पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • बिल्डरों के खिलाफ होगी कार्रवाई : कमलनाथ


    ग्रेटर नोएडा : ग्रेटर नोएडा वेस्ट में निवेशकों की बुकिंग रद किए जाने व परेशान करने पर केंद्रीय शहरी विकास मंत्री कमल नाथ ने बिल्डरों के खिलाफ कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है। नोएडा एक्सटेंशन फ्लैट ऑनर एंड मेंबर एसोसिएशन (नेफोमा) की शिकायत पर बुधवार शहरी विकास मंत्री ने पत्र भेजकर कार्रवाई का आश्वासन दिया।

    नेफोमा के अध्यक्ष अन्नू खान ने बताया कि अगस्त में केंद्रीय शहरी विकास मंत्री को पत्र भेज कर शिकायत की गई थी कि बिल्डर निवेशकों को परेशान कर रहे हैं। पुराने निवेशकों की बुकिंग रद कर रहे हैं। शहरी विकास मंत्री की तरफ से उनके पत्र का जवाब भेजा गया है, जिसमें उन्होंने कहा कि एनसीआर प्लानिंग बोर्ड से इस मामले में हस्तक्षेप कर कार्रवाई करने का निर्देश दिया है। प्रदेश के गाजियाबाद सब डिविजन एनसीआर प्लानिंग बोर्ड ने भी कार्रवाई का भरोसा दिलाया है।

    Dainik Jagran
    CommentQuote
  • Originally Posted by fritolay_ps
    बिल्डरों के खिलाफ होगी कार्रवाई : कमलनाथ


    ग्रेटर नोएडा : ग्रेटर नोएडा वेस्ट में निवेशकों की बुकिंग रद किए जाने व परेशान करने पर केंद्रीय शहरी विकास मंत्री कमल नाथ ने बिल्डरों के खिलाफ कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है। नोएडा एक्सटेंशन फ्लैट ऑनर एंड मेंबर एसोसिएशन (नेफोमा) की शिकायत पर बुधवार शहरी विकास मंत्री ने पत्र भेजकर कार्रवाई का आश्वासन दिया।

    नेफोमा के अध्यक्ष अन्नू खान ने बताया कि अगस्त में केंद्रीय शहरी विकास मंत्री को पत्र भेज कर शिकायत की गई थी कि बिल्डर निवेशकों को परेशान कर रहे हैं। पुराने निवेशकों की बुकिंग रद कर रहे हैं। शहरी विकास मंत्री की तरफ से उनके पत्र का जवाब भेजा गया है, जिसमें उन्होंने कहा कि एनसीआर प्लानिंग बोर्ड से इस मामले में हस्तक्षेप कर कार्रवाई करने का निर्देश दिया है। प्रदेश के गाजियाबाद सब डिविजन एनसीआर प्लानिंग बोर्ड ने भी कार्रवाई का भरोसा दिलाया है।

    Dainik Jagran




    What is course of action against the builders who is charging interest even for zero period?
    CommentQuote
  • निवेशकों को परेशान करना पड़ेगा भारी

