पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • Originally Posted by trialsurvey
    correct ... but #2 location :D


    Don't know its number in case their PAYMEND DEMAND...raised :(
    CommentQuote
  • Originally Posted by ChetanK
    Hi, sorry cudnt reply coz was bust=y with bank loan formalities. Got my loan approved from corporation bank and have confirmed that they are disbursing also. Today going with my anothr frnd to get his loan approved. You can visit corporation bank preet vihar branch its on main road near petrol pump and directly go to first floor their you can submit ur papers and get your loan sanctioned. For your reference i am listing the docs to carry:-
    The documents that are required for the loan are as under:

    1. I.D. Proof - Pan Card and Voter ID card

    2. Address Proof- Electricity bill, Telephone bill, Rent Agreement.

    3. Bank statement for the last 6 months.

    4. ITR return of last 3 years and Form 16 of last 3 years.

    5. Allotment letter / Agreement letter of the builder.

    6. Copy of the receipts given by the builder for payment made to them.

    7. 2 passport size photographs.

    Hi Chetan,
    Is corpration bank disbursing loan for all projects in noida extension or some selected projects only? which other banks are disbursing loans for this area....?
    CommentQuote
  • Will Greater Noida West be another Ghost Town ?



    With builders cancelling bookings of old buyers ...... who are not able to hold their booking with payment from personal resources..... BECAUSE....

    ........The profile of people booking in GNW /NE being Salaried Middle Class.......

    ...... 90% (Or 99.99% ?) of them buy house by availing Loans (mostly of 20 years duration).

    When Builders does mass cancellation .........

    These cancelled booking will have to be replaced with new booking at higher price......

    BUT the new buyers (at higher price level) will also face the issue of non availability of bank Loan ........ if their profile is same (Salaried Middle Class).

    ........ IF still builder manages to pull it off .......

    THEN ...... whether that means ki......

    NOW TIME HAS COME .......

    for Exit of "End Users" ..................................and Entry of "INVESTORS"... (investors do not require bank finance)........ in Greater Noida West........

    ........ IF that is so..........


    ........... Then Greater Noida West /Noida Extension is going to be another GHOST TOWN.

    It is End Users who makes a place......Investors (unless being replaced by End Users at the time of RTM) ...... Only makes for a Ghost Town.
    CommentQuote
  • Originally Posted by Pradyot1315sqf
    It means Steller will be #1 to offer possession.

    #1 builder

    #1 project


    GC-1 (Avenue 1) is having possession date of May 2014. So I guess Gaur is first to offer possession. Not sure about any other builder is having possession before this in NE.
    CommentQuote
  • Originally Posted by ManGupta


    With builders cancelling bookings of old buyers ...... who are not able to hold their booking with payment from personal resources..... BECAUSE....

    ........The profile of people booking in GNW /NE being Salaried Middle Class.......

    ...... 90% (Or 99.99% ?) of them buy house by availing Loans (mostly of 20 years duration).

    When Builders does mass cancellation .........

    These cancelled booking will have to be replaced with new booking at higher price......

    BUT the new buyers (at higher price level) will also face the issue of non availability of bank Loan ........ if their profile is same (Salaried Middle Class).

    ........ IF still builder manages to pull it off .......

    THEN ...... whether that means ki......

    NOW TIME HAS COME .......

    for Exit of "End Users" ..................................and Entry of "INVESTORS"... (investors do not require bank finance)........ in Greater Noida West........

    ........ IF that is so..........


    ........... Then Greater Noida West /Noida Extension is going to be another GHOST TOWN.

    It is End Users who makes a place......Investors (unless being replaced by End Users at the time of RTM) ...... Only makes for a Ghost Town.


    No new buyer will face same situation .. They are selling to new buyers on condition that they book now with 10% and start paying when project is bankable.
    And who says that investor's dont need a bank loan?
    CommentQuote
  • Originally Posted by ManGupta


    With builders cancelling bookings of old buyers ...... who are not able to hold their booking with payment from personal resources..... BECAUSE....

    ........The profile of people booking in GNW /NE being Salaried Middle Class.......

    ...... 90% (Or 99.99% ?) of them buy house by availing Loans (mostly of 20 years duration).

