पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • Originally Posted by del_sanju
    Guys question ws is buying at resale with 200rs charges to builder ok or not?

    not a new booking.


    If someone getting 3000psft(Resale)-200(Builder)=2800, of original booking 2000psft(paid 10-60%). then He/She must go ahead.
    CommentQuote
  • Originally Posted by Sunder_Lal
    ha ha ha ha ha ha .... 3- 4 lac unit in resale?

    Itne to flat abhi book bhi nahi hue bhai ... according to your calculation everybody who booked 1 will sale 2 flats.


    At least 60% units are hold by investors only in NE....booking to chal he rahi hai...for investors and endusers....whole area will have 5-6 L units

    Not everybody,it's investors who holds 10-15 units ....problems individuals not accept that!!!;)
    CommentQuote
  • The way cheap builders coming and FAR increased ....it will be a morden chwal in 2016 for middle,lower middle class only!!

    People who understands that now moving to Expway,noida ....with some extra budget!!!

    It's only greed of investors and problem of buyers ,to not exit even builders offer 18% intrest:)
    CommentQuote
  • ग्रेनो वेस्ट के निवेशकों की दूर नहीं हो रही दुश्वारियां
    Updated on: Sun, 04 Nov 2012 07:27 PM (IST)

    संवाददाता, ग्रेटर नोएडा : एनसीआर प्लानिंग बोर्ड से मास्टर प्लान मंजूर होने व किसानों के आंदोलन वापस लेने के बाद भी ग्रेटर नोएडा वेस्ट के निवेशकों की समस्या दूर नहीं हो रही है। निवेशकों को अभी अपनी समस्याओं को लेकर संघर्ष करना पड़ रहा है। निवेशकों के सामने समस्या बिल्डरों ने खड़ी कर दी है। बिल्डरों के कार्यालय पर निवेशक लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं। कोई सुनवाई न होने पर निवेशकों ने ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी से इस मामले में हस्तक्षेप करने की मांग रखी है।

    गौरतलब है कि अक्टूबर, 2011 में हाईकोर्ट के आदेश पर ग्रेटर नोएडा वेस्ट में निर्माण कार्य बंद होने पर एक लाख निवेशकों के आशियाने का सपना धूमिल होने लगा था। एनसीआर प्लानिंग बोर्ड से मास्टर प्लान मंजूर कराने को लेकर निवेशकों ने लंबी लड़ाई थी। 24 अगस्त को जब मास्टर प्लान मंजूर हुआ था, तब निवेशकों को लगा कि उनका सपना सच होने वाला है। इसके बाद भी निवेशकों की दुश्वारियां कम नहीं हुईं। बिल्डरों ने निवेशकों पर मनमानी करना शुरू कर दिया। दस फीसद पैसा जमा कर फ्लैट करने वाले को बिल्डरों ने नोटिस जारी करना शुरू कर दिया। ऐसे करीब एक हजार निवेशकों को बुकिंग निरस्त करने का नोटिस जारी कर दिया गया। निवेशकों से निर्माण कार्य बंद होने के दौरान ब्याज मांगा जाने लगा। नोएडा एक्सटेंशन फ्लैट ऑनर एंड मेंबर एसोसिएशन के अध्यक्ष अन्नू खान ने बताया कि बिल्डरों को प्राधिकरण ने निर्माण कार्य बंद होने के दौरान शून्य अवधि घोषित कर दिया है। इस हिसाब बिल्डरों को भी निवेशकों के लिए शून्य अवधि का लाभ देना चाहिए। पिछले तीन माह से बिल्डरों के यहां प्रदर्शन कर रहे हैं, लेकिन बिल्डर उनकी मांग पर कोई विचार नहीं कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी रमा रमण से मांग की है कि इस मामले में हस्तक्षेप करके बिल्डरों की मनमानी पर रोक लगाएं। प्राधिकरण ने अगर इस मामले में हस्तक्षेप नहीं किया, तो प्राधिकरण कार्यालय पर निवेशक प्रदर्शन करेंगे।
    CommentQuote
  • विजयनगर के पास बनेगा अंडर पास
    Updated on: Sun, 04 Nov 2012 08:10 PM (IST)

    संवाददाता, ग्रेटर नोएडा : ग्रेटर नोएडा से गाजियाबाद जाने वाले लोगों को भविष्य में एनएच-24 पर नहीं चढ़ना पड़ेगा। लोग अंडरपास से होते हुए सीधे शहर में प्रवेश करेंगे। इससे जाम से भी निजात मिलेगी। एक माह के अंदर अंडरपास बनकर तैयार हो जाएगा।

    गौरतलब है कि ग्रेटर नोएडा को गाजियाबाद जोड़ने के लिए गत सप्ताह शुरू की गई सड़क पर वाहनों की बड़ी संख्या की वजह से विजयनगर के पास जाम की स्थिति बनने लगी है। यह सड़क सूरजपुर पुलिस लाइन व न्यू हौलेंड कंपनी से ग्रेटर नोएडा वेस्ट होते हुए विजयनगर से जुड़ती है। सड़क के शुरू होने से लोगों को सहुलियत तो हुई है, लेकिन साथ ही विजयनगर के पास एनएच-24 पर जाम भी लगने लगा है। पिछले दिनों ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीईओ रमा रमण ने दौरा कर हालात का जायजा लिया था। इस सड़क के चालू होने के साथ इससे सफर करने वाले लोग मात्र बीस मिनट में गाजियाबाद पहुंच जाते हैं, इसलिए सड़क पर वाहनों का आवागमन अधिक हो रहा है।

