पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • Originally Posted by brandoo
    Banks are approving home loans ????
    SBI, PNB are not but Axis, LIC Housing F L, HDFC HFL (these two have nothing to do with LIC and HDFC bank) might be funding.
    Friend of mine bought recently and I used my channels to help him in getting home loan but three PSU banks refused to finance any project in NE.

    No idea about construction.


    Im not sure where u got this information. But Corporation, BOB, BOM, HDFC, LIC HFL. ICICI are all financing projects in NE. Construction is going on absolutely normal at all major projects. If you have not visited NE, u can atleast go through various forums like FB, Google groups, etc before making motherhood statements like no bank financing and no idea on construction, etc.
    CommentQuote
  • Originally Posted by leo1609
    Im not sure where u got this information. But Corporation, BOB, BOM, HDFC, LIC HFL. ICICI are all financing projects in NE. Construction is going on absolutely normal at all major projects. If you have not visited NE, u can atleast go through various forums like FB, Google groups, etc before making motherhood statements like no bank financing and no idea on construction, etc.


    Read my previous post a bit carefully. I said, LICHFL, Axis and likes are financing but leading PSU banks are not. This can be cross checked with any of leading PSU banks such as SBI, PNB and even private banks such as Stan cahrt are not financing.

    Issue here: Land is given by Greater Noida Dev Authority (GNDA) to builder on 10 % money. Before financing banks want clear deed in favour of builder/colonizers. In this case land is mortgaged with GNDA and in case of default by builder banks will find it impossible to recover their dues. Hence leading PSU banks are not financing most of projects (in fact friend of mine told that SBI is not funding any project in NE at the moment and is working in senior capacity).
    My aim is not to malign NE. Once project is launched eventually be completed no matter what. There might be delays but will be completed in due course of time say 4-7 years. In NCR most projects are completed in 4.5-5 years time frame from date of launch. Check gurgaon, Noida (Jaypee or something), Faridabad and Ghaziabad etc.

    I request prospective buyers to be careful and do you homework properly. Take legal help in evaluating title deed. If builder can't produce original title deed, that means land is already mortgaged.
    One more caution: While taking loan, make sure that you opt for risk cover for loan and for borrower both. This will help in case of eventuality such as death, building collapse or something unforeseen. This will cost marginally 200-400 per month but bring peace of mind.
    CommentQuote
  • Originally Posted by brandoo
    Banks are approving home loans ????
    SBI, PNB are not but Axis, LIC Housing F L, HDFC HFL (these two have nothing to do with LIC and HDFC bank) might be funding.
    Friend of mine bought recently and I used my channels to help him in getting home loan but three PSU banks refused to finance any project in NE.

    No idea about construction.



    Sir, Mu loan disbursed from SYNDICATE BANK. SBI is not interested from day one
    before litigation. Rest I dn't think now there is any problem with bank. All of my friends also got disbursed from HDFC and Corporation Bank.:)
    CommentQuote
  • Some Towers of Patel Still disputed (A, B and C block almost 8 towers), they started very least construction activity only on Park area, not on actual rafting area where Flats suppose to construct.

    Here is message from Ashutosh from patel mkt:

    "Clients of b n c r supposed to wait as we are waiting and currently they have only this option with them, rest everything is fine and will witness smooth construction as the time moves on..."

    There is also one google group of Patel buyers and only those can joined this group who have booked unit in Patel and after join this need to send some scan copy of payment receipt and purpose it authenticate the buyer only can join this Group.

