पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • Originally Posted by trialsurvey
    haan bhai bas agar noida mein koi low upfront payment wala resale option nahin mila phir NE mein hee ek le loonga for investment purpose .. bas uske baad completely bankrupt ! :D




    Hit list me kaun kaun se project hai? Lagta hai survey abhi complete nahi hua?
    CommentQuote
  • Kahi aisa na ho ki 2020 tak kuchh bhi nahi bane aur rate 10000psf ban jaye.. investors are happy... and new investors are buying in re-sale and selling on higher premium... Buyers have retired and their son are fighing for home... called new org..NEBKA Noida Extension's Buyers Kid Association.... supertech/amrapali announcing that problem will be solved in next months... other members become too old...

    cookie may become Biskuts OR matthi
    Frito may become... big chips
    Gharondabhai becomes...dada
    Trialsurvey may become "FinalSurvey"
    CommentQuote
  • Originally Posted by trialsurvey
    ye kahan pe hua rate hike ??

    btw i am watching zee business now .. projects to STAY AWAY FROM ..

    Stellar Jeevan
    Ajnara Homes
    Mahagun Mywoods
    Eros Sampoornam
    Paramount Emotions


    paid news by arora ji and sharma ji for sure ! :D


    why to stay away? did they say anything?
    CommentQuote
  • Originally Posted by Pradyot1315sqf
    Hit list me kaun kaun se project hai? Lagta hai survey abhi complete nahi hua?


    sir ji filhaal survey no 2 hai .. first survey ke result mein kosmos mein 2bhk already le chuke hain hum :D
    CommentQuote
  • Originally Posted by cookie
    why to stay away? did they say anything?


    kya bolenge bhai .. its just paid news ... no reason for this "stay away" call !
    :)

    arora ji and sharma ji inn projects ko as a threat perceive karte honge .. isiliye inn projects ko maar diye ! :P
    CommentQuote
  • Originally Posted by asuyal1
    another hike of 250/- today

    NE main kuch bane bina hi december tak 4000/- kar denege yeh log rate...

    this is too much for a buyer :(




    Kis project ki baat kar rahe ho ?
    CommentQuote
  • Originally Posted by trialsurvey
    kya bolenge bhai .. its just paid news ... no reason for this "stay away" call !
    :)

    arora ji and sharma ji inn projects ko as a threat perceive karte honge .. isiliye inn projects ko maar diye ! :P

    Chor Chor Maussere Bhai....
    CommentQuote
  • wtf was that, sirf amarapali aur supertech khareedo. Aur saare bekaar. Just seen z business episode on NE. I think both are not able to sell and they are at the brink of disaster. Lol
    CommentQuote
  • Originally Posted by trialsurvey
    kya bolenge bhai .. its just paid news ... no reason for this "stay away" call !
    :)

    arora ji and sharma ji inn projects ko as a threat perceive karte honge .. isiliye inn projects ko maar diye ! :P





    Nagetive approch.
    CommentQuote
  • Originally Posted by Pradyot1315sqf
    Nagetive approch.


    yeah baaki projects ko apne se bahut chota samajhte honge ... isiliye inn 5-6 projects ka naam liya unhone .. jo supertech and amrapali ke competitor hain ! ;)
    CommentQuote
  • Actually there is big no for supertech and amrapali due to high risk as they have large volume. Buyers are running away from them. So its okay as they have full right to do marketing. But in that interview, both CEO were looking tense as they were lying.
    CommentQuote
  • Supertech & Amrapali both were just creating hype. Few days back Supertech have soponsered UP Rising program on CNBC TV. So now it time for Amrapali to promote Bihar on CNBC TV. These guys think that UP and Bihar are theirs. The project which says to be risky in NE in TV program were best in NE.
    These Supertech & Amrapali trying to make people fool but Public sab janti hai... who is good and bad.
    Originally Posted by iamonpc
    Actually there is big no for supertech and amrapali due to high risk as they have large volume. Buyers are running away from them. So its okay as they have full right to do marketing. But in that interview, both CEO were looking tense as they were lying.
    CommentQuote
  • NEFOWA updates

    Minutes of Meeting
    ******************************************************
    Today, NEFOWA along with Panchsheel buyers had a meeting with Panchsheel management. Around 80 buyers attended the meeting. Panchsheel management was represented by Mr. Manoj Indoria, GM sales. Buyers put forth their queries infront of Panchsheel management. The following commitments were made by PS management:

    1. The prices will not be hiked for existing buyers (if paid 10% amount). Panchsheel will follow the CREDAI guidelines.

    2. Preliminary construction has started. It will start in full swing within a month.

    ...3. They are talking with the Banks for approval. Till now HDFC is finalized. The next demand letter will be issued after the bank approvals.

    4. Panchsheel requested to pay 5% more (from those who have paid 10% means asking total 15%). It is not mandatory and booking will remain intact. .

    5. The floor may be increase if the floor area increases then the basic amenities will be increased in the same proportion. Additional number of floors will be applicable for new structure only and that will be done as per new FAR..

