पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • Kis news paper me hai bhai?
    CommentQuote
  • Originally Posted by fritolay_ps
    So NE FAR 3.5 is higher in North India...



    you forgot to mention CR and indirapuram FAR
    CommentQuote
  • ..
    Attachments:
    CommentQuote
  • ab yeh kya aur kahan lauch ho raha hai ?? just got an email of it :

    /////
    EXPRESS ETERNITY, 2/3 BHK Luxury Apartments in Noida Extension, Rs.27 Lac * onwards

    Close to Up Coming - Night Safari and Formula One Track /////






    NE main bhi ban raha hai kya Formula one track ;)..



    sab kuch tod ke Fourmula One track hi bana do.. kam se kam uski possession toh 1 saal main mil jaaygie
    CommentQuote
  • टूट रहा है ड्रीम होम का सपना


    नोएडा एक्स्टेंशन में आम आदमी के आशियाने को लग्जरी होम्स की चाशनी में लपेटकर बेचने की रणनीति ज्यादा कारगर नजर नहीं आ रही है। इलाके में ड्रीम होम तलाशने जा रहे लोगों का रुझान अब भी कम कीमत की ओर है, जबकि दूसरी ओर मोटी जेब वाले निवेशक लग्जरी के नाम पर दी जा रही सहूलियतों को बहुत तवज्जो नहीं दे रहे। डेवलपर्स के चैनल पार्टनर इनवेस्टर लैब के आर के राणा बताते ने बताया, 'हाल के सालों में यहां जितने भी प्रॉजेक्ट लॉन्च हुए उनमें कहीं न कहीं लग्जरी को यूएसपी बनाने की कोशिश की गई थी। करीब 70 डेवलपर्स में से आधे से ज्यादा ने अपने किसी न किसी प्रॉजेक्ट के नाम के साथ ही लग्जरी शब्द जोड़ रखा है, जबकि 80 फीसदी से ज्यादा किसी न किसी अपार्टमेंट या ब्लॉक को लग्जरी एकॉमडेशन के नाम पर बेच रहे हैं। लेकिन पिछले चार-पांच दिन में ग्राहकी के नए क्रेज में प्राइस सबसे बड़ी चिंता बनकर उभरा है। जो भी ग्राहक आ रहा है वह कम से कम कीमत में फ्लैट बुक करा लेना चाहता है।'

    गौड़ सिटी, सुपर टेक इकोविलेज, आरजी लग्जरी होम्स, आम्रपाली ड्रीम वैली हाई, अजनारा होम्स, पंचशील ग्रीन्स, महागुन मायवुड, पैरामाउंट इमोशंस सहित ज्यादातर प्रोजेक्ट्स में अफोर्डेबल और प्रीमियम सेगमेंट की बेसिक दरें तो समान हैं, लेकिन लग्जरी की आड़ में कुछ एकॉमडेशन और अतिरिक्त सुविधाओं के नाम पर एरिया ज्यादा रखने की कोशिश की गई थी, जिससे इन फ्लैटों के दाम 35 से 50 फीसदी तक ज्यादा हैं। लेकिन इनकी कीमत बढ़ाने में सबसे ज्यादा योगदान एडिशनल चाजेर्स का है, जो ग्राहकों को सबसे ज्यादा खटक रहे हैं।

    आम्रपाली, अजनारा होम्स, पंचशील ग्रीन्स, महागुन मायवुड, पैरामाउंट में प्रीमियम कैटेगरी का 3 बीएचके फ्लैट 1,800 से 2,300 रुपए वर्गफुट में उपलब्ध है, जिनकी बेसिक दरें 2,900 से 3,300 रुपए प्रति वर्गफुट के बीच हैं। लेकिन इनके साथ डबल पार्किंग के लिए दो लाख, ग्रीनरी, सोशल सेंटर्स, हेल्थ ऐंड एंटरटेनमंट फैसिलिटीज के नाम पर एक-एक लाख रुपए अतिरिक्त चार्ज किए जा रहे हैं। पार्किंग छोड़कर बाकी चाजेर्ज कुछ डेवलपर्स ने बेसिक रेट में ही शामिल कर रखे हैं तो कुछ अलग से ले रहे हैं। करीब 10 फीसदी फ्लैट्स में वास्तु, टैरेस गार्डन, फनीर्चर, मैसिव पावर बैकअप, हेल्थ जोन जैसी सहूलियतों के नाम पर एडिशनल चार्ज लिए जा रहे हैं। कई जगह तो सेलेब्रिटी नेबरहुड के नाम पर कीमतें ज्यादा रखी गई हैं।

    टूट रहा है ड्रीम होम का सपना - Deam homes are not affordable - Navbharat Times
    CommentQuote
  • NEFOMA update

    Dear Buyers,

    Now the Meeting (today 04.09.2012) with Mr. Anil Sharma, Vice President, CREDAI is over.

