पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16356 Replies
Sort by :Filter by :
  • Originally Posted by Pradyot1315sqf
    HDFC paid 85% and we paid only 10% till date (DP plan) in panchsheel primerose gzb project.


    Is it for end use or investment?
    CommentQuote


  • Family Feud. More money more problems. So it is better to have decent money and decent life.
    CommentQuote
  • Originally Posted by melotus
    Family Feud. More money more problems. So it is better to have decent money and decent life.



    North India se koi hai bada industrialist? I dont remember. Sare jada tar criminal jaise hai. South me, maharastra, west bengal has pure business man

    Ponty chadda ws a big one from north india
    CommentQuote
  • Originally Posted by Pradyot1315sqf
    HDFC paid 85% and we paid only 10% till date (DP plan) in panchsheel primerose gzb project.


    Originally Posted by ragh_ideal
    Is it for end use or investment?



    For investment as well as for end use . I booked it in Aug 11 rate was 1625 psf and now not available in 2800.. I booked it in Aug 11 rate was 1625 psf and now not available in 2800.
    CommentQuote
  • Originally Posted by Pradyot1315sqf
    Originally Posted by Pradyot1315sqf
    HDFC paid 85% and we paid only 10% till date (DP plan) in panchsheel primerose gzb project.





    For investment as well as for end use . I booked it in Aug 11 rate was 1625 psf and now not available in 2800.

    Great appreciation boss;) and good place for living too.

    Great appreciation boss;) and good place for living too.

    Great appreciation boss;) and good place for living too.

    Great appreciation boss;) and good place for living too.
    CommentQuote
  • Originally Posted by del_sanju
    South me, maharastra, west bengal has pure business man
    Ponty chadda ws a big one from north india


    I am sorry but I think it's a very exaggerated statement. South and Bengal too have lots of criminal turned businessman -> businessman turned political and so. And Maharashtra, please ... no further comments.
    CommentQuote
  • CommentQuote
  • Originally Posted by amg5310
    Please send me your details. We are a group of people booked in Dreamville & received same demand letters. Lets discuss & proceed.


    are they still saking for interest?
    CommentQuote
  • Hi Seniors, need your help. I got demand call from Galaxy builder for project Galaxy North Avenue GC3 Gaur City 1. I have paid 10% already, BBA not created yet. I am in US right now. I talked to them they are saying project has been bankable from HDFC. I tried to contact HDFC but no contact till now. They are saying to pay 10% now. As per my knowledge 3 floors are completed on that project. Please let me know what should I do? Is this project bankable? and how safe this is? Should I ask to make BBA before next 10% payment. please give me some advice... All please give me advice or any other info in this also.
    CommentQuote
  • छह गुना अधिक मुआवजे पर ही देंगे किसान जमीन
    Updated on: Mon, 19 Nov 2012 08:25 AM (IST)


    संवाददाता, ग्रेटर नोएडा : प्राधिकरण के सीधे रजिस्ट्री करने के प्रस्ताव को किसानों ने सिरे से खारिज कर दिया है। रविवार को रोजा जलालपुर गांव में किसानों ने पंचायत कर कहा कि उन्हें प्रदेश सरकार के चुनावी घोषणा पत्र के अनुसार, सर्किल रेट का छह गुना अधिक मुआवजा चाहिए। इससे कम दर पर जमीन नहीं दी जाएगी। गांवों में जनजागरण अभियान चलाने का भी निर्णय किया गया।

