पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • Originally Posted by cookie
    IS Mall operational in this?

    Looks like It will take another 2 + years to get ready..


    If Amrapali is going to give such infrastructure, it is worth imagine what others would provide.

    NE will be more like a tourist place ;)
    CommentQuote
  • Originally Posted by cookie
    IS Mall operational in this?

    Looks like It will take another 2 + years to get ready..

    arre cookie bhai .. abhi kahan se operational hoga .. now is the time when amrapali must have taken max money from the buyers... they might slow down now ;)
    CommentQuote
  • I m planning to buy ajnara le gardens or aims golf town in a week. Any suggestion which to buy or avoid.
    Ajnara pricing at 10 floor is 34 lakh for 2 bhk 995 sqft . Its also a corner flat with 50psqft corner plc.

    Aims golf town is giving 960 sqft at 3rd floor in exactly 32 lakhs.
    Both rates are on flexi plan.
    All suggestions nd guidance are welcome.
    CommentQuote
  • Originally Posted by Manpasand
    Future of NE is bright.


    bhai ye NE me thode hi hai ? iski vajah se NE ka future kaise bright hoga?
    CommentQuote
  • भोगपुर में किसानों ने की पंचायत

    अधिग्रहण प्रभावित किसानांे ने अंसल प्रतिरोध किसान मंच के बैनर तले भोगपुर गांव में पंचायत की। इसमें फैसला किया गया कि वे अब तीन मांगों को लेकर आंदोलन करेंगे। एडवोकेट विजय भाटी ने कहा कि बिल्डर ने किसानों के साथ धोखा करके जमीन खरीदी है। जमीन खरीदते समय बिल्डर ने वादा किया था कि वह गांवों का विकास सेक्टरों की तर्ज पर कराएगा। उन्होंने कहा कि बिल्डर ने विकास अब तक शुरू नहीं कराया है। किसान नेता सुखवीर भाटी ने कहा कि बिल्डर के लंैड यूज की तरह किसानों की जमीन का भी लंैड यूज होना चाहिए। किसानों को भी अपनी जमीन पर फ्लैट बनाकर बेचने का अधिकार मिलना चाहिए। किसान विजयपाल भाटी ने कहा कि अगली पंचायत बिल्डर के दफ्तर के सामने पार्क में दस फरवरी को होगी। किसानों की मांग है कि दस प्रतिशत आबादी के प्लॉट और बढ़ा हुआ मुआवजा दिया जाए। साथ ही भूमिहीन किसानों को 120 वर्ग मीटर के प्लॉट दिए जाए। पंचायत में राजेश , वेद शर्मा , अशोक , रामप्रसाद , राकेश , धर्मेंद्र , बिजेंद्र , मुकेश , सुनील भड़ाना , सुनील फौजी आदि शामिल थे।


    भोगपुर में किसानों ने की पंचायत - Farmers in Bhogpur committee - Navbharat Times
    CommentQuote
  • फिर फूटा किसानों का गुस्सा

    किसानों को गुस्सा रविवार को एक बार फिर अथॉरिटी और बिल्डरों के खिलाफ फूट पड़ा। उन्होंने ग्रेनो ईस्ट - वेस्ट एरिया के सभी 39 गांवों में बिल्डर और अथॉरिटी का निर्माण कार्यां को बंद करा दिया। किसान गाडि़यों पर माइक से आवाज लगाकर बिल्डरों की साइटों पर काम कर रहे मजदूरों को बाहर निकालते रहे। कुछ बडे़ बिल्डरों की साइटों पर साइट इंचार्ज और किसानों के बीच कहासुनी और धक्कामुक्की हुई। किसानों ने बिल्डरों के फार्म हाउसों में तोड़फोड़ भी की और शेडों को गिरा दिया। इस दौरान मौके पर मौजूद पुलिस - पीएसी के जवान और अधिकारी चुपचाप मूकदर्शक बने रहे। पुलिस किसानों को रोकने की हिम्मत नहीं जुटा सकी। काम बंद कराने के बाद किसानों ने बिसरख गांव में पंचायत की। पंचायत में किसानों ने फैसला किया है कि बिल्डरों का काम लगातार बंद कराते रहेंगे। 21 फरवरी को अथॉॅरिटी का घेराव करेंगे। अथॉरिटी का घेराव तब तक जारी रहेगा जब तक किसानों की मांगें पूरी नहीं हो जातीं।

    किसान संघर्ष समिति के प्रवक्ता मनवीर भाटी ने बताया कि हाई कोर्ट ने 21 अक्टूबर 2011 को किसानों की याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए फैसला सुनाया था कि उन्हें दस प्रतिशत आबादी के प्लॉट और 64 प्रतिशत बढ़ा हुआ मुआवजा दिया जाए। अथॉरिटी ने बिल्डरों को लाभ देने के लिए एफएआर तो बढ़ा दिया लेकिन किसानों को मुआवजा और प्लॉट अब तक नहीं दिए हैं। एडीएम लैंड की तैनाती नहीं की जा रही है। गांवों में विकास कार्य बंद पडे़ हैं। उन्होंने बताया कि किसानों की मांग है कि छोड़ी गई आबादी को फ्री होल्ड किया जाए और इसका निस्तारण जल्द किया जाए। भूमिहीन किसानों को 120 वर्गमीटर का प्लॉट दिया जाए। उन्होंने बताया कि अथॉरिटी अधिकारी मांगों को पूरा करने का हर बार आश्वासन देते हैं। किसानों ने परेशान होकर बिल्डर और अथॉरिटी का निर्माण कार्य बंद कराने का फैसला किया था।

