पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • Originally Posted by Pradyot1315sqf
    8000 - 10000 in case NE get not resolved. Jab NE banega hi nahi Tou phir supply hai kaha?



    NE bane ya na bane, 8000-10000 is unrealistic for any project unless it is really some posh location and luxury apartment.
    India jaise desh me jaha 90% janta ki hasiyat 2000 rs ke bhav ka flat lene ki bhi nahi hai vaha agar NE jaise high density area me 10000 rs rate pahunche to bhagwan hi malik hai.

    Agar 2008 jaisa recession dobara aa gaya to us rate pe kharidne wale suicide karenge.
    CommentQuote
  • Originally Posted by Pradyot1315sqf
    8000 - 10000 in case NE get not resolved. Jab NE banega hi nahi Tou phir supply hai kaha?


    Greater Faridabad, Manesar, Sohna Road, Yamuna expressway, Greater Noida, Expressway...JP wish town. Kuch log to agra tak bhi supply karne ko ready hai ;)
    CommentQuote
  • 8000-10000 psf means a 1000 psf 2bhk flat will cost 80-100 Lakhs. Kitna loan dega bank 40 lakhs??Or woh bhi kitni salary par??
    CommentQuote
  • like greater noida lead the rise in real estate in delhi/ india in the year 2004, i feel NE will lead the burst of this boom in delhi/ india
    CommentQuote
  • Originally Posted by ruchika1
    like greater noida lead the rise in real estate in delhi/ india in the year 2004, i feel NE will lead the burst of this boom in delhi/ india



    gr. noida rise was only once and now the rate has been stagnant...

    a 3 bhk 1500 sqft has a rental amount of 8000/- pm...

    so gr noida a big NO NO for investment... but yes for living a good life zindagi at low cost...
    CommentQuote
  • Originally Posted by Sunder_Lal
    NE bane ya na bane, 8000-10000 is unrealistic for any project unless it is really some posh location and luxury apartment.
    India jaise desh me jaha 90% janta ki hasiyat 2000 rs ke bhav ka flat lene ki bhi nahi hai vaha agar NE jaise high density area me 10000 rs rate pahunche to bhagwan hi malik hai.

    Agar 2008 jaisa recession dobara aa gaya to us rate pe kharidne wale suicide karenge.



    Sunder ji pls check the statement. My pov is rate of present on going projects at noida (i m not talking about NE) will be 8000 - 10000 in 2015 - 2016 if ... if NE get not resolve in mean time.
    CommentQuote
  • Originally Posted by akalmand
    gr. noida rise was only once and now the rate has been stagnant...

    a 3 bhk 1500 sqft has a rental amount of 8000/- pm...

    so gr noida a big NO NO for investment... but yes for living a good life zindagi at low cost...


    i know. rates r stagnant there since last 5 years and people r badly stuck.
    what i wanted to state is that the beginning of rise in property prices in delhi/india was concurrent with the rise in greater noida in around 2004
    CommentQuote
  • न्यू यॉर्क टाइम्स में छाया ग्रेटर नोएडा

    नवभारत टाइम्स | Oct 30, 2012, 02.36AM IST
    आदेश भाटी
    ग्रेटर नोएडा।। एफ -1 ने ग्रेटर नोएडा को देश ही नहीं , बल्कि विदेशों में भी खास पहचान दिलाई है। विदेशी मीडिया में शहर और फार्म्युला -1 के सफर की सक्सेस स्टोरी छापी जा रही हैं। अमेरिका के प्रसिद्ध अखबार ' द न्यू यॉर्क टाइम्स ' ने ' हाउ इंडिया मेड इट्स ग्रांड प्रिक्स ड्रीम कम ट्रूू ' के नाम से बीआईसी और ग्रेटर नोएडा के बारे में विस्तार से छापा है। वहीं उद्योग संगठन एसोचैम का आंकलन है कि अगले 10 सालों में एफ -1 से 90 हजार करोड़ रुपये से अधिक की इनकम होगी।
    न्यूयार्क टाइम्स ने बीआईसी में एफ -1 ट्रैक बनने और इसको लेकर हुए सभी प्रयासों को विस्तार से जगह दी है। अखबार में कहा गया है कि किस तरह एक ऐसे देश में जहां गरीबी उन्मूलन व विकास को प्राथमिकता दी जा रही हो , वहां फॉर्म्युला -1 जैसे आयोजन के लिए परमीशन दी गई। इसमें विजय माल्या , विकी चंडोक और नारायण कार्तिकेयन के प्रयासों का भी जिक्र किया गया है। अन्य विदेशी अखबारों में भी एफ -1 और ग्रेटर नोएडा की चर्चा छाई है। विदेशी मीडिया में दनकौर के ग्रामीणों के इंटरव्यू तक छापे गए हैं।

    एसोचैम का अनुमान है कि देश में फार्म्युला -1 रेस के आयोजन से अगले 10 साल में 90 हजार करोड़ से अधिक की आय होगी। इसके साथ ही व्यावसायिक रूप से ट्रेंड कर्मियों के लिए 15 लाख नए रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे। टिकटों की बिक्री , विज्ञापन और अतिथियों से जुडी़ गतिविधियों से 10 करोड़ रुपये की आय होगी। वहीं ग्रेटर नोएडा में कमर्शल व रेजीडेंशल भवनों की कीमतें और भी हाई होंगी।
    CommentQuote
  • Rate 5000rs tab hoga jab metro connectivity ho jaegi n kuch project deliver ho jayenge. N apart from 7-8 builders other are small builders their credibility is also nt known. who will buy in them at 5000k?

    Also if v see economy house ki jagah par ab luxury house launch kr rhe hai major builders. 900sqft ka flat 5000-6000 rate me middle class wala le payega?


