पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • Developers asked to chalk out farmers’ welfare plans

    GREATER NOIDA: In order to keep farmers calm and dissuade protests, the Greater Noida Authority has directed developers in the region to chalk out a welfare programme and also introduce technical training programmes for the children of the villagers.

    Greater Noida Authority CEO, Rama Raman, said that farmers need to feel that they are a part of the development process in the region. "It is general perception among farmers that outsiders are constructing buildings on their land and profiting from it. In order to remove this perception, there is need to overhaul the corporate social responsibility in the region. At the Authority level, we are executing various policies for the welfare of farmers. Developers should also join hands for this cause," said Raman.

    Commenting on the issue, CREDAI (western UP) vice president and CMD of Supertech, RK Arora, said, "We respect the sentiments of farmers and agree with the Authority's stand to undertake projects for their welfare." On asked what initiatives will be taken by developers for farmers' welfare, CREDAI (NCR) vice president and Amrapali group CMD, Anil Sharma, said, "We may start technical training programmes, construction of basic amenities like community halls, toilets, etc, and either farmers or their children can be employed by the developers once they are well-trained."

    "CREDAI will soon have a meeting with other stakeholders and form a fund for farmers' welfare," Sharma added.

    Meanwhile, Greater Noida farmers on Sunday held a panchayat and threatened to halt construction work in Noida Extension if their demands are not met. The farmers said they want their demands sorted out on a priority basis.

    TOI
    CommentQuote
  • Old Noida Extension buyers to stall sale of new units

    GREATER NOIDA: Homebuyers of Noida Extension have threatened that they will not allow those developers to book new housing units who have been randomly cancelling bookings of old buyers and demanding hiked rates from them.

    Buyers alleged that some developers have been illegally sending cancellation letters, particularly after the clearance of the Greater Noida Master Plan 2012 by the NCR Planning Board.

    For the first time after the plan was cleared, hundreds of homebuyers attended a general body meeting organized by Noida Extension Flat Owners Welfare Association (NEFOWA) at the roundabout in Noida Extension on Sunday. Buyers visited offices of several developers to inform them of intensified protests ahead if unethical demands made on old investors were not withdrawn.

    The buyers said they are miffed over the fact that few developers have resorted to hiking rates for existing buyers once the master plan was cleared. "Under no circumstances will we be able to pay hiked rates since we have already exhausted our savings. We will oppose hikes vehemently and ensure that developers who had promised no hikes for existing buyers abide by their words," said president of NEFOWA, Abhisek Kumar.

    "We will discourage new buyers from investing in projects of developers who are making unethical demands. We have apprised developers that we will intensify our protests if such demands are not withdrawn," added Kumar.

    Soon after the master plan was cleared, Greater Noida Authority, which has promised a 'zero-interest period' on developers for the time that construction was in limbo in Noida Extension, had requested developers not to burden existing buyers with hiked rates. "Despite this, some developers have decided to hike rates. Bookings continue to be cancelled by many developers on flimsy pretexts," said Chetan Tyagi, a homebuyer.

    The old investors said they would meet top officials of CREDAI as well as with the CEO of Greater Noida Authority next week to ask for their intervention in resolving these contentious issues with developers. Developers have, meanwhile, said that no cancellation of bookings would be done of those homebuyers who have abided by the terms and conditions of their agreements with their respective builders.

    "Both buyers and developers would have to abide by the conditions laid down in the builder-buyer agreements. There would be no cancellation if homebuyers have adhered to the terms contained within these agreements," said RK Arora, vice president of CREDAI (western UP).

    Old Noida Extension buyers to stall sale of new units - The Times of India
    CommentQuote
  • ..
    Attachments:
    CommentQuote
  • ..
    Attachments:
    CommentQuote
  • हुड्डा सरकार ने तीसरी बार बदली भूमि अधिग्रहण नीति

