पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • ye authority bhi builder ke sath milkar bewkoof banaate rehte hai, abhi bina SC ke approval kaam start nahi ho sakta.
    CommentQuote
  • Originally Posted by fritolay_ps
    NO LOAN TO NOIDA EXTENSION....

    बैंक किसी भी विवादित जमीन पर बन रहे प्रोजेक्ट पर नहीं देंगे लोन


    अगर आप नोएडा या ग्रेटर नोएडा में किसी ऐसे प्रोजेक्ट में फ्लैट खरीदने की सोच रहे हैं जिसमें कानूनी रूप से कोई अड़चन है तो ऐसे प्रोजेक्ट से दूरी बनाए रखने में ही भलाई है। बैंक ऐसे किसी भी बिल्डर या फ्लैट खरीदने वालों को कर्ज नहीं देंगे जिनके प्रोजेक्ट का नक्शा पास नहीं है। खासतौर पर नोएडा एक्सटेंशन के मामले में बैंक फूंक - फूंक कर कदम रख रहे हैं। बैंकों ने स्पष्ट किया है कि अगर किसी जमीन का मुकदमा लोअर कोर्ट , हाई कोर्ट या सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है और तो वे ऐसे जमीन पर बने प्रोजेक्ट को फाइनैंस नहीं करेंगे।बैंकों ने नोएडा एक्सटेंशन के मसले पर अपने कानूनी सलाहकारों से सलाह मांगी है। ज्यादातर बैंक नोएडा एक्सटेंशन में कर्ज देने को तैयार नहीं है।

    कैसे खंगालेंगे कुंडली
    सिंडिकेट बैंक ने कहा है कि किसी भी प्रॉपर्टी पर लोन देते वक्त बैंक को अपनी रकम सेफ चाहिए। वह इसके लिए गारंटी जरूर चाहता है। नोएडा या ग्रेटर नोएडा में किसी भी प्रोजेक्ट या प्रोजेक्ट में इन्वेस्ट करने वालों को कर्ज देने से पहले हमें सबसे पहले नोएडा या ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी से अनापत्ति प्रमाणपत्र की जरूरत पड़ेगी। अथॉरिटी को भी अनापत्ति देने से पहले ऐसे सेक्टरों में चल रहे कोर्ट के विवादों को खंगालना पड़ेगा। इसके साथ ही बिल्डरों ने भी कहीं से कर्ज ले रखा है तो उसका एनओसी चाहिए। सिंडिकेट बैंक के चीफ मैनेजर अरुण कुमार ने साफ कर दिया है कि पब्लिक सेक्टर के बैंक ऐसे किसी भी प्रोजेक्ट पर कर्ज नहीं देंगे जिस जमीन पर किसी भी कोर्ट में कानूनी केस चल रहा है।

    यूनियन बैंक से जुड़े एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि वे नोएडा एक्सटेंशन में अभी कर्ज नहीं देंगे। इसकी वजह साफ है कि वहां अब भी हाई कोर्ट में ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी और किसानों के बीच 64.7 परसेंट बढ़े मुआवजे और 10 परसेंट जमीन को लेकर केस चल रहे हंैं। ऐसे में विवादित प्रोजेक्टों में कर्ज देने की तस्वीर अभी साफ नहीं हुई है।
    Navbharat times


    There is nothing new in this news.... clear likha hai ki jyadatar bank loan nahi denge...matlab kuch bank ab bhi taiyar hain. Kuch akhbaar wale kal chilla rahe they ki kuch bank loan denge .. ye bol raha hai ki kuch bank nahi denge. us din glass aadha bhara tha aaj aadha khali hai.

    Aur jin banks ne shuru me loan diya tha unhone apne kanooni salahkaro se pehle salah nahi ki thi? Maine kai baar kaha hai ki buyers should drag banks to court. :bab (36):
    CommentQuote
  • i saw suddenly Greater Noida thread increased by 10k post.
    Greater Noida 33,994

    how?

    Ab froum site bhi , builder se mil gaye kiyaa
    CommentQuote
  • Originally Posted by iamonpc
    i saw suddenly Greater Noida thread increased by 10k post.
    Greater Noida 33,994

    how?


