पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • Dear all,

    i have a 2 bhk flat in Gaur city 2. Now, as i need to pay further payments, i need to get home loan. I have the following options with me

    HDFC, Corporation bank, LIC.

    The interest rate is more or less same for all the three, i would like to knw other factors which should be considered !!!

    thanks in advance !!
    CommentQuote
  • Originally Posted by nike007
    Dear all,

    i have a 2 bhk flat in Gaur city 2. Now, as i need to pay further payments, i need to get home loan. I have the following options with me

    HDFC, Corporation bank, LIC.

    The interest rate is more or less same for all the three, i would like to knw other factors which should be considered !!!

    thanks in advance !!


    Go for corporation in case you want to avoid "occasional extra charges" by private banks and ready for few more trips to Bank for loan approval.

    HDFC best among private banks when it comes to home loans and does faster processing.

    Few tips for you -

    1. Try to get your loan amount within 25 lacs for tax benefits. If not possible then less than 30 lacs as interest rates increase beyond 30 lacs loan amount.

    2. Choose a tenure based on your income visibility and desire to close loan early/later - 10/15/20 years. In shorter tenures, principal amount will be recovered sooner.

    3. Make sure nothing bad in your CIBIL report.
    CommentQuote
  • Originally Posted by nike007
    Dear all,

    i have a 2 bhk flat in Gaur city 2. Now, as i need to pay further payments, i need to get home loan. I have the following options with me

    HDFC, Corporation bank, LIC.

    The interest rate is more or less same for all the three, i would like to knw other factors which should be considered !!!

    thanks in advance !!


    bhai nike007, in which avenue you have 2 bhk flat in Gaur city 2 as I have also 2 bhk in 11th avenue in GC-2. I have recently been sanctioned loan from HDFC Bank. It took almost 2 months plus to get it done. What I understand that next payment to GC-2 is due in august, you should start your process for your loan getting approved as soon as possible.

    For other technicalities and loopholes, other knowledgeable members can also throw more light as NCRTalk mentioned important points.
    CommentQuote
  • Lo bhaiya gaur bhi chale yamuna expressway
    Gaur Yamuna City

    Log jayenge bhi?
    CommentQuote
  • Trial bhai where are you?

    Since early mourni.g i was waiting for your "NESpl report".
    CommentQuote
  • NO weekend update from trialsurvey.
    CommentQuote
  • Seems DG main Kooda daalna shuru ho gaya hai :





    डंपिंग ग्राउंड के विरोध में सड़कों पर उतरे रेजीडेंट

    Ghaziabad | अंतिम अपडेट 20 मई 2013 5:31 AM IST पर
    गाजियाबाद। डूंडाहेड़ा में प्रस्तावित डंपिंग ग्राउंड के विरोध में क्रासिंग रिपब्लिक टाउनशिप के लोग रविवार को सड़क पर उतर आए। डंपिंग ग्राउंड टाउनशिप के पास न बनाए जाने की मांग को लेकर उन्होंने जुलूस निकाला। लोगों ने गाजियाबाद-नोएडा मार्ग जाम कर दिया। प्रदर्शनकारियों ने जीडीए वीसी को फोन कर मांग से अवगत कराया। मौके पर पहुंचे एडीएम सिटी रक्षपाल सिंह और सीओ विजय नगर ने ज्ञापन लेकर प्रदर्शनकारियों को शांत कराया। प्रदर्शनकारियों की मांग है कि यहां बन रहे डंपिंग ग्राउंड को यहां से दूसरे स्थान पर शिफ्ट किया जाए।
    सत्यपाल चौधरी ने कहा कि प्रस्तावित डंपिंग ग्राउंड के पास टाउनशिप, शिक्षण संस्थाएं और कई गांव बसे हैं। घनी आबादी के पास डंपिंग ग्राउंड बनाना ठीक नहीं है। उन्होंने कहा कि लोगों को इस डंपिंग ग्राउंड को बनने से रोकने के लिए खून भी बहना पड़ा तो वह पीछे नहीं हटेंगे। उन्होंने चेतावनी दी है कि अगर कोई भी ठेकेदार डंपिंग ग्राउंड का काम करता है तो उसे बंधक बना लिया जाएगा। उन्होंने एक सप्ताह का अल्टीमेटम दिया है। इस मुद्दे को लेकर टाउनशिप और गांव के लोग अगले सप्ताह जीडीए और निगम अधिकारियों से मुलाकात करेंगे। इस मौके पर गौरव त्यागी, विक्रांत चौधरी, प्रशांत चौधरी, सुनील कुमार, नरेश दलाल, सुनील गुप्ता, आलोक सिंह, सूर्या मिश्रा, निहारिका आदि मौजूद रहे।
    CommentQuote
  • https://api.indianrealestateforum.com/api//v0/attachments/fetch-attachment?node_id=28531
    Attachments:
    CommentQuote
  • !!!