    When Builders does mass cancellation .........

    These cancelled booking will have to be replaced with new booking at higher price......

    BUT the new buyers (at higher price level) will also face the issue of non availability of bank Loan ........ if their profile is same (Salaried Middle Class).

    ........ IF still builder manages to pull it off .......

    THEN ...... whether that means ki......

    NOW TIME HAS COME .......

    for Exit of "End Users" ..................................and Entry of "INVESTORS"... (investors do not require bank finance)........ in Greater Noida West........

    ........ IF that is so..........


    ........... Then Greater Noida West /Noida Extension is going to be another GHOST TOWN.

    It is End Users who makes a place......Investors (unless being replaced by End Users at the time of RTM) ...... Only makes for a Ghost Town.


    You are talking about worst case prediction. As per thread updates, some banks already started disbursing loans etc.
    CommentQuote
  • Originally Posted by nagendra007
    Hi Chetan,
    Is corpration bank disbursing loan for all projects in noida extension or some selected projects only? which other banks are disbursing loans for this area....?


    Till now Bank of maharashtra and corporation bank are disbursing loan for some of the builders in noida ext not all (1 is AMRAPALI), Coz many builders have nt got NOC fron GNA till now. moreover i hv heard that india bulls is also disbursing loan for some project. U cn check with any branch of BOM or Corporation bank that for which projects are they disbursing...
    CommentQuote
  • Originally Posted by Pradyot1315sqf
    what is the role of gaurentor here?


    Most of the public bank, i think all require a guarantor. They r following age old rules that one shud have a guarantor so they if one defaults on loan they can get hold of guarantor. But this is how govt machinery wrks. Thats y i alwaz prefer takin loan from HDFC, ICICI or sm other banks as they dnt require a guarantor nd their services are better. But at this point of time no private bank is ready 2 disburse loan for noida ext. so we are left with no othr option.
    CommentQuote
  • Originally Posted by ChetanK
    Most of the public bank, i think all require a guarantor. They r following age old rules that one shud have a guarantor so they if one defaults on loan they can get hold of guarantor. But this is how govt machinery wrks. Thats y i alwaz prefer takin loan from HDFC, ICICI or sm other banks as they dnt require a guarantor nd their services are better. But at this point of time no private bank is ready 2 disburse loan for noida ext. so we are left with no othr option.


    Finally actually something good to hear that few banks have started disbursing but seems so weird, where pvt banks are hesitant to start disbursement ...govt banks like Corporation Bank, BOM have started disbursing :bab (4):
    CommentQuote
  • .
    Attachments:
    CommentQuote


  • There are a number of commission agents posing as bank employee who have vested interest in getting loan applications from buyers. Furthermore, even the bank employees are paid kickbacks by the builders to fool buyers.

    Even in pure white world, banks may even be collecting applications, so as and when, all is clear, banks have a ready market to encash and avoid beaten by rival banks.

    So, until the news of first disbursal comes, it's still not confirmed that any bank is disbursing loan for any project in NExtn.


    Originally Posted by ChetanK
    Till now Bank of maharashtra and corporation bank are disbursing loan for some of the builders in noida ext not all (1 is AMRAPALI), Coz many builders have nt got NOC fron GNA till now. moreover i hv heard that india bulls is also disbursing loan for some project. U cn check with any branch of BOM or Corporation bank that for which projects are they disbursing...

    CommentQuote
  • Any information regarding SUPERTECH LTD NOC in Noida Extenstion....???
    CommentQuote
  • एनसीआर में री-सेल प्रॉपर्टी की डिमांड में 

    बिजनेस भास्कर नोएड | Oct 06, 2012, 03:24AM IST

    

    डिमांड कहां - नोएडा एक्सटेंशन नोएडा के अनेक सेक्टर, वैशाली, इंदिरापुरम, क्रॉसिंग रिपब्लिक आदि इलाकों में री सेल प्रॉपर्टी बहुतायत में उपलब्ध है। जहां फ्लैट बनकर रजिस्टर्ड हुआ, वहां बिल्डर की भूमिका खत्म हो जाएगी।

