पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • Originally Posted by del_sanju
    I think it ws discussed here that its nt the judgement date it is the date for last date for petition.


    mazaa aa jaye agar tower 14-15 floor tak khade ho jayen and uske baad SC bole ki cancelled ! :D
    CommentQuote
  • Originally Posted by trialsurvey
    mazaa aa jaye agar tower 14-15 floor tak khade ho jayen and uske baad SC bole ki cancelled ! :D


    tumhare chakoo ghusa ke main khudkushi kar loonga.
    CommentQuote
  • Originally Posted by Amit Dang
    Aate dal ka bhav tub pata chaleya ....jub resale start hogi!!! All in air in NE till now.;)


    Originally Posted by trialsurvey
    2012 - Rs 3200
    2015 - Rs 2700

    ?
    :D


    Bhai logo .. builder ghaas nahi khate hain .. unke paas bhi dimag hai. unko bhi chinta hai NE ke bahar ke project ki. Ek baar inventory finish ho jaye dhire dhire sab log resale kholenge.

    Unko to resale me bhi paisa milta hai .. aur possession ke time pe ikattha resale allow karenge to market flood ho jayega.


    Taanki fatne se pehle hi usme ched kar diya jayega. :)
    CommentQuote
  • Originally Posted by Sunder_Lal
    Bhai logo .. builder ghaas nahi khate hain .. unke paas bhi dimag hai. unko bhi chinta hai NE ke bahar ke project ki. Ek baar inventory finish ho jaye dhire dhire sab log resale kholenge.

    Unko to resale me bhi paisa milta hai .. aur possession ke time pe ikattha resale allow karenge to market flood ho jayega.


    Taanki fatne se pehle hi usme ched kar diya jayega. :)


    kyon lal ho rahey ho SARKAR, bahut dino baad baree baat bolney ka mauka mila hai, smile kartey yua kyon peeley par gaye ...
    CommentQuote
  • Dailly new builders are moving to NE. Now see the sector 15/12 NE which is far from Gaur round

    ::Cinnamon::

    Authority dont have land for farmers (10%) but lots of land for builders
    CommentQuote
  • मुआवजा बांटने के लिए 185 करोड़ जारी



    ग्रेटर नोएडा
    39 गांवों के किसानों को बढ़ा हुआ मुआवजा बांटने के लिए ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी ने 185 करोड़ रुपये की किस्त जारी कर दी है। एडीएम लैंड को निर्देश दिया गया है कि शनिवार से गांवों में कैंप लगाकर मुआवजा बांटा जाए। ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी के सीईओ रमा रमण ने बताया कि हाई कोर्ट ने 39 गांवों के किसानांे को 64 प्रतिशत बढ़ा हुआ मुआवजा देने का आदेश दिया था। अथॉरिटी करीब 1400 करोड़ रुपये मुआवजा बांट चुकी है। ढाई हजार करोड़ रुपये मुआवजा और बांटा जाना है। एडीएम लैंड को 185 करोड़ रुपये की किश्त जारी की गई है। दिवाली से पहले दूसरी किश्त भी जारी कर दी जाएगी। सीईओ ने बताया कि किसानांे को मुआवजे के चेक देने के नाम पर रिश्वत मांगने वाले बाबुओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

    nbt
    CommentQuote
  • सिटी मैजिस्ट्रेट से की शिकायत


    नोएडा : नेफोमा के बैनर तले होम बायर्स ने शुक्रवार को सेक्टर-16 स्थित एक बिल्डर कंपनी के ऑफिस में कंपनी पदाधिकारियों से मुलाकात की। मीटिंग में सिर्फ 200 रुपये प्रति स्क्वॉयर फीट के रेस्टोरेशन चार्ज हटाने पर बिल्डर कंपनी के अफसर रजामंद हुए, जबकि नेफोमा की अन्य दो मांगों पर रजामंदी नहीं बनी। इसके चलते बायर्स ने सिटी मैजिस्ट्रेट पुष्पराज सिंह से मुलाकात कर बिल्डर कंपनी के मनमाने रवैये की शिकायत की और और मामले की जांच कर समस्या दूर कराने की मांग की। नेफोमा के मेंबर सुमित सक्सेना ने बताया कि बिल्डर ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी की ओर से जारी जीरो पीरियड का भी इंटरेस्ट बॉयर्स से चार्ज कर रहा है। साथ ही अभी तक बैंकों ने प्रोजेक्ट में बुकिंग के लिए लोन की फंडिंग शुरू नहीं की है। इसके बावजूद बिल्डर कंपनी बॉयर्स पर पेमेंट का दबाव डाल रही है।




    nbt
    CommentQuote
  • Originally Posted by fritolay_ps
    Dailly new builders are moving to NE. Now see the sector 15/12 NE which is far from Gaur round

    ::Cinnamon::

    Authority dont have land for farmers (10%) but lots of land for builders


    cinnamon = daalchini :D
    CommentQuote
  • Originally Posted by trialsurvey
    cinnamon = daalchini :D



    Masala Wala becomes builder in NE:)
    CommentQuote
  • फिर भी 130 मीटर चौड़ी सड़क के निर्माण का रास्ता साफ नहीं
    Updated on: Fri, 02 Nov 2012 10:05 PM (IST)