    जाम हो जाएगा छूमंतर

    प्राधिकरण के ओएसडी योगेंद्र यादव ने बताया कि गाजियाबाद विकास प्राधिकरण (जीडीए) के साथ बैठक कर समस्या पर विचार किया गया। गाजियाबाद विकास प्राधिकरण (जीडीए) ने विजयनगर के समीप डूडाहेड़ा गांव के पास अंडर पास बनाने का निर्णय किया है। अंडर पास के चालू होने के बाद ग्रेटर नोएडा की तरफ से जाने वाले वाहनों को एनएच-24 पर नहीं चढ़ना पड़ेगा। सिर्फ ग्रेटर नोएडा से दिल्ली की तरफ जाने वाले वाहन ही सड़क पर चढ़ेंगे। इससे सड़क पर जाम की स्थिति नहीं बनेगी। जाम ग्रेटर नोएडा से गाजियाबाद जाने वाले वाहनों की वजह से लग रहा है। अंडरपास बनते ही लोगों को जाम से निजात मिल जाएगी।
    CommentQuote
  • Originally Posted by Amit Dang
    At least 60% units are hold by investors only in NE....booking to chal he rahi hai...for investors and endusers....whole area will have 5-6 L units

    Not everybody,it's investors who holds 10-15 units ....problems individuals not accept that!!!;)


    bhai doesn't matter 10- 15 hold ya 100-150 total amount of resale will not be 3 lacs in any case.

    NE ki price itni kam pe open hui thi ki end user aur first time investor ne bahut kharida hai.
    I have seen/heard/read many people from Jammu/chattisgarh/bihar/Karnataka/Maharashtra/US/UK/Europe/Singapore etc investing or (rather buying) in NE. Many of them are first timers .. and they do not intend to sell on first day resale opens.

    There are lot of investor/buyers who are having a long term outlook, they will prefer to let it go on rent and pay EMI from that. even a rent of 8-10 thousand will compensate big part of EMI as flats were really cheap initially.

    And don't forget .. after 3 years the Metro/night safari type news will be more believable .. those who hold 10-15 units will en-cash that. If you think resale will make price go down believe me brother you will be disappointed.
    CommentQuote
  • Originally Posted by Sunder_Lal
    b those who hold 10-15 units will en-cash


    10-15 units by single investor, kuch jyada nahi ho gaya kya? :bab (59):
    Ghar khareeda ja raha hai ya sabji ? :D
    CommentQuote
  • Originally Posted by hindustan
    10-15 units by single investor, kuch jyada nahi ho gaya kya? :bab (59):
    Ghar khareeda ja raha hai ya sabji ? :D


    haa bhai mujhe bhi bharosa nahi hota .. aajkal to sabji bhi nahi kharidta koi 10 -15 din ki. 5 hajaar ki sabji hi ho jayegi. :D
    CommentQuote
  • Originally Posted by hindustan
    10-15 units by single investor, kuch jyada nahi ho gaya kya? :bab (59):
    Ghar khareeda ja raha hai ya sabji ? :D


    hahaha bhai engineering mein mere saath padha ek banda 5 unit rakha hai NE mein ....... all small 2bhk costing around 14-15 lakhs each :)
    CommentQuote
  • Originally Posted by Sunder_Lal
    bhai doesn't matter 10- 15 hold ya 100-150 total amount of resale will not be 3 lacs in any case.

    NE ki price itni kam pe open hui thi ki end user aur first time investor ne bahut kharida hai.
    I have seen/heard/read many people from Jammu/chattisgarh/bihar/Karnataka/Maharashtra/US/UK/Europe/Singapore etc investing or (rather buying) in NE. Many of them are first timers .. and they do not intend to sell on first day resale opens.

    There are lot of investor/buyers who are having a long term outlook, they will prefer to let it go on rent and pay EMI from that. even a rent of 8-10 thousand will compensate big part of EMI as flats were really cheap initially.

    And don't forget .. after 3 years the Metro/night safari type news will be more believable .. those who hold 10-15 units will en-cash that. If you think resale will make price go down believe me brother you will be disappointed.


    Agreed on all points.Resale never let NE market down but sustain the market price.
    CommentQuote
  • Originally Posted by ragh_ideal
    Agreed on all points.Resale never let NE market down but sustain the market price.


    dekho boss ....... i am seeing all sorts of hi fundu american style economics and logic being applied on this forum abt "bubble bursting" etc etc

    but simple fact in india is that if you buy under construction property at a reasonably decent location ....... it will always only heavily escalate in price IF and WHEN it becomes RTM
    :)

    even crossing is doin well now inspite of dumping ground issue just because its RTM

    so even if someone buys in NE at 3200 its still going to give very good returns in around 4 yrs time
    CommentQuote
  • Originally Posted by trialsurvey
    hahaha bhai engineering mein mere saath padha ek banda 5 unit rakha hai NE mein ....... all small 2bhk costing around 14-15 lakhs each :)


    Ab woh hi engineer banda sab se jyada tension mai bhi hooga.
    Don't put all your eggs in one basket :)
    CommentQuote
  • Originally Posted by trialsurvey
    hahaha bhai engineering mein mere saath padha ek banda 5 unit rakha hai NE mein ....... all small 2bhk costing around 14-15 lakhs each :)


    This guy must be feeling symptoms of piles from last 1-2 years but I must say he will enjoy a wealthy and prosperous old age. :D
    CommentQuote
  • Originally Posted by Sunder_Lal
    This guy must be feeling symptoms of piles from last 1-2 years but I must say he will enjoy a wealthy and prosperous old age. :D


    Bhai, jaan hai to jahaan hai.
    CommentQuote
  • Flats liya hai ki aallu tamatar...:bab (59):
    Originally Posted by trialsurvey
    hahaha bhai engineering mein mere saath padha ek banda 5 unit rakha hai NE mein ....... all small 2bhk costing around 14-15 lakhs each :)
    CommentQuote