जमीन अधिग्रहण करके वहां योजनाएं लाई जाएं। इसके लिए किसानों से सीधे करार करने पर विचार चल रहा है।

    दरअसल ग्रेनो को दो फेज में बांटा गया है। पहले फेस में 36 हजार हेक्टेयर और दूसरे में 55 हजार हेक्टेयर जमीन है। अब तक पहले फेज में जमीन अधिग्रहण करके विभिन्न योजनाएं लाई गई हैं। दो तिहाई जमीन का अधिग्रहण हो चुका है। करीब दो साल से किसानों से जमीन नहीं ली जा सकी है। प्राधिकरण जानता है कि अब जमीन लेना सहज नहीं है।

    प्राधिकरण अधिकारियों ने बताया कि जीटी रोड के आसपास जमीन का सदुपयोग किया जा सकता है। जमीन अधिग्रहण का काम शुरू न हुआ तो प्राधिकरण को न तो कोई बैंक ऋण देगा और न कोई नई योजना लाई जा सकेगी। प्राधिकरण सर्वे करा रहा है कि किन गांवों के किसान करार के आधार पर जमीन देने को तैयार हैं। जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया पूरी की जाए तो डेढ़ से दो साल तक का समय लग जाएगा। इतने लंबे अंतराल तक प्राधिकरण का खाली बैठना आर्थिक स्थिति को और खराब कर देगा।
    किसानों से सीधा करार करने पर हो रहा है विचार
    उद्योग स्थापित करने को देंगे प्राथमिकता

    GN Phase II ~ Fritolay Bhai, where this exactly would be ?
    CommentQuote
  • Originally Posted by sachin1991
    frndz , now can i book a flat in extention......

    & suggest the better project


    U must wait for next 15 days, mean time you can search the project match your requirements,but final it after all hurdle get cleared.
    CommentQuote
  • Originally Posted by ragh_ideal
    U must wait for next 15 days, mean time you can search the project match your requirements,but final it after all hurdle get cleared.


    thnx bro 4 ur suggesion...i think u r right....
    CommentQuote
  • GN Phase II ~ Fritolay Bhai, where this exactly would be ?


    Greater Noida Industrial Development Authority (GNIDA) is preparing for a major development of Greater Noida Phase-II as a new integrated township on NH-24 and NH-91. The new city will extend to Dadri, adjoining Hapur road and Sikandarabad. To extend the land area, 172 villages from Greater Noida’s urban area to Hapur via Dadri, Ghaziabad, Sikandarabad and Pilakhua have been proposed to be notified. According to the plan approximately 58000 hectare land is to be acquired from the above mentioned villages. After the approval of IIT Roorkee-based Expert Committee Master Plan, the project is expected to be cleared by the next financial year.

    The master plan, 2021 of Greater Noida Phase-II, is being prepared on the basis of projected population growth and the opportunity to prospective and upcoming industries in Greater Noida. The villagers are taking the opportunity to make money by selling their land, as the real estate prices have shot through the roof. Here, in the proposed villages, the prices have gone up to several lakhs per acre
    CommentQuote
  • attached combined map of Noida/G.Noida/Yamuna Expressway and G.Noida Phase-II
    Attachments:
    CommentQuote
  • attached combined map of Noida/G.Noida/Yamuna Expressway and G.Noida Phase-II


    Builder may call it NE extension :D
    CommentQuote
  • Originally Posted by ragh_ideal
    U must wait for next 15 days, mean time you can search the project match your requirements,but final it after all hurdle get cleared.

    bhai logically your comment is perfect ... however indian RE market doesnt follow logic .. i am sure builders will increase price immediately as soon as all hurdles are clear :(
    CommentQuote
  • Originally Posted by trialsurvey
    bhai logically your comment is perfect ... however indian RE market doesnt follow logic .. i am sure builders will increase price immediately as soon as all hurdles are clear :(


    Agreed!
    We have been noticing price escalation from past six months gradually.

    but the only significant reason is .....farmers compensation that is being overcome by FAR/Quality/new launching of towers and many more builder's tactic.

