पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16356 Replies
Sort by :Filter by :
  • Originally Posted by cookie
    Enough of these launches ...
    Had hai yarr.... kya ho raha ye??


    Pata nahin yaar, its actually mind boggling.
    CommentQuote
  • HI,

    if any1 booked recently n paid 10 cent what are the builder saying for the next paymnt? next paymnt of say 30 cent is generally in 60 days. So wat dey saying?

    bank financing or not for them.?

    New thread hv been created for new project m n sure gaur saundaryam ya amarapali verona me toh kisi ne lia hi hoga. So guys pls share
    CommentQuote
  • Originally Posted by leo1609
    Pata nahin yaar, its actually mind boggling.



    I think gaur is doing the same type scam like 2g scam. Itna land le lia n now selling at higher rate (offcourse-rate r high) to small one
    CommentQuote
  • Originally Posted by del_sanju
    I think gaur is doing the same type scam like 2g scam. Itna land le lia n now selling at higher rate (offcourse-rate r high) to small one


    are sanju bhai, 2g mein to wo choti companies ne license liye hi bechne ke liye the but yahan gaur may has other tactics .... shayad yahan mehnge mein land bech-ke kahin aur khareed rahe honge zameen ki saste me utha lo, ya kya pata paise jama karwa rahe ho, abhi to poori city basani as they have shown in GaurCity master plan :D
    CommentQuote
  • Originally Posted by del_sanju
    I think gaur is doing the same type scam like 2g scam. Itna land le lia n now selling at higher rate (offcourse-rate r high) to small one


    Gaur ko location ka advantage hai .. jab bina construction kiye hi jameen bech ke paisa mil raha hai to kyu 3-4 saal tak construction karke dimag ka dahi kare? abhi bech ke paisa kama lo.

    Dhyan dene wali baat ye hai ki vo Gaur city2 se picha chuda raha hai .. aur Gaur saundaryam ko NE ka pehla luxury project bata ke bech raha hai.

    Gaurcity2 me 10000 flat bana ke jitna paisa milega shayad utna hi vo Saundaryam ke thode se flat bana ke aur Jameen bech ke bana lega.

    Bottom line is that Gaur is not interested in low margin business.
    CommentQuote
  • Originally Posted by Sunder_Lal
    Gaur ko location ka advantage hai .. jab bina construction kiye hi jameen bech ke paisa mil raha hai to kyu 3-4 saal tak construction karke dimag ka dahi kare? abhi bech ke paisa kama lo.

    Dhyan dene wali baat ye hai ki vo Gaur city2 se picha chuda raha hai .. aur Gaur saundaryam ko NE ka pehla luxury project bata ke bech raha hai.

    Gaurcity2 me 10000 flat bana ke jitna paisa milega shayad utna hi vo Saundaryam ke thode se flat bana ke aur Jameen bech ke bana lega.

    Bottom line is that Gaur is not interested in low margin business.


    ye toh ab sure hai ki gaur existing buyers ke rate nhi badega kabhi bhi. FAR Badadi, new GC me loading bada di.+ land sell kr dia. Acha bhi hai. time par deliver toh karega.
    CommentQuote
  • Originally Posted by desmataks
    bhaisaab kya soch kar wahan par book karwaya...hame toh bhi batao iske pro and cons..... i heard its first residential project of builder...so isn't it risky?

