पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • Originally Posted by bhutan
    Thanks a lot Trialsurvey bhai for the update. On each Saturday or Sunday I look forward your post as "update of NE".

    Is whole Gaur in full swing, I mean Gaur-2 especially 11th Avenue? Once again thanks for your post


    Bhai Gaur wale bahut hain yaha .. har weekend koi jake photo update kar diya karo :D
    CommentQuote
  • I went to NE today. Work was going in all GC avenues, however, it was faster in GC11 than other avenues . I found more machinery and worker in GC11 than any other avenues.
    So far, GC-11 was one of the least progressed project. Now focus seems to be on it. I took some pictures (though they have put board "Photography not allowed" there :)) will post those picture tomorrow

    Originally Posted by bhutan
    Thanks a lot Trialsurvey bhai for the update. On each Saturday or Sunday I look forward your post as "update of NE".

    Is whole Gaur in full swing, I mean Gaur-2 especially 11th Avenue? Once again thanks for your post
    CommentQuote
  • Originally Posted by AgSingh
    I went to NE today. Work was going in all GC avenues, however, it was faster in GC11 than other avenues . I found more machinery and worker in GC11 than any other avenues.
    So far, GC-11 was one of the least progressed project. Now focus seems to be on it. I took some pictures (though they have put board "Photography not allowed" there :)) will post those picture tomorrow


    wht is so special about GC11 tht they are focusing on it?
    CommentQuote
  • Originally Posted by trialsurvey
    NE weekend update
    -- work in full swing in - stellar, arihant, earth, supertech, mahagun, gaur
    -- still no activity on paramount emotions, patel neotown
    -- gnida is getting devolopment activity done at good pace (sewer, service lanes etc)
    -- one of the imperia h2o towers (studio appt probably) is almost ready for possession
    -- glass cladding in progress in one of the towers of amrapali tech park
    -- avj project sample flat work in full swing
    -- gayatri aura work is slow as usual
    -- amrapali projects work goin on at decent pace(but not very fast)
    -- radicon project work on at ok-ok type of pace
    --huge number of brokers trying to sell premia project. But no new activity on the plot yet
    -- supercity mayfair project work goin on at decent pace now. Same case with cherry county
    -- fresh relaid road once u enter noida from 130m wide link road(in front of homes 121)

    Hi thanks for the update....can you also confirm any update on Ajnara's project(Home and Le-Garder)........
    CommentQuote
  • Can anyone give a status update on Amrapali Terrace Homes construction? Please help as I am stuck in South India for some work and do not have anyone back at Noida who can provide me update.
    CommentQuote
  • Originally Posted by cgoyal
    Can anyone give a status update on Amrapali Terrace Homes construction? Please help as I am stuck in South India for some work and do not have anyone back at Noida who can provide me update.

    CommentQuote
  • Originally Posted by AgSingh
    I went to NE today. Work was going in all GC avenues, however, it was faster in GC11 than other avenues . I found more machinery and worker in GC11 than any other avenues.
    So far, GC-11 was one of the least progressed project. Now focus seems to be on it. I took some pictures (though they have put board "Photography not allowed" there :)) will post those picture tomorrow

    Thank you AgSingh ji for your post.
    CommentQuote
  • Hi All,

    Can anybody help with status if Panchsheel Hynish (Near to eco village).

    1. How is this project
    2. Construction update
    3. Current rates
    4. Future of this project etc.
    CommentQuote
  • Hello to all senior members,

    Can u pls any one of them update me about Unibera Project in Sector-1. Everytime they are extending dates. Now they are saying within 15 days they will start work.

    If anyone of you have any updates pls share...:(
    CommentQuote
  • Originally Posted by cs0602
    Hello to all senior members,

    Can u pls any one of them update me about Unibera Project in Sector-1. Everytime they are extending dates. Now they are saying within 15 days they will start work.

    If anyone of you have any updates pls share...:(


    i visited almost all plots in NE yest .... still no activity in Unibera ... must say thats anyway the worst location in NE due to aminabad village in the vicinity and the obstruction on the approach road .. i hope eventually GNIDA manages to remove the dilapidated structure which is creating a blockage on the approach road
    CommentQuote
  • friends.. KOI GC 1 KI BHI LATEST PIC UPLOAD KRO...
    CommentQuote
  • Originally Posted by Nitn Mirza
    Hi thanks for the update....can you also confirm any update on Ajnara's project(Home and Le-Garder)........


    ajanra homes..const speed is slow..Le-garden, only selling activity is going on..road is not good to reach there..
    CommentQuote
  • Yai Kon Saa Builder hai Bhai...