    HOW ;) :)
    CommentQuote
  • plot details

    bhai logon any idea if there is any case regarding below mentioned plot in SC ??
    ---------------------------------------


    Plot No. GH 07B, Sector 1, GNIDA was purchased and got transferred to the
    company M/s VALENCIA HOMES by M/s Prateek Buildtech (India) Private Limited after obtaining the permission for transfer of property in favor of the company from Greater Noida Industrial Development Authority (hereinafter referred to as GNIDA) vide Transfer Memorandum No. BUILDERS/BRS-63B/2011/534 dated 03.05.2011 and the transfer was registered vide transfer deed in the office of Sub-Registrar, Sadar, Greater Noida, Gautam Budh Nagar on 12-05-2011 vide A.D. Book No. 1, Volume No. 8523 from pages 271 to
    286 and bearing document No. 8407 and Supplementary Lease Deed registered in the office of Sub-Registrar, Sadar, Greater Noida, Gautam Budh Nagar on 24-05-2011 vide A.D. Book No. 1, Volume No. 8582 from pages
    241 to 358 and bearing document No. 9129. WHEREAS as the said Plot No. GH 07B, Sector 1, GNIDA was allotted to M/s Prateek Buildtech (India) Private Limited from GNIDA, Greater Noida through consortium vide
    their allotment letter No. PROP/BRS-02/2010/1490 dated 23.04.2010 on leasehold basis for Group Housing.
    The Company has taken over physical possession of the said plot on 26/10/2010, after executing the lease deed dated 22/10/2010 and the same was registered in the office of Sub-Registrar, Sadar, Greater Noida,
    Gautam Budh Nagar on 27-10-2010 vide A.D. Book No. 1, Volume No. 7484 from pages 257 to 308 and bearing document No. 22564.
    CommentQuote
  • Originally Posted by iamonpc
    ye authority bhi builder ke sath milkar bewkoof banaate rehte hai, abhi bina SC ke approval kaam start nahi ho sakta.



    i am a middle class guy planning to buy a 2 bhk in amrapali dream valley through bank loan... wat would you suggest??? should i wait for some time. ???
    CommentQuote
  • Nefoma meeting update: NE Buyers with Cancellation letters
    Attachments:
    CommentQuote
  • Many will follow the cancellation letters soon....as the matter progress....

    All builder,media,gov,authority,farmers,investors are chasing money in NE......

    Mighty will have the last laugh........
    CommentQuote
  • NEFOWA update

    Today we, NEFOWA called our 1st general body meeting after approval of Master Plan. Around 400 buyers who have booked their flats in different projects and facing problems with the builders, attended the meeting.

    * Hundreds of buyers from Ajnara project were also present in the meeting. As per them their Villas have been cancelled as informed verbally by Ajnara office.

    NEFOWA alongwith hundr...eds of Ajnara buyers protested in front of their project site after the meeting.


    * Buyers of Earth Infra project were also present in the meeting. They complained that they are getting 30% demand letter from the builder after the approval of master plan. Please note that till now the project is not bankable in the Noida Extension Area.

    Today NEFOWA with hundreds of Earth Infra buyers went to Earth project site and protested in front of the site.

    * Apart from the above many more buyers having problem with builders like Valencia, Devika, Palm Olympia also complained about the demand letters.

    *NEFOWA will shortly meet with CREDAI officials and CEO, GNIDA to raise these issues and try to resolve the same. Please note that GNIDA has already instructed the builders to take care of the existing buyers and not to harass them. We will also discuss Price Hike, FAR, Zero Period, Change of Layout Plan etc. issues with them.

    *NEFOWA will enhance its protest and dharna rally against such builders and continue until they listen our voice. NEFOWA will fight against such builders at every level.
    Attachments:
    CommentQuote
  • lets unit and which so ever duilders are cacelling dont buy that project. Please report those builder here , we will rip them here as this forum has respected place in the heart of buyers
    CommentQuote
  • NEFOWA protest at Earth office today
    Attachments:
    CommentQuote
  • Originally Posted by Manish1604
    i am a middle class guy planning to buy a 2 bhk in amrapali dream valley through bank loan... wat would you suggest??? should i wait for some time. ???


    you can wait to avoid risk
    CommentQuote
  • royal nest ??

    the builder has offered 200 flats initialy @2350 all inclusive for limited period of time in noida extension.
    contact no.-0******

    ----

    bhai ye konsa project hai ?? any idea ?
    CommentQuote
  • Originally Posted by FieldWorker
    This is bad for NExtn, FAR of 2.75 is dense enough, FAR for 3.5 can be a killer (e.g. FAR of CR is 4.0).
    :bab (45):


    In 2010 FAR in Noida Extension was only 1.75
    CommentQuote
  • Originally Posted by jeetcp
    Is crossing 4.0?


    I read somewhere on IREF only ...... FAR in CR is 3.75.


    BUT best is Noida Expressway with FAR of 2.5....... even RNE has FAR of 2.25 or 2.5 only ...... due to Hindon Aerodrome Restriction.
    CommentQuote