पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • Originally Posted by ManGupta
    Okey for the sake of argument I agree that Raja Harischand Builders will not temper their existing towers and only increase height in FUTURE DEVELOPEMENT AREAS ONLY.

    Even then it will put enormous pressure on Common areas / infrastructure / facilities within the Gated Complex.

    You know that while signing NOC ... Gaur Office looked like an Government camp.

    Then imagine ..... after RTM ...... how much effort you will have to make to the maintenance agency / RWA ...... to complaint about the leaking pipe / walls in your apartment. ..........

    ......... maintenance agency / RWA will be like any other Deaf Government Body.

    It would be hell to maintain such huge societies... now we see 10 to 15 floors societies with tons of seepage, broken lifts, dirty common area, shabby clubs, security lapses etc so any one can guess what would be condition in societies with 30+ floors...
    CommentQuote
  • Originally Posted by ncounter
    ab ye kathor satya suna nahin jaata.. m going to sleep gn guys



    Lagta hai you are not a buyer of Noida Extension......


    Noida Extension Buyers to aise kai "kathor satya" ke aadi ho chuke hai ..... aur aaram se sab bardast kar lete hain.....
    CommentQuote
  • Why are we seeing all these tall building constructions on Noida/ indirapuram side? This case is not in Gurgaon.
    Is it greed of builders/govt/Authority or shortage of land in Noida region?
    CommentQuote
  • Originally Posted by ManGupta
    Lagta hai you are not a buyer of Noida Extension......


    Noida Extension Buyers to aise kai "kathor satya" ke aadi ho chuke hai ..... aur aaram se sab bardast kar lete hain.....


    I am buyer of noida extension thats why its a kathor satya for me and that was my first RE investment.
    ghar waale aajtak kehte h pehli baar koi kaam karne laga vo bhi galat kiya. Muhurat hi kharab ho gaya.
    CommentQuote
  • Originally Posted by ncounter
    I am buyer of noida extension thats why its a kathor satya for me and that was my first RE investment.
    ghar waale aajtak kehte h pehli baar koi kaam karne laga vo bhi galat kiya. Muhurat hi kharab ho gaya.


    You are not alone my friends .... Me , Del_Sanju and thousands other .... are all sailing in the same boat.
    CommentQuote
  • How many agree to this !

    Tuz Se Naaraaj Naheen Jindagee
    Hairaan Hoo Main......

    Jeene Ke Liye Sochaa Hee Nahee
    Dard Sanbhaalane Honge
    Muskuraye To, Muskuraane Ke
    Karja Utaarane Honge
    Muskuraoo Kabhee To Lagataa Hai
    Jaise Hothhon Pe, Karja Rakhaa Hain
    CommentQuote
  • Originally Posted by hindustan
    Why are we seeing all these tall building constructions on Noida/ indirapuram side? This case is not in Gurgaon.
    Is it greed of builders/govt/Authority or shortage of land in Noida region?


    hindustan ji,

    Even though I do not know much about Gurgaon RE, things have progressively worsened in Noida since my jump in RE a little over an year ago. I am also invested in NExt and with this news, I am dreading skipping over the decision to invest in a plot on YEW. Its admittedly long-term but free from daily tension. I checked many projects and finally went for Gaur's in NExt, which may very well be the least dense in the region. I guess that will not be the case now. :(
    CommentQuote
  • Originally Posted by coolatta
    hindustan ji,

    Even though I do not know much about Gurgaon RE, things have progressively worsened in Noida since my jump in RE a little over an year ago. I am also invested in NExt and with this news, I am dreading skipping over the decision to invest in a plot on YEW. Its admittedly long-term but free from daily tension. I checked many projects and finally went for Gaur's in NExt, which may very well be the least dense in the region. I guess that will not be the case now. :(


    Things are getting worse day by day. I was shocked to hear this news.
    With this high inventory and lot of tensions, it is much much better to stay on rent rather than buying in NE.
    Regarding Yamuna expressway, forget it.....no hope for that region.
    CommentQuote
  • Supertech Albaria

    Supertech Looking for new BAKRA's ...

    increaed FAR...they will set-up a new Tower of 3 BHK ones...!!!


    Supertech Albaria


    Supertech Albaria is a rising new residential project that makes a grand welcome for all customers for making a part of this city as their forever. Supertech Albaria exceptional residential project offers 3 BHK apartments in an area ranging from 1590 sq.ft., 1596 sq.ft. and 1725 sq.ft.





      Noida City Centre Metro Station – 9 kms (approx)
      Sai Mandir 8.5 kms
      Indirapuram – 6.5 kms
      Crossing Republic – 4 kms
      Close proximity to important industrial and residential areas like Greater Noida, Noida and Ghaziabad.
    CommentQuote
  • NEFOMA update ...

