पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16356 Replies
Sort by :Filter by :
  • Farmers lay siege at Noida Extension housing site

    NOIDA: Hundreds of farmers armed with pick-exes and lathis stopped construction work at a housing project in Greater Noida West (Noida Extension) on Thursday after goons allegedly hired by the developer entered a village late on Wednesday night and brutally thrashed a dissenting family, including their 70-year-old mother. The family has alleged that they got no compensation for the land that had been acquired for Gaur City project.

    At least 300 farmers were taken into preventive custody.

    Farmers said the plot of land in Haibatpur belonged to the brothers Kanhaiya, Vijay and their mother Shanti.

    "In the last meeting with the government, the family had been promised compensation for their land in Haibatpur and had even been issued a letter. However, when new officials took charge, they refused to give the compensation and claimed that the letter was void," said Manveer Bhati, Kisan Sangharsh Samiti.

    Following this, the family had attempted to take over the land. "After this, goons of the developer came armed with rods, sticks and country-made pistols and brutally thrashed the family," alleged Bhati.

    When asked about the incident, Gaursons group MD Manoj Gaur said, "The land dispute is between the farmer family and Greater Noida Authority. As the farmers had thrashed our labourers on several occasion, it seems they went to the village and clashed with the family."

    "We have given a one day ultimatum to the police to lodge an FIR against the developer and arrest its goons," said Inder Nagar, farmer leader.











    Farmers lay siege at Noida Extension housing site - The Times of India
    CommentQuote
  • Ab to Gaur wale gundagari bhi karne lage.
    CommentQuote
  • True.
    CommentQuote
  • Farmers trouble in Gaur City.
    * Farmers attempt to take over acquired land.
    * Farmers and developer security clashed.
    * 300 farmers taken in preventive custody.
    CommentQuote
  • CommentQuote
  • भूमि अधिग्रहण विधेयक पर नहीं बनी सहमति

    भूमि अधिग्रहण बिल पर गुरुवार को हुई ऑल पार्टी मीटिंग में कोई सहमति नहीं बन सकी। इसी वजह से अब सरकार ने प्रस्तावित विधेयक के मसौदे को सभी पार्टियों के संबंधित सदस्यों को भेजने का फैसला किया है। सरकार चाहती है कि ये सदस्य इस प्रस्तावित विधेयक के मसौदे पर अगली बैठक में अपने सुझाव दें।
    इस मसले पर हुई ऑल पार्टी मीटिंग में ग्रामीण विकास मंत्री जयराम रमेश ने बताया कि इस विधेयक पर संशोधनों की संख्या कम होकर 28 रह गई है। सरकार को भरोसा है कि इसी सत्र में यह बिल मंजूर हो जाएगा। इस विधेयक पर कई दलों के नेताओं के आपत्ति कने के बाद संसदीय कार्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि विधेयक की कापियां सभी दलों को भेज दी जाएंगी ताकि वे 20 मार्च को होने वाली बैठक में इस विधेयक के मसौदे पर अपने सुझाव दे सकें।
    बैठक में एसपी के मुलायम सिंह यादव ने कहा कि इस बिल में यह प्रावधान होना चाहिए कि जिस किसान की जमीन का अधिग्रहण हो, उसके बच्चों को नौकरी दी जाएगी। वासुदेव आचार्य का कहना था कि इस विधेयक में 159 संशोधन हो चुके हैं। ऐसे में इस बिल को अब स्टैंडिंग कमिटी को भेजना चाहिए। टीएमसी के सुदीप बंद्योपाध्याय ने कहा कि यह प्रावधान किया जाए कि जबरन जमीन का अधिग्रहण न किया जा सके।
    CommentQuote
  • हिंडन नदी के डूब क्षेत्र में बन रहा शॉपिंग मॉल

