पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • Originally Posted by shashippp
    Can you please provide list of builders?

    AIG infratech
    ajnara
    amrapali group
    arihant arden
    earth infrast.
    mahagun mywoods
    nirala
    orange country
    palm olypia
    panchsheel
    stteler park
    super tech
    vedantam redicon


    these are updated in NEFOMA website
    CommentQuote
  • Originally Posted by fritolay_ps
    One year before.. some condition.. cases were pending in HC... buyers were not aware...and putting money... Now only difference is buyers are now aware of case.. but still putting money.. I visited NE many times and have strong feelings that SUCH HUGE HUGE development (builder/authority) can not be cancelled by SC.. guys 130sqm road /NE flyover, connecting road.. all were made via land acquisation.... so authority can not destroy road etc.


    Yeah I also think so...
    Can't be undone the already done things..
    Its not practical either, set aside Money invested in that area alone..
    CommentQuote
  • बेफिक्र होकर नोएडा में बनाइए अपने सपनों का घर

    अगर आप नोएडा में अपने सपनों का घर बनाना चाहते हैं तो आपका सपना सच हो सकता है. लोगों के इन सपनों पर तलवार लटकी हुई थी, पर अब कोई खतरा नहीं है.

    एक्सटेंशन में फ्लैट का सपना संजोए लोगों के लिए बड़ी राहत की खबर आई है. एनसीआर प्लानिंग बोर्ड ने मास्टर प्लान दो हजार इक्कीस को मंजूरी दे दी है इसके साथ ही नोएडा एक्सटेंशन में निर्माण का रास्ता साफ हो गया है.

    करीब दस महीने पहले कोर्ट से हरी झंडी मिलने के बाद प्लानिंग बोर्ड की मंजूरी का इंतजार था. प्लानिंग बोर्ड से हरी झंडी मिलने का मतलब ये है कि नोएडा एक्सटेंशन में एक बार फिर काम शुरू हो जाएगा, करीब दस महीने पहले इलाहाबाद हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन को लेकर लंबे समय से चल रहे विवाद पर विराम लगाया था, इसके बाद इंतजार एनसीआर प्लानिंग बोर्ड की हरी झंडी मिलने का था जो कि आज मिल गया.

    टेक्निकल कमिटी से मंजूरी मिलने के बाद से ही इस पर प्लानिंग बोर्ड की मुहर लगने का इंतजार था. लगभग दो महीने के बाद प्लानिंग बोर्ड ने भी शुक्रवार को इस पर मंजूरी की मुहर लगा दी.

    ग़ौरतलब है कि भूमि विवाद के चलते नोएडा एक्सटेंशन में लगभग साढ़े तीन लाख फ्लैटों का निर्माण अधर में फंस गया था. इनमें से लगभग डेढ़ लाख फ्लैट पहले ही या तो बुक हो चुके हैं या फिर बिक चुके हैं.
    पिछले साल अक्टूबर में हाईकोर्ट ने यह मामला एनसीआरपीबी को भेजा था और तब से यह मामला लंबित था. इस निर्णय से इस क्षेत्र में हो रहे निर्माण कार्य में पैसा लगाने वालों को राहत मिल गई है.

    नोएडा एक्सटेंशन में फंसे करीब 50 हजार लोगों को फ्लैट मिलने का रास्ता साफ हो गया है. अब मुश्किल में पड़ी इमारतों को जल्द बनाया जा सकेगा.

    फिलहाल नोएडा एक्सटेंशन में 50 से 60 बिल्डरों के आवासीय प्रोजेक्ट फंसे हुए हैं. यह विवाद उत्तर प्रदेश की बसपा सरकार के समय से चला आ रहा है.

    समाजवादी पार्टी की सरकार बनने के बाद कुछ लोग मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मिले थे. उत्तर प्रदेश के युवा मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की मेहनत रंग लायी है.

    दरअसल पिछले दिनों उन्होंने आवेदकों को आश्वस्त किया था कि इस विवाद का जल्द समाधान निकाला जायेगा. माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री के प्रयास के चलते ही नोएडा एक्सटेंशन पर लटकी तलवार हटी है.

    बेफिक्र होकर नोएडा में बनाइए अपने सपनों का घर | PrabhatKhabar.com : Hindi News Portal to Eastern India
    CommentQuote
  • Fritloy:i have invested in Valencia Homes around one year back and also paid incremented amount but now i m feeling gud....
    All d best.
    CommentQuote
  • Originally Posted by fritolay_ps
    there is nothing special... every builer want to make proffit... this is not related to master plan.. since maximum builders in Gurgaon also play such game.. and yes.. they are not impacted with G.N master plan..:)


    But fritoley bhai, can we protest against this practice. if yes then how??
    CommentQuote
  • pls read your BBA... every BBA has one claus that property size could be differ from 3-5% at the time of final layout... so just check ..how much % was mentioned in your BBA/agreement... so I guess.. one has not signed blindly such agreement to buy 20+ lakh value property....so means one has accepted that condition as well....right
    CommentQuote
  • My builder still giving some old unit in previous price!!!

    According to the builder that some people have withdraw units few days back due to this issue. These persons bought at 1750 Rs per sqft, but my builder is ready to give these unites at around 2500 Rs per sqft. My frnd has already booked at 2500 Rs. Acccording to him the new rates will be 3200 for new booking but giving in these cancled units at 2500.