    NEFOWA's flat buyer's meeting is scheduled on 3rd Feb (Sunday) at 12 pm at Noida Extension Gol chakkar. All flat buyers of Greater Noida West are requested to attend the meeting. Agenda: 1. Non construction of some projects 2. Builders ill timed demand, as banks are not disbursing loans. and threatening to cancel the flat 3. Confusion among buyers due to Supreme court's verdict on various villages of Greater Noida West Place : Noida Extension Gol chakkar Time : 12 pm Date : 3rd Feb (Sunday) For more information ,plz contact on 8595071867/ 9968395398 / 9818135811/ 9818151814

    CommentQuote
  • But is not this increased FAR for the new projects and not for the existing projects. I think similar post was there on FB also.
    CommentQuote
  • what is development in panchsheel hynish . How many floors made . Any pics plz upload
    CommentQuote
  • नक्शा अप्रूव कराने में जुटे बिल्डर

    ग्रेटर नोएडा वेस्ट के कुछ बिल्डरों ने अथॉरिटी से नक्शा अप्रूव कराने के लिए संपर्क करना शुरू कर दिया है। बिल्डर बुकिंग फिर से शुरू करने के लिए जल्द से जल्द नक्शा अप्रूव कराना चाहते हैं।

    अथॉरिअी अफसरों ने बताया कि एक - दो बिल्डरों ने नक्शा अप्रूव कराने के लिए संपर्क किया है। जिन बिल्डरों ने अब तक नक्शा अप्रूव नहीं कराया है , उन्हें जल्द नक्शा अप्रूव कराना होगा। नक्शा अप्रूव होने के बाद बिल्डर अपने प्रोजेक्ट पर काम भी शुरू कर सकते हैं। बता दें कि ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी ने वर्ष 2010 में ग्रेटर नोएडा वेस्ट में करीब 70 बिल्डरों को 80 लाख वर्गमीटर एरिया अलॉट किया है। बिल्डिंग की नींव रखने से पहले ही बिल्डरों ने फ्लैटों की बुकिंग शुरू कर दी। इसमें कुछ बिल्डरों ने अथॉरिटी से नक्शा अप्रूव कराए बिना बुकिंग शुरू कर दी। ऐसे बिल्डरों को अथॉरिटी की ओर से सोमवार को नोटिस भेजकर बुकिंग रोकने का निर्देश दिया गया था


    नक्शा अप्रूव कराने में जुटे बिल्डर - Been approved wrest Map Builder - Navbharat Times
    CommentQuote
  • रेजिडेंशल एरिया में कमर्शल एक्टिविटी पड़

    ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी रेजिडेंशल सेक्टर में चल रही कमर्शल ऐक्टिविटीज के खिलाफ जल्द अभियान शुरू करेगी। बुधवार को ओएसडी ने अथॉरिटी के मैनेजर व सीनियर मैनेजरों के साथ मीटिंग कर अभियान शुरू करने का निर्देश दिया है।

    ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी ने शहर की प्लानिंग करते समय इस बात का विशेष ध्यान रखा कि शहर में रेजिडेंशल सेक्टर , कमर्शल सेक्टर , इंस्टिट्यूशनल सेक्टर और इंडस्ट्रियल सेक्टर अलग - अलग होंगे। इसके उलट शहर के तकरीबन सभी सेक्टरों में अवैध रूप से पीजी हाउस , पॉश सेक्टरों में बुटीक , ब्यूटी पार्लर समेत कई शॉप चल रही हैं। अथॉरिटी के ओएसडी योगेंद्र यादव ने बताया कि सेक्टरों में कमर्शल ऐक्टिविटी रोकने के लिए अथॉरिटी अब सीधे अलॉटी को टारगेट करेगी।

    अथॉरिटी के बायलॉज के मुताबिक रेजिडेंशल सेक्टर के प्लॉट या मकान में कमर्शल एक्टिविटी चलाना या इसकी इजाजत देना लीज - डीड की शर्तों का उल्लंघन है। ऐसे अलॉटियों की लीज - डीड कैंसल की जा सकती है। उन्होंने बताया कि सभी सेक्टरों में डिवेलपमेंट वर्क व मेंटिनेंस का काम देखने के लिए सीनियर मैनेजर नियुक्त किए गए हैं। अगर किसी रेजिडेंशल प्लॉट या मकान में एक्टिविटी हो रही है तो इसकी रिपोर्ट सीनियर मैनेजर प्रॉपर्टी डिपार्टमेंट को देगा। प्रॉपर्टी डिपार्टमेंट अलॉटी को नोटिस भेजकर कमर्शल एक्टिविटी बंद कराने की चेतावनी देगा। अगर नोटिस देने के 15 दिनो में कमर्शल एक्टिविटी बंद नहीं होगी तो लीज - डीड कैंसल कर दी जाएगी।