    4000- 4500 rs is wat i think.

    but m end user pahle ye flat shanti se ban jaye, legal issue hath jaye, kissan kush ho jaye, neta bhi kush aur humme flat mil jaye.
    CommentQuote
  • Originally Posted by anshuman1826
    Hi Chetan

    I got my loan approved from Corporation bank, noida, bank is asking for 10300 worth stamp papers for mortgage fees.
    Please confirm whether you have paid that.

    Thanks



    Hi

    Please answer my query
    CommentQuote
  • Originally Posted by ragh_ideal
    न्यू यॉर्क टाइम्स में छाया ग्रेटर नोएडा

    नवभारत टाइम्स | Oct 30, 2012, 02.36AM IST
    आदेश भाटी
    ग्रेटर नोएडा।। एफ -1 ने ग्रेटर नोएडा को देश ही नहीं , बल्कि विदेशों में भी खास पहचान दिलाई है। विदेशी मीडिया में शहर और फार्म्युला -1 के सफर की सक्सेस स्टोरी छापी जा रही हैं। अमेरिका के प्रसिद्ध अखबार ' द न्यू यॉर्क टाइम्स ' ने ' हाउ इंडिया मेड इट्स ग्रांड प्रिक्स ड्रीम कम ट्रूू ' के नाम से बीआईसी और ग्रेटर नोएडा के बारे में विस्तार से छापा है। वहीं उद्योग संगठन एसोचैम का आंकलन है कि अगले 10 सालों में एफ -1 से 90 हजार करोड़ रुपये से अधिक की इनकम होगी।
    न्यूयार्क टाइम्स ने बीआईसी में एफ -1 ट्रैक बनने और इसको लेकर हुए सभी प्रयासों को विस्तार से जगह दी है। अखबार में कहा गया है कि किस तरह एक ऐसे देश में जहां गरीबी उन्मूलन व विकास को प्राथमिकता दी जा रही हो , वहां फॉर्म्युला -1 जैसे आयोजन के लिए परमीशन दी गई। इसमें विजय माल्या , विकी चंडोक और नारायण कार्तिकेयन के प्रयासों का भी जिक्र किया गया है। अन्य विदेशी अखबारों में भी एफ -1 और ग्रेटर नोएडा की चर्चा छाई है। विदेशी मीडिया में दनकौर के ग्रामीणों के इंटरव्यू तक छापे गए हैं।

    एसोचैम का अनुमान है कि देश में फार्म्युला -1 रेस के आयोजन से अगले 10 साल में 90 हजार करोड़ से अधिक की आय होगी। इसके साथ ही व्यावसायिक रूप से ट्रेंड कर्मियों के लिए 15 लाख नए रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे। टिकटों की बिक्री , विज्ञापन और अतिथियों से जुडी़ गतिविधियों से 10 करोड़ रुपये की आय होगी। वहीं ग्रेटर नोएडा में कमर्शल व रेजीडेंशल भवनों की कीमतें और भी हाई होंगी।



    Itni income possible hai.???? Vaise F1 is like golf for me in India- Ameero ke chochale. Angreez pak chuke hai aur ab bharat par iska boj dal rhe hai. Sahara ki gadi bhi angreej chala rha tha.

    Koi Night safari hoti, ya aisa kuch toh tourism me acha hota.
    CommentQuote
  • Originally Posted by del_sanju
    Rate 5000rs tab hoga jab metro connectivity ho jaegi n kuch project deliver ho jayenge. N apart from 7-8 builders other are small builders their credibility is also nt known. who will buy in them at 5000k?

    Also if v see economy house ki jagah par ab luxury house launch kr rhe hai major builders. 900sqft ka flat 5000-6000 rate me middle class wala le payega?


    4000- 4500 rs is wat i think.

    but m end user pahle ye flat shanti se ban jaye, legal issue hath jaye, kissan kush ho jaye, neta bhi kush aur humme flat mil jaye.


    4000-4500 is not far away.....once final decision come from SC,very same same day we will see few websites with 3700DP-4100CLP.

    but this rate will be for builder not for buyer(Resale),once few projects would reach on completion stage(1.5years)we can see high appreciation once again.

    Mean while only do pray.....pray.....and pray.
    CommentQuote
  • If you are buught at 1600 psf, you may expect 4000 psf till RTM. But if someone buying at 3200 and expecting it to become 5000 psf in few years, then it is difficult.
    Buying a house of 50 lakhs, someone need loan of 40 lakhs+ 10 lakhs in hand. Majority of end users can't afford.
    CommentQuote
  • Night safari, Golf course and F1 Race sab bakbas hai. 2 saal se race ho rahi hai, Kitna bhala ho gaya greater Noida ka?? Pehle brokers bolte the kie Sirji, ek baar race ho jayegi, fir dekhna rates. Same hold true for Night safari. Yaha par banda din mai safe hai nahi, Raat ko jungle mai to bagwaan hi malik.
    GNA authority first try for Metro connectivity to NE and greater noida.
    CommentQuote
  • Originally Posted by hindustan
    Night safari, Golf course and F1 Race sab bakbas hai. 2 saal se race ho rahi hai, Kitna bhala ho gaya greater Noida ka?? Pehle brokers bolte the kie Sirji, ek baar race ho jayegi, fir dekhna rates. Same hold true for Night safari. Yaha par banda din mai safe hai nahi, Raat ko jungle mai to bagwaan hi malik.
    GNA authority first try for Metro connectivity to NE and greater noida.


    Night safari se kam se kam greenery toh hoti n nt pollution.n ticket toh sasti hoti. day ho ya nite school, college ke bache picnic toh manaenge.
    CommentQuote