पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • Hi all,

    Does Gaur city -2 fall in the territory of haibatpur village ? There has been a notice issued against the acquisition of this land, I guess most of you are already aware of it but I am interested to know that the land of Gaur city-2 falls under the territory of which village... Any idea ?
    CommentQuote
  • Don't ask which project is on disputed land and which project is not? All the land in ne is disputed. Only when the farmers and builders join hands together, can save the ne and not by gn authority. Authority is the main culprit for this total mess. Authority and govt only wants to mint money in ne as quickly as possible and not bothered about flat buyers. Their eyes are on next elections and the money which they got from us, to spend for votes
    CommentQuote
  • लॉन्च होगी इंडस्ट्रियल स्कीम, ड्रॉ से मिलí

    ग्रेटर नोएडा में पिछले डेढ़ साल से इंडस्ट्रियल प्लॉट की बाट जोह रहे उद्यमियों को जल्द
    प्लॉट मिल सकता है। अथॉरिटी अफसरों के मुताबिक 28 जनवरी को स्कीम लॉन्च की जा सकती
    है। इसमें पहली बार आवेदकों को ड्रॉ के जरिए प्लॉट अलॉट किया जाएगा। अब तक इंटरव्यू के
    आधार पर प्लॉट अलॉट होता था। स्कीम में 2000 प्लॉट शामिल किए गए हैं। ये 450 से 2000
    वर्गमीटर तक के होंगे।

    अथॉरिटी के एसीईओ हरीश वर्मा ने बताया कि करीब पिछले डेढ़ साल से इंडस्ट्रियल प्लॉट
    अलॉट नहीं किए गए हैं। डेढ़ साल पहले तक इंडस्ट्रियल प्लॉटों की स्कीम ओपन एंडेड थी। इसमें
    कोई भी उद्यमी अथॉरिटी में आकर प्लॉट के लिए आवेदन कर सकता था। उद्यमी के उद्योग
    लगाने संबंधित पे्रजेंटेशन और इंटरव्यू के बाद प्लॉट देने का फैसला होता था। अब ड्रॉ के माध्यम
    से प्लॉट अलॉट किए जाएंगे। एसीईओ ने बताया कि इसके लिए बोर्ड मीटिंग में प्रस्ताव पास
    करा लिया गया है। स्कीम में उन प्लॉटों को भी शामिल किया जा रहा है जिनका आवंटन
    किसी न किसी वजह से निरस्त कर दिया गया था। प्लॉट का साइज 450 वर्गमीटर से 2000
    वर्ग मीटर तक होगा।

    करना होगा फ्रेश आवेदन
    पिछले डेढ़ साल के दौरान जिन उद्यमियों ने प्लॉट के लिए आवेदन कर रखा है, उन्हें भी फ्रेश
    आवेदन करना होगा। एसीईओ ने बताया कि नई स्कीम में किसी भी पुराने आवेदन पर विचार
    नहीं किया जाएगा।
    मिलेगी पूरी सहूलियत

    एसीईओ ने बताया कि प्लॉट के आवंटन लेटर से लेकर फंग्शनल सर्टिफिकेट जारी करने तक
    उद्यमियों को किसी भी तरह से परेशान होने नहीं दिया जाएगा। उद्यमियों के आवेदन पर
    तत्काल कार्यवाही की जाएगी।
    CommentQuote
  • Originally Posted by Johny123

    koi panchsheel greeen ki latest pics upload kero bhailogo.....
    CommentQuote
  • Guys

    Today Greater Noida Financial Health is as we know, very BAD.
    But when nearly 5 lacs flats will be delivered in NE, can you guys imagine how much Greater Noida authority gonna get get revenue from registry/stamp duty?
    CommentQuote
  • Originally Posted by cookie
    Guys

    Today Greater Noida Financial Health is as we know, very BAD.
    But when nearly 5 lacs flats will be delivered in NE, can you guys imagine how much Greater Noida authority gonna get get revenue from registry/stamp duty?

    just one correction..

    IF and when nearly 5 lakhs flats are......................
    CommentQuote
  • Originally Posted by cookie
    Guys

    Today Greater Noida Financial Health is as we know, very BAD.
    But when nearly 5 lacs flats will be delivered in NE, can you guys imagine how much Greater Noida authority gonna get get revenue from registry/stamp duty?


    Very true... Even if we consider 2 lac Flats at average rate of 20 lacs, duty at 5% will be around 2000 crores... :bab (59):
    CommentQuote
  • NEFOMA update ...

    All affected Panchsheel flat buyers are requested to join meeting with builder
    Tomorrow 24.1.2013 at 1pm at H- 169, Sector 63, Noida

    In case our demands are not accepted, we will submit our complaint to City magistrate (after Builder’s meeting)