    चंडीगढ़ हरियाणा सरकार ने किसानों को खुश करने के लिए तीसरी बार भूमि अधिग्रहण नीति में बदलाव किया है। सरकार ने यह फैसला भूमि अधिग्रहण नीत का किसानों द्वारा व्यापक स्तर पर विरोध करने के मद्देनजर किया है। नई अधिग्रहण नीत के तहत विकास योजनाओं के लिए स्वेच्छा से भूमि अधिग्रहण पर सहमत होने वाले किसानों को काफी फायदा होगा। उन्हें भूमि अधिग्रहण के बदले रिहायशी एवं कमर्शियल भूखंड भी दिए जाएंगे। नई अधिग्रहण नीति की खास बात यह है कि सरकार द्वारा दिए जाने वाले भूखंडों के किसान खुद मालिक होंगे। राज्य सरकार इन भूखंडों को विकसित कर किसानों को देगी। किसान उन्हें कभी भी किसी भी कीमत पर बेच सकते हैं। किसानों के लिए कल्याणकारी बताई जा रही इस लैंड पूलिंग योजना का फैसला पिछली 20 जुलाई को मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हु्डडा की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमंडल की बैठक में लिया गया है। लैंड पूलिंग योजना के तहत किसानों की हुडा के रिहायशी सेक्टरों के विकास के लिए भूमि लेने पर प्रति एकड़ पर एक हजार वर्गगज के विकसित रिहायशी भूखंड के साथ एक सौ वर्ग गज का एक वाणिज्यिक भूखंड दिया जाएगा। अगर भूमि उद्योग विभाग लेता है तो एचएसआइआइडीसी से एक एकड़ भूमि के एवज में 1200 वर्ग गज की विकसित भूमि मिलेगी। वैकल्पिक तौर पर यदि भू मालिक इस योजना के लिए लिखित में अपना विकल्प नहीं देता है तो वह भूमि अधिग्रहण कलेक्टर द्वारा घोषित अवार्ड के अनुसार मुआवजा राशि एवं सरकार की आरएंडआर नीति के तहत लेने का पात्र होगा। भूमि मालिक हुडा की लैंड पूलिंग योजना में भागीदारी के लिए केवल तभी पात्र होगा, जब हुडा रिहायशी योजनाओं के के लिए उसकी कम से कम एक एकड़ या अधिक भूमि और अधिगृहित की जाती हैं। यदि उद्योग विभाग भूमि लेता है तो एचएसआइआइडीसी एक एकड़ भूमि के बदले किसान को 1200 गज का विकसित भूखंड दिया जाएगा। यह भूखंड वह अपनी टच्छा से बेच सकेगा।

    dainik jagran
    CommentQuote
  • नोएडा एक्सटेंशन के सेक्टर दो व तीन में तीन माह में मिलेगा कब्जा

    , ग्रेटर नोएडा : नोएडा एक्सटेंशन के सात हजार आवंटियों के लिए खुशखबरी है। नोएडा एक्सटेंशन में बिल्डरों को जमीन पर कब्जा देने के बाद प्राधिकरण ने अब सेक्टर दो व तीन के आवंटियों को भूखंडों पर कब्जा देने की तैयारी कर ली है। प्राधिकरण के इस निर्णय से करीब सात हजार लोगों का शहर में आशियाना बनाने का सपना साकार हो जाएगा। खास बात यह है कि ये दोनों सेक्टर एक्सटेंशन में पड़ते हैं। सीईओ रमा रमण का कहना है कि तीन माह के अंदर आवंटियों को कब्जा दे दिया जाएगा। इससे एक्सटेंशन में चहल-पहल बढ़ जाएगी। गाजियाबाद और नोएडा के नजदीक होने की वजह से इन सेक्टरों के शीघ्र विकसित होने की उम्मीद है। नोएडा एक्सटेंशन में बिल्डर परियोजनाओं के साथ इन दो सेक्टरों में 120, 200 व 220 वर्गमीटर के करीब साढ़े पांच हजार व्यक्तिगत भूखंड व 120 एवं 200 वर्गमीटर क्षेत्रफल में बने पंद्रह सौ मकान हैं। ये मकान बनकर तैयार हो चुके हैं। भूखंडों पर कब्जा देने से पहले प्राधिकरण को सेक्टरों को आंतरिक विकास करना होगा। सीईओ का कहना है कि सेक्टरों में सड़क, सीवर लाइन व पानी की पाइपलाइन बिछाने का 70 फीसद विकास कार्य पूरे हो चुके हैं। पार्क, हरित पट्टी आदि 30 फीसद कार्यो को अगले तीन माह में पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। परियोजना विभाग को निर्देश दिए गए हैं कि वे नवंबर के अंत तक आंतरिक विकास कार्य पूरा करा दें।

    dainik jagran
    CommentQuote
  • नोएडा एक्सटेंशन: निवेशकों का प्रदर्शन, किसानों की धमकी