    ग्रेटर नोएडा वेस्ट में निवेशकों को परेशान करने वाले बिल्डरों के खिलाफ कार्रवाई हो सकती है। एनसीआर प्लानिंग बोर्ड दिल्ली ने यूपी सरकार को मामले की जांच करने और दोषी बिल्डरों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का निर्देश दिया हैं। यूपी गर्वमेंट को इस मामले में की गई कार्यवाही से अवगत कराने का भी निर्देश दिए हैं।
    नेफोमा (नोएडा एक्सटेंशन फ्लैट ओनर्स एंड मेंबर असोसिएशन) के पदाधिकारियों ने 31 अगस्त को केंद्रीय शहरी विकास मंत्री कमलनाथ से ग्रेनो वेस्ट के बिल्डरों की शिकायत की थी। उनका आरोप था कि बिल्डर पुराने निवेशकों से एक्सट्रा चार्ज मांग रहे हैं। पैसे न देने पर फ्लैट की बुकिंग कैंसल की जा रही है। इस मामले में मंत्रालय ने एनसीआर प्लानिंग बोर्ड दिल्ली को पत्र भेजा था। अब एनसीआर प्लानिंग बोर्ड के जॉइंट डायरेक्टर जे. एन. बर्मन ने ने यूपी के हाउसिंग व अर्बन प्लानिंग डिपार्टमंेट के प्रिंसिपल सेक्रेटरी मामले की जांच का निर्देश दिया है। ग्रेनो अथॉरिटी के सीईओ रमा रमण और इंडस्ट्रियल डिवेलपमेंट डिपार्टमंेट के सेक्रेटरी को भी पत्र भेजा गया है। नेफोमा के प्रेजिडेंट अन्नू खान ने बताया कि एक्सट्रा चार्ज न देने वालों के फ्लैट की बुकिंग अब भी कैंसल की जा रही है।

    nbt
    CommentQuote
  • नोएडा से ग्रेनो वेस्ट तक 'नो मोर जाम'

    आशीष दुबे
    नोएडा।।
    नोएडा से ग्रेनो वेस्ट (नोएडा एक्सटेंशन) जाने वालों को अब जाम से जूझना नहीं पडे़गा। अथॉरिटी सेक्टर-122 की तरफ हिंडन नदी और हिंडन बांध के बीच करीब 35 लाख रुपये की लागत से यू टर्न बल्ब बना रही है।

    यू टर्न बन जाने के बाद सेक्टर-71/72 से ग्रेनो वेस्ट जाने वाले रूट पर जाम खत्म हो जाएगा। अथॉरिटी ने इसे एक महीने के अंदर बनाने का टारगेट रखा है। यू टर्न बनने के बाद बांध पर बनी रोड से छिजारसी से कुलेसरा जाने वालों को करीब 200 मीटर ज्यादा चलकर यू टर्न लेना होगा। आने वाले दिनों में प्रस्तावित एफएनजी का ट्रैफिक भी इसी रोड का इस्तेमाल करेगा।

    अथॉरिटी के वर्क सर्कल-6 के इंचार्ज एच. एन. सिंह ने बताया कि नोएडा से जाने वाला ट्रैफिक बांध पर आने वाले ट्रैफिक से हिंडन नदी के पास मर्ज होता है। दोनों रूटों से गाडि़यां आने पर यहां हमेशा लंबा जाम लग जाता है। यू टर्न बल्ब बन जाने के बाद छिजारसी से कुलेसरा जाने वाली गाडि़यां सीधे रोड पर नहीं पहुंचेगी, बल्कि रोड पर आने के लिए गाडि़यों को करीब 200 मीटर ज्यादा चलकर बल्ब से यू टर्न लेना होगा।

    2 चौराहों पर बनेंगे गोल चक्कर
    सेक्टर-71/72 चौराहे से ग्रेनो वेस्ट रूट पर अथॉरिटी की गोल चक्कर बनाने की भी प्लानिंग है। सेक्टर-73/122 और सेक्टर-70/121 चौराहों पर गोल चक्कर बनाए जाएंगे। दोनों चौराहों पर गोल चक्कर का डिजाइन तैयार कर लिया गया है। इसके लिए एस्टिमेट तैयार कराया जा रहा है।

    nbt
    CommentQuote
  • ग्रेनो वेस्ट में किसान 23 को रोकेंगे काम

    ग्रेटर नोएडा वेस्ट में 23 अक्टूबर को बिल्डरों का काम बंद कराने को लेकर किसानों ने बुधवार को खैरपुर और सेनी गांव में पंचायत की। पंचायत में ग्रेनो वेस्ट समेत एरिया के 14 गांवों के किसान शामिल हुए। किसान संघर्ष समिति के प्रवक्ता मनवीर भाटी ने कहा कि अथॉरिटी अधिकारी किसानों की मांगों पर ध्यान नहीं दे रहे हैं।

