पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • Originally Posted by kuriousv
    Heard work has started for neotown..site


    If u call one jcb machine's presence on the plot as commencement of work, then yes work has started:D
    CommentQuote
  • Booked flat in East End Athena.

    Booked flat in East End Athena.
    Senior member pls suggest what’s the issue with this project or stuck like others only, not much available on this forum about this, builder have few words only & repeating again & again by applying some cosmetic touché .
    CommentQuote
  • Originally Posted by caplayer2012
    Booked flat in East End Athena.
    Senior member pls suggest what’s the issue with this project or stuck like others only, not much available on this forum about this, builder have few words only & repeating again & again by applying some cosmetic touché .


    Small players have no financial back up so they would take time to get things moving .....
    CommentQuote
  • Originally Posted by caplayer2012
    Booked flat in East End Athena.
    Senior member pls suggest what’s the issue with this project or stuck like others only, not much available on this forum about this, builder have few words only & repeating again & again by applying some cosmetic touché .



    East End Athena or Capital Athena?
    CommentQuote
  • Originally Posted by Pradyot1315sqf
    East End Athena or Capital Athena?


    Bro I told na applying some cosmetic touché only.
    CommentQuote
  • Originally Posted by cookie
    Small players have no financial back up so they would take time to get things moving .....


    Is there any possibility of complete failure or money may sink?
    CommentQuote
  • Originally Posted by caplayer2012
    Booked flat in East End Athena.
    Senior member pls suggest what’s the issue with this project or stuck like others only, not much available on this forum about this, builder have few words only & repeating again & again by applying some cosmetic touché .


    name is capital athena now
    CommentQuote
  • Originally Posted by trialsurvey
    name is capital athena now


    Thanks,

    Naam tu badal liya . Kaam karne ka tarika kab badlega ye....
    Kahin paisa le kar bhag tu nahi jayega... kya batain sab naam ka khel hai hafeez ke na fansa diya......
    CommentQuote
  • Originally Posted by caplayer2012
    Thanks,

    Naam tu badal liya . Kaam karne ka tarika kab badlega ye....
    Kahin paisa le kar bhag tu nahi jayega... kya batain sab naam ka khel hai hafeez ke na fansa diya......


    Yeh, Can understand your feelings,
    Also to know that Money & Power makes the man Corrupt. We never know.

    But hope for the best,
    They have changed the name means they want to be in Market,. Don't want to run away
    CommentQuote
  • Originally Posted by caplayer2012
    Thanks,

    Naam tu badal liya . Kaam karne ka tarika kab badlega ye....
    Kahin paisa le kar bhag tu nahi jayega... kya batain sab naam ka khel hai hafeez ke na fansa diya......


    Isiliye kehte hain - dikhawon pe naa jao apni akal lagao. :D
    CommentQuote
  • Originally Posted by trialsurvey
    Isiliye kehte hain - dikhawon pe naa jao apni akal lagao. :D


    Yes, u r rite.
    Remamber dost:: dhokha hamesha khobsoorat roop main aata hai....
    CommentQuote
  • Originally Posted by planner
    Yeh, Can understand your feelings,
    Also to know that Money & Power makes the man Corrupt. We never know.

    But hope for the best,
    They have changed the name means they want to be in Market,. Don't want to run away


    Thanks.
    CommentQuote
  • Originally Posted by trialsurvey
    If u call one jcb machine's presence on the plot as commencement of work, then yes work has started:D


    Also confirmed by their rep that the activity will pick up in few days
    CommentQuote
  • Originally Posted by S P Banerjee
    Paramount Emotions in CR : As far as i can recollect its the same builder who constructed a tower in the central park of the society.:bab (59): Other members may coorect me



    UNFORTUNATELY ......

    Real Estate has become like Politics .........

    Jaise politics me Neta hazar Paap kare ...... Voters use fir se vote kar jita dete hain ........

    Real estate me bhi ....... Chahe Builder Hazar PaaP kare ........ Unke Projects fir bhi bik jaate hain.......

    ....... Its a Seller's Market.
    CommentQuote
  • It is sad that such things are allowed to happen and builders are not punished. Everyone knows the reasons...."Corrupt NETA aur Corrupt ADHIKARI ki jugalbandi". People need home they will buy what is available and what they can afford.
    CommentQuote