    Rest are only ready-made type scenarios....like

    NCRPB semi approval/UP Govt activities/NCRPB approval(if)/SC decision(+)
    OR
    Metro:D and many more illusive ideas.

    Paper price/websites/ don't decide the property rate but the RESALE VALUE.

    and that is everybody knows.

    Now a days price hike is only for retaining buyers so that they don't think to move out(Any how).

    so there is lots of scope for buyers for negotiation.Every projects have huge inventories left and there are large no. of projects in NE.

    what ever price hike have been done that's not going to be rollback but it will be justified after six months of work resume.

    therefore no hurry just wait for a months and then take decision.

    my POV;)
    CommentQuote
  • Originally Posted by ragh_ideal
    संवाददाता, नोएडा : नोएडा में प्रस्तावित तीन रूटों पर आठ कोच की मेट्रो का संचालन किया जाएगा। प्राधिकरण के इस प्रस्ताव को डीएमआरसी ने मंजूरी दे दी है। इस प्रस्ताव को डीपीआर में भी शामिल कर लिया गया है। दो सप्ताह में मेट्रो की संशोधित डीपीआर प्राधिकरण को मिल जाएगी।

    प्रस्तावित रूट पर मेट्रो की शहर में लंबाई बढ़ने के साथ यात्रियों की संख्या भी बढ़ेगी। लोगों की बढ़ी संख्या व सुविधा को देखते हुए प्राधिकरण की तरफ से नए रूटों पर छह की बजाय आठ कोच की मेट्रो के संचालन का प्रस्ताव तैयार कर डीएमआरसी को भेजा गया था। प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी संजीव सरन ने बताया कि डीएमआरसी ने प्राधिकरण के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। डीएमआरसी के अधिकारियों ने आश्वस्त किया है कि इस प्रस्ताव को डीपीआर में शामिल कर लिया गया है।

    बताते चलें कि शहर में तीन रूट पर मेट्रो का विस्तार किया जाना है। बॉटनिकल गार्डन से आगे कालिंदी कुंज की तरफ मेट्रो नोएडा को दिल्ली के पालम से जोड़ देगी। सिटी सेंटर से सेक्टर-62 तक मेट्रो के विस्तार के बाद गाजियाबाद की सीमा तक मेट्रो पहुंच जाएगी। वहीं सिटी सेंटर से सेक्टर-62 तक प्रस्तावित मेट्रो के सेक्टर-52 में प्रस्तावित स्टेशन से नोएडा एक्सटेंशन के लिए रूट का सर्वे किया जा रहा है। यह मेट्रो नोएडा एक्सटेंशन को नोएडा के विभिन्न हिस्सों के साथ दिल्ली से जोड़ देगी।


    Apne ghar se hauz khas ya munirka se metro pakad se sidhe noida extn gaur city. Wah kitna acha sapna hai. Kash ye sach ho jaye:D;);););)
    CommentQuote
  • Originally Posted by del_sanju
    Apne ghar se hauz khas ya munirka se metro pakad se sidhe noida extn gaur city. Wah kitna acha sapna hai. Kash ye sach ho jaye:D;);););)


    Whole NE is for those who have big dream and love shortcut ....patience ,risk ability is the key of success in NE
    CommentQuote
  • Originally Posted by noidainvestr
    My only concern is, even after NE get resolved, what if Builder cheated and cancel our unit? With all the safe-guards available in the agreement/Booking form, very much possible and I just cannot afford to re-book(after cancellation) in NE.

    still a long long way to go...

    mine is ELEVEN ACACIA (behind balak inter college), solaris builder


    I have also invested in same project and engulfed in same kind of fear about cancellation since so far we have paid 10% amount only. Moreover many builders like palm olympia and earth towne has started sending cancellatoin letters to ppl who have paid just 10% of booking amount.
    CommentQuote
  • Be care full ,new buyers are taking flats in NE....and old one are getting cancellation letters.

    All builders want to make more money....
    CommentQuote