    Some of the important point as below.

    1. No price hike on Existing Buyers.

    2. Booking amount consider 10% of the BSP.

    ...
    3. No interest on Existing Buyers.

    4. CREDAI will sent a written latter to the association in this regards.


    We Noida Extension Flat Owners and Members Association (NEFOMA) & Noida Extension Flat Owners & Members Association ( NEOMA) had a Meeting with Mr.Anil Sharma ( Vice President CREDAI) at Noida Office.As we all knows thousand of flat buyers are in dilemma because of cancellation /demand/increase rate on existing buyers. Some of the point we discussed are as under:

    Anil Sharma assured on :

    1. If foundation is prepared for any project then 1-2 floor could be increase in such projects. But which project did not start till now they could increase 4-5 floors.

    2. If buyers deposited 10% of BSP then there will not be any cancellation. If any builder send cancellation letters then buyers should not accept that and should complaint to CREDAI

    3. Within 2-3 days all the details will be given to us in written

    Regards,

    Admin NEFOMA
    Attachments:
    CommentQuote
  • NEFOWA update

    PRESS RELEASE


    Today, we had a meeting with Mr. Anil Sharma, Vice-President, CREDAI-NCR. Mr. Anil Sharma thanks to all buyers & asked for mutual co-operation and co-ordination. NEFOWA also thanked him on behalf of all buyers to keep his wording as a CREDAI official. Mr Sharma updated with the following outcome of CREDAI meeting-

    ...1. All builders have decided not to increase price for existing buyers.
    2. Terms & conditions of the agreement will be remain same which were mentioned previously.
    3. Ajnara builder is not going to scrap villa project of noida extension. Ajnara should construct at least that number of villas which has been booked by bonafide buyers.
    4. On FAR issue, he said common facilities should be maintained by each
    builder and they won’t be compromised. Also, technical feasibility will be
    checked of already built up towers before adding floors on that.
    5. Green area should be verified with the respective builder, it should be same as committed at the time of booking. He added there is norm of GNIDA on the same so builders have to follow that.
    6. Construction quality will be maintained so there is no compromise on that.
    7. No project will be scrapped of noida extension and builders shall deliver as per their promised.
    8. As there were some news about price hike by Supertech but that is not case now. They also agreed to go by CREDAI wordings.
    9. There is no delay in construction because of any issue like bank approval or any other builders have started arranging raw material & man power. So
    once it is done they will start construction.
    10. Registry can be done at the time of possession itself, so no worries on that side.
    11. If there is any random change in layout of any builder then buyers should talk to respective builders for that.
    12. Most of non-CREDAI members are also agreed to obey CREDAI guidelines.
    13. CREDAI has asked list of bonafide buyers whose issues are not addressed by respective builders and have paid minimum 10% of the price mentioned in their agreement.
    Thanking you.

    On behalf of NEFOWA (Noida Extension Flat Owners Welfare Association)



    Shweta Bharti

    General Secretary

    Dated : 04TH Sept 2012
    Attachments:
    CommentQuote
  • किसानों को तीन माह में मिल जाएगा मुआवजा
    ग्रेटर नोएडा : नोएडा एक्सटेंशन समेत 39 गांवों के किसानों को अतिरिक्त मुआवजा के लिए ज्यादा इंतजार नहीं करना होगा। प्राधिकरण की तैयारी है कि सभी गांव के किसानों को तीन माह के अंदर अतिरिक्त मुआवजा बांट दिया जाए। दो माह के अंदर प्राधिकरण को बिल्डरों व आवंटियों से किस्त मिल जाएगी। मास्टर प्लान मंजूर होने के बाद प्राधिकरण ठप विकास कार्य को शुरू करने के साथ किसानों की समस्याओं का निराकरण करने पर गंभीर हो गया है। प्राधिकरण भी मानता है कि किसानों की मांगें पूरी कर व समस्याओं को दूर किए बिना विकास योजनाओं को पटरी पर नहीं लाया जा सकता है। किसानों की समस्या दूर करने का खाका प्राधिकरण ने तैयार कर लिया है। बिल्डरों व आवंटियों से दो माह के अंदर बकाया किस्त जमा करने का नोटिस जारी किया गया है। इस सप्ताह से बिल्डर व आवंटी किस्त जमा करना शुरू कर देंगे। किस्त आने के साथ प्राधिकरण किसानों को अतिरिक्त मुआवजा बांटना शुरू कर देगा। किसानों को मुआवजा देने के लिए फाइल एडीएम कार्यालय में जमा करने को कहा गया है। प्राधिकरण ने नंवबर तक 39 गांवों के सभी किसानों को 64.7 फीसद अतिरिक्त मुआवजा बांटने का निर्णय लिया है। प्राधिकरण 39 गांवों के किसानों को अतिरिक्त मुआवजा व दस फीसद भूखंड दे रहा है। 64.7 फीसद अतिरिक्त मुआवजा देने में प्राधिकरण पर चार हजार करोड़ का भार पड़ रहा है। इसमें प्राधिकरण डेढ़ हजार करोड़ रुपये मुआवजा बांट चुका है। प्राधिकरण के अपर मुख्य कार्यपालक अधिकारी हरीश वर्मा का कहना है कि किसानों को अतिरिक्त मुआवजा देने में पैसे की कमी आड़े नहीं आएगी। दो माह में प्राधिकरण के पास इतना पैसा आ जाएगा, जिससे सभी किसानों को मुआवजा दिया जा सके। किसानों को दस फीसद अतिरिक्त भूखंड देने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी।

