पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • It is high time to invest in NE

    It is only 1-2% chance that these farmers will get Land or increase compensation order from SC.

    It is my analysis that this is the right time to invest in NE.
    Rest assured nothing is going to hamper NE Future.

    Had the farmers moved to SC before shahberi verdict & not taken compensation, i would not have recommended NE.

    It is my analysis that this is the right time to invest in NE.
    Rest assured nothing is going to hamper NE Future.

    Had the farmers moved to SC before shahberi verdict & not taken compensation, i would not have recommended NE.
    CommentQuote
  • I have one grudge with builders though I know that it doesn't matter to anybody...they have increased so fast and quick that it has not given time to think and act...now rates ve reachd to that level where making a decision of booking is not easy....really surprised...never thought that it will zoom like this...!!
    CommentQuote
  • i

    Are resales happng...and if yes what r d ongoing rates ?
    CommentQuote
  • Oh Com'n Dear Amit and Sunder Lal leave it....... Read the title of this thread again ...... talk about latest updates only.....
    CommentQuote
  • Home loans to soon start in Noida Extension

    Developers in Noida Extension have sent a letter to the Greater Noida Authority to clear the relief being offered to them so that that they can pass off the same to buyers. In a related development, loan processing by banks is expected to start soon so that buyers can avail funds to purchase their dream homes.
    The vice president of CREDAI and CMD of Amrapali group, Anil Sharma, said, “We are sorting out problems in a phased manner to streamline those things that had become defunct in the past one year. We will first meet the Authority and then meet buyers next week to discuss their problems.”
    Adding to this, CREDAI (western UP) president and MD of Gaursons, Manoj Gaur, said, “We want the relief granted for the ‘zero period’ from the Authority in a written form.”
    Greater Noida Authority CEO, Rama Raman, said, “We have agreed to most of the demands put up by the developers, but some issues need to be discussed. The Authority has started development work like sewage, water, electricity, roads and, most importantly, Metro rail connectivity projects on a priority basis.”
    “For the last one year, this region did not witness any development work and home buyers suffered a lot. So we have asked the developers to speed up their construction work,” Raman added.
    The Greater Noida Authority, which is reeling under a Rs 5,500 crore financial burden, needs to pay additional compensation to farmers and for that it needs urgent cash flow. A burden of Rs 200 per sq feet will be passed on to the developers and they have hinted to pass this on to existing home buyers with their consent.


    TOI
    CommentQuote
  • No resale now, only sale whatever builder demands.......justified or not......
    CommentQuote
  • Originally Posted by singhpa
    This is turning to be good script, can someone suggest to Ram Gopal Verma to make a great movie on it... jabardast hit hogi movie...:D. Also Since this is very long script so possible 1,2,3 part may movie release ho. Noida Extension ...good stuff for movie makers.



    bhai i even saw in dainik jagran some 3 months back that an American or french student come to study noida extension acquisition row as his PHD studies....


    videsh main bhi mashoor ho gaya NE..
    CommentQuote
  • Originally Posted by fritolay_ps
    ,,


    Originally Posted by Amit Dang
    No resale now, only sale whatever builder demands.......justified or not......


    resale always starts after sometime ..
    CommentQuote
  • Originally Posted by sdsblr
    Developers in Noida Extension have sent a letter to the Greater Noida Authority to clear the relief being offered to them so that that they can pass off the same to buyers. In a related development, loan processing by banks is expected to start soon so that buyers can avail funds to purchase their dream homes.
    The vice president of CREDAI and CMD of Amrapali group, Anil Sharma, said, “We are sorting out problems in a phased manner to streamline those things that had become defunct in the past one year. We will first meet the Authority and then meet buyers next week to discuss their problems.”
    Adding to this, CREDAI (western UP) president and MD of Gaursons, Manoj Gaur, said, “We want the relief granted for the ‘zero period’ from the Authority in a written form.”
    Greater Noida Authority CEO, Rama Raman, said, “We have agreed to most of the demands put up by the developers, but some issues need to be discussed. The Authority has started development work like sewage, water, electricity, roads and, most importantly, Metro rail connectivity projects on a priority basis.”
    “For the last one year, this region did not witness any development work and home buyers suffered a lot. So we have asked the developers to speed up their construction work,” Raman added.
    The Greater Noida Authority, which is reeling under a Rs 5,500 crore financial burden, needs to pay additional compensation to farmers and for that it needs urgent cash flow. A burden of Rs 200 per sq feet will be passed on to the developers and they have hinted to pass this on to existing home buyers with their consent.


    TOI

    point in red above is interesting .. !!
    CommentQuote
  • Originally Posted by cookie
    resale always starts after sometime ..



    khuda kare ki woh din aaye...

    hum intezaar karenege
    CommentQuote
  • I have seen great war in last few posts. See its very netural thing, every person enjoy its own wisdom. Here we can share our own thoughts as we percive but getting into personal remark or hurting imotions by criticizing other's interest or investment, should be avoided. And one thing, i have seen about buyers, which is common in every person - proving own interest or investment better than others. But we should takeup things with mature state of mind.

