पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16356 Replies
Sort by :Filter by :
  • GaurCity 1 First Avenue (Sansad vihar)

    GaurCity 1 First Avenue (Sansad vihar)
    Attachments:
    CommentQuote
  • Originally Posted by ManGupta
    GaurCity 1 First Avenue (Sansad vihar)

    ye toh lagta hai SC verdict ke pehle hee construction complete kar dega for this tower at least :)
    CommentQuote
  • Super-THUG

    Super-THUG
    Attachments:
    CommentQuote
  • Copied from NEFOMA Wall

    Jitu Verma
    I got demand letter for Amrapali Terrace homes F2 block.

    I went my bank (BOM). They rejected to give next demand which builder demanded within 7 days. Bank manager said that they will inquire progress of the project and payment which builder giving to authority for land which is on lease for 8 years. If everything satisfactory then they will provide cheque for next demand.

    This is not fair, builder asking demand within 7 days and banks are not ready to provide the cheque for next demand.
    Like · · Follow Post · April 6 at 4:25pm
    CommentQuote
  • Originally Posted by ManGupta
    Jitu Verma
    I got demand letter for Amrapali Terrace homes F2 block.

    I went my bank (BOM). They rejected to give next demand which builder demanded within 7 days. Bank manager said that they will inquire progress of the project and payment which builder giving to authority for land which is on lease for 8 years. If everything satisfactory then they will provide cheque for next demand.

    This is not fair, builder asking demand within 7 days and banks are not ready to provide the cheque for next demand.
    Like · · Follow Post · April 6 at 4:25pm


    It seems that BANK Loan Disbursals in Noida Extension Post NCRPB Approval is not ABSOLUTE.

    T & C Applies.
    CommentQuote
  • Way to Deal with THUG Builders of Noida Extension: Copied from NEFOMA Wall

    Way to Deal with THUG Builders of Noida Extension::)

    Copied from NEFOMA Wall

    Santosh Jha
    DEVIKA GOLD HOMZ BUYERS
    Congratulations to all group members!!! Ultimately we have filed a case against Builder for cheating and forgery with buyers. I request to all members those could not attend today’s hearing due to non availability in town pls ensure next time you must attend hearing. Hon’ble Judge is convinced with our allegation and told this is fit case against builder for cheating and forgery with buyers.
    ALL DIRECTORS OF DEVIKA GOLD HOMZ AND SHOMIT FINANCE LTD WILL BE ARRESTED VERY SOON.
    Like · · Follow Post · March 26 at 7:57pm
    CommentQuote
  • Originally Posted by del_sanju
    content writer ke bhi maze hai purana material hi copy paste mar dia. kam se kam matter toh naya draft kar lete.