    desmataksjee do din pahle HABITECH PANCHTATVA ke bare mein aapke pro-cons ka jawab nahi de saka tha. jab maine ye flat book kiya tha tba size tha 895. baad mein size kar diya gaya 940. room size jas ke tas hi hain. teen balcony mein 1-1 feet size adjust kar diya gauya. 45 s.ft. ke pase badh gaye. is trah pro cons mein badl gaya. maine isliye bhi book kiya tha kyonki 12X10 ke do bedroom, lagbhag 11X17 ka drawing/dining room, 8X6 ka kitchan, 5X7/5X6 ke bathroom aur 5 feet wide balcony thee. itna to koi 1000 s.ft. mein bhi nahi deta hai, usne 895 s.ft. mein diya. abhi 940 hone ke wabjood iske room size auron se behtar hain. phir iske jyadatar flats size 3bhk-4bhk 2800 s.ft. tak hain. isse kam flat banege aur kam log rahenge. bus dikaat keemat badhne se aa rahi hai 45 s.ft. ke hisab se. doosra pro yeh tha ke yeh pahele aur doosre golchakkar par hone wali bhidbhad se door tisare golckaar par hai. saamne commercial belt hai aur uske picche ecotech industry. bgal mein amrapali dream city ke villa. phir yes techzone mein hai. panchtatva ko kai member off location aur pehala residential project batta rahe hain. yeh aaj kuch had tak sahi hai. isliye man mein duvidha pada hui, lekin eke-doo members ne tension nahi lene ko kaha aur project mein bane rahane ko kha. jab area devlop ho jaayega to pahle golchakkar se 3-4 KM kee doori jaya nahi lagegi. aakhir panchtatava se aage sector 2-3 aur usese agge5 KM door sector 10-11-12 mein bhi to char-panch project aa hi rahe hain. pata kiya hai is builder ne g.noida mein studio appt.mall banaye hai.
    CommentQuote
  • Originally Posted by leo1609
    Sanju - another project launched in GC2 - by the name of Flora.


    Originally Posted by cookie
    Enough of these launches ...
    Had hai yarr.... kya ho raha ye??


    Originally Posted by leo1609
    Pata nahin yaar, its actually mind boggling.


    Originally Posted by del_sanju
    I think gaur is doing the same type scam like 2g scam. Itna land le lia n now selling at higher rate (offcourse-rate r high) to small one


    Originally Posted by irahulsingh
    are sanju bhai, 2g mein to wo choti companies ne license liye hi bechne ke liye the but yahan gaur may has other tactics .... shayad yahan mehnge mein land bech-ke kahin aur khareed rahe honge zameen ki saste me utha lo, ya kya pata paise jama karwa rahe ho, abhi to poori city basani as they have shown in GaurCity master plan :D


    I remember in one society in mumbai, in which 3 blocks were built by one builder and 1 block by another builder, after RTM, the maintainance was in mess. There were issues like who will control the clubhouse....... and which group will have ownership of maintainance.

    ...............NOW, the way things are going on in GaurCity,........The KHICHRI..... of so many builders ....... after RTM .... it will surely face same kind of issues........
    CommentQuote
  • Originally Posted by Sunder_Lal
    Gaur ko location ka advantage hai .. jab bina construction kiye hi jameen bech ke paisa mil raha hai to kyu 3-4 saal tak construction karke dimag ka dahi kare? abhi bech ke paisa kama lo.

    Dhyan dene wali baat ye hai ki vo Gaur city2 se picha chuda raha hai .. aur Gaur saundaryam ko NE ka pehla luxury project bata ke bech raha hai.

    Gaurcity2 me 10000 flat bana ke jitna paisa milega shayad utna hi vo Saundaryam ke thode se flat bana ke aur Jameen bech ke bana lega.

    Bottom line is that Gaur is not interested in low margin business.


    Till a 10-15 years ago Gaur was building builder floors in ghaziabad....... ...............graduated into making group housing societies............

    ....................GaurCity was their first big project. .......... Before that they had no big project of that magnitude................

    ...................After Noida extenstion crisis............

    ............................... they realized that they have chewed more than they could swallow ........... .
    ..................so the need for risk minimisation

    ....................and.............what better way to do that than by selling land / FAR partially in GaurCity .......... to other builders................... this is partial divestment (in GaurCity,......their most ambitious project ,..till date...)

    ....................... IF they were so bullish in great future of Noida extension / GaurCity ............. they wont' be sharing it with other builders ....... by partial divestment in their own baby (GaurCity) .........