    किसानों ने कहा कि प्रदेश सरकार ने अपने चुनावी घोषणा पत्र में जमीन के सर्किल रेट का छह गुना मुआवजा देने की बात कही थी। इस पर अमल नहीं किया जा रहा है। प्राधिकरण अब किसानों से सीधे रजिस्ट्री कर जमीन लेने की बात कर रहा है। पूर्व जिला पंचायत सदस्य रविंद्र भाटी ने कहा कि प्राधिकरण के इस प्रस्ताव को किसान नहीं मानेंगे। प्राधिकरण को जमीन चाहिए, तो सर्किल रेट का छह गुना अधिक मुआवजा देना होगा। उन्होंने प्राधिकरण पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए कहा कि सीईओ रमा रमण ने पतवाड़ी, इटेड़ा, सादुल्लापुर, मिलक लच्छी, रोजा जलालपुर व वैदपुरा की बिजली नोएडा से जोड़ने का आश्वासन दिया। इनमें से सिर्फ पतवाड़ी व इटेड़ा गांव की सप्लाई नोएडा से जुड़ पाई है। बाकी गांवों की आपूर्ति वादे के अनुरूप नोएडा से नहीं जोड़ी गई है। पंचायत में निर्णय लिया गया कि गांव-गांव जाकर किसानों को जमीन न देने के लिए जागरूक किया जाएगा। इस मौके पर जयप्रकाश प्रधान, अजय प्रधान, गिरिश त्यागी, संदीप नागर, यशवीर सिंह, रणसिंह प्रधान, रामकला नागर, रामी मास्टर, वेद प्रधान, सुखवीर नागर, कृष्ण प्रधान, राकेश पंडित, रतिराम जाटव, ऋषि नागर आदि मौजूद रहे।
    CommentQuote
  • Hi Seniors, need your help. I got demand call from Galaxy builder for project Galaxy North Avenue GC3 Gaur City 1. I have paid 10% already, BBA not created yet. I am in US right now. I talked to them they are saying project has been bankable from HDFC. I tried to contact HDFC but no contact till now. They are saying to pay 10% now. As per my knowledge 3 floors are completed on that project. Please let me know what should I do? Is this project bankable? and how safe this is? Should I ask to make BBA before next 10% payment. please give me some advice... All please give me advice or any other info in this also. Any body please suggest in this !!!
    CommentQuote
  • Originally Posted by pandeyji123
    Hi Seniors, need your help. I got demand call from Galaxy builder for project Galaxy North Avenue GC3 Gaur City 1. I have paid 10% already, BBA not created yet. I am in US right now. I talked to them they are saying project has been bankable from HDFC. I tried to contact HDFC but no contact till now. They are saying to pay 10% now. As per my knowledge 3 floors are completed on that project. Please let me know what should I do? Is this project bankable? and how safe this is? Should I ask to make BBA before next 10% payment. please give me some advice... All please give me advice or any other info in this also. Any body please suggest in this !!!


    you must tell them to sign BBA before next 10% and if they not agree then ready to pay 5% from own pocket but try to convince them as you are out of station.

    Now a days,specially in NE,builders are not ready to get signed BBA before 15%..20% even more depends on how cruel he is.

    rest
    All the best to you
    CommentQuote
  • Originally Posted by ragh_ideal
    you must tell them to sign BBA before next 10% and if they not agree then ready to pay 5% from own pocket but try to convince them as you are out of station.

    Now a days,specially in NE,builders are not ready to get signed BBA before 15%..20% even more depends on how cruel he is.

    rest
    All the best to you

    Thanks Raghu. I will call builder and will try to get BBA first.
    CommentQuote
  • अथॉरिटी को डायरेक्ट नहीं देंगे जमीन