    यमुना और हिंडन नदी के डूब क्षेत्रों में हो रहे अवैध निर्माणों के खिलाफ अथॉरिटी ने कार्रवाई भले ही शुरू कर दी है, लेकिन भूू-माफियाओं पर इसका कोई असर नहीं पड़ रहा है। इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि भू-माफियाओं ने हिंडन नदी के डूब क्षेत्र के अंदर तीन मंजिला शॉपिंग मॉल खड़ा कर दिया है। इसमें मार्बल फिनिशिंग और अन्य काम चल रहा है। आरोप है कि अथॉरिटी, पुलिस और जिला प्रशासन के अधिकारियों की मिलीभगत से यह हुआ है। इधर, एसडीएम दादरी ने अवैध निर्माण हटाने की बात कही है।
    छिजारसी के तट पर शनि मंदिर के पास बना यह मॉल मॉडल टाउन चौकी से केवल 500 मीटर की दूरी पर है और नैशनल हाइवे-24 से सटा हुआ है। चर्चित पर्यावरणविद विक्रांत तौंगड़ कहते हैं कि केंद्र सरकार के अधिनियमों के अनुसार किसी भी नदी के दोनों किनारों के 825 मीटर तक किसी भी प्रकार का निर्माण कार्य नहीं हो सकता है, लेकिन भूमाफियाओं ने सरकारी अफसरों के साथ मिलकर हिंडन की लगभग 95 पर्सेंट जमीन पर अवैध कॉलोनियां बसा डाली हैं। इस वजह से कभी एक किलोमीटर तक विस्तार रखने वाली हिंडन नदी अब सिकुड़कर केवल 50 मीटर चौड़ी रह गई है। ऐसे में यदि यहां पर शॉपिंग मॉल खुल जाता है तो स्थिति ओर खराब हो जाएगी। इसके बाद यहां पर मॉल खडे़ करने की होड़ लग जाएगी। उन्होंने अथॉरिटी और जिला प्रशासन से इस मामले में सख्त एक्शन लेने और भू-माफियाओं के साथ मिलीभगत करने के आरोपी अफसरों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है।
    एसडीएम दादरी राजेश यादव ने इस मामले में जांच की बात कही है। उन्होंने कहा कि डूब एरिया में मॉल बनता मिला तो अवैध निर्माण गिराया जाएगा।
    CommentQuote
  • Is there any update on SC hearing... It was supposed to give some decision on 8th March.
    CommentQuote
  • Originally Posted by RealBuzz
    Is there any update on SC hearing... It was supposed to give some decision on 8th March.



    yes guys any update....
    CommentQuote
  • Originally Posted by Johny123
    Farmers trouble in Gaur City.
    * Farmers attempt to take over acquired land.
    * Farmers and developer security clashed.
    * 300 farmers taken in preventive custody.

    gaur city me sbse aage kaam chal rha tha.. kahin ye kisi k uksaane pr to nhi ho rha h... sb apna ullu seedha kr rhe h.. bechara investor preshaan h....
    CommentQuote
  • gaur city me ab tak koi aisa issue nhi hua tha but ab toh yaha bhi.

    vaise builders can do anything.

    local gunde jo kud ko kisan kehte hai unhone bhi toh kafi baar labours ko pita, staff ko mara hai.

    Ab ye toh hona hi tha.
    CommentQuote
  • Another project in gaur city 2.. 3F plot
    Geotech pristine home.
    Welcome to Geo Homes

    Really gaur wud hv md good profit.

    Gud for us too. jaldi gaur city develop hogi. akele gaur nhi kar payega itni jaldi
    CommentQuote
  • Trial ji, waiting for ur spl survey report.
    CommentQuote
  • Originally Posted by Pradyot1315sqf
    Trial ji, waiting for ur spl survey report.


    Sarkar I will be reaching delhi tomorrow night.... so survey wil start from next week :-)
    CommentQuote
  • Originally Posted by trialsurvey
    Sarkar I will be reaching delhi tomorrow night.... so survey wil start from next week :-)



    the blog is lossing its charm. we all are waiting.
    CommentQuote