पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • Originally Posted by fritolay_ps
    पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता

    जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है

    -Dainik Jagran.

    sir

    Some Property Dealer are selling plot and registry on name of customer , in haibatpur village ,Greater Noida,

    (1) These Dealers have authority to sale plot or all are doing illegal work

    (2) it can be anytime razed by GNIDA
    (3) i also want to buy plot approx 100 GAG,
    can i buy this by dealer
    (4) Before buy property , how to cross verify about plot

    plz suggest me , waiting your good response
    CommentQuote
  • Originally Posted by del_sanju
    There no website for this prject? no details



    THis is a new project and still under soft launch...the same builder had launched GC3 in gaur city 1 with the name of Galaxy north avenue...the link for it is Welcome to galaxynorthavenue

    the all inclusive price would be around 3000 psf for 4-5 floor....

    can you please suggest how good is pricing and also pros and cons with the location....
    CommentQuote
  • sir

    Some Property Dealer are selling plot and registry on name of customer , in haibatpur village ,Greater Noida,

    (1) These Dealers have authority to sale plot or all are doing illegal work

    (2) it can be anytime razed by GNIDA
    (3) i also want to buy plot approx 100 GAG,
    can i buy this by dealer
    (4) Before buy property , how to cross verify about plot

    plz suggest me , waiting your good response
    CommentQuote
  • Originally Posted by leo1609
    Hey Amit, following ur posts it seems ur a perfect case of sour grapes. You have been trying to pull down NE for a long time but unfortunately circumstances always are getting the better of u and favouring NE almost on a daily basis now. If u have missed the bus for NE, take it sportingly dude and accept that u made a mistake. Cheers


    Fools follow blindly to others...think and mind that.

    I have 3 investments in NE....but always open my eyes.......

    Excitement will lead you ....2 yrs back in NE.

    Cheers:D
    CommentQuote
  • Originally Posted by hindstudent
    sir

    Some Property Dealer are selling plot and registry on name of customer , in haibatpur village ,Greater Noida,

    (1) These Dealers have authority to sale plot or all are doing illegal work

    (2) it can be anytime razed by GNIDA
    (3) i also want to buy plot approx 100 GAG,
    can i buy this by dealer
    (4) Before buy property , how to cross verify about plot

    plz suggest me , waiting your good response

    Be aware some coloniser selling unauthorised plots in NE.....which are not approved by authority.
    CommentQuote
  • Thanks amit... i got what i am looking for from NE bashing lobby.. i.e. a confession that they are in extreme pain since after so much fight NE guys are getting their due..your line says all "NE and buyers also in same situation 7 days back". Now since you have agreed that you are in pain and burning in the fire of envy and daily loosing 100 ml of blood with every good news (for NE) and NP is going to dogs so why dont you also do prarthana for yourself when you do same for rohit shubhcintak pram krapau mahamanav warren naharpar wale babaji who knows all from income of middle and from his third eye predicted doom for NE
    CommentQuote
  • Originally Posted by Amit Dang
    Fools follow blindly to others...think and mind that.

    I have 3 investments in NE....but always open my eyes.......

    Excitement will lead you ....2 yrs back in NE.

    Cheers:D



    ha ha ha ha ha ha ... joke of the day 3 investments in NE.

    Are ye neherpaar part 2 hai bhai .. kuch bhi bol raha hai.
    :D
    CommentQuote
  • i am loving it one more compliment for ne buyers from amit "Fools"
    CommentQuote
  • Yes , If we are getting benefit , we are happy to be so called FOOLS
    CommentQuote
  • Originally Posted by Sunder_Lal
    ha ha ha ha ha ha ... joke of the day 3 investments in NE.

    Are ye neherpaar part 2 hai bhai .. kuch bhi bol raha hai.
    :D


    Neharpar toh nahi hai......you know well....

    Who have the last ha ha ha....let's see after SC ....

    How many investments that depends on people....

    Mirchi lagi to lage....:D:D
    CommentQuote
  • Amit bhai mana aap NP walo ka elephant ka brain hai per yaar NE walo ko fool to na bolo.. i still cant understand why (NP lobby)they are so sad... also yaar hum sabko fool samajh rakha hai tabhi bol rahe ho ki 2-3 booking kara rahi hai.. vaise tumhare comments se to lagata hai ki agar NE me 2-3 booking hai to NP me to builder hoge ..
    CommentQuote
  • Originally Posted by Amit Dang
    Neharpar toh nahi hai......you know well....

    Who have the last ha ha ha....let's see after SC ....

    How many investments that depends on people....

    Mirchi lagi to lage....:D:D


    kyu tumhare to 3 investment hain NE me? tumhe bura nahi lagega agar SC me scrap ho gaya to?
    Kyu jhooth bol ke beijjati kara raha hai bhai? sach bol do na ki neher paar me property dealing ka kaam karte ho .. koi majaak nahi udayega... its ok. :D
    CommentQuote
  • Lo ji brokers ne bhi ...... Ki tarah ladna shirk ho Gaye our bichare NE buyers ki pareshani ghar me gayi
    CommentQuote
  • Originally Posted by ankurggn
    Thanks amit... i got what i am looking for from NE bashing lobby.. i.e. a confession that they are in extreme pain since after so much fight NE guys are getting their due..your line says all "NE and buyers also in same situation 7 days back". Now since you have agreed that you are in pain and burning in the fire of envy and daily loosing 100 ml of blood with every good news (for NE) and NP is going to dogs so why dont you also do prarthana for yourself when you do same for rohit shubhcintak pram krapau mahamanav warren naharpar wale babaji who knows all from income of middle and from his third eye predicted doom for NE


    I don't know rohit etc....just what to say fight is not over...we have to go long way from now....many issues builder greed/ increased price,FAR / farmers /bank loan etc are waiting for common man despite what media says...

    I am not bashing NE.....
    CommentQuote
  • yaar hum sab NE wale so jaate hai badi chain ki need aa rahi hai vaise bhi bechare NP lobby wale to 1-2 week se so hi nahi paye hai.. yeh to raat bher chalu rahege.. (ab inse zayda maje na lo vaise bhi inke commander-in-chief hamare param mitra rahul ji abhi hai nahi unke wisdomful thoughts ke without maja nahi aata hai.. vaise bhi amit no to party change ker li mauka milte hi ..ab NE ke ho gaye hai bhai hamare.. kyo bhi)
    CommentQuote