    6. The possession date will be extended by 1 year. The interim time will be treated as zero period .
    7. All common facilities will remain undisturbed. They need to work on Parking issue if additional floors will be constructed

    8. Some Shifting Letters are issued to all Shahberi effected buyers and this will be completed till Oct-2012.

    9. Further land acquisition of Shahberi village is difficult and time taking

    10. Construction quality will be maintained.

    11. Status of Green2: currently ready with blue print then by this month end Panchsheel will try to complete the registration process. After banks approval they will issue the allotment letter. Currently they are working on Sales office and Sample Flat.

    12. Panchsheel is trying to improve its website and planning to share newsletter kind of things to improve communication with buyers.

    12. Panchsheel is trying to improve its website and planning to share newsletter kind of things to improve communication with buyers.

    12. Panchsheel is trying to improve its website and planning to share newsletter kind of things to improve communication with buyers.
    CommentQuote
  • किसान हित में निर्णय नहीं ले पा रही है प्रदेश सरकार


    ग्रेटर नोएडा : देहात मोर्चा ने किसानों की समस्याओं के निराकरण की मांग को लेकर शनिवार को सूरजपुर कस्बे में पंचायत की। मोर्चा ने आरोप लगाया कि प्रदेश सरकार किसानों के साथ वादाखिलाफी कर रही है। विधानसभा चुनाव के समय किए गए वादों को पूरा नहीं किया जा रहा है। जेल में बंद किसानों की रिहाई भी नहीं हुई है।

    मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष केसरी सिंह गुर्जर ने कहा कि सरकार ने अपने चुनावी घोषणा पत्र में सर्किल रेट का छह गुणा मुआवजा देने की बात कही थी। इस पर अमल नहीं हुआ है। नोएडा, ग्रेटर नोएडा व यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण के मुआवजे में मामूली बढ़ोतरी की गई। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने अपनी कई जनसभाओं में घोषणा की थी कि जेल में बंद किसानों को शीघ्र रिहा किया जाएगा। किसान नेता मनवीर तेवतिया समेत भट्टा-पारसौल के नौ किसान जेल में बंद हैं।

    एक तरफ सपा नेता किसान सरकार के किसान हितैषी होने का दम भरते हैं, दूसरी तरफ किसानों से किए गए वादे पूरे नहीं किए जा रहे हैं।

    Dainik Jagran
    CommentQuote
  • किसानों की आबादी की समस्या होगी हल : सीईओ

    ग्रेटर नोएडा :
    ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीईओ रमा रमण का कहना है कि किसानों की समस्याओं का प्राथमिकता से निराकरण किया जाएगा। किसानों को 64.7 फीसद अतिरिक्त मुआवजे के चेक भी शीघ्र जारी किए जाएंगे, साथ ही बैकलीज का मसला भी हल कर लिया जाएगा। बिल्डर व अन्य योजनाओं के आवंटियों से किश्त लेने के लिए प्राधिकरण ने निर्देश जारी कर दिए हैं। धनराशि मिलते ही मुआवजा वितरण बड़े स्तर पर शुरू हो जाएगा। एडीएम एलए ऑफिस को करीब 110 करोड़ रुपये मुआवजा बांटने के लिए दिए जा चुके हैं। उन्होंने दावा किया कि तीन माह में शत-प्रतिशत किसानों को मुआवजा दे दिया जाएगा।

    सीईओ ने किसानों से धैर्य रखने की अपील करते हुए कहा कि वह प्राधिकरण की मजबूरी को समझें। मास्टर प्लान की मंजूरी के मामले की वजह से बिल्डर व आवंटियों ने प्राधिकरण को किश्त देनी बंद कर दी थी। बैंकों ने भी कर्ज देने से हाथ खड़े कर लिए थे। मास्टर प्लान का मामला अब सुलझ चुका है। बैंकों से कर्ज की बात चल रही है। बिल्डर और आवंटियों से भी किश्तों के लिए दबाव बनाया जा रहा है। किसान विकास योजनाओं में अडंगा लगाएंगे, तो बिल्डर और आवंटी प्राधिकरण को किश्त देना बंद कर देंगे। इसका सीधा असर किसानों के मुआवजे पर पड़ेगा। उन्होंने कहा कि प्राधिकरण किसानों को शीघ्र दस फीसद भूखंडों का आवंटन करना चाहता है, लेकिन किसानों द्वारा सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करने की वजह से मामला उलझ गया है। यदि किसान प्राधिकरण का सहयोग करें, तो तीन माह में उनकी सभी समस्याओं का समाधान कर दिया जाएगा। दस फीसद के भूखंड भी शीघ्र आवंटित कर दिए जाएंगे। उन्होंने दावा किया कि प्राधिकरण नब्बे फीसद किसानों की आबादी का निस्तारण कर चुका है। शेष मामले भी शीघ्र निस्तारित कर दिए जाएंगे। कई किसानों की बैकलीज हो चुकी है। बाकी के लिए तिथि घोषित कर दी गई है। प्राधिकरण लगातार किसानों की समस्याओं को निराकरण कर रहा है। किसी के मामले लंबित हैं, तो प्राधिकरण उनके साथ वार्ता कर मामले सुलझाने के लिए तैयार है।

    Dainik Jagran
    CommentQuote