    मुआवजा बांटे जाने में भ्रष्टाचार किया जा रहा है। किसान हंगामा करते हैं तो एडीएम लैंड गांवों में कैंप लगाकर मुआवजा बांटने में लग जाते हैं। जब किसान शांत हो जाते हैं तो फिर से दो प्रतिशत लेकर मुआवजा कैंप के बजाय दफ्तर में ही दिया जाने लगता है। उन्होंने कहा कि किसानों की आबादी की समस्या अब तक हल नहीं हुई है। कुछ किसानों की आबादी का निस्तारण कर दिया जाता है लेकिन कुछ में खामियां बताकर छोड़ दिया जाता है।

    किसान अधिकारियों की इस तरह की हरकतों से परेशान हैं। रोजा गांव के प्रधान अजय ने कहा कि अथॉरिटी किसानों की समस्या हल नहीं कर रही है।


    nbt
    CommentQuote
  • Originally Posted by fritolay_ps
    ग्रेनो वेस्ट में किसान 23 को रोकेंगे काम

    ग्रेटर नोएडा वेस्ट में 23 अक्टूबर को बिल्डरों का काम बंद कराने को लेकर किसानों ने बुधवार को खैरपुर और सेनी गांव में पंचायत की। पंचायत में ग्रेनो वेस्ट समेत एरिया के 14 गांवों के किसान शामिल हुए। किसान संघर्ष समिति के प्रवक्ता मनवीर भाटी ने कहा कि अथॉरिटी अधिकारी किसानों की मांगों पर ध्यान नहीं दे रहे हैं।

    मुआवजा बांटे जाने में भ्रष्टाचार किया जा रहा है। किसान हंगामा करते हैं तो एडीएम लैंड गांवों में कैंप लगाकर मुआवजा बांटने में लग जाते हैं। जब किसान शांत हो जाते हैं तो फिर से दो प्रतिशत लेकर मुआवजा कैंप के बजाय दफ्तर में ही दिया जाने लगता है। उन्होंने कहा कि किसानों की आबादी की समस्या अब तक हल नहीं हुई है। कुछ किसानों की आबादी का निस्तारण कर दिया जाता है लेकिन कुछ में खामियां बताकर छोड़ दिया जाता है।

    किसान अधिकारियों की इस तरह की हरकतों से परेशान हैं। रोजा गांव के प्रधान अजय ने कहा कि अथॉरिटी किसानों की समस्या हल नहीं कर रही है।


    nbt



    Sarre labour toh ab apne hometown laut rhe honge. Festival season hai:bab (50):

    In farmers ko hi MNREGA ke tahat job de do labour ki. Kuch toh kaam karenge. time pass nhi ho rha inka. Manveer bhati ko white helmet wali job.
    CommentQuote
  • Regarding Mini Express way through NE

    एफ-1 रेस के जमाने में ऐसी स्पीड!

    नवभारत टाइम्स | Oct 18, 2012, 12.15AM IST
    नवयुग मार्केट।। ग्रेटर नोएडा के सूरजपुर से प्रताप विहार के सामने एनएच-24 को जोड़ने वाली फोर लेन रोड ने सात साल में 500 मीटर की दूरी आखिरकार नाप ली और अब इसके 26 अक्टूबर से पहले ट्रैफिक के लिए खोलने के आसार बन रहे हैं। हालांकि अब भी फोर लेन नहीं, बल्कि सिंगल लेन ही खोलने का प्लान है क्योंकि प्रोजेक्ट अधूरा है। ॉ

    जीडीए के इग्जेक्यूटिव इंजीनियर ए. के. सिंह ने बताया कि ग्रेनो में 26 अक्टूबर से फॉर्मूला वन रेस के आयोजन से पहले यह रोड ट्रैफिक के लिए खोल दी जाएगी। सिंगल लेन भी खोले जाने से लोगों को फॉर्मूला वन रेस के दीदार के लिए जाने में आसानी हो जाएगी। इस रोड के खुल जाने से यूपी गेट से ग्रेनो के सूरजपुर तक का सफर मात्र 25 मिनट में पूरा होगा, जिसमें फिलहाल दो घंटे तक लग जाते हैं।

