पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • JohnyBahi,

    If the so called Top Builders lie Gaur are so fair then why they changed their plan of GC2 & asked every investor/Buyer to sign a NOC. What you call this Marketing or bullshit.
    Also Mahagun constructed a Commercial complex infront of flats in Crossing after taking PLC from them & refused to give possession to those buyers who kae a hue & cry of this.
    No one is there working for Bharat Nirman they all are milking us.
    And take my words if they can add this Water Crisis (NGT) cost to Buyers then Gaur will be first of them.

    Regards
    Ravi
    CommentQuote
  • Originally Posted by ravishanker62
    JohnyBahi,

    If the so called Top Builders lie Gaur are so fair then why they changed their plan of GC2 & asked every investor/Buyer to sign a NOC. What you call this Marketing or bullshit.
    Also Mahagun constructed a Commercial complex infront of flats in Crossing after taking PLC from them & refused to give possession to those buyers who kae a hue & cry of this.
    No one is there working for Bharat Nirman they all are milking us.
    And take my words if they can add this Water Crisis (NGT) cost to Buyers then Gaur will be first of them.

    Regards
    Ravi


    ravi.. yes.. you may be correct
    CommentQuote
  • Infact it is not that we are greedy & want to buy some cheap flats from any third grade builder in reality we belong to Middle Class & after paying Taxes & living in NCR we can only afford Noida Extension.
    Gaur was a little expensive for me & all others are no saints including Amrapali.
    Also I had planned initially for Eco Village II but fortunately I booked Amrapali LP at last moment.
    Otherwise I could have ended running from Supertech office to Consumer Court
    CommentQuote
  • Today got email for one project Swarn enclave plots in noida extention ....anyone hear that...? I think this is kacchi colony built by farmers...
    CommentQuote
  • Originally Posted by rjd1984
    Today got email for one project Swarn enclave plots in noida extention ....anyone hear that...? I think this is kacchi colony built by farmers...


    Kacchi colony? ?? what does that mean?
    CommentQuote
  • Originally Posted by cookie
    Kacchi colony? ?? what does that mean?



    have you heard of khoda colony in noida....

    this is the same what he is talking about...
    CommentQuote
  • Hi All, Does anybody have updates on Amrapali Centurian Park Terrace Homes construction.
    CommentQuote
  • I have been associated with gaur from past 1 year. Aaj ke din book karaya tha. n aaj tak unki taraf se koi bhi mail nhi aya ki- itn construction hui ya kuch. Even their website is pathetic. Old MP no updated pictures. Sarkari type. n believe me jab NOC sign ho rhi thi gaur office me it ws like some govt camp. Inti beed thi ki announcement ho rhi thi. Jab log lene ko tyar hai kuch bhi toh builder toh khoon suck karenge hi.

    Sanju
    VETARAN MEMBER

    Originally Posted by ravishanker62
    JohnyBahi,

    If the so called Top Builders lie Gaur are so fair then why they changed their plan of GC2 & asked every investor/Buyer to sign a NOC. What you call this Marketing or bullshit.
    Also Mahagun constructed a Commercial complex infront of flats in Crossing after taking PLC from them & refused to give possession to those buyers who kae a hue & cry of this.
    No one is there working for Bharat Nirman they all are milking us.
    And take my words if they can add this Water Crisis (NGT) cost to Buyers then Gaur will be first of them.

    Regards
    Ravi
    CommentQuote
  • Good morning bhai log... Aaj Noida ex forum me itna sannatta kyu???
    CommentQuote
  • Gabbar kaa dar hai... chetan bhai
    CommentQuote
  • Originally Posted by akhil121177
    Gabbar kaa dar hai... chetan bhai

    Gabbar ka nahi, new scandal ka doston, everyday we hear something bad is going to happen in NE and for that matter only, couldn't book anywhere so far :(
    CommentQuote
  • Originally Posted by akhil121177
    Gabbar kaa dar hai... chetan bhai


    Tufaan se Pahle ki Shanti Hai kya;)
    CommentQuote
  • Originally Posted by Dravid
    Tufaan se Pahle ki Shanti Hai kya;)


    Bas yaar ab aur toofaan sehne ki himmat nai hai... Hope koi to good news aaye Nex ki..
    CommentQuote
  • Chetan Bhai....
    Do you have any update on Panchsheel Green or Green 2??
    CommentQuote
  • payment for increased area in NEx

    Dear all,

    I have booked a flat in NEx and after the NCRPB approval, my builder increased the area of all flats by around 60-80 sqft.
    Now he's asking for payment for increased area at the prevailing market rate. So, if I choose to pay now, I'll have to pay at around Rs. 3200/sqft and if I pay at the time of possession, I'll have to pay the rate prevailing at that time.
    My understanding is that most of the builders have increased the flat sizes marginally after the NCRPB approval. So please share what is happening in case of different projects across NEx in this regard.
    CommentQuote