पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • Yeh, Difficult for shahberi Property.
    CommentQuote
  • bhai logon mein pehle se hee kehta tha gaur chakker ke left side mat jao .. right side jao jidhar ye eco village 1 , amrapali leisure valley , valencia , stellar, avj etc hai ..
    left side reminds more of old style ghaziabad (rural) and right side reminds more like noida (urban)
    CommentQuote
  • Originally Posted by trialsurvey
    bhai logon mein pehle se hee kehta tha gaur chakker ke left side mat jao .. right side jao jidhar ye eco village 1 , amrapali leisure valley , valencia , stellar, avj etc hai ..
    left side reminds more of old style ghaziabad (rural) and right side reminds more like noida (urban)


    Trialbhai, ab to apki baat sach hi lag rahi hai.
    CommentQuote
  • Johny bhai pata nahi kha chale gaye. Confirm to kar dete yeh pic CR ki hai ki nahi.
    just few days back only they started ground levelling work in DG. People in CRs were still still staying DG can't come. Ab yeh pic which shows lot of waste material asli hai ki nahi :bab (38):
    CommentQuote
  • Originally Posted by trialsurvey
    bhai logon mein pehle se hee kehta tha gaur chakker ke left side mat jao .. right side jao jidhar ye eco village 1 , amrapali leisure valley , valencia , stellar, avj etc hai ..
    left side reminds more of old style ghaziabad (rural) and right side reminds more like noida (urban)


    Mein toh loot gaya, barbaad ho gaya..
    CommentQuote
  • Originally Posted by cookie
    Mein toh loot gaya, barbaad ho gaya..


    Cookie bhai
    Dont worry. Aal izz welll

    Sent from my GT-I9100
    CommentQuote
  • Originally Posted by cookie
    Mein toh loot gaya, barbaad ho gaya..


    Why, How????

    Dost, Shaadi to February mein hone wali thi na????????
    Phir abhi hi Kaun Looooot le gaya, Kisne Barbad kiya????????

    Batao to bhai, Daro nahi ....
    CommentQuote
  • Originally Posted by planner
    Why, How????

    Dost, Shaadi to February mein hone wali thi na????????
    Phir abhi hi Kaun Looooot le gaya, Kisne Barbad kiya????????

    Batao to bhai, Daro nahi ....


    Yaar Dumping ground in CR. :(
    CommentQuote
  • ohhh,
    Aap na to ghabra hi diya tha mujhe.

    Bhai DG ke dukh meimn hum bhi aapke saath hai.
    Sab mil kar rote hain.
    CommentQuote
  • Originally Posted by planner
    ohhh,
    Aap na to ghabra hi diya tha mujhe.

    Bhai DG ke dukh meimn hum bhi aapke saath hai.
    Sab mil kar rote hain.


    Vlord0007 Bhai ne toh ye tak keh diya hai.
    even 7X sectors are going to be impacted from DG.
    better be on expressway. :D
    CommentQuote
  • Originally Posted by cookie
    Vlord0007 Bhai ne toh ye tak keh diya hai.
    even 7X sectors are going to be impacted from DG.
    better be on expressway. :D


    Sorry to say, but i don't have experience of living near the DG.
    But if this is so harmful then How Environmental Deptt. had given clearence - In the middle of population (Consider after 2-3 years situation)

    Any jan hit yachika or ......?
    Think please something out of Box.
    CommentQuote
  • Originally Posted by cookie
    Vlord0007 Bhai ne toh ye tak keh diya hai.
    even 7X sectors are going to be impacted from DG.
    better be on expressway. :D

    CommentQuote
  • Originally Posted by shaitaan


    Arre. Bhai

    theguru ne ye post padh liya toh unhe Ek aur muddha mil jayega.
    CommentQuote
  • Aise to Noida bhi chorna parega DG ke chakkar mai...........
    CommentQuote
  • Originally Posted by cookie
    Arre. Bhai

    theguru ne ye post padh liya toh unhe Ek aur muddha mil jayega.


    Sahee keh rahoo ho bhai .... jaldi jaldi sab apnee apnee post delete kar toe .... DG sey jyada toe Guruji sey khatraa hai .... :D
    CommentQuote