    DAinik jagran
    CommentQuote
  • ..
    Attachments:
    CommentQuote
  • are these rates realistic... ecovillage 3300 + other chg.. and old buyers are not able to sell at 2500 (all incl.).... rates are just 500-600 rs less than many noida sectors where there are no such complications as of NX... these builders are running a cartel and agenda is clear target for NX (dec2012) 3500-4000... noida 5000-5500 (or more)... i think i am the only buyer who seems concerned with such rate increase but i know many friends of mine who had purchased property on expway and in last one year builder has increased rate by 200rs/month (like sikka guys) and when you go for resale you are supposed to sell 20-25% below the market rate..
    CommentQuote
  • Originally Posted by fritolay_ps
    NEFOWA update

    PRESS RELEASE


    Today, we had a meeting with Mr. Anil Sharma, Vice-President, CREDAI-NCR. Mr. Anil Sharma thanks to all buyers & asked for mutual co-operation and co-ordination. NEFOWA also thanked him on behalf of all buyers to keep his wording as .................................................agreement.
    Thanking you.

    On behalf of NEFOWA (Noida Extension Flat Owners Welfare Association)


    Shweta Bharti

    General Secretary

    Dated : 04TH Sept 2012


    Excellent job NEFOWA. Keep it up.
    CommentQuote
  • You can't speak any truth about area because members ,brokers ,investors ,moderators all against that....

    Well done moderators ,nice job..........

    NE area for end users when 1800-2000, now all for investors.....
    CommentQuote
  • Very true Amit....i completely agree with u...real users seems to be very less these days...
    CommentQuote
  • Originally Posted by fritolay_ps
    NEFOWA update

    PRESS RELEASE


    Today, we had a meeting with Mr. Anil Sharma, Vice-President, CREDAI-NCR. Mr. Anil Sharma thanks to all buyers & asked for mutual co-operation and co-ordination. NEFOWA also thanked him on behalf of all buyers to keep his wording as a CREDAI official. Mr Sharma updated with the following outcome of CREDAI meeting-

    ...1. All builders have decided not to increase price for existing buyers.
    2. Terms & conditions of the agreement will be remain same which were mentioned previously.
    3. Ajnara builder is not going to scrap villa project of noida extension. Ajnara should construct at least that number of villas which has been booked by bonafide buyers.
    4. On FAR issue, he said common facilities should be maintained by each
    builder and they won’t be compromised. Also, technical feasibility will be
    checked of already built up towers before adding floors on that.
    5. Green area should be verified with the respective builder, it should be same as committed at the time of booking. He added there is norm of GNIDA on the same so builders have to follow that.
    6. Construction quality will be maintained so there is no compromise on that.
    7. No project will be scrapped of noida extension and builders shall deliver as per their promised.
    8. As there were some news about price hike by Supertech but that is not case now. They also agreed to go by CREDAI wordings.
    9. There is no delay in construction because of any issue like bank approval or any other builders have started arranging raw material & man power. So
    once it is done they will start construction.
    10. Registry can be done at the time of possession itself, so no worries on that side.
    11. If there is any random change in layout of any builder then buyers should talk to respective builders for that.
    12. Most of non-CREDAI members are also agreed to obey CREDAI guidelines.
    13. CREDAI has asked list of bonafide buyers whose issues are not addressed by respective builders and have paid minimum 10% of the price mentioned in their agreement.
    Thanking you.

    On behalf of NEFOWA (Noida Extension Flat Owners Welfare Association)



    Shweta Bharti

    General Secretary

    Dated : 04TH Sept 2012


    Hey thats a great news for all buyers.. i hope now all builders follow these guidelines..
    CommentQuote
  • Arre itna sannata kyu hai bhai. Kuch achi news hi hai..
    CommentQuote