    क्या है प्रोजेक्ट
    ग्रेटर नोएडा के सूरजपुर से फोर लेन रोड बनाकर प्रताप विहार के पास जोड़ने के प्रोजेक्ट पर सात साल से ग्रेनो अथॉरिटी और जीडीए मिलकर काम कर रहे हैं। 14 किलोमीटर लंबी इस रोड को ग्रेनो अथॉरिटी ने पांच साल पहले अपने विकास क्षेत्र में करीब 12 किमी. तक बना दिया। बाकी दो किमी. रोड बनाकर उसे प्रताप विहार के सामने एनएच-24 से जोड़ने का जिम्मा जीडीए पर है। जीडीए इस प्रोजेक्ट पर करीब 10 करोड़ रुपये खर्च कर रहा है। लगभग पांच करोड़ रुपये पहले ही जारी हो चुके हैं।

    500 मीटर का हर्डल
    जीडीए को 31 दिसंबर 2012 तक यह प्रोजेक्ट पूरा करने का टारगेट मिला है। इस प्रोजेक्ट की राह में सबसे बड़ी परेशानी उन लोगों से थी, जिनके मकान रोड के एरिया में आ रहे थे। सिद्धार्थ विहार के पास राहुल विहार में करीब 40 लोगों के घर इस रोड के एरिया में आ रहे थे। ग्रेनो अथॉरिटी ने इन लोगों के लिए पांच एकड़ जमीन दे दी है। इस तरह रोड के लिए अब जीडीए के पास जमीन आ चुकी है।

    कुल 14 किलोमीटर में से अब 13.50 किलोमीटर रोड बन चुकी है। बाकी करीब 500 मीटर रोड बनाने के लिए जीडीए मिट्टी भराव कर चुका है। जीडीए की कोशिश में है कि 26 अक्टूबर से पहले कम से कम 500 मीटर रोड भले ही सिंगल बने , उसे ट्रैफिक के लिए खोल दिया जाए।

    hope this time it will be completed.
    CommentQuote
  • Originally Posted by ragh_ideal
    एफ-1 रेस के जमाने में ऐसी स्पीड!

    नवभारत टाइम्स | Oct 18, 2012, 12.15AM IST
    नवयुग मार्केट।। ग्रेटर नोएडा के सूरजपुर से प्रताप विहार के सामने एनएच-24 को जोड़ने वाली फोर लेन रोड ने सात साल में 500 मीटर की दूरी आखिरकार नाप ली और अब इसके 26 अक्टूबर से पहले ट्रैफिक के लिए खोलने के आसार बन रहे हैं। हालांकि अब भी फोर लेन नहीं, बल्कि सिंगल लेन ही खोलने का प्लान है क्योंकि प्रोजेक्ट अधूरा है। ॉ

    जीडीए के इग्जेक्यूटिव इंजीनियर ए. के. सिंह ने बताया कि ग्रेनो में 26 अक्टूबर से फॉर्मूला वन रेस के आयोजन से पहले यह रोड ट्रैफिक के लिए खोल दी जाएगी। सिंगल लेन भी खोले जाने से लोगों को फॉर्मूला वन रेस के दीदार के लिए जाने में आसानी हो जाएगी। इस रोड के खुल जाने से यूपी गेट से ग्रेनो के सूरजपुर तक का सफर मात्र 25 मिनट में पूरा होगा, जिसमें फिलहाल दो घंटे तक लग जाते हैं।