    Bhai mere pyaar se rehne me jindagi ka mazza ha
    CommentQuote
  • Originally Posted by iamonpc
    I have seen great war in last few posts. See its very netural thing, every person enjoy its own wisdom. Here we can share our own thoughts as we percive but getting into personal remark or hurting imotions by criticizing other's interest or investment, should be avoided. And one thing, i have seen about buyers, which is common in every person - proving own interest or investment better than others. But we should takeup things with mature state of mind.

    Bhai mere pyaar se rehne me jindagi ka mazza ha



    Bhai end user to pyar se hi rehna chahta hai ... lekin jab kisi ki brokerage pe ban aati hai to vo nafrat failane lagta hai. :)
    CommentQuote
  • Noida Extension farmers stall work, cops come to rescue

    NOIDA: Farmers of villages along Noida Extension on Sunday vented their ire against developers and stalled construction work of housing projects and even locked up their site offices. The agitating farmers alleging that the Greater Noida Authority has backtracked in providing 10% developed plots and 64% hiked compensation.

    Perched on their tractors, farmers headed towards the main roundabout in Noida Extension. They shooed away construction workers with lathis and locking up site offices. "We had reached a settlement with the Authority and did not approach the Supreme Court. But till date no land has been identified for farmers under the 10% developed plot quota," said farmer leader Manvir Bhati. "The Authority abruptly stopped disbursal of extra compensation in December last year. Our demands regarding making abadi land freehold property have also gone unheard," added Bhati.

    Though farmers claimed that they would not let construction resume, police ensured resumption of work after the demonstration. "Work has resumed. PCR vans and other police personnel have been deployed to quell off any breakdown in law and order," said Praveen Kumar, SSP of Gautam Budh Nagar.

    The Greater Noida Authority has said that work on abadi settlement has already begun, but developed plots would be given in the final stage of settling farmers' issues. "Several groups of farmers have also filed over 100 SLPs in the Supreme Court against the high court judgement. We are also waiting for the outcome of these cases," said Rama Raman, CEO of Greater Noida Authority.

    Raman added that disbursing extra compensation was stopped last year due to paucity of funds.

    Developers said that farmers are acting in haste and should keep some patience. RK Arora, CMD of Supertech and member of CREDAI, said, "Farmers should give some time to streamline things. They should respect the court and the law. There is a lot more to be done for the farmers besides compensation. They should understand that work in the region was halted for the last 10 months and it will take some time to start functioning."

    Noida Extension farmers stall work, cops come to rescue - The Times of India
    CommentQuote
  • बिल्डरों के दफ्तरों पर ताला जड़ा
    नोएडा एक्‍सटेंशन ः किसानों ने बुकिंग सेंटरों के तंबू उखाड़ डाले

    ग्रेटर नोएडा (ब्यूरो)। किसान संघर्ष समिति से जुड़े किसानों ने रविवार को नोएडा एक्सटेंशन में कई बिल्डरों का काम बंद करा दिया। बिल्डरों के साइट दफ्तरों पर ताला जड़ने के साथ ही बुकिंग सेंटरों के तंबू उखाड़ दिए गए। हंगामे को देखते हुए भयभीत मजदूर एक्सटेंशन से भाग गए। एक बिल्डर की ओर से मिली तहरीर के आधार पर पुलिस इस सिलसिले में मामला दर्ज करने की तैयारी कर रही है।

    रविवार को बिसरख समेत क्षेत्र के दो दर्जन गांवाें के किसान गौर सिटी चौराहे पर एकत्र हुए। वहां पंचायत करके आरोप लगाया गया कि प्राधिकरण उनकी मांगों को गंभीरता से नहीं ले रहा है। जब तक किसानों के साथ हुए समझौतों पर अमल नहीं होगा, तब तक एक्सटेंशन में काम शुरू नहीं होने दिया जाएगा। 22 सितंबर तक मांगें पूरी न हुईं, तोे 23 सितंबर को फिर पंचायत कर रणनीति तय होगी।

    पंचायत के बाद किसान वाहनों पर सवार होकर बिल्ड़रों की साइट पर पहुंचे। रमेश रावल, अजब सिंह भाटी, मनवीर भाटी, अजय, राजेंद्र, डालचंद त्यागी, रामबीर, जगदीश नागर, पवन शर्मा, बलराज, करण सिंह, डॉ. रतनपाल, दिनेश आदि की अगुवाई में गौर सिटी, सुपरटेक, इको विलेज और आम्रपाली समेत कई बिल्डरों के आफिसों में ताला जड़ा गया, जिससे कंपनी के अफसर-कर्मचारी अंदर ही बंद हो गए। निर्माण कार्य भी बंद करा दिए गए। उधर, राष्ट्रीय किसान संघर्ष समिति के बैनर तले चक्रसैनपुर गांव में हुई किसानों की पंचायत में बीडीए क्षेत्र में बिल्डरों के विरोध में जागरूकता अभियान चलाने का निर्णय किया गया। यहां ज्ञान सिंह भाटी, विक्रम भाटी, यशपाल भाटी, बनवारी, उधम भाटी, ओमपाल, मैमपाल और प्रवीण भाटी आदि मौजूद रहे।