    संवाददाता, ग्रेटर नोएडा : मास्टर प्लान 2021 एनसीआर प्लानिंग बोर्ड से मंजूर होने के बाद भी 130 मीटर चौड़ी सड़क के निर्माण का रास्ता साफ नहीं हो पाया है। अभी नहीं लगता कि सड़क का निर्माण जल्द शुरू हो पाएगा। दो गांवों की जमीन निर्माण कार्य शुरू होने में रोड़ा बनी है।

    शहर के बीचोबीच जा रही 130 मीटर चौड़ी सड़क का निर्माण 2003 में शुरू हुआ था। 26 किलोमीटर लंबी सड़क सिरसा गांव से शुरू होकर ग्रेटर नोएडा वेस्ट में जाकर पर्थला खंचर गांव के पास से नोएडा से जुड़ रही है। अक्टूबर 2011 तक सड़क का निर्माण कार्य 80 फीसद पूरा हो चुका था। मास्टर प्लान 2021 एनसीआर प्लानिंग बोर्ड से मंजूर न होने के कारण हाईकोर्ट के निर्देश पर निर्माण कार्य बंद हो गया था। एनसीआर प्लानिंग बोर्ड से मास्टर प्लान 24 अगस्त को मंजूर हो गया। 130 मीटर चौड़ी सड़क का निर्माण कार्य अभी शुरू नहीं हुआ है। खोदना खुर्द व देवला गांव में अभी सड़क का निर्माण कार्य अधूरा पड़ा है। प्राधिकरण को इन दोनों गांवों की जमीन पर कब्जा नहीं मिल पाया है। पिछले माह प्राधिकरण ने दोनों गांवों के किसानों के साथ बैठक कर जमीन खरीदने का फैसला किया था। जमीन की दर को लेकर किसानों के साथ सहमति न बन पाने के कारण प्राधिकरण निर्माण कार्य नहीं शुरू कर पा रहा है। जहां पर सड़क का निर्माण हो चुका है, वहां भी जगह-जगह पर सड़क टूट चुकी है। टूटी सड़क की मरम्मत भी प्राधिकरण नहीं कर पा रहा है। 130 मीटर चौड़ी सड़क की खासियत यह है कि शहर के बीच से गुजर रही है और अन्य सभी सड़कों को जोड़ रही है। इसलिए 130 मीटर सड़क की शहर की जीवन रेखा माना जा रहा है।

    प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी रमा रमण का कहना है कि देवला व खोदना खुर्द के किसानों से सीधे जमीन खरीदने के लिए बातचीत चल रही है। उम्मीद है कि किसान जल्द जमीन देने को तैयार हो जाएं। जमीन मिलते ही सड़क का निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा।
    CommentQuote
  • फ्लैट खरीदारों ने बिल्डर के दफ्तर पर किया हंगामा
    Noida | Last updated on: November 3, 2012 12:00 PM IST
    नोएडा। फ्लैट खरीदारों का गुस्सा एक बार फिर बिल्डर के खिलाफ फूट गया। शुक्रवार को बातचीत से कोई नतीजा न निकलने पर खरीदारों ने अर्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर के सेक्टर-16 स्थित दफ्तर पर हंगामा किया। इसके बाद सिटी मजिस्ट्रेट से भी मिले और बिल्डर की शिकायत की। नोएडा एक्सटेंशन फ्लैट ऑनर्स वेलफेयर एसोसिएशन के पदाधिकारी और दो दर्जन खरीदार सुबह करीब 11 बजे सेक्टर-16 मेट्रो स्टेशन के पास स्थित अर्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर के दफ्तर पर पहुंचे। वहां कंपनी की ओर से प्रतिनिधि तरुणा ने खरीदारों से बातचीत की। खरीदारों ने जीरो पीरियड का ब्याज न लेने, जब तक बैंक से लोन न मिलने लगे तब तक किस्त न मांगने और दस फीसदी व इससे अधिक का भुगतान कर चुके खरीदारों का फ्लैट आवंटन रद न करने की मांग की। कंपनी की तरफ से संतोषजनक जवाब न मिलने पर खरीदार नाराज हो गए और उन्होंने हंगामा करना शुरू कर दिया। करीब एक घंटे के प्रदर्शन के बावजूद कोई रिस्पांस न मिलने पर खरीदार सेक्टर-19 स्थित सिटी मजिस्ट्रेट कार्यालय चले गए। वहां सिटी मजिस्ट्रेट के समक्ष अपनी परेशानी रखी। सिटी मजिस्ट्रेट पुष्पराज सिंह ने लिखित में शिकायत लेकर बिल्डर को नोटिस जारी कर दिया है। एक सप्ताह के भीतर कंपनी प्रबंधन को कार्यालय में उपस्थित होकर जवाब देने को कहा है। सिटी मजिस्ट्रेट ने आश्वस्त किया कि बिल्डर और खरीदारों केबीच जो भी समझौता है, उसका पालन कराया जाएगा। खरीदारों को किसी तरह की दिक्कत नहीं होने दी जाएगी। इस दौरान नेफोमा के अध्यक्ष अभिषेक कुमार, स्वेता भारती, इंद्रिस गुप्ता, चेतन त्यागी, रविंदर जैन, सुमित सक्सेना आदि शामिल रहे।
    CommentQuote
  • kaha gaye sab??
    CommentQuote
  • All tired, Waiting for the new twist in the story!!!!
    CommentQuote
  • boss apne ko to lagta hi ki es raat ki subah nahi
    CommentQuote
  • lagta hai noida ex-tension ke tension kabhi ex nahi hogi.
    CommentQuote