पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • I got to know that Gaur Saundaryam is just opposite to Gaur City 1.... corner land on left side once right turn taken from Gol Chakkar after crossing Hindon River and moving to Greater Noida...Yamaha Chowk.

    Though I also feel that it's over hyped and rates too high.
    CommentQuote
  • I watch program on NDTV profit... at least Anchor is She and Beautiful too ;)
    CommentQuote
  • NEFOWA update

    Dear Members,

    Today NEFOWA had a teletalk with the higher officials of GNIDA regarding the unethical activities of various builders (Supertech, Earth, Devika etc.) and to start the construction as soon as possible, in which we complained them about the increased demand and cancellation of flats by the builders. They have taken the matter seriously and assured us that strong action will be taken against them. As per them builders have already been instructed not to harass the existing buyers and do any price hike for them, despite that if they are creating such problems then the they will have to face the strong consequences from GNIDA.

    Further, the officials also emphasized to take the genuine demands by the builders positively and asked us to co-operate so that the matter of compensation to the farmers can be settled at the earliest. In this regard, the authorities told us that since the builders have to pay a huge amount to GNIDA and there is...a cash crunch. Though all of us understand that buyers also won’t be able to pay unless projects become bankable but here we’ll have to take initiative to remove said hurdle what all of are doing for a long time to get our dream home.

    As we know loan can be sanctioned up to maximum 80% of the cost. So, we should talk to our builder on the same and try to pay rest of the amount to builder or if we can afford more that than should go ahead.

    As per authority around 700 Crores is due with the builders which in turn has to be used for the disbursement to the farmers. So if we clear our dues then only the NOC to the banks can be given by GNIDA and the projects will become bankable.

    NEOFWA also feels the same and appeal our members to clear the dues as per the genuineness and the capacity. However, its our fair appeal not a compulsion. The Decision totally depends on the buyers will.

    NEFOWA would like to make it clear that the buyers must take their own decission regarding the payments as the demand is not being forced upon them.

    Thanks

    Team NEFOWA
    CommentQuote
  • Originally Posted by homedreamerz
    I got to know that Gaur Saundaryam is just opposite to Gaur City 1.... corner land on left side once right turn taken from Gol Chakkar after crossing Hindon River and moving to Greater Noida...Yamaha Chowk.

    Though I also feel that it's over hyped and rates too high.



    Gaur's good location became his problem. Among all the builders in NE Gaur sold all his inventory first for Gaur City1. Now he is seeing people with poorer location selling their inventory at 3000+ rates and he sold it at 1800 to 2200. So logic is that if people away from Gol chakkar are selling at 3000 I can sell at 3500. And this time keeping the price high from the start he will make sure that he dont regret that he sold it cheap after few months.
    Rate seem to be high right now, but Gaur is taking a 6 months view and with that perspective he is quoting 3500.
    CommentQuote
  • नोएडा एक्सटेंशन की तपिश से ठंडा हुआ मेरठ का रियल एस्टेट

    मेरठ : नोएडा एक्सटेंशन की तपिश का असर मेरठ के रियल एस्टेट पर पड़ रहा है। पिछले तीन माह से शहर में बैनामों की संख्या में लगातार गिरावट आ रही है। स्टांप विभाग को हर माह स्टांप डयूटी से औसतन 35 करोड़ की आय होती थी, पर तीन माह से यह आय घटकर 15-20 करोड़ ही रह गई है।

    केंद्र सरकार के उपक्रम राइट लिमिटेड के लिए भारतीय रियल एस्टेट कंसल्टिंग फर्म रियलिस्टिक रियल्टर्स व एस्टेट व‌र्ल्ड 2012 द्वारा मेरठ मंडल में रियल एस्टेट की स्थिति का सर्वे किया गया तो यह स्थिति सामने आई। पिछले डेढ़ माह से नोएडा एक्सटेंशन योजना के अन्तर्गत तीन दर्जन से अधिक आवासीय योजनाएं लांच होने की खबर का असर है कि गौतमबुद्धनगर में स्टांप डयूटी राजस्व में बढ़ोतरी हो रही है पर मेरठ, बागपत व बुलंदशहर में घट रही है। मेरठ में इसका सर्वाधिक असर पड़ा है। रिपोर्ट में संकेत दिए गए हैं कि पिछले सात माह से एमडीए की कोई योजना लांच नही हुई है। निजी निवेशकों की आवासीय योजना में भी भूखंड या फ्लैट कम बिक रहे हैं।

    रिपोर्ट के अनुसार वित्तीय वर्ष 2011-12 में मेरठ मंडल में रजिस्ट्री से 3229 करोड़ की आय हुई है यानी मंडल में करीब 600 हजार करोड़ की संपत्ति की खरीद फरोख्त हुई है। सर्वाधिक गौतमबुद्धनगर में 1923 करोड़, मेरठ में 324 करोड़ की आय हुई है। 100 रुपये के स्टांप पेपर पर 42 हजार से अधिक संपत्तियों के इकरारनामे हुए हैं, पर पिछले तीन माह से मेरठ में बैनामे कम होने का संकेत हैं कि यहां रियल एस्टेट में कारोबार हल्का है।
    उधर, उप्र आवास एंव विकास परिषद के अधीक्षण अभियंता उमेश मित्तल ने बताया कि 1744 आवास वाली न्यू जागृति विहार एक्सटेंशन योजना में अभी तक 1600 फार्म चार बैंक में बिक चुके हैं। उम्मीद है कि इन आवास के लिए 10 हजार से अधिक आवेदन आएंगे।

    इनका कहना है..
    पिछले एक माह से मेरठ में कम फ्लैट बिक रहे हैं, पर नवरात्र के दौरान कारोबार अधिक होगा। शीघ्र मेरठ स्पो‌र्ट्स सिटी प्रोजेक्ट में 40 लाख की लागत वाले 200 फ्लैट की स्कीम लांच होगी।
    - आरके अरोरा प्रबंध निदेशक सुपरटेक ग्रुप

    Dainik Jagran
    CommentQuote
  • What is this. Sonia kunj in gaur city 2
    Attachments:
    CommentQuote
  • Originally Posted by cookie
    I watch program on NDTV profit... at least Anchor is She and Beautiful too ;)


    Actually I stopped watching news TV channels long back. I watched it yesterday only for NE. Thought some meaningful information will be given. Disappointed.
    CommentQuote
  • Originally Posted by jeetcp
    what is 2) Lease Rent - 85/- Per Sqft


    This break up was provided by builder to me. are you guys not giving Lease Rent amount
    CommentQuote
  • Originally Posted by del_sanju
    What is this. Sonia kunj in gaur city 2


    Yaar koi bataega ki ye Sonia kunj kya hai?
    CommentQuote
  • CommentQuote
  • Originally Posted by del_sanju
    What is this. Sonia kunj in gaur city 2




    This land is not a part of Gaur city 2.
    CommentQuote
  • I brought in CR. Did not pay anything like this. Is this for Noida only?

    Originally Posted by Nicky78
    This break up was provided by builder to me. are you guys not giving Lease Rent amount
    CommentQuote
  • Originally Posted by del_sanju
    What is this. Sonia kunj in gaur city 2


    May be.. Mrs. Gandhi invested in NE:cheer2:
    CommentQuote
  • Originally Posted by fritolay_ps
    May be.. Mrs. Gandhi invested in NE:cheer2:




    I heard she has invested in Bhatta-Paursaul.
    CommentQuote
  • Gaur city buyers hv started to get letter for next paymnt. Is it confirmed?
    CommentQuote