    ग्रेटर नोएडा।। नोएडा एक्सटेंशन में बिल्डरों पर मनमानी का आरोप लगाकर निवेशकों ने प्रदर्शन किया। उधर, किसानों ने अपनी मांगें एक हफ्ते में पूरी न होने पर शनिवार से कंस्ट्रक्शन रोकने की धमकी दी है।

    नोएडा एक्सटेंशन फ्लैट ओनर वेलफेयर असोसिएशन (नेफोवा) के प्रेसिडेंट अभिषेक कुमार ने बताया कि यहां फ्लैट बुक कराने वाले लोग कई बिल्डरों के रवैये से परेशान हैं। एक बिल्डर ने अपना विला प्रोजेक्ट कैंसल कर दिया है जबकि पहले उन्होंने ऐसा न करने का भरोसा दिलाया था। कई बिल्डर एकसाथ 30 पर्सेंट रकम मांग रहे हैं। फ्लैट कैंसल करने के लेटर भी भेजे जा रहे हैं। अब निवेशक जल्द ही बिल्डरों की संस्था क्रेडाई के अफसरों और ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी के सीईओ से बात करेंगे।

    इस बीच, किसानों ने नोएडा एक्सटेंशन एरिया में महापंचायत कर ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी के सामने चार मांगें रखी हैं। ये हैं- गांवों में कैंप लगाकर किसानों को एकमुश्त मुआवजा बांटा जाए। आबादी के मुकदमों का निस्तारण किया जाए। बैक लीज खत्म की जाए और किसानों की आबादी को वहीं रहने दिया जाए। मांगें पूरी न होने पर काम बंद करा देने की चेतावनी दी है। महापंचायत में किसान नेता इंद नागर और मनवीर भाटी ने एक होकर आंदोलन तेज करने का ऐलान किया।

    Navbharat times
    CommentQuote
  • Buyers hold meet on land allocation row, farmers talk tough

    Members of Noida Extension Flat Owners Welfare Association (NEFOWA) today met here to discuss the cancellation of allotments even as farmers decided to block all construction activities till their demands were met.




    NEFOWA members today held their first general meeting to raise their concerns regarding cancellation of allotments by various builders at Ajnara site here.




    However, no one representing the builders was present at the meeting.




    "NEFOWA will shortly meet with Confederation of Real Estate Developers Associations of India officials and CEO of Greater Noida Industrial Development Authority (GNIDA) to raise these issues and try to resolve the same.




    "GNIDA has already instructed the builders to take care of existing buyers and not to harass them. We will discuss price hike, zero period, change of layout plan and other such issues with them as well," NEFOWA's general secretary Shweta Bharti said.




    Meanwhile, farmers held a panchayat meeting at Shiv temple in Bisrakh area here and decided to block all construction activities until their demands are met.




    "We will not allow construction till problems including abadi land dispute are resolved and compensation at the rate of six times the circle rate is given as promised," a farmer leader from Inder Nagar said.




    "We have warned the builders not to start construction. NCRPB approval has no meaning for us. We want solution to our problems," he said.

    Business Standard
    CommentQuote
  • NEFOMA :

    NE buyers discussing problems with legal adviser.
    Attachments:
    CommentQuote
  • Pics of NEFOWA

    Frito Bhai, NEFOWA ki meeting cum protest ki bhi picture upload kar do..

    usne kya dushmani hai :):)

    Originally Posted by fritolay_ps
    NEFOMA :

    NE buyers discussing problems with legal adviser.
    CommentQuote
  • Originally Posted by vijay.dhiman
    Frito Bhai, NEFOWA ki meeting cum protest ki bhi picture upload kar do..

    usne kya dushmani hai :):)


    sir g.. pichhe wale page to dekh lo pehle....
    CommentQuote
  • Looks like NE is a cow(buyer) from which everyone (Builder/Authority/Banks/Broker and now lawyers ) want to get the milk (make money).
    CommentQuote
  • i have come to know that patel neotown is considering to hike the price for those who have paid 10% but not signed BBA.

    Is this true.are they realling considering.by what time they will finalise.

    is anyone having some info.pls share.
    CommentQuote
  • Patel Neotown

    hondabhai, have u booked in Patel Neotown ? I have some queries which i will send u through pm.



    Originally Posted by powerhonda
    i have come to know that patel neotown is considering to hike the price for those who have paid 10% but not signed BBA.

    Is this true.are they realling considering.by what time they will finalise.

    is anyone having some info.pls share.
    CommentQuote
  • Noida Extension ...extend hoota ja raha hai.........
    CommentQuote