पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • Originally Posted by del_sanju
    Lease rent?

    Wich GC? DO gaur charges for PLC Also?


    75 for park PLC and 30-35 for road....as I know.
    don't have much details, just copied and pasted it here the SMS I got...
    CommentQuote
  • looks on higher side
    CommentQuote
  • Here are the prices of Gaur City-2 which I got from one of the broker
    Attachments:
    CommentQuote
  • Originally Posted by tarunj
    Here are the prices of Gaur City-2 which I got from one of the broker


    This is not gaur. I think. It is one of the FSI like bulland etc
    CommentQuote
  • in brokers ko sirf in projects se matlab hai.why not every body see if corporates starts shifting to gujrat as is appearing from govt action and policy,the whole noida GR.NOIDA wll be ruined then what will happen these projects.
    CommentQuote
  • Originally Posted by powerhonda
    in brokers ko sirf in projects se matlab hai.why not every body see if corporates starts shifting to gujrat as is appearing from govt action and policy,the whole noida GR.NOIDA wll be ruined then what will happen these projects.


    you are over reacting without knowing the ground reality....
    CommentQuote
  • CommentQuote
  • Originally Posted by del_sanju
    Welcome to galaxynorthavenue

    ye toh nhi?


    yes sir this is new project launched is north avenue 2.
    CommentQuote
  • ,.,
    Attachments:
    CommentQuote
  • NEFOMA update

    Here are a few questions that we ask to CEO of GNIDA ,MR.Rama Raman.

    1. अभी मास्टर प्लान सबसे बड़ा मुद्दा है और हम सभी बायर्स यह मान कर चल रहे है कि अगर मास्टर प्लान का फ़ाईनल अप्रूवल आ जाता है तो नोएडा एक्टेंशन में कन्स्ट्रंशन शुरु हो जायेगा । हम आपसे यह जानना चाहते है कि क्या मास्टर प्लान अप्रूव होने के बाद नोएडा एक्श्टेंशन में कन्स्ट्रंशन शुरु हो सकेगा ,जबकि अभी मामला सुप्रीम-कोर्ट में लम्बिं...त है ?

    2. कुछ दिनो से लगातार खबरे आ रही है कि मास्टर प्लान फ़लां तारिख को पास होगा । यह खबरे कुछ लोग फ़ेसबुक के द्वारा बायर्स तक पँहुचा रहे है ।
    इसके अलावा 16.08.2012 को फ़ेसबुक पर यह भी लिखा जा रहा था कि ग्रैटर नोएडा के सी.ई.ऒ , श्री रामा रमन जी ने फ़ोन द्वारा बताया गया कि मास्टर प्लान का अप्रूवल आज आ जायेगा । इन खबरो के बाद जब अप्रूवल नही आया तो बायर्स परेशान हो गये । कुछ लोग आपके नाम पर बायर्स के जज्बात से खेल रहे है । मास्टर प्लान की जो तारिखे दी जा रही है , हम आपसे जानना चाहते है कि इन खबरो में कितनी सच्चाई है कि यह तारिखे आप के द्वारा बताई जा रही है ।

    3. मास्टर प्लान के अप्रूवल की खबरो के नाम पर बिल्डर्स नई बुकिंग्स तो कर रहे है लेकिन पुराने बायर्स के फ़्लैट बाहने बना कर कैंसल किये जा रहे है । हम आपसे यह जानना चाहते है कि ,क्या बिल्डर्स बिना मास्टर प्लान पास हुऎ अपने प्रोजेक्ट्स नोएडा एक्टेंशन में बैच सकता है ? और अगर वो नही बैच सकता है , तो अथोरिटी इस प्रकार से फ़्लैट बैचने से रोकने के लिये क्या उपाय कर रही है ?

    4. जिस प्रकार से नोएडा एक्श्टेंशन में जमीन का विवाद हुआ और उस विवाद के बावजूद यहां बिल्डर्स ने फ़्लैट बैचे, जिससे हजारो बायर्स की जीवन भर की जमा पूंजी फ़ंस गई । लगभग वैसा ही कुछ यमुना एक्श्प्रेस-वे पर चल रहा है । जैसा कि आप ग्रैटर नोएदा के सी.ई.ऒ होने के साथ-साथ ही यमुना एक्श्प्रेस-वे से भी जुड़े हुऎ है ,हम आपसे यह अनुरोध करते है कि यमुना एक्श्प्रेस-वे पर उन बिल्डर्स को फ़्लैट बैचने से रोका जाये जिनके प्रोजेक्ट्स अभी पास नही है । लोग अपने जीवन भर की कमाई अपने घर के सपने के लिये लगा देते है और अगर वहा नोएडा एक्टेंशन जैसा विवाद हो जाये तो उनका जीवन मुश्किल में फ़ंस जाता है । हम चाहते है कि यमुना एक्सप्रेस-वे पर नोएडा एक्टेंशन की तरह लोग ना फ़ंसे । इसलिए अथोरिटी की तरफ़ से उन बिल्डर्स की साईट पर नोटिस लगाया जाये जिनका प्रोजेक्ट अभी अप्रूव नही है ।

    मान्यवर , हम लोग पिछले दो साल से नोएडा एक्टेंशन में फ़्लैट बुक करा के फ़ंसे हुऎ है, हम लगातार बैंक को ब्याज का बुगतान कर रहे है जबकि अभी तक हमारे घर मिलने की कोई संम्भावना दूर-दूर तक दिखाई नही दे रही । लेकिन हम सभी बायर्स आपके अब तक किये गये प्रयास की भी सरहाना करते है जिससे मास्टर प्लान का अप्रूवल यहाँ तक पहुँचा । अगर आप के द्वारा सतत प्रयास नही हुआ होता तो शायद हमारी राह ओर भी कठिन हो सकती थी । बस आपसे यही प्रार्धना है कि जो भी खबरे आपकी तरफ़ से आये वो सही हो ताकि हमारा भरोसा बना रहे
    CommentQuote
  • So you mean to say that we should buy after 3-4 years. What would be the resale price at that time?

    where is that fellow ?
    CommentQuote
  • Originally Posted by fritolay_ps
    ,.,


    SO its confirmed ki 25 ko bhi kuch nhi ayega. Sab rumors hai.
    CommentQuote
  • never before experience such Drama and trauma in my life.
    CommentQuote
  • Originally Posted by cookie
    never before experience such Drama and trauma in my life.



    @Cookie
    Can u confirm if Mywoods construction is also halted.
    Some say its on as it is free from disputes. But I doubt if anything is going on at site.
    CommentQuote
  • Originally Posted by llimca
    @Cookie
    Can u confirm if Mywoods construction is also halted.
    Some say its on as it is free from disputes. But I doubt if anything is going on at site.


    everything is standstill...

    :(
    CommentQuote