    As per this Group, Patel officials saying if in future if some part of land cancelled, Patel will refund, not shift the buyers in new area and also Patel not saying in email. they are saying over the phone

    Actually Patel have stop the construction before HC order issue, that time some of the buyers ask the reason from Patel official to stop the construction , they said no problem that area, suddenly after 1.5 year they are saying saying that there is problem in A,B and C block(8 towers)



    Here is link to join Google Group.


    https://groups.google.com/forum/#!forum/patel-neotown-noida
    CommentQuote
  • Friends,

    Anybody living in high rise- 10-20 floor can share how it feel in such cold climate. Does it is more colder, windy.
    Inte chilly weather me sochna pad rha hai. SO pls share
    CommentQuote
  • Originally Posted by del_sanju
    Friends,

    Anybody living in high rise- 10-20 floor can share how it feel in such cold climate. Does it is more colder, windy.
    Inte chilly weather me sochna pad rha hai. SO pls share



    Yes I am living at 11 floor Punchsheel Welington Croosing. You can feel good sunlight feel at day time at upper floor but wind flow at night is very fast speed . now I m not able to stand at balcony it so cold out side. But inside the flat it has not so much impact.
    CommentQuote
  • 10 को डीएम का घेराव करेंगे किसान


    Jan 7, 2013, 08.00AM IST
    एक संवाददाता ॥ ग्रेटर नोएडा
    ग्रेटर नोएडा वेस्ट एरिया के रौजा गांव में रविवार को 40 गांवांे के किसानांे ने महापंचायत की। महापंचायत में किसानों ने दस जनवरी को कलेक्ट्रेट में डीएम के घेराव का ऐलान किया है। किसान नेता सूबेदार रमेश रावल ने कहा कि अथॉरिटी अधिकारियों ने किसानों से सहमति के आधार पर आबादी का निस्तारण किया है। किसानों की आबादी बनी है या नहीं, इसके लिए अथॉरिटी ने दस गांवांे की सैटलाइट इमेज भी मंगवा दी है जिसमें किसानों की आबादी दर्शायी गई है। उन्होंने कहा कि आबादी निस्तारण की हाई पावर कमिटी में डीएम और एसएसपी शामिल हैं। उन्हांेने आरोप लगाया कि डीएम और एसएसपी ने एक साजिश के तहत जिस आबादी को ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी ने छोड़ दिया है, उसमें काटछांट की है। यह किसानों के साथ धोखा है। किसानांे ने एसएसपी और डीएम पर तानाशाही रवैया अपनाने का आरोप लगाया है।
    किसान संघर्ष समिति के प्रवक्ता मनवीर भाटी ने कहा कि अब किसानों के पास आंदोलन के अलावा और कोई चारा नहीं है। किसानों को अपना हक लेने के लिए दस जनवरी को भारी संख्या में कलेक्ट्रेट में डीएम का घेराव करने पहंुचना होगा। महापंचायत को अजब सिंह प्रधान, अशोक त्यागी, गिरीश, जगदीश नागर, भीम नागर, प्रदीप यादव, बलराज प्रधान, कालूराम वर्मा, कर्ण सिंह, आदेश भाटी, विनोद भाटी, कपिल गुर्जर, बबलू त्यागी, रणवीर प्रधान, धर्मवीर भाटी, पप्पू यादव आदि ने भी संबोधित किया।
    CommentQuote
  • Originally Posted by brandoo
    Read my previous post a bit carefully. I said, LICHFL, Axis and likes are financing but leading PSU banks are not. This can be cross checked with any of leading PSU banks such as SBI, PNB and even private banks such as Stan cahrt are not financing.

    Issue here: Land is given by Greater Noida Dev Authority (GNDA) to builder on 10 % money. Before financing banks want clear deed in favour of builder/colonizers. In this case land is mortgaged with GNDA and in case of default by builder banks will find it impossible to recover their dues. Hence leading PSU banks are not financing most of projects (in fact friend of mine told that SBI is not funding any project in NE at the moment and is working in senior capacity).
    My aim is not to malign NE. Once project is launched eventually be completed no matter what. There might be delays but will be completed in due course of time say 4-7 years. In NCR most projects are completed in 4.5-5 years time frame from date of launch. Check gurgaon, Noida (Jaypee or something), Faridabad and Ghaziabad etc.