    क्या है प्रोजेक्ट
    ग्रेटर नोएडा के सूरजपुर से फोर लेन रोड बनाकर प्रताप विहार के पास जोड़ने के प्रोजेक्ट पर सात साल से ग्रेनो अथॉरिटी और जीडीए मिलकर काम कर रहे हैं। 14 किलोमीटर लंबी इस रोड को ग्रेनो अथॉरिटी ने पांच साल पहले अपने विकास क्षेत्र में करीब 12 किमी. तक बना दिया। बाकी दो किमी. रोड बनाकर उसे प्रताप विहार के सामने एनएच-24 से जोड़ने का जिम्मा जीडीए पर है। जीडीए इस प्रोजेक्ट पर करीब 10 करोड़ रुपये खर्च कर रहा है। लगभग पांच करोड़ रुपये पहले ही जारी हो चुके हैं।

    500 मीटर का हर्डल
    जीडीए को 31 दिसंबर 2012 तक यह प्रोजेक्ट पूरा करने का टारगेट मिला है। इस प्रोजेक्ट की राह में सबसे बड़ी परेशानी उन लोगों से थी, जिनके मकान रोड के एरिया में आ रहे थे। सिद्धार्थ विहार के पास राहुल विहार में करीब 40 लोगों के घर इस रोड के एरिया में आ रहे थे। ग्रेनो अथॉरिटी ने इन लोगों के लिए पांच एकड़ जमीन दे दी है। इस तरह रोड के लिए अब जीडीए के पास जमीन आ चुकी है।

    कुल 14 किलोमीटर में से अब 13.50 किलोमीटर रोड बन चुकी है। बाकी करीब 500 मीटर रोड बनाने के लिए जीडीए मिट्टी भराव कर चुका है। जीडीए की कोशिश में है कि 26 अक्टूबर से पहले कम से कम 500 मीटर रोड भले ही सिंगल बने , उसे ट्रैफिक के लिए खोल दिया जाए।

    hope this time it will be completed.



    Is time toh ye banegi jaroor. F1 race hai aur traffic yaha se divert ho sakta hai.
    CommentQuote
  • In gaur office.
    Indiabulls guys are here, they r confirming for disbursement. Also gaur guy confirm corporation bank also dispersing for gaur.

    Friends please confirm for whom I should go indiabulls r corporation bank.
    Checked with Hdfc they r accepting application but not dispersing as of now.

    Please help
    CommentQuote
  • Originally Posted by abhitmanohar
    Hi chetan. ..r they disbursing for gaur city too..also how time they took for processing

    Hi... I am not sure about gaur but i think they are disbursing for gaur also bt not all GC projects. You can go to corporation bank preet vihar branch check this out with manager over there,i think she ll b the rite person 2 tell. If u want u can take my reference.
    CommentQuote
  • Originally Posted by Deep2605
    In gaur office.
    Indiabulls guys are here, they r confirming for disbursement. Also gaur guy confirm corporation bank also dispersing for gaur.

    Friends please confirm for whom I should go indiabulls r corporation bank.
    Checked with Hdfc they r accepting application but not dispersing as of now.

    Please help


    All private banks are making us fool to gain processing fees they are making money but not doing disbursement, just ask to bank agent to share any 2-3 buyers contact no. with you who actually got disbursement amount, believe me after this he will not say a single word to you.
    CommentQuote
  • Good one

    Originally Posted by del_sanju
    Sarre labour toh ab apne hometown laut rhe honge. Festival season hai:bab (50):

    In farmers ko hi MNREGA ke tahat job de do labour ki. Kuch toh kaam karenge. time pass nhi ho rha inka. Manveer bhati ko white helmet wali job.


    Superb sanju Bhai.....
    Very well said..

    Anurag
    CommentQuote
  • Good one

    Originally Posted by del_sanju
    Sarre labour toh ab apne hometown laut rhe honge. Festival season hai:bab (50):

    In farmers ko hi MNREGA ke tahat job de do labour ki. Kuch toh kaam karenge. time pass nhi ho rha inka. Manveer bhati ko white helmet wali job.



    Superb sanju Bhai.....
    Very well said..

    Anurag
    CommentQuote
  • Kiyu le rahe ho bechaaro ki


    CommentQuote
  • Pls help the needy person

    Pls help this needy girlb by spreading this poster as much u can
    Attachments:
    CommentQuote