पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • update..........
    Attachments:
    CommentQuote
  • update.........
    Attachments:
    CommentQuote
  • update....
    Attachments:
    CommentQuote
  • update.............
    Attachments:
    CommentQuote
  • Noida Extn land acquisition verdict today

    Noida Extn land acquisition verdict today
    CNN-IBN

    New Delhi: The Allahabad High Court is expected to give its verdict on the Noida Extension land row on Friday.
    The three-judge bench will decide on 492 'quash-acquisition' petitions filed by 40 villages. The verdict will seal the fate of more than 1 lakh home buyers in Noida.



    The Allahabad High Court, on September 30, had reserved its judgement after hearing versions of the government, farmers, builders and buyers for more than two weeks.

    The court had set aside forcible acquisitions in Shahberi and Patwari villages saying the government had used land meant for industry use to build a residential complex citing the urgency clause.
    Earlier the Supreme Court said that the 2008 compensation figure to Uttar Pradesh farmers of Rs 850 per square metre will be increased by Rs 550 to Rs 1,400 per square metre.
    In August the Supreme Court gave nod to the builders to resume the constrution of over 20,000 flats.
    CommentQuote
  • Breaking news.... 4 vilages land acquisaiton is cancel... in GN
    CommentQuote
  • Devla, Asdullapur..Shahberi. Patwari.. gone
    CommentQuote
  • Farmers will get land back in all these villeges....27 project got hit
    CommentQuote
  • Breaking news... Most of land cases are favor of farmers.. 4 villegers have been given settlment order...wait for details
    CommentQuote
  • 64% componsations increased in few cases
    CommentQuote
  • Devla. Abdullapur..shahberi..(Patwari not given..)... NDTV..

    Abdullapur is in Noida ..rest in G.Nonida
    CommentQuote
  • Farmers will get 10% developed land in within area.

    new componsation will be appro 1400 for all cases
    CommentQuote
  • Originally Posted by fritolay_ps
    Devla, Asdullapur..Shahberi. Patwari.. gone


    Only three are in news...Devla, Asdullapur, Shahberi....patwari is not there in....and as per news..noida extn is safe..see star news
    CommentQuote
  • What will be the effect of it on Noida Ext.
    CommentQuote
  • 60 villeges get 60% additional componsation....


    Builders have been asked to stop construction on G.Noida (2 villegers)
    CommentQuote