    रेजिडेंशल एरिया में कमर्शल एक्टिविटी पड़ेगी महंगी - Commercial activity in the area will Rejidenshl expensive - Navbharat Times
    CommentQuote
  • शहर में मेट्रो के एक और नए रूट को हरी झंडी
    Updated on: Wed, 30 Jan 2013 10:35 PM (IST)


    सुनील मौर्य, नोएडा

    नोएडा से ग्रेटर नोएडा वेस्ट और परीचौक की तरफ जाने वाली मेट्रो आपस में एक नए प्रस्तावित रूट से जोड़ी जाएंगी। यह नया रूट सेक्टर-51 से शुरू होकर एक्सप्रेस-वे पर सेक्टर-142 के पास जुड़ेगा। इस नए प्रस्ताव से नोएडा के लगभग सभी इलाके मेट्रो रूट से जुड़ जाएंगे। यही नहीं, ग्रेटर नोएडा के लोगों को भी दिल्ली और गाजियाबाद जाने के लिए पहले की तुलना में कम सफर तय करना पड़ेगा। इस प्रस्ताव को कुछ दिन पहले प्राधिकरण, गाजियाबाद के एनसीआर प्लानिंग सेल व कंट्री प्लानिंग डिपार्टमेंट अधिकारियों के साथ हुई बैठक में मंजूरी दी गई। इस बारे में प्राधिकरण के वरिष्ठ अधिकारी ने पुष्टि करते हुए कहा कि नए प्रस्तावित रूट से शहर के विकास में तेजी आएगी।

    नए रूट से पूरा शहर आ जाएगा मेट्रो दायरे में

    नए प्रस्तावित रूट को सेक्टर-51 से 76, 78, 102, 106 हॉजरी कांप्लेक्स के रास्ते सेक्टर-142 व 168 के पास जोड़ा गया है। इस तरह यह रूट त्रिभुज के आकार का बन रहा है। इस नए प्रस्तावित रूट से एक्सप्रेस-वे से दूर-दराज के इलाकों को भी मेट्रो रूट से आसानी से जोड़ा जा सकेगा। इससे सेक्टर-49, सेक्टर-50, सेक्टर-75, सेक्टर-76, सेक्टर-101, सलारपुर खादर, भंगेल बेगमपुर, नगला-चरणदास समेत कई गांव मेट्रो रूट से जुड़ जाएंगे।

    आसान हो जाएगा सफर

    -ग्रेटर नोएडा के परी चौक व इसके आसपास के इलाके में रहने वाले लोगों को सेक्टर-62 की तरफ जाने के लिए एक्सप्रेस-वे होकर सिटी सेंटर वाले रूट से जाने के बजाय सेक्टर-51 वाले रूट से आसानी व कम समय में पहुंच सकेंगे।

    -गाजियाबाद व सेक्टर-62 के आसपास रहने वाले लोगों को ग्रेटर नोएडा के परीचौक की तरफ जाने के लिए लंबे रूट के बजाय सेक्टर-51 से प्रस्तावित नए रूट के इस्तेमाल करने से समय की काफी बचत होगी।

    तीन नए जंक्शन से सफर होगा आसान

    नोएडा मास्टर प्लान-2031 के मेट्रो मॉडल में सिटी सेंटर के अलावा तीन नए जंक्शन होंगे। इनमें सेक्टर-51, सेक्टर-71 व सेक्टर-142 शामिल हैं। सेक्टर-51 व सेक्टर-142 जंक्शन से की मदद से कई फायदे होंगे।

    हिंडन नदी पर बनेंगे दो पुल

    नोएडा से ग्रेनो के बीच मेट्रो रूट के बीच हिंडन नदी पर दो स्थानों पर पुल बनाएं जाएंगे। पहला पुल गढ़ी चौखंडी से कुछ दूरी पर और दूसरा ग्रेनो से ठीक पहले शफीपुर गांव के पास बनाया जाएगा।

    मेट्रो का नया रूट मैप प्राधिकरण की आधिकारिक वेबसाइट पर भी

    मेट्रो के नए प्रस्तावित रूट को नोएडा प्राधिकरण के आधिकारिक ने वेबसाइट पर भी डाल दिया है। इससे पता चलता है कि नोएडा मास्टर प्लान-2031 के तहत मंजूरी दी गई है। इसे अब आम जनता भी आसानी से वेबसाइट पर क्लिक कर मेट्रो रूट को देख सकती है।
    CommentQuote