पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • Originally Posted by iamonpc
    kaun se project ke 3500 hai ? Abhi kaam toh start hua nahi hai.

    iamonpc

    Paramount ..as said by Trailsurvey
    CommentQuote
  • Originally Posted by cookie
    iamonpc

    Paramount ..as said by Trailsurvey


    bekaar ki baaten hai, broker log price hike ka darr dikhaa rahe hai. 3000-3200 AI is reasonable as if now
    CommentQuote
  • Bhai aaj faridabad neher paar ka koi pratinidhi dikhayi nahi de raha.
    CommentQuote
  • Originally Posted by iamonpc
    bekaar ki baaten hai, broker log price hike ka darr dikhaa rahe hai. 3000-3200 AI is reasonable as if now


    sir ji Paramount ke sales team ke bande se poocha tha maine (he told Rs3500 rate and bookings will open in 10 days).. bande ka naam tha Anup Singh

    I also hope he was not telling the truth!! :D
    CommentQuote
  • I did a booking in ajnara homes few weeks back. Small project and reputed builder.ajnara homes is around 3200 clp .After plc and other charges all inclusive 3300 .
    CommentQuote
  • Originally Posted by trialsurvey
    sir ji Paramount ke sales team ke bande se poocha tha maine (he told Rs3500 rate and bookings will open in 10 days).. bande ka naam tha Anup Singh

    I also hope he was not telling the truth!! :D


    Sab kehne waali baat hai, Paramount Symphony (CR) RTM me 3500 par nahi aaya toh abhi ye sab baaten hai
    CommentQuote
  • एक्सटेंशन में निर्माण को हरी झंडी

    ग्रेटर नोएडा : नोएडा एक्सटेंशन में दस माह से बंद निर्माण कार्य को शुरू करने की बिल्डरों को प्राधिकरण से हरी झंडी मिल गई। एनसीआर प्लानिंग बोर्ड से मास्टर प्लान 2021 मंजूर होने के बाद सोमवार ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में शपथ पत्र दाखिल कर दिया। शपथ पत्र दाखिल होने के साथ मुख्य कार्यपालक अधिकारी रमा रमण ने बिल्डरों को निर्माण कार्य शुरू करने की अनुमति दे दी। हालांकि, अनुमति मिलने के बावजूद बिल्डर सोमवार को निर्माण कार्य शुरू नहीं कर पाए। बिल्डर एक-दो दिन में मजदूरों की व्यवस्था करने के बाद साइट पर निर्माण कार्य शुरू कर देंगे।

    नोएडा एक्सटेंशन के बिल्डरों की सोमवार को ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी रमा रमण के साथ बैठक हुई। सीईओ ने बिल्डरों को निर्माण कार्य शुरू करने की अनुमति दी। सीईओ ने बिल्डरों को निर्देश दिया कि दस माह से निर्माण कार्य बंद होने के कारण निवेशकों को दोहरी मार झेलनी पड़ी, इसलिए कम से कम समय में फ्लैट का निर्माण कार्य पूरा कर निवेशकों को कब्जा दिया जाए। सीईओ से कहा कि विकास कार्य में किसानों को भागीदार बनाया जाए। गांव के आसपास बिल्डर किसानों की समस्याओं को समझते हुए सड़क आदि का निर्माण कार्य कराएं। तकनीकी शिक्षा के लिए आईटीआई खोलें। इसके लिए प्राधिकरण बिल्डरों को जमीन उपलब्ध कराएगा। बिल्डरों को तुरंत बकाया किश्त का भुगतान करने का निर्देश दिया गया है। सीईओ ने कहा कि बिल्डरों व आवंटियों से किश्त मिलने के साथ ही किसानों को 64.7 फीसद अतिरिक्त मुआवजा का तुरंत भुगतान कर दिया जाएगा।

