पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • ग्रेटर नोएडा में प्लॉट दिलाने का झांसा दे ठगने वाला गिरफ्तार
    जागरण संवाददाता, नई दिल्ली : एक युवक बिहार से नौकरी की तलाश में दिल्ली आया। यहां उसने अलग-अलग जगहों पर कई नौकरियां की। इसी दौरान उसने पाया कि लोग प्लॉट अथवा प्रॉपर्टी खरीदने के लिए लाखों रुपया खर्च करने में नहीं हिचकते। नतीजतन उसने प्लॉट बेचने के नाम पर लोगों को ठगने की योजना बना ली। उसने एक नामी बिल्डर के नाम का कार्यालय खोल लिया। वह लोगों को सस्ती कीमत पर ग्रेटर नोएडा में प्लॉट दिलाने का झांसा देता था। जब उसके पास कई खरीदारों के लाखों रुपये इकट्ठा हो गए तो वह कार्यालय बंद कर फरार हो गया। शिकायत के बाद चांदनी महल थाना पुलिस ने आरोपी ठग अफरोज अहमद को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस जांच में फिलहाल पांच लोगों से ठगी का मामला सामने आया है। लेकिन अधिकारी बताते हैं कि ठगी के शिकार लोगों की संख्या दर्जनों में हो सकती है। पुलिस जांच कर रही है। मध्य जिला के एडिशनल पुलिस कमिश्नर देवेश चंद श्रीवास्तव ने बताया कि पटपड़गंज निवासी रेखा देवी ने पिछले वर्ष 28 दिसंबर को थाने में ठगी की शिकायत की थी।
    CommentQuote
  • lagta hai ki trial bhai NE ko bhul gaye hai.
    CommentQuote
  • Originally Posted by Pradyot1315sqf
    lagta hai ki trial bhai NE ko bhul gaye hai.



    Ab nex me koi excitment nhi rahi and Many seniors are missing.
    CommentQuote
  • Originally Posted by del_sanju
    Ab nex me koi excitment nhi rahi and Many seniors are missing.


    bhai next week wapas india aa raha hoon .. phir restart karoonga NE updates :D
    CommentQuote
  • Originally Posted by trialsurvey
    bhai next week wapas india aa raha hoon .. phir restart karoonga NE updates :D



    Welcome Sir.........
    CommentQuote
  • Originally Posted by del_sanju
    Ab nex me koi excitment nhi rahi and Many seniors are missing.


    More Hurdles:bab (59):
    ........More Excitement:bab (59):
    ................More discussion:bab (59):