    I request prospective buyers to be careful and do you homework properly. Take legal help in evaluating title deed. If builder can't produce original title deed, that means land is already mortgaged.
    One more caution: While taking loan, make sure that you opt for risk cover for loan and for borrower both. This will help in case of eventuality such as death, building collapse or something unforeseen. This will cost marginally 200-400 per month but bring peace of mind.


    Very new and wonder suggestion for buyers:bab (59):

    You are making statement like RBI Governor.

    between i got my loan from UCO bank(NB).
    CommentQuote
  • बिल्डरों के खिलाफ रैली 19 को

    बिल्डरों के खिलाफ रैली 19 को


    : ग्रेनो वेस्ट के बिल्डरों के खिलाफ निवेशक 19 जनवरी को नोएडा में रैली निकालेंगे। नोएडा एक्सटेंशन
    फ्लैट ओनर्स एंड मेंबर्स असोसिएशन (नेफोमा) के बैनर तले निवेशकों ने रविवार को मीटिंग कर यह निर्णय लिया है।
    नेफोमा के अध्यक्ष अन्नू खान ने बताया कि ग्रेनो वेस्ट में करीब 70 बिल्डरों के प्रोजेक्ट हैं। हजारों लोगों ने इनमेंं फ्लैटों की बुकिंग कराई है। उन्होंने आरोप लगाया कि अब बिल्डरों ने निवेशकों को परेशान करना शुरू कर दिया है। नेफोमा के फाउंडर चेयरमैन देवेंद्र कुमार ने आरोप लगाया कि पहले कुछ ही बिल्डर निवेशकों को परेशान कर रहे थे, लेकिन अब धीरे-धीरे सभी बिल्डरों ने ऐसा करना शुरू कर दिया है। निवेशकों को बिल्डरों की ओर से अडेंडम भेजा जा रहा है और इस पर जबरन साइन करने को कहा जा रहा है। इसमें बिल्डर पजेशन की डेट और बिल्डिंग की एफएआर भी बढ़ा रहे हैं। साइन न करने पर फ्लैट कैंसल करने की चेतावनी दी जा रही है। रैली में अधिक से अधिक निवेशकों को बुलाने के लिए नेफोमा के पदाधिकारी फोन कॉल के साथ ही फेसबुक और ट्विटर का भी सहारा लेंगे।


    बिल्डरों के खिलाफ रैली 19 को - 19 rally against builders - Navbharat Times
    CommentQuote
  • True one should get the insurance done for their home loan if taken for long term....i mean no intension to sell the flat in 3-4 years...

    I got the insurance in 21K for my 17 lakhs home loan...21K hardly matter if it included in your loan emi....but you u mitigating a big risk ....if some bad happens with you u r not leaving any liability for ur family..in fact they get the flat and insurance firm will bear the remaining loan amount....so its kind of reverse Term plan...
    CommentQuote
  • State Bank of Patiala has approved over 10 projects including Gaur City 1, Gaur City 2 and has financed flats in JNC The Park, Amarpali.
    CommentQuote
  • Realty players bet on online reputations managers

    Realty players bet on online reputations managers - NDTVProfit.com

    i THINK stellar has already started to take it seriously.
    CommentQuote
  • Looks so,
    CommentQuote
  • Nirala Estate

    Hi All,
    Greetings!
    Has anybody got any updates on the construction status of Nirala Estate project. It is adjacent to Patel' neo town project.
    CommentQuote
  • Originally Posted by piyushb
    Hi All,
    Greetings!
    Has anybody got any updates on the construction status of Nirala Estate project. It is adjacent to Patel' neo town project.


    Hi,

    Please visit the below Link
    https://www.indianrealestateforum.com/forum/city-forums/ncr-real-estate/greater-noida-real-estate/17572-nirala-estate-by-nirala-developers-in-noida-extension-greater-noida?t=19752
    CommentQuote