पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • Originally Posted by del_sanju
    Builder are increasing FAR. Decreasing open space.
    Sellling FSI to small builders.

    Tab bhi they want to increase the price.
    10-15 percent is too much like we have to pay one more installment. 110 cent paymnt?


    Greed is all that I can say. And builders are the greediest of the human species that exists

    Sent from my GT-I9300 using Tapatalk 2
    CommentQuote
  • CommentQuote
  • Supertech Shahberi Flat Cancellation

    Supertech Shahberi Flat Cancellation
    Attachments:
    CommentQuote
  • Filedworker Bhai

    Authority has finally launched EWS homes in sector-10 that means Authority has the possession of this land.
    CommentQuote
  • Originally Posted by Johny123
    Supertech Shahberi Flat Cancellation

    SuperTHUG !!
    CommentQuote
  • Just passed by NExt today:

    Pace of construction was too good in following projects:

    1) Stellar Jeevan (13th floor in process)
    2) Arihant Arden (9th Floor in process)
    3) Supertech ECV-1 (10th Floor in process)
    4) Gaur City-1 (as usual lots of laborers working at the site)
    CommentQuote
  • Originally Posted by cookie
    SuperTHUG !!


    have said this many times but want to repeat once more ! ;)

    supertech - yours (pain in the back side) for life ! :D :D
    CommentQuote
  • Originally Posted by guptaMan
    Just passed by NExt today:

    Pace of construction was too good in following projects:

    1) Stellar Jeevan (13th floor in process)
    2) Arihant Arden (9th Floor in process)
    3) Supertech ECV-1 (10th Floor in process)
    4) Gaur City-1 (as usual lots of laborers working at the site)


    i have heard that even saundaryam is progressing at a good pace now .. gaur is doing a good job it seems
    CommentQuote
  • Originally Posted by trialsurvey
    i have heard that even saundaryam is progressing at a good pace now .. gaur is doing a good job it seems



    hehehe all builders will do with good pace of construction till 7-8 floor is reached as by that time almost 80% of apartment cost is SUCKED by builder :bab (59):
    CommentQuote
  • Originally Posted by Johny123
    Supertech Shahberi Flat Cancellation


    has IREF being hijacked by brokers ?

    this post of mine was deleted twice .... strange ...:(

    need a lokpal for IREF here
    CommentQuote
  • Originally Posted by Johny123
    hehehe all builders will do with good pace of construction till 7-8 floor is reached as by that time almost 80% of apartment cost is SUCKED by builder :bab (59):


    aapke logic se jyadatar threshold par hain ..We will be able to figure out in around 1-2 months from now..

    Lets see how it goes ..:)
    CommentQuote
  • Originally Posted by Johny123
    has IREF being hijacked by brokers ?

    this post of mine was deleted twice .... strange ...:(

    need a lokpal for IREF here


    HiJacked nahi "hacked" Johny Bhai :)

    I have also been the victim of such activities.. Cookie se poocho..

    1-2 months back, I found some contradicting posts of some "Sajjan" and that person vanished and my posts deleted..
    CommentQuote
  • In such a case SuperTHUG should hav brought the construction material at the original planned time at that time's price and use the same material now. Why did they not buy, because they were using same money to buy land at cheap price in Meerut.


    Originally Posted by ak795sqft
    Supertech is giving allotment letter with escalation clause which means buyer will have to pay the increased amount in construction cost from date of booking till the time of possession. They have kept the 50% cost of flat as construction cost and as per the escalation clause, Buyer will have to pay for the increase in the cost of construction material from the date of booking till the time of possesion. So if construction cost is increased by 20% till the time of possesion, Buyer will have to pay 20% of construction cost extra at the time of possesion. When we booked the flat they never told there will be extra charges, Its no where written in their application form for escalation charges.

    At the time of booking there was no mention of any additional cost but in agreement they are putting such clauses. Secondly I booked a flat of 795 sqft now they have increased Super area to 890 sqft and there is only change of Balcony of 5 sqft in old and new layout. Now they are asking for additional amount for increased super area at the time of possession.
    CommentQuote
  • Originally Posted by guptaMan
    aapke logic se jyadatar threshold par hain ..We will be able to figure out in around 1-2 months from now..

    Lets see how it goes ..:)


    ok to add the name in the list of chor like this would be :

    1. earth all projects.
    2. Amrapaali all projects.
    3. cherry county waale hamare.
    4. the great shubhkaamna
    CommentQuote
  • fritolay..cookie..field ..trail......

    guys any reaction/comments/advice on the EWS flat launched in Gr noida sec-10 and MU-II today
    CommentQuote