    sub shaant hai it means kaam smoothly chal raha hai. Every thing is fine.
    CommentQuote
  • Any Updates on NGT hearing on ground water to be held on 28 feb.
    CommentQuote
  • kaheen yeh toofan ke aane se pehle ka sannaata toh nahi hai :(
    CommentQuote
  • CommentQuote
  • ग्रेनो में आवासीय योजना के नाम पर ठगी
    संवाददाता, ग्रेटर नोएडा : ग्रेटर नोएडा वेस्ट में एक संस्था द्वारा फर्जी आवासीय योजना निकालकर लोगों को ठगने का गोरखधंधा खुलेआम किया जा रहा है। इस धंधे को शुरू हुए पांच दिन हो गए हैं। अब तक दर्जनों अनजान लोग संस्था के झांसे में फंस चुके हैं। दो दिन के अवकाश के बाद सोमवार को प्राधिकरण कार्यालय खुला तो अधिकारियों के सामने गोरखधंधे का पर्दाफाश हुआ। सीईओ रमा रमण ने तत्काल संस्था के खिलाफ थाने में मामला दर्ज कराने के निर्देश देते हुए लोगों को आगाह किया कि ग्रेटर नोएडा वेस्ट में इस तरह की कोई आवासीय योजना नहीं निकाली गई है। संस्था द्वारा निकाली गई योजना फर्जी है, इसलिए लोग उसमें अपनी जमा पूंजी न लगाएं। उल्लेखनीय है कि अखिल भारतीय जन कल्याण नामक संस्था द्वारा एक मार्च को कुछ समाचार पत्रों में विज्ञापन छपवाकर ग्रेटर नोएडा वेस्ट में आवासीय योजना निकाले जाने की सूचना जारी की है। योजना का आरंभ एक मार्च से दिखाया गया है। फॉर्म जमा करने की अंतिम तिथि 15 मार्च और ड्रा की तिथि 24 मार्च बताई गई है। योजना में 60 वर्ग मीटर के 120 भूखंड, 120 वर्ग मीटर के 100 भूखंड व 180 वर्ग मीटर के 50 भूखंड दिखाए गए हैं। इनकी कीमत 15 सौ रुपये प्रति वर्ग फीट रखी गई है। भूखंडों की कीमत आठ लाख से 24 लाख 30 हजार रुपये तक रखी गई है। धरोहर राशि के रूप में दस हजार रुपये जमा करने को कहा गया है। इतना ही नहीं लोगों को योजना की तरफ आकर्षित करने के लिए भूखंडों को 130 मीटर चौड़ी सड़क व मेट्रो रेलवे स्टेशन के नजदीक बताया गया है। भूखंडों का उपयोग फ्री होल्ड छपवाया गया है। विज्ञापन देखकर अधिकारी रह गए भौचक्के : सोमवार को प्राधिकरण अधिकारियों के पास समाचार पत्रों में छपे विज्ञापन की प्रति पहुंची, तो वह इसे देखकर भौचक्के रह गए। सीईओ रमा रमण ने तत्काल एसीईओ हरीश वर्मा और ओएसडी योगेंद्र यादव को संस्था के खिलाफ कार्रवाई के आदेश दिए। फर्जी है आवासीय योजना : सीईओ : सीईओ रमा रमण का कहना है कि नोएडा व ग्रेटर नोएडा के अधिसूचित क्षेत्र में प्राधिकरण द्वारा आवंटित जमीन के अलावा किसी जमीन पर योजना नहीं निकाली जा सकती। अखिल भारतीय जन कल्याण आवास योजना फर्जी है। लोग इसमें अपनी गढ़ाई कमाई न लगाएं। यदि लोग योजना में भूखंड खरीदते हैं तो इसके लिए वह खुद जिम्मेदार होंगे।
    CommentQuote
  • Originally Posted by Amit Dang
    ग्रेनो में आवासीय योजना के नाम पर ठगी
    संवाददाता, ग्रेटर नोएडा : ग्रेटर नोएडा वेस्ट में एक संस्था द्वारा फर्जी आवासीय योजना निकालकर लोगों को ठगने का गोरखधंधा खुलेआम किया जा रहा है। इस धंधे को शुरू हुए पांच दिन हो गए हैं। अब तक दर्जनों अनजान लोग संस्था के झांसे में फंस चुके हैं। दो दिन के अवकाश के बाद सोमवार को प्राधिकरण कार्यालय खुला तो अधिकारियों के सामने गोरखधंधे का पर्दाफाश हुआ। सीईओ रमा रमण ने तत्काल संस्था के खिलाफ थाने में मामला दर्ज कराने के निर्देश देते हुए लोगों को आगाह किया कि ग्रेटर नोएडा वेस्ट में इस तरह की कोई आवासीय योजना नहीं निकाली गई है। संस्था द्वारा निकाली गई योजना फर्जी है, इसलिए लोग उसमें अपनी जमा पूंजी न लगाएं। उल्लेखनीय है कि अखिल भारतीय जन कल्याण नामक संस्था द्वारा एक मार्च को कुछ समाचार पत्रों में विज्ञापन छपवाकर ग्रेटर नोएडा वेस्ट में आवासीय योजना निकाले जाने की सूचना जारी की है। योजना का आरंभ एक मार्च से दिखाया गया है। फॉर्म जमा करने की अंतिम तिथि 15 मार्च और ड्रा की तिथि 24 मार्च बताई गई है। योजना में 60 वर्ग मीटर के 120 भूखंड, 120 वर्ग मीटर के 100 भूखंड व 180 वर्ग मीटर के 50 भूखंड दिखाए गए हैं। इनकी कीमत 15 सौ रुपये प्रति वर्ग फीट रखी गई है। भूखंडों की कीमत आठ लाख से 24 लाख 30 हजार रुपये तक रखी गई है। धरोहर राशि के रूप में दस हजार रुपये जमा करने को कहा गया है। इतना ही नहीं लोगों को योजना की तरफ आकर्षित करने के लिए भूखंडों को 130 मीटर चौड़ी सड़क व मेट्रो रेलवे स्टेशन के नजदीक बताया गया है। भूखंडों का उपयोग फ्री होल्ड छपवाया गया है। विज्ञापन देखकर अधिकारी रह गए भौचक्के : सोमवार को प्राधिकरण अधिकारियों के पास समाचार पत्रों में छपे विज्ञापन की प्रति पहुंची, तो वह इसे देखकर भौचक्के रह गए। सीईओ रमा रमण ने तत्काल एसीईओ हरीश वर्मा और ओएसडी योगेंद्र यादव को संस्था के खिलाफ कार्रवाई के आदेश दिए। फर्जी है आवासीय योजना : सीईओ : सीईओ रमा रमण का कहना है कि नोएडा व ग्रेटर नोएडा के अधिसूचित क्षेत्र में प्राधिकरण द्वारा आवंटित जमीन के अलावा किसी जमीन पर योजना नहीं निकाली जा सकती। अखिल भारतीय जन कल्याण आवास योजना फर्जी है। लोग इसमें अपनी गढ़ाई कमाई न लगाएं। यदि लोग योजना में भूखंड खरीदते हैं तो इसके लिए वह खुद जिम्मेदार होंगे।




    Andher Nagari Chopat Raja:bab (5)::bab (5)::bab (63)::
    CommentQuote
  • NEFOWA update :

    Today Team NEFOWA had a meeting with Nirala their GM - Mr. Inderajeet yadav Meeting was fruitful follwoing are outcome

    1) No cancellation for existing buyers (All Genuine case was addressed)

    2) No interst for Zero Period

    3) Defaulter need to pay to avoid further pains.

    4) Construction work started and they will speed up

    5) They will share latest floor and layout plan after GNA approval
    CommentQuote
  • CommentQuote
  • Originally Posted by trialsurvey
    bhai next week wapas india aa raha hoon .. phir restart karoonga NE updates :D


    Long awaited...
    CommentQuote
  • NEFOWA Team,

    Please have a call with Panchsheel as well to take care of Zero Period... they are asking interest for same.
    CommentQuote