    yar aj ki TOI ki news maine copy ki thi
    CommentQuote
  • CommentQuote
  • बायर्स को बिल्डिंग सुरक्षा की चिंता
    Apr 10, 2013, 08.00AM IST
    प्रमुख संवाददाता ॥ ग्रेटर नोएडा
    महाराष्ट्र स्थित मुम्ब्रा में मल्टी स्टोरी बिल्डिंग गिरने व उसमें काफी लोगों की जान जाने के बाद ग्रेनो वेस्ट के बायर्स भी बिल्डर्स के प्रोजेक्ट्स की सुरक्षा को लेकर चिंता जताने लगे हैं। इसके तहत नेफोवा ने बिल्डर्स के सभी प्रोजेक्ट्स की जांच करने के लिए ग्रेनो अथॉरिटी से एक कमेटी गठित करने की मांग की है।
    नेफोवा की जनरल सेक्रेटरी श्वेता भारती का कहना है कि मल्टीस्टोरी बिल्डिंग गिरने के अक्सर मामले सामने आते रहे हैं। अब महाराष्ट्र में भी ऐसा ही गंभीर हादसा हुआ है। इसको देखते हुए नेफोवा ने सीईओ रमा रमण को ज्ञापन भेजकर ग्रेनो वेस्ट में सभी प्रोजेक्ट्स के निर्माण कार्य की भी जांच की मांग की है। इसके लिए एक कमिटी का गठन होनी चाहिए। जांच की रिपोर्ट समय समय पर नेफोवा को भी मिलनी चाहिए, ताकि बायर्स को भी जानकारी दी जा सके।
    बता दें कि ग्रेनो वेस्ट में बड़ी संख्या में बहुमंजिली इमारतें बनाई जा रही हैं। निर्माण कार्य अभी शुरूआती चरण में है। पिछले 2 साल से हाई कोर्ट के आदेश के बाद ग्रेनो वेस्ट में निर्माण कार्य बाधित हुआ। इसका खामियाजा भुगत रहे बिल्डर्स इस नुकसान की भरपाई किसी न किसी तरह बायर्स से ही वसूलने की कोशिश कर रहे हैं। ऐसे में यह भी डर है कि कुछ बिल्डर मुनाफे के चक्कर में निर्माण कार्य में घटिया तकनीक व निर्माण सामग्री का यूज कर सकते हैं।
    CommentQuote
  • अन्ना को सुनने जुटी भीड़, लगा जाम
    Apr 13, 2013, 08.00AM IST
    एनबीटी न्यूज ॥ ग्रेटर नोएडा
    किसानों के धरना-प्रदर्शन की वजह से पिछले 24 दिनों से अथॉरिटी गोलचक्कर का ट्रैफिक डिस्टर्ब चल रहा है। वहीं, शुक्रवार को परेशानी और बढ़ गई। अन्ना हजारे को सुनने के लिए भारी भीड़ जुटी, जिसकी वजह से वन-वे चल रहे गोलचक्कर के आसपास की रोड पार्किंग में तब्दील हो गई। ऐसे में करीब एक घंटे तक लोगों को वहां से निकलने में मशक्कत करनी पड़ी। जाम की स्थिति को देखते हुए लोग रॉन्ग साइड भी जाते दिखाई दिए। हालांकि, ट्रैफिक पुलिसकर्मी भी तैनात किए गए थे।
    अन्ना के प्रोग्राम के चलते भारी भीड़ जुटी थी। इनमें अधिकतर लोग निजी वाहनों से पहुंचे थे। वहीं, अथॉरिटी गोलचक्कर पहले से ही वन-वे चल रहा है। इससे स्थिति और बिगड़ गई। यहां लोगों ने जगतफार्म से अथॉरिटी की तरफ आने-जाने वाली सड़क, रायन गोलचक्कर और गामा-1 और 2 की तरफ से एलजी गोलचक्कर की तरफ आने जाने वाली सड़क पर वाहन खडे़ कर दिए। साथ ही अन्ना के पहुंचने के बाद लोगों ने इधर-उधर गाडि़यां खड़ी कर दीं। इसकी वजह से अथॉरिटी गोलचक्कर पर आवाजाही प्रभावित हो गईर्। ट्रैफिक डिस्टर्ब न हो, इसके लिए ट्रैफिक पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया था। इसके बाद भी लोग मानने को तैयार नहीं हुए। अन्ना के जाने के बाद भी लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा। यहां लोगांे को करीब 5 किलोमीटर का एक्स्ट्रा चक्कर काटकर जाना पड़ा।
    अब किसान करेंगे आंदोलन तेज
    एस ॥ ग्रेनो : ग्रेनो अथॉरिटी पर चला रहा किसानों का अनिश्चितकालीन धरना 25वें दिन भी जारी रहा। धरने में अन्ना हजारे और जनरल वी.के. सिंह के शामिल होने से किसान उत्साहित दिखे। किसानों ने अन्ना के आह्वान पर भ्रष्टाचार से लड़ने का संकल्प लिया। किसान संघर्ष समिति के प्रवक्ता मनवीर भाटी ने बताया कि किसानों ने आंदोलन तेज करने के लिए शनिवार को सभी किसान संगठन और संघर्ष समितियों की मीटिंग बुलाई है। इसमें सोमवार से आंदोलन को तेज करने और आंदोलन का तरीका बदलने पर विचार किया जाएगा। इसमें अथॉरिटी में काम ठप किए जाने पर भी विचार किया जा सकता है। शुक्रवार को धरने की अध्यक्षता बाबा ओमप्रकाश गांधी ने और संचालन सूबेदार रमेश रावल और राजेंद्र प्रधान ने किया।
    CommentQuote
  • The Sound Bytes from ANNA does not comforts Noida Extension Buyers