    काम नहीं होगा कहां से आएगा पैसा
    सीईओ रमा रमन का कहना है कि काफी किसानों को मुआवजा बांटा जा चुका है। 150 करोड़ रुपये हाल ही में प्राधिकरण ने मुआवजे के लिए एडीएम एलए को जारी की है। करीब चार हजार करोड़ रुपये किसानों को अतरिक्त मुआवजा देने के लिए चाहिए। अब तक डेढ़ हजार करोड़ रुपये बांटे जा चुके हैं। किसान बिल्डरों का काम बंद कराएंगे तो प्राधिकरण के पास धन कहां से आएगा? धन आने पर ही किसानों को मुआवजा दिया जा सकेगा। आवंटियों को भी किस्तें जमा करने के लिए नोटिस जारी किए गए हैं।

    बिल्डरों के खिलाफ खडे़ हुए प्रापर्टी डीलर
    प्रापर्टी डीलर वेलफेयर एसोसिएशन ने अल्फा-वन में बैठक करके बिल्डरों के खिलाफ मुहिम छेड़ने का निर्णय लिया। उनका आरोप है कि बिल्डर निवेशकों और प्रापर्टी डीलरों को धोखा दे रहे हैं। प्राधिकरण ने 10 माह जीरो पीरियड घोषित कर दिया, तो बिल्डर ब्याज क्यों मांग रहे हैं। निवेशकों के ब्याज न देने पर उनके विला और फ्लैटों को निरस्त करने का नोटिस दे रहे हैं। बैठक में श्यौराज सिंह, वरुण गुप्ता, प्रवीण भाटी, अरुण खटाना, बलजीत नरुला, नागेंद्र भाटी, पंकज मौजूद रहे।
    CommentQuote
  • नोएडा एक्सटेंशन में जारी रहेगा निर्माण
    नोएडा। किसानों के 22 सितंबर तक काम बंद रखने के अल्टीमेटम को दरकिनार करते हुए नोएडा एक्सटेंशन के बिल्डरों ने साफ कर दिया है कि जब तक प्राधिकरण से कोई आदेश नहीं आता, निर्माण बंद नहीं किया जाएगा।

    सुपरटेक के सीएमडी आरके अरोड़ा का कहना है कि निर्माण सरकार से आदेश मिलने के बाद शुरू किया गया है। प्राधिकरण ने लिखित में सूचना दे दी है। ऐसे में जब तक वहां से काम रोकने का कोई आदेश नहीं आता, इसे नहीं रोका जाएगा। किसानों की समस्या प्राधिकरण को हल करनी है। इसके लिए प्रयास चल रहे हैं। किसानों को अपनी समस्या प्राधिकरण के समक्ष उठानी चाहिए। गौड़ एंड संस के प्रमुख बीएल गौड़ ने भी यही कहा कि किसानों को अपनी मांगें प्राधिकरण के समक्ष उठानी चाहिएं। निर्माण रोकने से क्या फायदा होगा। उनका कहना है कि काम प्राधिकरण की अनुमति से शुरू हुआ है। उसे ही समस्या का हल निकालना चाहिए।

    उधर, नोएडा एक्सटेंशन फ्लैट ऑनर्स वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष अभिषेक कुमार का कहना है कि डेढ़ साल से बायर्स निर्माण शुरू होने और फ्लैट मिलने का इंतजार कर रहे हैं। अब काम शुरू हुआ है तो किसान दिक्कत करने लगे हैं। किसानों को हजारों बायर्स का कोई ख्याल नहीं है। किसानों को आंदोलन करना है तो प्राधिकरण के समक्ष करें। वहीं से उनकी मांगें पूरी होनी हैं। फ्लैटों का निर्माण रुकवाने से क्या फायदा।

    एनओसी का इंतजार
    नोएडा एक्सटेंशन के बायर्स को प्रोजेक्ट पर लोन जारी होने का इंतजार है। प्राधिकरण से एनओसी न मिलने से बैंक अभी लोन पास नहीं कर रहे हैं। नेफोवा अध्यक्ष अभिषेक कुमार का कहना है कि आए दिन लोग फोन कर लोन पास होने के बारे में पूछते हैं।
    किसानों के विरोध पर बोले बिल्डर, प्राधिकरण के आदेश पर ही रुकेगा काम

    Amar Ujala
    CommentQuote