पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • Originally Posted by Johny123
    pls share source of information


    sc website pe last hearing download kar lo bhai.... it mentions 15th as next date
    CommentQuote
  • डीएम और बिल्डर के साथ नहीं बनी बात

    एक बिल्डर के प्रोजेक्ट का विरोध कर रहे किसानांे ने गुरुवार को डीएम और प्रोजेक्ट के अधिकारियों के साथ बैठक की। प्रोजेक्ट के अधिकारियों के किसानों की मांगें मानने से इनकार करने पर मसले का कोई हल नहीं निकल सका। किसानों ने रविवार को महापंचायत कर आंदोलन तेज करने का ऐलान किया है।
    बिल्डर के प्रोजेक्ट से प्रभावित 8 गांवों के किसान 40 दिनों से भोगपुर में अनिश्चितकालीन धरना दे रहे हैं। किसान मंच के प्रवक्ता विजयपाल भाटी ने बताया कि डीएम रविकांत सिंह और प्रोजेक्ट के अधिकारियों के साथ हुई वार्ता विफल रही। बिल्डर की ओर से किसानों की मांगें मानने से इनकार कर दिया गया। इसके बाद किसानों ने धरनास्थल पर बैठक कर आरपार की लड़ाई का फैसला किया। किसान राजपाल प्रधान ने कहा कि बिल्डर के साथ तीसरे दौैर की वार्ता विफल हो गई है। जिला प्रशासन कोई ठोस नतीजा नहीं निकाल पा रहा है। न्याय मिलने तक आंदोलन जारी रहेगा। इस दौरान विजय भाटी, श्यामलाल, दयाचंद, अतर सिंह, राजेश, मांगेराम समेत कई किसान मौजूद रहे।

    डीएम और बिल्डर के साथ नहीं बनी बात - The thing with DM and builder - Navbharat Times
    CommentQuote
  • As I am new to NE thread, hence asking very basic question, are there any project in NE which are not impacted with SC cases means they have no land issue. I am concerned with project near Gaur circle and Techzone IV.

    Thanks,
    Suraj
    CommentQuote
  • Originally Posted by SurajBisht
    As I am new to NE thread, hence asking very basic question, are there any project in NE which are not impacted with SC cases means they have no land issue. I am concerned with project near Gaur circle and Techzone IV.

    Thanks,
    Suraj


    No project in NE which is not impacted by SC cases.
    CommentQuote
  • This is about sushant megapolis.

    Originally Posted by abhay
    एक बिल्डर के प्रोजेक्ट का विरोध कर रहे किसानांे ने गुरुवार को डीएम और प्रोजेक्ट के अधिकारियों के साथ बैठक की। प्रोजेक्ट के अधिकारियों के किसानों की मांगें मानने से इनकार करने पर मसले का कोई हल नहीं निकल सका। किसानों ने रविवार को महापंचायत कर आंदोलन तेज करने का ऐलान किया है।
    बिल्डर के प्रोजेक्ट से प्रभावित 8 गांवों के किसान 40 दिनों से भोगपुर में अनिश्चितकालीन धरना दे रहे हैं। किसान मंच के प्रवक्ता विजयपाल भाटी ने बताया कि डीएम रविकांत सिंह और प्रोजेक्ट के अधिकारियों के साथ हुई वार्ता विफल रही। बिल्डर की ओर से किसानों की मांगें मानने से इनकार कर दिया गया। इसके बाद किसानों ने धरनास्थल पर बैठक कर आरपार की लड़ाई का फैसला किया। किसान राजपाल प्रधान ने कहा कि बिल्डर के साथ तीसरे दौैर की वार्ता विफल हो गई है। जिला प्रशासन कोई ठोस नतीजा नहीं निकाल पा रहा है। न्याय मिलने तक आंदोलन जारी रहेगा। इस दौरान विजय भाटी, श्यामलाल, दयाचंद, अतर सिंह, राजेश, मांगेराम समेत कई किसान मौजूद रहे।

    डीएम और बिल्डर के साथ नहीं बनी बात - The thing with DM and builder - Navbharat Times
    CommentQuote


  • About SC cases and NExtn land

    1. Whole NExtn is under litigation in SC.
    2. There is a major part of NExtn, which is under the Kabza of GNA.
    3. There are parts of NExtn still under the Kabza of villagers. For example, possibly (not sure), parts of projects like Earth Towne and Unibera.
    4. Shaberi area land is gone, illegal plotting is being done there now.

    Originally Posted by SurajBisht
    As I am new to NE thread, hence asking very basic question, are there any project in NE which are not impacted with SC cases means they have no land issue. I am concerned with project near Gaur circle and Techzone IV.
    Thanks,
    Suraj

    CommentQuote
  • A article citing a report by one of the reputed real estate agencies that came out in Nov 2012.

    It recommends Noida Extn

    Mumbai’s Wadala, Chembur best for realty investments: report - Livemint
    CommentQuote
  • Hello All,I m reguler viewer of this forum.Now I think that this Thread is only for fight between noida extension and so called neharpar.no useful info share by members and admin.some guys only fight.....see " justprop" this site.lots of information.at least admin can copy paste some information from this site.
    CommentQuote
  • Originally Posted by Johny123

    this is also residential now..... Gaur Saundariyam is here now


    With ample land available, there is less incentive and more effort on GNA to change the MP2021, which was passed through NCR-PB and HC judgement .

    In as the satellite map shows, Gaur Saundaryam is right at the edge of institutional and green belt, lying alongside the Abadi, therefore it is so irregularly shaped.

    https://api.indianrealestateforum.com/api//v0/attachments/fetch-attachment?node_id=25630

    Attachments:
    CommentQuote
  • FW bhai

    bhagwan ke naam lekar SJ/NE mein book karwane ka plan hai ek do din mein...uske baad to main dabb jaunga loan ke neeche... current bsp around 3400 on paper no negotiations done yet...will be done once i visit them in a day or two..

    Any inputs from u in this regard other than the ones i hv already benefited with ?
    CommentQuote

  • Can anyone, please share layout maps of Sector 16 Greater Noida.
    CommentQuote
  • Originally Posted by FieldWorker


    With ample land available, there is less incentive and more effort on GNA to change the MP2021, which was passed through NCR-PB and HC judgement .

    In as the satellite map shows, Gaur Saundaryam is right at the edge of institutional and green belt, lying alongside the Abadi, therefore it is so irregularly shaped.

    https://api.indianrealestateforum.com/api//v0/attachments/fetch-attachment?node_id=25630



    Villagers claimed that builder has grabbed some part of village abadi land and complained to G.Noida Authority and Mr. Surender Nagar. This news was published last year also.. Not sure if partial land is still with villagers
    CommentQuote
  • Went to GNW today to check on construction progress of mywoods. Pace of activity was good. Most of the towers are at 2nd floor or 3rd floor stage They had some sort of customer contact day at the mktng office. Was also treated to nice snacks and juice..
    CommentQuote
  • Is there any commercial land projected too at NE ? Going forward down the line in 5-7 years or so do we see Spencers/ Big Bazaar/ Malls opening at NE ?

    I hope my expectations from NE are not that weird :)
    CommentQuote
  • Le ek or Project

    One more sneaking in at Sec-10 this time: ;);)

    Skytech Colours Avenue

    BSP for Ground floor :2865/sqft

    CommentQuote