पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • no news of EWS flats in gr. noida...

    was supposed to be launched on this Monday.
    CommentQuote
  • RTI Filed at GNIDA yesterday...for Amrapaali Centurain Park



    CommentQuote
  • NEFOWA Update :

    CommentQuote
  • This man should have been alive now....please have a look on below link

    Rajiv Dixit Exposes Indian Royal Families Who Helped The British - YouTube
    CommentQuote
  • Paramount Emotions has started booking
    CommentQuote
  • Originally Posted by Dravid
    This man should have been alive now....please have a look on below link

    Rajiv Dixit Exposes Indian Royal Families Who Helped The British - YouTube

    ahhhh!!!! sorry if it hurts but still most of the UP walas are stuck in previous century - please please please grow up

    rohit
    CommentQuote
  • Originally Posted by rohit_warren
    ahhhh!!!! sorry if it hurts but still most of the UP walas are stuck in previous century - please please please grow up

    rohit


    This looks like a totally irrelevant post and nobody bothered to comment on it for 13 hours.

    Lekin tumhe kuch na kuch negative bolna hi hota hai .. Isme UP kaha se aa gaya?

    Dimag saaf kara le bhai ...

    Aur yaha jo bola vo bola .. Haryana me jake kisi khap pnchayat ke member se mat bol dena ki tum previous century me ji rahe ho .. lathi ghusa dega.
    CommentQuote
  • Originally Posted by rohit_warren
    ahhhh!!!! sorry if it hurts but still most of the UP walas are stuck in previous century - please please please grow up

    rohit


    What are you talking?? How can you discriminate people based on States....Such a cheap comment.....You need to grow up.... Being a Indian, you should respect all states, language, culture. Its a part of county.....
    Its shameless comment..... If this century teaches to discriminate,,,then its better to stuck previous century....
    CommentQuote
  • brothers ingnore him he his psycho.. just like others of his breed.. 16 dooni 8 ;-)
    CommentQuote
  • i want to buy property in noida extension, have been researching on builders for somedays now.i came across some promoting massive discount for govt employees and skilled professionals in front of knowledge park 5. can anyone help me how to check the authenticity of such organisation, as i dont want to leave these discounts.
    CommentQuote
  • notice to farmers

    CommentQuote
  • Kaam karo na karo kaam kaa jikar jaroor karo
    Kaam kaa jikar karo na karo kaam kee fikar jaroor karo
    Kaam kee fikar karo yaa na karo kaam kai fikar kaa jikar jaroor karo.

    Yai kaam vo kaam nahi hai doston ;) yanha per kaam kaa matlab hai work
    CommentQuote
  • Any update on Zero Period interest
    CommentQuote
  • Originally Posted by trialsurvey


    Ye toh lamba chalne wala hai. 2014 se aage hi jayega ye toh.
    sahi dukan khol rakhi hai inhone.
    CommentQuote
  • Originally Posted by del_sanju
    Ye toh lamba chalne wala hai. 2014 se aage hi jayega ye toh.
    sahi dukan khol rakhi hai inhone.


    hahaha haan jab tak final verdict aayega tab tak builder log 10-12 floor khadi kar chuke honge making it very difficult for the SC to cancel the acquisition in the end .. bas ho sakta hai farmer compensation badha de SC
    CommentQuote