    Nov 19, 2012, 08.00AM IST
    एक संवाददाता ॥ ग्रेटर नोएडा
    ग्रेटर नोएडा वेस्ट एरिया के गांव रोजा जलालपुर में रविवार को किसानों की महापंचायत हुई। इसमें सादुल्लापुर, बैदपुरा, मिल्क लच्छी समेत दर्जनांे गांवों के किसान शामिल हुए। इस दौरान किसानों ने अथॉरिटी को डायरेक्ट जमीन नहीं देने का फैसला किया। किसानों ने अथॉरिटी के डायरेक्ट जमीन खरीदे जाने वाले प्रस्ताव को ठुकराते हुए राज्य सरकार से चुनावी घोषणा पत्र में किए गए वादों को पूरा करने की मांग की।
    महापंचायत को संबोधित करते हुए किसान नेता दुष्यंत नागर ने कहा कि अथॉरिटी समाजवादी पार्टी की ओर से विधानसभा चुनाव में किए गए वादों को लागू न करके किसानों से सीधे जमीन खरीदने की बात कह रही है। यह किसानों के साथ धोखा है। अथॉरिटी को एसपी के चुनावी वादे के अनुसार किसानों को सर्कल रेट का 6 गुना मुआवजा और 20 पर्सेंट विकसित प्लॉट देना चाहिए। वहीं महापंचायत के दौरान आगे के आंदोलन के लिए 7 सदस्यीय कमिटी का भी गठन किया गया।
    वहीं किसान नेता रविंद्र भाटी ने बताया कि ग्रेटर नोएडा वेस्ट के गांवों की बिजली लाइन को नोएडा से नहीं जोड़ा गया है। गांवों में अब भी अंधेरा छाया हुआ है। उन्होंने ऐलान किया कि हफ्ते भर में अगर गांवों में बिजली की लाइन चालू नहीं की गई, तो किसान ग्रेटर नोएडा वेस्ट एरिया में बिल्डर और अथॉरिटी को काम नहीं करने देंगे। किसानांे ने मुख्य मार्ग छपरौला की मरम्मत की भी मांग की है।
    CommentQuote
  • Originally Posted by ragh_ideal
    अथॉरिटी को डायरेक्ट नहीं देंगे जमीन



    Nov 19, 2012, 08.00AM IST
    एक संवाददाता ॥ ग्रेटर नोएडा
    ग्रेटर नोएडा वेस्ट एरिया के गांव रोजा जलालपुर में रविवार को किसानों की महापंचायत हुई। इसमें सादुल्लापुर, बैदपुरा, मिल्क लच्छी समेत दर्जनांे गांवों के किसान शामिल हुए। इस दौरान किसानों ने अथॉरिटी को डायरेक्ट जमीन नहीं देने का फैसला किया। किसानों ने अथॉरिटी के डायरेक्ट जमीन खरीदे जाने वाले प्रस्ताव को ठुकराते हुए राज्य सरकार से चुनावी घोषणा पत्र में किए गए वादों को पूरा करने की मांग की।
    महापंचायत को संबोधित करते हुए किसान नेता दुष्यंत नागर ने कहा कि अथॉरिटी समाजवादी पार्टी की ओर से विधानसभा चुनाव में किए गए वादों को लागू न करके किसानों से सीधे जमीन खरीदने की बात कह रही है। यह किसानों के साथ धोखा है। अथॉरिटी को एसपी के चुनावी वादे के अनुसार किसानों को सर्कल रेट का 6 गुना मुआवजा और 20 पर्सेंट विकसित प्लॉट देना चाहिए। वहीं महापंचायत के दौरान आगे के आंदोलन के लिए 7 सदस्यीय कमिटी का भी गठन किया गया।
    वहीं किसान नेता रविंद्र भाटी ने बताया कि ग्रेटर नोएडा वेस्ट के गांवों की बिजली लाइन को नोएडा से नहीं जोड़ा गया है। गांवों में अब भी अंधेरा छाया हुआ है। उन्होंने ऐलान किया कि हफ्ते भर में अगर गांवों में बिजली की लाइन चालू नहीं की गई, तो किसान ग्रेटर नोएडा वेस्ट एरिया में बिल्डर और अथॉरिटी को काम नहीं करने देंगे। किसानांे ने मुख्य मार्ग छपरौला की मरम्मत की भी मांग की है।


    Jai ho AKY.
    Ab ye bhi hona hi tha. 6 times circle rate. :D+ 20 percent developed land
    Aise me toh kabhi land acquisition ho hi nhi payega.

    Bijli nhi toh kaam rokenge
    Pani nhi toh kaam rokenge

    Rape hoga toh kaam rokenge. Bacha kho gaya toh kaam rokenge.

    This is growing into a frustrating situation. The Court should provide their verdict soon.
    CommentQuote