    .....................they are trying to reduce their financial exposure in their largest and most ambitious project (GaurCity)................

    BTW Gaur Saundaryam is being marketed as luxury project (read high margin project) ........... but its size is nowhere near to GaurCity..................

    ...............Hence, even with higher margins, its profitability will be nowhere near to GaurCity.
    CommentQuote
  • ग्रेनो वेस्ट व आसपास किसान आज बंद कराएंगे निर्माण
    Updated on: Wed, 24 Oct 2012 07:28 PM (IST)

    संवाददाता, ग्रेटर नोएडा : अपनी मांगों को लेकर किसान ग्रेटर नोएडा वेस्ट समेत आसपास के क्षेत्रों में बृहस्पतिवार को बिल्डरों व प्राधिकरण का निर्माण कार्य बंद कराएंगे। निर्माण कार्य बंद कराने को लेकर किसानों ने बुधवार कई गांवों में जनसंपर्क कर अपनी रणनीति तैयार की। उधर, प्राधिकरण ने किसानों को अपने फैसले पर पुनर्विचार करने की अपील की है।

    निर्माण कार्य बंद कराने को लेकर किसान संघर्ष समिति के नेतृत्व में किसानों ने तुस्याना, सैनी, हैबतपुर, इटैड़ा, रोजा याकूबपुर और बिसरख समेत दर्जनों गांवों में जनसंपर्क किया। किसानों ने कहा कि पूरे ग्रेटर नोएडा क्षेत्र में निर्माण कार्य बंद कराया जाएगा। इसके लिए अलग-अलग टीम गठित की गई है। किसानों ने कहा कि जब तक उनकी मांग पूरी नहीं हो जाती कोई भी निर्माण कार्य नहीं होने दिया जाएगा।

    किसानों की शिकायत है कि मास्टर प्लान मंजूर हुए दो माह बीत गया है, लेकिन अब तक प्राधिकरण ने सभी गांवों के किसानों को अतिरिक्त मुआवजा नहीं दिया है, जबकि प्राधिकरण ने 24 अक्टूबर तक 39 गांवों के सभी किसानों को अतिरिक्त मुआवजा देने की बात कही थी। दस फीसद विकसित भूखंड देने पर प्राधिकरण अभी कोई विचार नहीं कर रहा है।

    वहीं, प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी रमा रमण ने किसानों से अपील करते हुए अपने फैसले पर पुनर्विचार करने के लिए कहा है। उन्होंने कहा कि बार-बार निर्माण कार्य रोकने से शहर के विकास पर इसका असर पड़ेगा। निर्माण कार्य बंद होने से बिल्डर प्राधिकरण को किस्त देना बंद कर देंगे। इससे मुआवजा वितरण का कार्य प्रभावित होगा। शहर की छवि भी खराब होगी। सीईओ ने कहा कि किसानों की समस्याओं को लेकर प्राधिकरण गंभीर है। सबसे ज्यादा ध्यान गांवों के विकास, मुआवजा वितरण व आबादी निस्तारण पर दिया जा रहा है। किसानों को थोड़ा सब्र रखना होगा।
    CommentQuote
  • Originally Posted by ragh_ideal
    ग्रेनो वेस्ट व आसपास किसान आज बंद कराएंगे निर्माण
    Updated on: Wed, 24 Oct 2012 07:28 PM (IST)

    संवाददाता, ग्रेटर नोएडा : अपनी मांगों को लेकर किसान ग्रेटर नोएडा वेस्ट समेत आसपास के क्षेत्रों में बृहस्पतिवार को बिल्डरों व प्राधिकरण का निर्माण कार्य बंद कराएंगे। निर्माण कार्य बंद कराने को लेकर किसानों ने बुधवार कई गांवों में जनसंपर्क कर अपनी रणनीति तैयार की। उधर, प्राधिकरण ने किसानों को अपने फैसले पर पुनर्विचार करने की अपील की है।

