पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16356 Replies
Sort by :Filter by :
  • Originally Posted by Pradyot1315sqf
    Hello.

    Every one is talking about loan disbursment and other topics.But I am facing a very tough time as Arihant Arden is impossing fine even for zero period. I have to pay approx 2Lacs as interest. Totaly confused. Any suggetion? What about other projects? Are they charging interest for zero period?


    Mahagun is not charging for sure...
    CommentQuote
  • Joke

    Originally Posted by fritolay_ps
    Corp bank has started loan disbursments....


    Yaar, kya Joke mara h.

    Its resemble same story in Mahabharat- Pandav made a plot after extensive discussion with Lord Krishna to kill Guru Dronacharya.
    In battlefield Pandav started saying "Ashwathama mara gaya, ashwathama mara gaya..........". Hearing this Gurudrone become angry as his son name was Ashwathama. With his anger & frustration he become out of control forgetting about his safety, wisdom, common sense in the mood of do or die.
    The end result was Guru get in trap of pandav & get killed. But his son Ashwathama was alive. It was elephant with name of Ashwatham who was killed.


    Learn from our ancient history, book. It will be a life learning to us.
    CommentQuote
  • Is corporation bank is charging any processing/file charge or any other charge?
    CommentQuote
  • Originally Posted by Pradyot1315sqf
    Hello.

    Every one is talking about loan disbursment and other topics.But I am facing a very tough time as Arihant Arden is impossing fine even for zero period. I have to pay approx 2Lacs as interest. Totaly confused. Any suggetion? What about other projects? Are they charging interest for zero period?



    wen the gnoida authority hs declared 0 period n didnt ask for any fine from the builders then how can they ask for the fine. 20-30 k chalo chalta bhi hai fine. rs 2 lak fine se toh acha hi hai cancel kara ke kahi dusri jagah hi le lunga.
    CommentQuote
  • Originally Posted by del_sanju
    wen the gnoida authority hs declared 0 period n didnt ask for any fine from the builders then how can they ask for the fine. 20-30 k chalo chalta bhi hai fine. rs 2 lak fine se toh acha hi hai cancel kara ke kahi dusri jagah hi le lunga.


    Barbad Gulista karne ko, bas ek hi Ullu kafi hai.

    Yha har Dal pe Ullu baitha hai,Anjame Gulista Kya Hoga
    CommentQuote
  • Originally Posted by ragh_ideal
    Barbad Gulista karne ko, bas ek hi Ullu kafi hai.

    Yha har Dal pe Ullu baitha hai,Anjame Gulista Kya Hoga


    GNA working against SC by disbursing compensation.

    Builder's working against GNA by taking interest for zero period and playing many illegal games.

    Banks doing same and collecting money as Pre-processing charge instead of actual disbursement.

    Farmers forget their ethics and trying to stop construction work and asking more..more........more.

    so how we can have our GULISTA?????? :(
    CommentQuote
  • Originally Posted by ragh_ideal
    Barbad Gulista karne ko, bas ek hi Ullu kafi hai.

    Yha har Dal pe Ullu baitha hai,Anjame Gulista Kya Hoga



    N ex ki tension se aap Shayari karne lage.:D

    Acha hai ya bura?
    CommentQuote
  • Originally Posted by del_sanju
    N ex ki tension se aap Shayari karne lage.:D

    Acha hai ya bura?


    Dost! Obviously Bad
    Isaki tension ne Shayer bana dia Varna hambhi aadami bade kamke the.
    CommentQuote
  • AAj 5 pm, kejriwal kiska pardafas karenge press conference me.?

    Kahi Gnoida- builder ke nexus ki pol toh nhi kholenge.:bab (59):
    CommentQuote
  • Originally Posted by del_sanju
    AAj 5 pm, kejriwal kiska pardafas karenge press conference me.?

    Kahi Gnoida- builder ke nexus ki pol toh nhi kholenge.:bab (59):


    Kash ...kash ke ye bhi din aaye.

    but this would not have in his consideration now a days cause of direct non political issue.

    but can be expected in his pipeline for further explosion.

    good wishes for next victim.:bab (59):
    CommentQuote
  • .
    Attachments:
    CommentQuote
  • Najar na lage in NAZZARUDEEN ko.

    Itna attentive to hum shadi ki photo me nhi huye the.
    Attachments:
    CommentQuote
  • Originally Posted by ragh_ideal
    Najar na lage in NAZZARUDEEN ko.

    Itna attentive to hum shadi ki photo me nhi huye the.



    inhe highlight kyu kia? R they main members of IREF :D
    CommentQuote
  • They are not working but looking at Cameraman... laughing at him... poor chap has invested in NE... I am better that I have my own house in other location..
    CommentQuote
  • beware of investor clinic

    Hi all. if any one of you planning to invest through investor clinic, beware as they are out to fool you. I booked a flat in Noida through Investor clinic (ARSHAD WAS THE PERSON ). I WAS PROMISED 2 PER CENT CREDIT NOTE. 6 MONTHS HAVE PASSED BUT CREDIT NOTE HAS STILL NOT BEEN GIVEN TO ME. NEVER PURCHASE ANY PROPERTY THROUGH IC. BEWARE. I HAVE BEEN FOOLED. SAVE YOURSELF.
    CommentQuote