    साहिबाबाद में रह रहे एकाउंट्स मैनेजर संजीव कुमार ने नया फ्लैट खरीदने के लिए तीन महीने तक बहुत दौड़-धूप की। मगर नोएडा एक्सटेंशन में कोई भी बिल्डर 3,200 रुपये प्रति वर्गफुट से कम दर पर बुकिंग को तैयार नहीं था। बाद में किसी मित्र की सलाह पर उन्होंने प्रॉपर्टी की एक वेबसाइट को खंगाला तो उन्हें बहुत सारे अच्छे ऑफर आए।

    इनमें से ही एक नामी रियल्टी कंपनी का फ्लैट 2,850 रुपये प्रति वर्गफुट की दर से री-सेल में उन्होंने तय कर लिया। संजीत ने बिल्डर के पास निवेशक की जमा रकम छह लाख रुपये जमा करवाई और इसके बाद बिल्डर ने फ्लैट धारक का नाम बदलने के लिए ट्रांसफर चार्ज लिया जिसका भुगतान विक्रेता ने खुद किया। बदले में संजीव को बेचने वाले को डेढ़ या दो लाख रुपये नकद देना पड़ा जिसका जिक्र रिकॉर्ड में नहीं हुआ।

    नए रिहायशी प्रोजेक्टों में फ्लैटों की कीमतों में भारी उछाल के बाद अब बहुत सारे लोग री-सेल में प्रॉपर्टी की खोजबीन कर रहे हैं।इसमें ग्राहक मैजिकब्रिक्स.कॉम. मकान.कॉम या 99एकड़ कॉम के जरिए पुराने सौदे की तला शकर रहे हैं।यहां फायदा यह है कि ग्राहकों को अपने पसंदीदा फ्लैट के लिए दलाली नहीं देनी पड़ती। इन तमाम वेबसाइट पर अपनी पसंद का एरिया और फ्लैट की साइज या रेट चुनना सब आसान है।

    कुछ लोग जल्दबाजी में प्रॉपर्टी डीलर के जाल में फंस जाते हैं।तब री सेल की प्रॉपर्टी महंगी साबित होती है। प्रॉपर्टी के जानकार कहते हैं कि जब तक प्रॉपर्टी रजिस्टर्ड न हो तब तक बिल्डर पुराने निवेशक की सलाह से फ्लैट के स्वामी का नाम बदल सकता है। ऐसा कई बार हुआ है कि रजिस्ट्री तक एक फ्लैट तीन-चार हाथों में बिक चुकी होती है। इसमें परेशानी सिर्फ यह है कि फ्लैट का कार्य जितना अधिक पूरा होगा उसी अनुपात में री सेल के खरीदार को कम समय में अधिक पेमेंट का इंतजाम करना होगा।

    प्रॉपर्टी के कारोबार में लगे इंद्रजीत सिंह ने कहा कि जिन लोगों को शुरुआती दौर में बिल्डरों कार्य पर शक होता है वे प्रोजेक्ट के तीसरे या आखिरी दौर में री-सेल में प्रॉपर्टी खरीद लेते हैं।ऐसे खरीदार को बढ़ा हुआ दाम इसलिए नहीं अखरता है कि उसे जल्द ही पॉजेशन मिलने की उम्मीद रहती है।लेकिन इसमें बेचने और खरीदने वाले ने मीटिंग में देरी की तो सौदा हाथ से निकलने का खतरा भी रहता है।

    री-सेल वाली प्रॉपर्टी का आंकड़ा बिल्डरों के संगठन 'क्रेडाई' के पास भी नहीं रहता। प्रॉपर्टी सौदों का बारीकी से अध्ययन करने वाले वकील यशोवर्धन ने कहा कि री-सेल सौदा तय होने पर अब तक जमा हुई सभी किस्तों की रसीदें लेना बहुत जरूरी होता है इससे बैंक आसानी से लोन पास कर सकते हैं।
    CommentQuote
  • Effect of Increased FAR

    Effect of Increased FAR

    Attachments:
    CommentQuote
  • webt to noida extention yesterday and saw about 800-1000 labour working in Amrapali golf homes project, work was in full swing in Gaur City 1. I have also visited RG Luxury and labuour were seen working
    CommentQuote