    पुराने निवेशकों पर नहीं डाला जाएगा भार
    नोएडा एक्सटेंशन में पुराने निवेशकों से बिल्डर अतिरिक्त भुगतान की मांग नहीं करेंगे। सीईओ ने बिल्डरों से कहा कि नोएडा एक्सटेंशन विवाद में निवेशकों को नुकसान उठाना पड़ा है, इसलिए उनके हित का भी बिल्डर ध्यान रखें। जिस तरह बिल्डरों को दस माह विवाद को शून्य अवधि घोषित किया गया है, इसका लाभ निवेशकों लाभ निवेशकों को मिलना चाहिए। उनसे भी शून्य अवधि के दौरान ब्याज न लेने पर विचार किया जाए। आम्रपाली ग्रुप के अनिल शर्मा ने आश्वासन दिया कि पुराने निवेशकों से कोई अतिरिक्त पैसा नहीं वसूला जाएगा।

    नए निवेशकों की जेब होगी ढीली
    एक्सटेंशन में पुराने निवेशकों से अतिरिक्त पैसा नहीं वसूला जाएगा, लेकिन नए निवेशकों की जेब ढीली होगी। सीईओ के साथ हुई वार्ता में बिल्डरों ने यह संकेत दिया। बिल्डरों ने कहा कि नए निवेशकों से एक हजार रुपये प्रति फीट के हिसाब अतिरिक्त पैसा वसूला जा सकता है। बढ़े रेट पर बिल्डरों ने बुकिंग शुरू कर दी है। एक्सटेंशन का विवाद शुरू होने से पहले बिल्डरों ने 1800 से लेकर 2000 रुपये प्रति वर्ग फीट से फ्लैट बुक किया था। अब 2500 से रुपये लेकर 32 सौ रुपये प्रति फीट कर दिया गया है।


    dainik jagran
    CommentQuote
  • Builder ne cartel bana rakhaa hai. Aur buyeres ko rats ki tarah phasaa rahe hai. Kabhi rats CR me kabhi NE kabhi noida me ... phasa rahe hai :)
    CommentQuote
  • साबेरी गांव की जमीन का दोबारा होगा अधिग्रहण

    ग्रेटर नोएडा : नोएडा एक्सटेंशन का विवाद सुलझने के बाद ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण ने साबेरी गांव की जमीन का दोबारा अधिग्रहण करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। जमीन अधिग्रहण का पहला प्रस्ताव धारा-चार के लिए सर्वे का काम अगले महीने से शुरू हो जाएगा। अधिग्रहण के साथ प्राधिकरण किसानों से सीधे जमीन खरीदने का भी प्रयास करेगा।

    नोएडा एक्सटेंशन के गांव साबेरी की 156 हेक्टेयर जमीन का अधिग्रहण सुप्रीम कोर्ट ने मार्च, 2011 में रद कर दिया था। जमीन अधिग्रहण से कुछ बिल्डरों की योजनाएं प्रभावित हुई थीं। गांव के करीब 60 फीसदी किसानों ने जमीन का मुआवजा उठा लिया था। जिन किसानों ने मुआवजा नहीं उठाया था, प्राधिकरण ने राजस्व अभिलेखों में उन किसानों का नाम दर्ज करा दिया था। जिन किसानों ने मुआवजा उठा लिया था उन्हें मुआवजा वापस करने के लिए कहा गया था। कुछ किसान अभी तक प्राधिकरण को मुआवजा वापस नहीं कर पाए हैं। मुआवजा न देने पर प्राधिकरण ने पैसा वसूलने का नोटिस तहसील को भेज दिया था। तहसील से किसानों को आरसी जारी किया गया था। किसानों ने इसका विरोध किया था। मास्टर प्लान एनसीआर प्लानिंग से मास्टर प्लान मंजूर होने के बाद प्राधिकरण अब साबेरी गांव की जमीन का अधिग्रहण करने की प्रक्रिया शुरू कर दिया है। प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी रमा रमण ने बताया कि साबेरी की जमीन का अधिग्रहण रद होने के बाद भी प्राधिकरण के अधिसूचित क्षेत्र में गांव शामिल हैं। इस लिए कोई भी किसान बिना प्राधिकरण की अनुमति के निर्माण कार्य नहीं कर सकता है। अधिग्रहण के लिए धारा-चार का प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है। अधिग्रहण करने से पहले किसानों से वार्ता की जाएगी। किसानों से सीधे जमीन खरीदने का भी प्रयास किया जाएगा। अवैध निर्माण के लिए जल्द ही कार्रवाई शुरू कर दी जाएगी।

    dainik jagran
    CommentQuote
  • Originally Posted by cookie
    Guys

    Hike after Hike and now rates are touching 3500 psqft..
    How much hike can we expect when banks start disbursing loan?
    and also how much Hike when Metro work starts ?