    Johny Bhai news to padh lo yaar sahi se. Assume kyun kar re ho RED me..

    Originally Posted by Johny123
    Seems DG main Kooda daalna shuru ho gaya hai :





    डंपिंग ग्राउंड के विरोध में सड़कों पर उतरे रेजीडेंट

    Ghaziabad | अंतिम अपडेट 20 मई 2013 5:31 AM IST पर
    गाजियाबाद। डूंडाहेड़ा में प्रस्तावित डंपिंग ग्राउंड के विरोध में क्रासिंग रिपब्लिक टाउनशिप के लोग रविवार को सड़क पर उतर आए। डंपिंग ग्राउंड टाउनशिप के पास न बनाए जाने की मांग को लेकर उन्होंने जुलूस निकाला। लोगों ने गाजियाबाद-नोएडा मार्ग जाम कर दिया। प्रदर्शनकारियों ने जीडीए वीसी को फोन कर मांग से अवगत कराया। मौके पर पहुंचे एडीएम सिटी रक्षपाल सिंह और सीओ विजय नगर ने ज्ञापन लेकर प्रदर्शनकारियों को शांत कराया। प्रदर्शनकारियों की मांग है कि यहां बन रहे डंपिंग ग्राउंड को यहां से दूसरे स्थान पर शिफ्ट किया जाए।
    सत्यपाल चौधरी ने कहा कि प्रस्तावित डंपिंग ग्राउंड के पास टाउनशिप, शिक्षण संस्थाएं और कई गांव बसे हैं। घनी आबादी के पास डंपिंग ग्राउंड बनाना ठीक नहीं है। उन्होंने कहा कि लोगों को इस डंपिंग ग्राउंड को बनने से रोकने के लिए खून भी बहना पड़ा तो वह पीछे नहीं हटेंगे। उन्होंने चेतावनी दी है कि अगर कोई भी ठेकेदार डंपिंग ग्राउंड का काम करता है तो उसे बंधक बना लिया जाएगा। उन्होंने एक सप्ताह का अल्टीमेटम दिया है। इस मुद्दे को लेकर टाउनशिप और गांव के लोग अगले सप्ताह जीडीए और निगम अधिकारियों से मुलाकात करेंगे। इस मौके पर गौरव त्यागी, विक्रांत चौधरी, प्रशांत चौधरी, सुनील कुमार, नरेश दलाल, सुनील गुप्ता, आलोक सिंह, सूर्या मिश्रा, निहारिका आदि मौजूद रहे।
    CommentQuote
  • I could notice from IREF, not from this thread only that suddenly the members have stopped pouring their thoughts/experience/complaints/views/photos etc. etc. in these threads.

    I would take it as a positive change as after huge Tsunami and Tornado, water/air has calmed down. But I am missing all kind of views of the dear members.

    May be this is because of the heat wave in Delhi and NCR.
    CommentQuote
  • Originally Posted by bhutan
    I could notice from IREF, not from this thread only that suddenly the members have stopped pouring their thoughts/experience/complaints/views/photos etc. etc. in these threads.

    I would take it as a positive change as after huge Tsunami and Tornado, water/air has calmed down. But I am missing all kind of views of the dear members.

    May be this is because of the heat wave in Delhi and NCR.


    The simple reason why this thread is now not attracting fresh posts is because things have now fallen in shape in Noida Extension. No new issues which used to crop up daily, no new protests, etc because of which this thread used to see hordes of posts discussing the issues. Now since everything has died down, its business as usual.