    'बदल डालो सिस्टम'
    Apr 13, 2013, 08.00AM IST
    #वर्जन
    जनतंत्र में नेता व अफसर जनता के नौकर हैं। लेकिन अब उल्टा हो रहा है। जनता को नौकर समझा जा रहा है। सत्ता बदलने से कुछ नहीं होगा। व्यवस्था बदलनी है। इसकी चाबी जनता के हाथ में है। - अन्ना हजारे, समाजसेवी#
    प्रमुख संवाददाता ॥ ग्रेटर नोएडा
    ग्रेनो अथॉरिटी पर धरना दे रहे किसानों के बीच शुक्रवार को पहुंचे समाजसेवी अन्ना हजारे ने जनता को व्यवस्था परिवर्तन का संदेश दिया। उन्होंने कहा कि हमने गलत लोगों को चुनकर सत्ता सौंप दी है। सत्ता परिवर्तन से कुछ नहीं होगा, व्यवस्था में बदलाव जरूरी है। उन्होंने आरोप लगाया कि आज सरकारें कमीशन एजेंट की तरह काम कर रही हैं। किसानों से कम रेट पर जमीन लेकर बिल्डरों को ऊंचे रेट पर बेची जा रही हैं।
    अन्ना को बताईं समस्याएं
    अन्ना की जनतंत्र यात्रा दोपहर करीब साढे़ 12 बजे अथॉरिटी गोल चक्कर पहुंची। उनके साथ पूर्व सेना अध्यक्ष जनरल वी.के. सिंह और सैय्यद गुलाम जिलानी कत्ताल भी थे। सबसे पहले किसानों ने अपनी समस्याओं से अन्ना को अवगत कराया। इस मौके पर अन्ना ने कहा कि हम जनतंत्र को भूल गए हैं। प्रजा की सत्ता है, जो देश की मालिक है। जनता ने राज्य के लिए एमएलए व देश के लिए एमपी चुन कर भेजे। ये जनता के सेवक हैं। इन्होंने जनता के लिए सरकार बनाई। सरकार के नौकर के रूप में ऑफिसर्स चुने गए। ये भी जनता के नौकर हैं। उन्होंने कहा कि अब उलटा हो रहा है। जनता को नौकर समझा जा रहा है। इसमें हमारी ही गलती है। हमने अपने नौकर व सेवक चुनने के बाद उन पर निगरानी नहीं रखी, लिहाजा वह भ्रष्ट हो गए। अब व्यवस्था में बदलाव करना है। सत्ता बदलने से कुछ नहीं होगा। बदलाव की चाबी जनता के हाथ में है। उन्होंने कहा कि इसके लिए वह डेढ़ साल तक देश भर में घूमेंगे और जनता को जगाएंगे।

    किसानों को दी एकता की नसीहत
    अन्ना ने कहा कि वह देश भर के किसानों के मसलों को देख रहे हैं। सभी जगहों पर एक जिले में कई-कई किसान संगठन हैं। इससे एकता नहीं आती है और बदलाव नहीं हो सकता। किसान एकजुट होकर लड़ें, तभी सफलता मिलेगी। वहीं, वी.के. सिंह ने कहा कि गलती हमारी ही है। हम लालच में आकर अपनी जमीन दे रहे हैं। अब एकजुट होकर संघर्ष करना होगा। राजनीतिक लोग हमको बांट देते हैं। इस मौके पर समाजसेवी सरदार मंजीत सिंह, चाचा हिंदुस्तानी, बिजेंद्र आर्य, मनवीर भाटी आदि ने अन्ना हजारे को हल देकर सम्मानित किया। इस दौरान सैकड़ों लोग मौजूद रहे।
    CommentQuote
  • Originally Posted by ManGupta
    Super-THUG

    I am surprised by the fact that someone who is editor in popular national ewes channel can become pray to the woes of noida ext.

    Ah when the news providers are so ill informed then what can we expect from them ?

    Rohit
    CommentQuote
  • School in G Noida (W)

    ग्रेटर नोएडा : एस्टर पब्लिक स्कूल का शनिवार को ग्रेटर नोएडा वेस्ट में भूमि-पूजन किया। संस्था के अध्यक्ष वी. के. शर्मा ने बताया कि यह स्कूल की तीसरी ब्रांच होगी। पहली ब्रांच मयूर विहार दिल्ली में और दूसरी ब्रांच सेक्टर डेल्टा-2 में है। ग्रेटर नोएडा वेस्ट की ब्रांच चार एकड़ में होगी। उन्होंने कहा कि क्लास रूम में एसी फैसिलिटी और अन्य आधुनिक सुविधाएं होंगी। स्कूल सीबीएसई बोर्ड से मान्यता प्राप्त होगा। स्कूल में आसपास के गांवों के स्टूडेंट्स के एडमिशन को भी वरीयता दी जाएगी।
    CommentQuote
  • Originally Posted by guptaMan
    Read the link below..
    What does the phrase I see where you are coming from mean

    However, after reading your above comment..I would really like to ask "kahan se aaye ho bhai" :bab (59):


    Oh.... Sorry for my iGnorance.... But liked your other spirit i.e.
    Gupta ji, EnGlish main thoda haath tiGht hai....... Gupta ji, EnGlish main thoda haath tiGht hai.......
    CommentQuote
  • Originally Posted by rohit_warren
    I am surprised by the fact that someone who is editor in popular national ewes channel can become pray to the woes of noida ext.

    Ah when the news providers are so ill informed then what can we expect from them ?

    Rohit


    Here U R right rohit ...

    Its a classic case of " Chrirag Tale Andhera" .
    CommentQuote