    बिल्डर की जमीन पर किसानों का कब्जा

    एक संवाददाता ॥ ग्रेटर नोएडा
    ग्रेटर नोएडा एक्सटेंशन एरिया में किसानांे ने एक बिल्डर को दी गई तीन सौ एकड़ जमीन पर टै्रक्टर चलाने के बाद कब्जा कर लिया है। किसान अब इस जमीन पर बुआई करेंगे। जमीन पर कब्जा लेने के दौरान सांसद सुरेंद्र नागर भी अपने समर्थकों के साथ मौके पर पहंुच गए। सांसद के पहंुचने से किसानांे की हिम्मत और बढ़ गई। बिल्डर की जमीन पर टै्रक्टर चलाते समय पुलिस दूर-दूर तक नजर नहीं आई। किसानों ने अब सेकंड फेज में अब बिल्डर का निर्माण कार्य बंद कराने का फैसला किया है।
    जिला किसान महासंघ के प्रवक्ता डॉ. रूपेश वर्मा ने बताया कि बिल्डर प्रभावित 8 गांवों के किसानों ने डीएम को शुक्रवार को अपनी मांगों से संबंधित ज्ञापन सौंपा था। किसानांे ने रविवार तक मांगों को मानने का वक्त दिया था। उन्होंने बताया कि डीएम ने किसानों की मांगों पर कोई एक्शन नहीं लिया। इससे किसानों का गुस्सा बढ़ गया।
    किसान रविवार सुबह 10 बजे कैमराला चक्रसैनपुर गांव में एकत्रित हुए और महापंचायत की। सांसद ने महापंचायत में कहा कि किसानांे को विकास के नाम पर लूटा जा रहा है। लीलू नेताजी ने कहा कि किसानों ने अपनी जमीन पर कब्जा लेना शुरू कर दिया है। अब किसान बिल्डर का काम बंद कराएंगे।
    राजेश मास्टर ने कहा कि बिल्डर ने पांच साल पहले टाउनशिप बनाने के लिए किसानों से जमीन ली थी। पांच साल मंे बिल्डर टाउनशिप नहीं बना पाया। अब किसानों ने अपनी जमीन पर कब्जा ले लिया है। एडवोकेट विजय पाल भाटी ने कहा कि जो किसान बिल्डर को जमीन दे चुके हैं, उनको बढ़ा हुआ मुआवजा औैर दस प्रतिशत आबादी की जमीन विकसित करके ग्रेटर नोएडा की तर्ज पर दी जाए।
    CommentQuote
  • Hi All,

    Can anybody help with status if Panchsheel Hynish (Near to eco village).

    1. How is this project
    2. Construction update
    3. Current rates
    4. Future of this project etc.
    CommentQuote
  • किसान आज बंद कराएंगे बिल्डर का काम

    ग्रेटर नोएडा : बिल्डर का काम बंद कराने के लिए 18 गांवों के किसानों ने रविवार को दुजाना गांव में महापंचायत की। सोमवार को काम बंद कराने के लिए किसानों ने 8 टीमें बनाई हैं। हाईटेक सिटी प्रतिरोध आंदोलन समिति के अध्यक्ष महाशय धनपाल सिंह ने बताया कि किसान अपनी मांगांे को लेकर 148 दिन से अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हंै। 21 दिसंबर को जीडीए वीसी, बिल्डर, डीएम और आवास-विकास के अधिकारियांे ने किसानों के साथ मीटिंग करने का आश्वासन दिया था। उन्होंने बताया कि मांगें पूरी करना तो दूर किसानांे की मीटिंग तक नहीं कराई गई है। किसानों ने परेशान होकर अब बिल्डर का निर्माण कार्य बंद कराने और काजीपुरा स्थित उसके दफ्तर में ताला जड़ने का निर्णय किया है। जिला किसान महासंघ के प्रवक्ता रूपेश वर्मा ने बताया कि किसानों का साथ देने के लिए जिला किसान महासंघ के सैकड़ांे कार्यकर्ता भी मौजूद रहेंगे।



    किसान आज बंद कराएंगे बिल्डर का काम - Farmers Builder will stop work today - Navbharat Times
    CommentQuote