    Cheers
    CommentQuote
  • Originally Posted by Johny123
    Seems DG main Kooda daalna shuru ho gaya hai :





    डंपिंग ग्राउंड के विरोध में सड़कों पर उतरे रेजीडेंट

    Ghaziabad | अंतिम अपडेट 20 मई 2013 5:31 AM IST पर
    गाजियाबाद। डूंडाहेड़ा में प्रस्तावित डंपिंग ग्राउंड के विरोध में क्रासिंग रिपब्लिक टाउनशिप के लोग रविवार को सड़क पर उतर आए। डंपिंग ग्राउंड टाउनशिप के पास न बनाए जाने की मांग को लेकर उन्होंने जुलूस निकाला। लोगों ने गाजियाबाद-नोएडा मार्ग जाम कर दिया। प्रदर्शनकारियों ने जीडीए वीसी को फोन कर मांग से अवगत कराया। मौके पर पहुंचे एडीएम सिटी रक्षपाल सिंह और सीओ विजय नगर ने ज्ञापन लेकर प्रदर्शनकारियों को शांत कराया। प्रदर्शनकारियों की मांग है कि यहां बन रहे डंपिंग ग्राउंड को यहां से दूसरे स्थान पर शिफ्ट किया जाए।
    सत्यपाल चौधरी ने कहा कि प्रस्तावित डंपिंग ग्राउंड के पास टाउनशिप, शिक्षण संस्थाएं और कई गांव बसे हैं। घनी आबादी के पास डंपिंग ग्राउंड बनाना ठीक नहीं है। उन्होंने कहा कि लोगों को इस डंपिंग ग्राउंड को बनने से रोकने के लिए खून भी बहना पड़ा तो वह पीछे नहीं हटेंगे। उन्होंने चेतावनी दी है कि अगर कोई भी ठेकेदार डंपिंग ग्राउंड का काम करता है तो उसे बंधक बना लिया जाएगा। उन्होंने एक सप्ताह का अल्टीमेटम दिया है। इस मुद्दे को लेकर टाउनशिप और गांव के लोग अगले सप्ताह जीडीए और निगम अधिकारियों से मुलाकात करेंगे। इस मौके पर गौरव त्यागी, विक्रांत चौधरी, प्रशांत चौधरी, सुनील कुमार, नरेश दलाल, सुनील गुप्ता, आलोक सिंह, सूर्या मिश्रा, निहारिका आदि मौजूद रहे।


    Nops, its a proactive steps from CR resident. There is already stay order from SC on any work on this DG. As per current status there is no work at all in this site and if order comes in favor of GNN also then it will take atleast 1 year for any kind of real waste dump activity. FYI its not DG its SWMP, there is lots of diff between DG(SLF - which is proposed in Sec 123 noida) and SWMP (which is proposed besides CR).

    Also heard that GNA has given around 20 Acre of land adjacent to this site for DG purpose. In that case few projects in NE will also be effected. Can anyone confirm this land allocation news.

    Thanks,
    Suraj
    CommentQuote
  • शिविर लगाकर 15 करोड़ रुपये का मुआवजा बांटा
    Updated on: Wed, 22 May 2013 08:34 PM (IST)

    संवाददाता, ग्रेटर नोएडा : प्राधिकरण ने किसानों को अतिरिक्त मुआवजा बांटने में तेजी चुका है। गांव-गांव शिविर लगाकर किसानों को मुआवजा बांटा जा रहा है। बुधवार को गांव मायचा में शिविर लगाकर एडीएम भूमि अध्याप्ति शिशिर सिंह ने सवा सौ किसानों को सौ चेक बांटे। सवा सौ किसानों को 15 करोड़ रुपये का मुआवजा बांटा गया है। एडीएम शिशिर सिंह ने बताया कि नंबर के हिसाब से किसानों को मुआवजा दिया जा रहा है। जिन किसानों ने मुआवजे के लिए पहले फाइल जमा किया उन्हें पहले दिया जा रहा है। मुआवजे के लिए अब किसानों को कार्यालय का चक्कर नहीं लगाना पड़ेगा। उन्होंने बताया कि बृहस्पतिवार को मथुरा व बिसरख गांव में शिविर लगाकर मुआवजा बांटा जाएगा।
    CommentQuote
  • Cookie bhai, I am waiting for some prelaunch of reputed builder. Please keep this thread updated . :)
    CommentQuote
  • bisarakh
    Attachments:
    CommentQuote