पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • Ab to kaafi kisaan bhi frustrate ho gaye honge es delay se.
    CommentQuote
  • Originally Posted by singhpa
    OMG..........bhagwan bhrosay hai sab......


    By using LESS MATERIAL....LESS HEIGHT.:)
    CommentQuote
  • Originally Posted by del_sanju
    Kamaal Hai Kissan Khush bhi hote hai.

    For the first time in nex history- Kissan (jameen se judde hue) of noida extn are happy

    :bab (41)::clap2::cheer2:


    They were/are/will be happy.Only show frustration to others.
    Kabhi khushi kabhi gam.
    CommentQuote
  • Amrapali has updated construction status of the projects in N ex.

    R they recent or old one :D
    CommentQuote
  • Originally Posted by del_sanju
    Amrapali has updated construction status of the projects in N ex.

    R they recent or old one :D


    They are the recent ones. Water marked with date 05-10-2012. But they have played on one thing like for e.g. for AGH they have disabled the old one so no one can compare. that one one was a virtual tour of AGH with tower names. no such sthing in new snaps.

    i already reviewed the old ones and only update is some workers hanging on iron rods made for preparing lenters. They are only posing and smiling on us (looked to me coz few of my known ones got letter for further 10% demand) ..
    CommentQuote
  • Originally Posted by Sunder_Lal
    Or may be he was confused between labor and prospective buyers. Every weekend 800-1000 new buyers visit each project. :D



    That figure of 1000 workers may be correct also. But only true for weekends and only for taking snaps so that NE / GNW biulders can update their website for construction update.

    The one with most descent clothes and good communication skills get a helmet to show as site supervisor and trap buyers. The ones with dirty clothes get to act as low weage worker who thinks next week i will also come in good clothes and will become site supervisor..

    His dream (site supervisor), my dream (my dream home in 2 or baybe 10 years), builder dream (earlier 12 floors then 17 now 22 maybe 40 by 2018)..

    aab samag me aaya master ji kyo kate the base mazbbot karo.. aab pata chala ki pata nahi kite floor ki building babani pade isliye kahte the.. biulders taken it seroiusly and implemented we studied only.. (taken from 3 idiots)
    CommentQuote
  • Originally Posted by camanoj
    I had a talk with the site supervisor of Amrapali golf homes about the number of floors for M block and he told that i would consist of 22 floors (it was 14 floors earlier) I think it is due to increase in FAR, but I can't understand how the foundation those were build to take the load of 14 floors can will take the load of 22 floors because foundation and first floor structure were before the start of noida extention dispute.


    maybe a joke as per my knowledge M block specially M8 is on disputed land and touching it. This M block will be made in the last.
    CommentQuote
  • thats really sad..My flat is in M8..now what to do :(
    CommentQuote
  • SHRADD ki vajah se not much posts on n ex updates. even gnoida nt much active
    CommentQuote
  • Originally Posted by del_sanju
    SHRADD ki vajah se not much posts on n ex updates. even gnoida nt much active


    Bhai apni jeb ka sharddh to har mahine ho raha hai. isliye hamare liye koi nayi baat nahi hai. hum to utne hi post karenge. :D
    CommentQuote
  • NE is similar to the shraddh area till now"......don't worry about that.....let's hope navtatara and depawali come soon in NE.....
    CommentQuote
  • Originally Posted by Sunder_Lal
    Bhai apni jeb ka sharddh to har mahine ho raha hai. isliye hamare liye koi nayi baat nahi hai. hum to utne hi post karenge. :D


    Meanwhile I read people investing in projects like- shree radhe, rudra etc etc. It give me courage that wen people are ready to put money on them, we are better invested in some better projects
    CommentQuote
  • i recvd demand letter frm gaur..kisi bank ne disbursmnt start kiya kya???
    CommentQuote
  • Originally Posted by nprana01
    i recvd demand letter frm gaur..kisi bank ne disbursmnt start kiya kya???


    RANAJI, gc 16 ka demand letter? Sab keh rhe hai corp bank, bom ne kia hai but openly disbursemnt pata hi nhi chal rha hai
    CommentQuote
  • Originally Posted by del_sanju
    RANAJI, gc 16 ka demand letter? Sab keh rhe hai corp bank, bom ne kia hai but openly disbursemnt pata hi nhi chal rha hai

    nhii.. gc 1 ka demand letter mil.. let me contct corp and bom.. aapka h kya gaur me??
    CommentQuote