    Originally Posted by SharpShutter
    Is it worth Buying in Noida extension now, or one should wait for few months. I have seen most of the builders are now increasing the rates.?
    CommentQuote
  • Originally Posted by ankitrrastog
    Fritloy:i have invested in Valencia Homes around one year back and also paid incremented amount but now i m feeling gud....
    All d best.


    badhai ho .. valencia is a tempting project i must say looking at the location and specs .. however only thing which concerns me is builder's lack of experience in high rise projects
    CommentQuote
  • अधिग्रहण बिल पर कांग्रेस के रुख से किसान नाराज


    ग्रेटर नोएडा :
    केंद्र सरकार द्वारा जमीन अधिग्रहण के संशोधित बिल को संसद में न रखे जाने से नाराज किसानों ने कांग्रेस पर जमकर भड़ास निकाली। किसानों का कहना है कि केंद्र सरकर बिल्डर और उद्यमियों के दबाव में है, इसलिए संशोधित बिल को जान-बूझकर संसद में रखने में देरी की जा रही है। मंगलवार को इसे संसद में रखने के बजाय फिर से मंत्रिमंडल समूह को सौंप दिया गया। इससे नाराज किसान अब कांग्रेस को सबक सिखाने के मूड में हैं। उन्होंने चेतावनी दी है कि केंद्र सरकर ने किसानों के हितों की अनदेखी कर रही है। लोकसभा चुनावों में कांग्रेस का विरोध किया जाएगा।

    जिला किसान महासंघ के प्रवक्ता डॉ. रूपेश वर्मा ने कहा कि स्टैंडिंग कमेटी की चेयरमैन सुमित्रा महाजन से किसान मिले थे। उन्होंने किसानों के हित में फैसला लेते हुए संशोधित बिल में कई सुझाव देकर बिल को केंद्र सरकार के पास भेजा। किसान कई अन्य मंत्रियों से भी मिले थे। सभी ने आश्वासन दिया था कि मानसून सत्र में बिल को पास कर दिया जाएगा। कांग्रेस और केंद्र सरकार ने किसानों के साथ धोखा किया है।


    किसान महासभा के जिलाध्यक्ष पंडित नत्थीराम शर्मा ने कहा कि कांग्रेस उद्यमी और बिल्डरों के दबाव में है, इसलिए संशोधित बिल को संसद में रखने में देरी की जा रही है।

    संघर्ष समिति के प्रवक्ता मनवीर भाटी ने कहा कि केंद्र सरकार किसानों को उनका हक नहीं देना चाहती, इसलिए बिल को लटकाया जा रहा है। जिला किसान महासंघ के अध्यक्ष सरदाराम भाटी का कहना है कि अब बहुत हो चुका। व्यापक स्तर पर अब कांग्रेस के खिलाफ आंदोलन किया जाएगा।

    dainik jagran


    WHERE is Rahul Gandi...????
    CommentQuote
  • Construction work starts in Noida Extension

    The Greater Noida Authority on Tuesday allowed builders to start construction work on their sites in the Noida Extension area, as per media reports.

    The Greater Noida Authority, following a meeting with the builders, has permitted them to carry out construction works in the sites which have been languishing since almost a year.

    The Authority has apparently waived off the interest levied on installments of allotments to the builders during this period, as per reports and have also dissuaded builders against charging interest from their buyers during this period.

    The National Capital Region Planning Board gave its approval to the Draft Master Plan for Greater Noida-2021 last week.

    The Allahabad High Court had stayed construction in Noida Extension, which is a part of Greater Noida, and directed the Greater Noida Authority to seek approval of its Draft plan from the NCR Planning Board.

    In Noida Extension, about 2.5 lakh homes were being developed, of which nearly 1.5 lakh have already been sold.

    The developers welcomed the decision of NCRPB.


    Construction work starts in Noida Extension
    CommentQuote
  • Hi Ankit,

    Give me the contact details of broker. And project details
    CommentQuote
  • I am looking for 2bhk for self use.
    Which project will be good. I have seen so many projects. Now I am confused.
    CommentQuote
  • Where is Rahul gandhi.?Is Mumma not allowed ........:o
    CommentQuote
  • CommentQuote
  • Green signal to Noida Extension projects, no interest to be charged from old investors

    Posted on: 28 Aug 2012, 02:04 PM

    New Delhi: The Greater Noida Authority has given green signal to construction work which had been stalled for the last 10 months due to farmers protest over the hike in their compensations.
    After the approval of the Master Plan 2021 by the NCR Planning Board, the Greater Noida Authority filed affidavit in the Allahabad High Court. Following which, Chief Executive Officer Rama Raman gave permission to the builders for constructing the flats.
    Despite getting nod from the authority, the builders could not start construction work on Monday.
    The builders of Noida Extension on Monday held meeting with Rama Raman who permitted the former to start construction.
    Raman directed the builders to complete the construction work of flats and hand over the possession to the flat owners at the earliest.
    The farmers should be made partners in the development work added Raman. The builders should construct roads in the villages and set up ITIs added the CEO. For which the authority will provide the lands to the builders assured Raman.
    The builders have been directed to make payment of dues. After getting installments from the builders and allottees, the 64.7 percent additional compensation will be paid to the farmers.
    The old investors will not be required to make additional payment. They have to incur losses in the Noida Extension crisis therefore the builders are expected to look after their concerns.
    The builders should consider not charging interest rates during the zero period' for paying installments. Amarpali Group’s Anil Sharma assured that additional money will not be charged from old investors.
    The builders said that additional sum of Rs 1000 per feet can be charged from new investors.
    The builders have started booking on the escalated rates.
    Before the Noida Extension crisis, the builders had booked the flats at the rate of Rs 1800-2000 per square feet. The new rate has been raised to Rs 2500-3200 per sq feet.
    CommentQuote