    IF metro comes then toh noida expressway piche reh jayega for sure.
    POsitive thing with n ex metro is there is no vacant area for making shed and the authority hv decided to make it in extension so it gives a boost that n ex me metro jald hi aayegi.
    CommentQuote
  • एक्सटेंशन के किसानों ने मांगें तेज कीं


    ग्रेटर नोएडा :
    नोएडा एक्सटेंशन के किसानों ने भी एनसीआर प्लानिंग बोर्ड से शहर का मास्टर प्लान पास होते ही अपनी मांगें तेज कर दी हैं। सोमवार को बिसरख गांव में हुई कई गांवों की पंचायत में निर्णय लिया गया कि जब तक समझौते की मांगों को पूरा नहीं किया जाएगा, तब तक एक्सटेंशन में बिल्डरों का निर्माण कार्य शुरू नहीं होने दिया जाएगा। अपनी मांगों को लेकर किसान सीईओ रमा रमण को ज्ञापन भी सौंपेंगे।

    किसानों ने कहा कि हाईकोर्ट के 64.7 प्रतिशत अतिरिक्त मुआवजा देने के निर्देश के बाद प्राधिकरण के साथ समझौता हुआ था। इसकी शर्तो के अनुसार, प्राधिकरण को अर्जित भूमि की एवज में दस फीसद के भूखंड, शीघ्र मुआवजा देने, आबादी निस्तारण करने, श्मशान व खेलों के लिए मैदान छोड़ा जाना था। सभी शर्ते अधूरी हैं। आबादी के कई मामले भी लंबित हैं, इनका शीघ्र निराकरण होना चाहिए। दस फीसद के भूखंड भी किसानों को नहीं मिले हैं। मुआवजा वितरण का कार्य भी पिछले चार महीने से ठप है। गांवों के नजदीक प्राधिकरण ने कहीं पर भी खेल के मैदान के लिए जगह नहीं छोड़ी है। किसानों ने एक सुर में कहा कि जब तक अधूरी मांगों को पूरा नहीं किया जाएगा, तब तक वह नोएडा एक्सटेंशन में बिल्डरों का निर्माण कार्य शुरू नहीं होने देंगे। बिल्डरों ने यदि किसानों के विरोध को दरकिनार कर निर्माण कार्य शुरू किया, तो उसका विरोध किया जाएगा। पंचायत में आमोद भाटी, दीपक भाटी चोटीवाला, प्रदीप यादव, टीकम यादव, पप्पू यादव, श्याम, ब्रह्म सिंह, अशोक, ब्रह्मपाल, संतू नंबरदार, रतन सिंह, आदेश बीडीसी आदि मौजूद रहे।

    dainik jagran
    CommentQuote
  • Paramount is next to stellar. If stellar can go 3100 bsp in flexi. Considering builder repo paramount can go up. I enquired 3 weeks back at their site office they said waiting on authority will open at 3500 bsp
    CommentQuote
  • Originally Posted by del_sanju
    IF metro comes then toh noida expressway piche reh jayega for sure.
    POsitive thing with n ex metro is there is no vacant area for making shed and the authority hv decided to make it in extension so it gives a boost that n ex me metro jald hi aayegi.


    That is coming on expressway too...
    CommentQuote
  • Originally Posted by arpit8403
    Paramount is next to stellar. If stellar can go 3100 bsp in flexi. Considering builder repo paramount can go up. I enquired 3 weeks back at their site office they said waiting on authority will open at 3500 bsp


    Stellar has better reputation As I know..
    CommentQuote
  • no its not expressway ..it is a link road to expressway ..which is a bit narrow road not like the main road that goes from Noida city center metro station directly to gaur circle
    CommentQuote