    निर्माण कार्य बंद कराने को लेकर किसान संघर्ष समिति के नेतृत्व में किसानों ने तुस्याना, सैनी, हैबतपुर, इटैड़ा, रोजा याकूबपुर और बिसरख समेत दर्जनों गांवों में जनसंपर्क किया। किसानों ने कहा कि पूरे ग्रेटर नोएडा क्षेत्र में निर्माण कार्य बंद कराया जाएगा। इसके लिए अलग-अलग टीम गठित की गई है। किसानों ने कहा कि जब तक उनकी मांग पूरी नहीं हो जाती कोई भी निर्माण कार्य नहीं होने दिया जाएगा।

    किसानों की शिकायत है कि मास्टर प्लान मंजूर हुए दो माह बीत गया है, लेकिन अब तक प्राधिकरण ने सभी गांवों के किसानों को अतिरिक्त मुआवजा नहीं दिया है, जबकि प्राधिकरण ने 24 अक्टूबर तक 39 गांवों के सभी किसानों को अतिरिक्त मुआवजा देने की बात कही थी। दस फीसद विकसित भूखंड देने पर प्राधिकरण अभी कोई विचार नहीं कर रहा है।

    वहीं, प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी रमा रमण ने किसानों से अपील करते हुए अपने फैसले पर पुनर्विचार करने के लिए कहा है। उन्होंने कहा कि बार-बार निर्माण कार्य रोकने से शहर के विकास पर इसका असर पड़ेगा। निर्माण कार्य बंद होने से बिल्डर प्राधिकरण को किस्त देना बंद कर देंगे। इससे मुआवजा वितरण का कार्य प्रभावित होगा। शहर की छवि भी खराब होगी। सीईओ ने कहा कि किसानों की समस्याओं को लेकर प्राधिकरण गंभीर है। सबसे ज्यादा ध्यान गांवों के विकास, मुआवजा वितरण व आबादी निस्तारण पर दिया जा रहा है। किसानों को थोड़ा सब्र रखना होगा।



    wahi pura kisaano ka raag................ aur wahi purani type ki khabar !
    CommentQuote
  • IN NE
    Farmers :bab (59):
    investor
    builder
    and netas:bab (4):
    Originally Posted by ManGupta
    wahi pura kisaano ka raag................ aur wahi purani type ki khabar !
    CommentQuote
  • Originally Posted by ManGupta
    I remember in one society in mumbai, in which 3 blocks were built by one builder and 1 block by another builder, after RTM, the maintainance was in mess. There were issues like who will control the clubhouse....... and which group will have ownership of maintainance.

    ...............NOW, the way things are going on in GaurCity,........The KHICHRI..... of so many builders ....... after RTM .... it will surely face same kind of issues........



    Why this happened?

    why various small projects are (Vedantam/Exotica/JNC the park/JKGpalm court/Palm olampia) exist between Gaur city-I and Gaur city-II.

    Why Gaurson didn't go for same land or missed same and taken awkward location behind these projects for Gaur city-II and remaining towers like GC-16.

    Is there any one knows or can give some view?
    CommentQuote
  • Originally Posted by singhpa
    IN NE
    Farmers :bab (59):
    investor
    builder
    and netas:bab (4):


    Sahi hai ......

    NE ke pe jitna bho boojh (load) dalna hai daal do,...... BBA ........ nahi builders ko blank check sign karke de diya hai ......
    CommentQuote
  • Originally Posted by ragh_ideal
    Why this happened?

    why various small projects are (Vedantam/Exotica/JNC the park/JKGpalm court/Palm olampia) exist between Gaur city-I and Gaur city-II.

    Why Gaurson didn't go for same land or missed same and taken awkward location behind these projects for Gaur city-II and remaining towers like GC-16.

    Is there any one knows or can give some view?



    Those small builders have one of the best location. I love vedantam location.
    CommentQuote