    मनवीर भाटी के मुताबिक , बिल्डर और अथॉॅरिटी का काम बंद कराने के लिए किसानों की चार टीमें बनाई थीं। एक टीम घोड़ी - बछेड़ा गांव में , दूसरी सैनी , तीसरी हैबतपुर इटैडा में और चौथी बिसरख एरिया में लगाई गई। चारों टीमों ने बिल्डर और अथॉरिटी की साइटों पर चल रहे निर्माण कार्यां को बंद करा दिया। किसानों ने सुबह 11 बजे से काम बंद कराना शुरू किया और शाम 4 बजे तक कराते रहे। उन्होंने बताया कि मांगें 20 फरवरी तक पूरी नहीं हुईं तो किसान 21 फरवरी को ग्रेटर नोएडा अथॉॅरिटी का घेराव करेंगे। निर्माण कार्य बंद कराने के लिए हाई टेक सिटी प्रतिरोध आंदोलन समिति , यूपीएसआईडीसी किसान मंच , अंसल प्रतिरोध आंदोलन समिति के कार्यकर्ता भी शामिल हुए।

    CommentQuote
  • dont buy aims golf town.don know why aims town price so high..go for ajnara....i have booked flat in ajnara...i suggest wait for one month then buy any peroperty


    Originally Posted by ashish2911
    I m planning to buy ajnara le gardens or aims golf town in a week. Any suggestion which to buy or avoid.
    Ajnara pricing at 10 floor is 34 lakh for 2 bhk 995 sqft . Its also a corner flat with 50psqft corner plc.

    Aims golf town is giving 960 sqft at 3rd floor in exactly 32 lakhs.
    Both rates are on flexi plan.
    All suggestions nd guidance are welcome.
    CommentQuote
  • Farmers stop construction work in Greater Noida


    GREATER NOIDA: Hundreds of farmers from 39 villages once again disrupted construction work of various real estate projects in Greater Noida on Sunday. The protests were not only confined to Greater Noida West (Noida Extension) this time, but also spread to Greater Noida East where sheds of various developers were dismantled by the agitators.

    "We held a panchayat at Bisrakh village and decided to halt construction work of each site in Greater Noida (West)," said Manvir Bhati, farmer leader.

    Enraged farmers intensified their agitation against builders and the Greater Noida Authority and dismantled makeshift offices of builders in Greater Noida (West) leading to a brawl between farmers and construction workers. "Despite several warnings, when the labourers at the sites of Amrapali, Gaur City and Ajnara did not stop construction work, the farmers dismantled the sheds," Bhati said.

    The drama continued for hours. "Farmers are seeking resolution of their land-related demands. They told the developers not to resume the housing projects till their demands were fulfilled by the Greater Noida Authority. We feel that as developers are not paying their dues to the Authority, our compensation amounts continue to remain in limbo," Bhati added.

    Farmers also threatened that they would lock Greater Noida Authority's office on February 21 if their issues stayed unaddressed. "We are preparing a strong agitation on February 21. We will not let Greater Noida Authority function," said added a farmer leader from Bisrakh.
    CommentQuote
  • Originally Posted by caplayer2012
    Suggestion Required
    FACTS:
    My friend booked in Eastend Athena size 1485 sq ft (3BHK) one year ago.
    This project is close to village Bisrakh.
    During this one year they divided their plot of 17 acres into 8.5 & 8.5 two sizes due to internal disputes
    &
    Changed the name of company as well as project now its Capital Athena,
    When he inquired about his unit of size 1485 sq ft they told that now they have no segment in this size they have 1615 sq ft & they assured us to shift to that size BUT………. They are asking for 30% payment he paid booking amount of 10% only as they have no progress at their site even till today.

    Pls suggest::-

    Should he pay them balance 20% approx.?
    Is this safe zone?


    No Reply means :::: Ultimate/Final Reply
    Thanks for tremendous response of my query from this FORUM.

    Now it is easy for me to advice him.
    I thought that only I was confused, nobody has clear view.
    I suggest him to take refund of his money the best solution to the situation like this.
    CommentQuote
  • Originally Posted by caplayer2012

    No Reply means :::: Ultimate/Final Reply
    Thanks for tremendous response of my query from this FORUM.

    Now it is easy for me to advice him.
    I thought that only I was confused, nobody has clear view.
    I suggest him to take refund of his money the best solution to the situation like this.


    Will they refund him money or will they refund everything - Booking Amount? Please check before taking action. No one would want to lose booking amount.
    CommentQuote
  • arjiet ---> why not aims?? give some reason also based on which u went for peace of mind.. some says ajanara is greedy builder
    CommentQuote
  • CommentQuote
  • Originally Posted by satymish
    Will they refund him money or will they refund everything - Booking Amount? Please check before taking action. No one would want to lose booking amount.



    they might have increased the super area to extract more money from you... so now u have to pay for 200sqft more and they may hand over the same flat to you...

    greed greed.!!!!
    CommentQuote
  • Anybody has any update on Dreamvalley Villa. they are still not starting construction
    They are telling map for dreamvalley is not yet approved. Anybody has update.
    CommentQuote
  • ???????
    CommentQuote