    TEAM NEFOWA
    CommentQuote
  • 39 गांवों के किसानों ने निकाली ललकार रैली

    किसानों ने ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी के खिलाफ एक बार फिर से मोर्चा खोला दिया है। अपनी मांगों को लेकर 39 गांवों के किसानों ने ग्रेटर नोएडा वेस्ट एरिया के गांवों में अथॉरिटी के खिलाफ ललकार रैली निकाली। इसके बाद घोड़ी-बछेड़ा गांव में किसानों ने महापंचायत की। इसमें 3 फरवरी को ग्रेनो वेस्ट में सभी साइटों पर काम रोकने का फैसला किया गया। किसानों ने ऐलान किया है कि वे मांगें पूरी होने के बाद ही निर्माण कार्य शुरू करने दंेगे।
    किसान संघर्ष समिति के प्रवक्ता मनवीर भाटी ने बताया कि ललकार रैली बुधवार सुबह 11 बजे किसान चौक से शुरू हुई। यहां से रैली इटैड़ा, रोजा, पतवाड़ी, बिसरख, ऐमनाबाद, चौगानपुर, तुस्याना, खैरपुर होते हुए घोड़ी-बछेड़ा के शहीद पार्क पहंुची। उन्होंने बताया कि ललकार रैली में हाईटेक सिटी प्रतिरोध आंदोलन समिति, यूपीएसआईडीसी आंदोलन समिति के भी पदाधिकारी शामिल थे। महापंचायत में किसान नेता रमेश रावल ने कहा कि ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी हाई कोर्ट के फैसले को लागू नहीं कर रही है। किसानों को 64 प्रतिशत बढ़ा हुआ मुआवजा, 10 प्रतिशत आबादी के प्लॉट अब तक नहीं दिए गए हैं। किसान अब आरपार की लड़ाई लड़ेंगे। अजब सिंह प्रधान ने कहा कि अथॉरिटी किसानों के काम पूरे न करके किसानों को आंदोलन करने के लिए मजबूर कर रही है। किसान 27 जनवरी को चिटेहरा गांव में और 31 जनवरी को हाईटेक सिटी का काम बंद कराएंगे। 3 फरवरी को ग्रेटर नोएडा वेस्ट एरिया में बिल्डरों का निर्माण कार्य बंद कराया जाएगा। महापंचायत में कपिल गुर्जर, बलराज प्रधान, प्रदीप यादव, सुरेंद्र भाटी, मान सिंह समेत कई किसान मौजूद रहे।



    39
    CommentQuote
  • Some of Gaur City 2 land is transferred by GDA to GNA & then to Gaur city

    Originally Posted by sandeepkh
    Hi all,

    Does Gaur city -2 fall in the territory of haibatpur village ? There has been a notice issued against the acquisition of this land, I guess most of you are already aware of it but I am interested to know that the land of Gaur city-2 falls under the territory of which village... Any idea ?


    I dont know precise marking of land in Gaur city 2 but it is true that some land in Gaur city 2 were originally acquired by GDA & transferred to GNA which was transferred to Gaursons Promoters. Believe there is no dispute on those area.
    CommentQuote
  • Originally Posted by Totaram
    I dont know precise marking of land in Gaur city 2 but it is true that some land in Gaur city 2 were originally acquired by GDA & transferred to GNA which was transferred to Gaursons Promoters. Believe there is no dispute on those area.


    It comes under haibatpur and a fresh notice has been issued to Govt. on acquisition of this land :(
    CommentQuote
  • Is it for Panchsheel Green 2?

    Can anybody confirm this?
    Attachments:
    CommentQuote
  • Originally Posted by vijay.dhiman
    Can anybody confirm this?


    Yes...this is for Panchsheel Green 2...i got to know from the builder that they got late in submission of layout plans to authority during stipulated time given by authority..hence Authority issued a notice....now Panchsheel is submitting plan again with panelty imposed by authority..i think it will take furhter one month to get approved....
    CommentQuote
  • किसानों ने सुभाष चंद बोस की जयंती पर ललकार रैली निकाल कर प्राधिकरण के खिलाफ हुंकार भरी। रैली ग्रेनो वेस्ट के गोल चक्कर से शुरू होकर इटैड़ा, रोजा, पतवाड़ी, बिसरख, ऐमनाबाद, चौगानपुर, तुस्याना, खैरपुर, सैनी, खोदना, देवला, तिलपता, जुनपत होते हुए शहीद पार्क घोड़ी बछेड़ा पहुंची। रैली में किसानों से आंदोलन से जुड़े सभी समितियों के पदाधिकारियों ने भाग लिया।

    रैली के बाद घोड़ी बछेड़ा गांव में आयोजित पंचायत में किसानों ने निर्णय लिया कि क्षेत्र का किसान अब प्राधिकरण से वार्ता न करके 64.7 फीसद अतिरिक्त मुआवजा, दस फीसद विकसित भूखंड व आबादियों के पूर्ण समाधान के लिए आरपार की लड़ाई लड़ेगा। किसान संघर्ष समिति के प्रवक्ता मनवीर भाटी ने बताया कि पंचायत में सामूहिक रूप से यह निर्णय लिया गया कि 27 में चिटहेरा गांव में संघर्ष कर रहे समिति के साथ काम रोको आंदोलन में भाग लिया जाएगा। क्षेत्र के सभी किसान संगठन व किसान मिलकर तीन फरवरी को ग्रेटर नोएडा वेस्ट के सभी बिल्डरों का काम रोकेंगे। पंचायत में सुनील फौजी, इंदर, रमेश रावल, ओमपाल भाटी, नवीन भाटी, बिजेद्र बेसौया, अजब सिंह, कपिल गुर्जर, बलराज प्रधान, प्रदीप यादव, सुरेंद्र भाटी, अजय प्रधान, आदेश भाटी, कर्ण सिंह, कालूराम, राजा राम रावल, उधम सिंह,गिरीश त्यागी, राजेंद्र प्रधान, प्रकाश प्रधान, साधू सिंह, मान सिंह, धर्म सिंह भाटी, दयानंद, पप्पू भाटी, बिजेद्र, पवन शर्मा, भीम नागर, डॉ. जगदीश खारी, मान सिंह प्रधान, रवि प्रधान, सतवीर आदि लोग मौजूद थे।
    CommentQuote
  • NEFOMA update ... :

    CommentQuote