पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • CommentQuote
  • Originally Posted by del_sanju
    WAt this traffic bulb?


    U turn .. similar to what u see in several places in noida
    CommentQuote
  • Originally Posted by ragh_ideal
    bhai yahi "vidhi ka vidhan hai".;)


    That "vidhi ka vidhan " be waited from long time!!!

    Now it's all SC vidhan,with consult of gov...buyers are just spectators!!!!;)
    CommentQuote
  • BTW, Any idea when is SC hearing for NE??
    CommentQuote
  • Originally Posted by hindustan
    BTW, Any idea when is SC hearing for NE??


    Bhai .. don't be worried about SC ... SC can not do damage which political things can do. If you remember HC did not stay work for even a single day during trial, we waited for 11 months not because of dispute but because political people controlling NCRPB.

    Like HC, SC will also not ignore buyers but it is politics which can cause more nonsense. This Manveer bhati & company are political tools .. they will keep fingering so that issue doesn't die and in case their bosses want more drama they can revive.
    As of now no one has a political mileage to be gained so it is comparatively better. In case they see any advantage for coming elections they may try to en-cash.
    CommentQuote
  • Originally Posted by Sunder_Lal
    Bhai .. don't be worried about SC ... SC can not do damage which political things can do. If you remember HC did not stay work for even a single day during trial, we waited for 11 months not because of dispute but because political people controlling NCRPB.

    Like HC, SC will also not ignore buyers but it is politics which can cause more nonsense. This Manveer bhati & company are political tools .. they will keep fingering so that issue doesn't die and in case their bosses want more drama they can revive.
    As of now no one has a political mileage to be gained so it is comparatively better. In case they see any advantage for coming elections they may try to en-cash.



    Now the urban development minister has also been changed. Maken is new minister. Ab vo bhi kuch issue karenge
    CommentQuote
  • UP-Down is NE story. Ek din good news and 2nd day bad news. :)
    CommentQuote
  • Please upload some pics of NE...wats going on?
    CommentQuote
  • We are stuck and builders are planning for big Diwali :(

    Noida Extension : Builder planning to sell 50 thousands flat near Diwali
    CommentQuote
  • not sure if this has been uploaded before or not .. here is the master plan whose approval in august had caused sudden price hike in NE!

    http://www.greaternoidaauthority.in/mpsm.jpg
    CommentQuote
  • Originally Posted by Manpreetk
    We are stuck and builders are planning for big Diwali :(

    Noida Extension : Builder planning to sell 50 thousands flat near Diwali


    bhai its good ki aur log bhi phans jaye NE mein ... SC will be sympathetic then to the lakhs of buyers maybe while giving its judgement ! :D
    CommentQuote
  • Builders sucking blood. See superteck. Ab to Arora G ki photo bhi Drakula jaisi lagti hai. I have unit in Gaur so saved from his juice shop (blood wali)
    CommentQuote
  • Originally Posted by trialsurvey
    not sure if this has been uploaded before or not .. here is the master plan whose approval in august had caused sudden price hike in NE!

    http://www.greaternoidaauthority.in/mpsm.jpg


    So another 10 sectors in NE makred for residential means more than 4-5 lakh units more in coming future

    pls see the map and residential area marked in yellow in NE
    CommentQuote
  • Originally Posted by Manpreetk
    So another 10 sectors in NE makred for residential means more than 4-5 lakh units more in coming future

    pls see the map and residential area marked in yellow in NE


    :) yes .. thats the area where new projects like SKA green mansion, victory one etc etc have already started launching ... many more to come

    its on the 130m wide road ... ahead of 3rd gol chakkar
    CommentQuote
  • Originally Posted by Manpreetk
    So another 10 sectors in NE makred for residential means more than 4-5 lakh units more in coming future

    pls see the map and residential area marked in yellow in NE


    Bhai .. isme se 2-4 sector to kisano ko 10% plot dene me hi nikal jayenge.

    Aur jab tak NE nahi bikta builder naya kuch launch nahi hone denge .. varna NE ke rate fir niche jayenge aur CR ki to aisi taisi ho jayegi.
    CommentQuote